कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार कब्ज दुनिया भर के लोगों के लिए एक बड़ी चुनौतीपूर्ण बीमारी का रूप ले चुकी है। आज के खान पान को देखते हुए सबसे ज्यादा बीमारियां कब्ज से जुड़ी हुयी है। 

बार बार दस्त जाना, पेट में तनाव रहना, खट्टी डकार इत्यादि यह कुछ ऐसे लक्षण है जो कितने भी अमीर और गरीब व्यक्तियों में देखने को मिल सकते हैं।( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

यह भी पढ़े :रस्सी कूदने के फायदे | 10 ऐसे फ़ायदे जो आपको रस्सी कूदने पर मजबूर कर देंगे। TOP 10 (2021)

और समस्या यह है कि इस तरह के कब्ज के लक्षण आपके जीवन को नर्क बना देते हैं। ऐसे लोग जो कब्ज से पीड़ित होते है उनके जीवन से उमंग खत्म हो जाती है और कब्ज से पीड़ित होने की वजह से अन्य कई बीमारियां उस व्यक्ति को जकड़ना शरू कर देती है। 

और समस्याओं का यह दौर अभी खत्म नहीं होता असली समस्याओं का सामना तो व्यक्ति को मल त्यागने के दौरान करनी होती है। बेचारे घण्टों तक शौचालय में बैठे रहते हैं और स्वस्थ रूप से मल का त्याग नहीं कर पाते जिस कारण से उन्हें भूख भी नहीं लगती, शरीर में कमजोरी आने लगती है जिससे व्यक्ति की प्रतिरक्षा प्रणाली को भारी नुकसान पहुंचता है परिणामस्वरूप उसे अन्य भिन्न भिन्न प्रकार की बीमारियां होने लगती है। ( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

यह भी पढ़े :दुनिया की सबसे महंगी दवाइयां | DUNIYA KI SABSE MEHNGI DAWAIYA | MOST EXPENSIVE DRUGS 2021

कई बार लोगों को पता होता है कि उन्हें कब्ज क्यों हुई है जैसे कि उन्हें पता है उन्होंने कुछ ऐसा खाया जो कब्ज का कारण बन गया। लेकिन 39% लोग ऐसे होता है जिन्हें अपने कब्ज की शिकायत क्यों हुयी उन्हें ये मालूम नहीं होता। कब्ज वंशानुगत तरह से भी आपको ग्रस्त कर सकती है। इस तरह की कब्ज  पुरानी अज्ञात कब्ज कहते हैं। 

कब्ज होने के निम्नलिखित लक्षण होने की विशेषता है:

  •  प्रति सप्ताह तीन से कम मल त्याग। 
  • कठोर, सूखा, या ढेलेदार मल।
  • मल त्याग करते समय कठिनाई या दर्द। 
  • एक भावना रहती है कि आप पूर्ण रूप से मल पारित नहीं हुए हैं। 

क्या इस तरह के लक्षण आप महसूस करते हैं? क्या आप कब्ज से पीड़ित हैं? 

कब्ज का जीवन की गुणवत्ता के साथ-साथ शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर गंभीर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। 

घबराने की कोई आवश्यकता नहीं है। आज हम आपको कब्ज को ठीक करने से जुड़े हर तरह के उपचार आपको बताएंगे फिर चाहे वह घरेलू आयुर्वेदिक उपचार हो या अंग्रेजी दवाइयों वाले allopathy इलाज ।( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

सबसे पहले हमारे लिए यह जानना जरूरी है कि :

यह भी पढ़े :मोटापा घटाने के उपाय | वजन कम करने से संबंधित पूर्ण जानकारी | VAJAN GHATANE KE UPAY | 2021

कब्ज क्या है ? (what is Constipation?) 

कब्ज क्या है ?

इस सवाल के दो उत्तर हो सकते हैं एक तो आयुर्वेदिक चिकित्सा दृष्टि से और दूसरा आधुनिक जीव विज्ञान के अनुसार तो सबसे पहले हम समझते है कि :

आयुर्वेदिक चिकित्सा के अनुसार कब्ज क्या है?

पित्त, वात, और कफ शरीर के सारे दोष इन्हीं तीन चीजों पर निर्भर करते हैं। यदि इन्हें संतुलित नहीं रखा गया तो यह बीमारी का रूप धारण कर लेती है और हमारा शरीर रोग ग्रस्त हो जाता है। जीवनशैली और खानपान में की गई लापरवाहीयां कब्ज जैसे रोगों को जन्म देती है 

आयुर्वेद में कब्ज के लिए मुख्य वात दोष को जिम्मेदार ठहराया जाता है और इसी कारण से मल ठोस, सूखा हुआ और कठोर हो जाता है। और परिणामस्वरूप ठीक समय पर मल त्याग नहीं हो पाता। ( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

आधुनिक जीव विज्ञान के अनुसार कब्ज क्या है? 

आधुनिक जीव विज्ञान के अनुसार कब्ज क्या है?

आपके बृहदान्त्र (colon) या कहा जाए बड़ी आंत का मुख्य काम अवशिष्ट भोजन (खाया हुआ भोजन) से पानी को सोखना (अवशोषित) करना है क्योंकि यह खाना आपके पाचन तंत्र से गुजर रहा होता है। उसके बाद यह  मल बनाता है।

बृहदान्त्र(बड़ी आंत) की मांसपेशियां अंततः मलाशय के माध्यम से कचरे को बाहर निकालने के लिए प्रेरित करती हैं।  यदि मल बहुत अधिक समय तक बृहदान्त्र (बड़ी आंत) में रहता है, तो यह ठोस और बहुत ज्यादा सूख जाता है इसके पीछे कारण वही है जो हमने आपको सबसे पहले बताया कि बड़ी आंत का काम ही पानी को सोखने का है। इसलिए जब आप लंबे समय तक खाने पीने और मल त्याग करने में लापरवाही बरतते है तब इसी तरह की स्थिति पैदा हो जाती है।( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

खराब और ज्यादा तेल मसाले वाले खानपान से अक्सर कब्ज की समस्या हो जाती है।  मल को नरम रखने में मदद के लिए खाने में पर्याप्त फाइबर और पर्याप्त पानी का सेवन आवश्यक है।

फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ आमतौर पर पौधों से बनाए जाते हैं। फाइबर घुलनशील और अघुलनशील दोनों रूपों में आता है। घुलनशील फाइबर पानी में घुल सकता है और पाचन तंत्र से गुजरते समय एक नरम, जेल जैसी सामग्री बनाता है।

अघुलनशील फाइबर अपनी अधिकांश संरचना को वैसा ही रखता है जैसा वह था। क्योंकि दोनों ही प्रकार के फाइबर पाचन तंत्र से गुजरते है इसलिए  फाइबर के दोनों रूप मल के साथ जुड़े हुए होते हैं। यह फाइबर मल के वजन और आकार में वृद्धि करते हुए इसे नरम भी करते हैं।  इस वजह से मल के का मलाशय(rectum) से गुजरना आसान हो जाता है।( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

यह भी पढ़े :रात को हल्दी वाला दूध पीने के फायदे | BENEFITS OF TURMERIC MILK | 2021

कब्ज के सामान्य कारणों में शामिल हैं:

  • कम फाइबर वाला आहार, विशेष रूप से मांस, दूध या पनीर में उच्च आहार
  •  निर्जलीकरण(dehydration) 
  •  व्यायाम की कमी
  •  मल त्याग करने के लिए आवेग में देरी करना
  •  यात्रा या दिनचर्या में अन्य परिवर्तन
  •  कुछ दवाएं, जैसे उच्च कैल्शियम एंटासिड और दर्द निवारक दवाएं
  •  गर्भावस्था

स्वास्थ्य संबंधी बीमारियां जिससे कब्ज की शिकायत हो सकती है :

  • कुछ रोग , जैसे कि स्ट्रोक, पार्किंसंस रोग, और मधुमेह
  •  बृहदान्त्र या मलाशय के साथ समस्याएं, जिसमें आंत्र रुकावट, चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम (IBS), या डायवर्टिकलोसिस शामिल हैं। 
  •  जुलाब का अति प्रयोग या दुरुपयोग (मल को ढीला करने के लिए दवाएं)
  •  एक कम सक्रिय थायरॉयड ग्रंथि सहित हार्मोनल समस्याएं।

कब्ज के लक्षण (symptoms of constipation) :

आम तौर पर प्रत्येक व्यक्ति की मल त्याग की क्षमता अलग अलग हो सकती है।  कुछ व्यक्ति दिन में तीन बार जाते हैं, जबकि अन्य सप्ताह में तीन बार जाते हैं।( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

हालाँकि, यदि आप निम्न लक्षणों का अनुभव करते हैं, तो आपको कब्ज हो सकती है:

  •  एक सप्ताह में तीन से कम मल त्याग। 
  •  ठोस और , सूखे मल से गुजरना। 
  •  मल त्याग के दौरान तनाव या दर्द। 
  •  मल त्याग करने के बाद भी परिपूर्णता की भावना। 
  •  एक रेक्टम (मलाशय में) रुकावट का अनुभव करना।
  • आराम के बाद भी आलस्य 
  • पेट भारी लगना 
  • पेट में गैस बनना 

यदि यह लक्षण ज्यादा लम्बे समय तक लगातार रहते है तो आपको तत्काल स्थानीय चिकित्सालय में जाकर किसी चिकित्सक से राय लेनी चाहिए। हालात बिगड़ने पर कब्ज के कारण बवासीर या भगन्दर जैसी घातक  बीमारी हो सकती है। इस बीमारी में गुदा नलिका (anus) में मस्से हो जाते हैं।( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

यह भी पढ़े :गांजे का नशा छोड़ने के उपाय। गांजा क्या है? गांजे से संबंधित संपूर्ण जानकारी 2021

कब्ज होने का खतरा किसे है?

खराब खाना खाना और व्यायाम न करना कब्ज के प्रमुख जोखिम कारक हैं। आपको और अधिक जोखिम भी हो सकता है यदि आप:

  •  उम्र 65 या उससे अधिक।  वृद्ध शारीरिक रूप से कम सक्रिय होते हैं, अंतर्निहित बीमारियां होती हैं। 
  •  बिस्तर तक सीमित,  जिन लोगों की कुछ चिकित्सीय स्थितियां होती हैं, जैसे कि रीढ़ की हड्डी में चोट, उन्हें अक्सर मल त्याग करने में कठिनाई होती है।
  •  एक महिला या बच्चा, पुरुषों की तुलना में महिलाओं में कब्ज के अधिक देखी गई  हैं, और बच्चे वयस्कों की तुलना में अधिक बार कब्ज प्रभावित होते हैं।
  •  गर्भवती महिलाओं के हार्मोनल परिवर्तन और  बढ़ते हुए बच्चे के आकार से आपकी आंतों पर दबाव पड़ता है और यह कब्ज का कारण बन सकता है।

यह भी पढ़े :अच्छी नींद के लिए प्रमाणित उपाय | नींद से सम्बंधित हर जबाब और जानकारी | ACCHI NEEND KAISE SOYE |2021

.

कब्ज ठीक के घरेलू उपचार (Home Remedies for Constipation) :

1. अधिक पानी पीए( Drink more water) 

कम पानी पीना आपको कब्ज से ग्रस्त कर सकता है आपके शरीर को पानी अत्यधिक आवश्यकता होती है यदि आप भरपूर मात्रा में पानी नहीं पीते तो उसके कुप्रभाव देखने को मिलते हैं।

 इसे रोकने के लिए, पर्याप्त पानी पीना और हाइड्रेटेड रहना महत्वपूर्ण है। ( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

जब किसी व्यक्ति को कब्ज होती है, तो उसे कुछ कार्बोनेटेड (sparkling water ) पानी पीने से राहत मिल सकती है। यह पानी आपको फिर से हाइड्रेट करने और चीजों को फिर से सुचारु करने में मदद कर सकता है।

कुछ अध्ययनों में पाया गया है कि स्पार्कलिंग पानी नल के पानी की तुलना में कब्ज से राहत दिलाने में अधिक प्रभावी होता है।  इसमें अपच, dypesia , और पुरानी अज्ञातहेतुक कब्ज वाले लोग शामिल थे। 

हालांकि, कार्बोनेटेड पेय (carbonated drinks) जैसे शुगर सोडा इत्यादि पीना एक अच्छा विचार नहीं है, क्योंकि इन पेय पदार्थों के हानिकारक स्वास्थ्य प्रभाव हो सकते हैं और यह कब्ज को और बदतर बना सकते हैं। 

चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम (IBS) से पीड़ित कुछ लोग पाते हैं कि कार्बोनेटेड ड्रिंक्स उनके लक्षणों को खराब करते हैं, इसलिए ये व्यक्ति स्पार्कलिंग वाटर और अन्य कार्बोनेटेड पेय से बचना चाहते हैं।( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

सारांश – : 

निर्जलीकरण (dehydration) कब्ज पैदा कर सकता है, इसलिए पर्याप्त पानी पीना सुनिश्चित करें।  कब्ज से राहत पाने के लिए स्पार्कलिंग पानी और भी कारगर हो सकता है।

यह भी पढ़े :जमीन पर सोने के फायदे और नुकसान | JAMEEN PAR SONE KE FAYDE | 2021

2. अधिक फाइबर का सेवन करे , विशेष रूप से घुलनशील, (non-fermentable fiber) 

कब्ज का इलाज करने के लिए डॉक्टर अक्सर लोगों को अपने खाने में फाइबर को जोड़ने और उनका का सेवन बढ़ाने के लिए कहते हैं।

ऐसा इसलिए है क्योंकि खाने में फाइबर की मात्रा बढ़ने से मल की मात्रा और स्थिरता बढ़ जाती है, जिससे उन्हें पाचन तंत्र से काफी गुजरना आसान हो जाता है। इसके अलावा फाइबर मल को पाचन तंत्र से अधिक तेज़ी से गुजरने में भी मदद करता है। ( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

वास्तविकता फाइबर का महत्त्व तब समझ आया जब , 2016 में कई गयी एक समीक्षा में पाया गया कि पुरानी कब्ज वाले 77% लोगों को फाइबर के पूरक (खुराक) से लाभ हुआ।

हालांकि, कुछ अध्ययनों में पाया गया है कि आहार में फाइबर का सेवन बढ़ाना वास्तव में कब्ज की समस्या को और खराब कर सकता है। अन्य रिपोर्ट के अनुसार आहार फाइबर मल की आवृत्ति में सुधार करता है लेकिन कब्ज के अन्य लक्षणों, जैसे मल की स्थिरता, दर्द, सूजन और गैस में मदद नहीं कर सकता है।

ऐसा इसलिए है क्योंकि विभिन्न प्रकार के खाने वाले फाइबर पाचन पर अलग-अलग प्रभाव डालते हैं।

कई अलग-अलग खाने वाले फाइबर होते हैं, लेकिन सामान्य तौर पर, वे दो श्रेणियों में आते हैं: अघुलनशील फाइबर और घुलनशील फाइबर।( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

अघुलनशील फाइबर – गेहूं की भूसी, सब्जियों और साबुत अनाज में मौजूद – मल में थोक जोड़ते हैं और पाचन तंत्र के माध्यम से उन्हें अधिक तेज़ी से और आसानी से पारित करने में मदद कर सकते हैं।

घुलनशील फाइबर – जई का चोकर, जौ, मेवा, बीज, बीन्स, दाल, और मटर, साथ ही कुछ फलों और सब्जियों में मौजूद – पानी को अवशोषित करते हैं और एक जेल जैसा पेस्ट बनाते हैं, जो मल को नरम करता है और इसकी स्थिरता में सुधार करता है।

Non fermentable घुलनशील फाइबर, जैसे कि psyllium, कब्ज के इलाज के लिए सबसे बेहतर विकल्प है। 

2020 की एक समीक्षा में पाया गया कि psyllium कब्ज के लिए अघुलनशील गेहूं की भूसी की तुलना में 3.4 गुना अधिक प्रभावी है। 

Psyllium फाइबर के विभिन्न ब्रांड ऑनलाइन उपलब्ध हैं।जिनमें से उच्चतम क्वालिटी वाले psyllium को खरीदने के लिए  यहा क्लिक करें…. 

कब्ज के इलाज के रूप में अघुलनशील फाइबर के प्रभावों की जांच करने वाले अध्ययनों से मिश्रित परिणाम मिले हैं।

मुख्यतः कब्ज को रोकने के लिए लोगों को घुलनशील और अघुलनशील फाइबर के मिश्रण का सेवन करना चाहिए।  प्रति दिन महिलाओं को 25 ग्राम और पुरुषों को 38 ग्राम  अनुशंसित फाइबर का सेवन करना चाहिए। ( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

 सारांश – : 

जिनमें फाइबर की मात्रा अधिक है ऐसे  खाद्य पदार्थों को चिन्हित करके खाने का प्रयास करें।  घुलनशील non frementable फाइबर, जैसे साइलियम को खाने में जोड़े यह आपको कब्ज में राहत पहुंचाने का काम करेगा ।( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

यह भी पढ़े :टमाटर खाने के फायदे | TOP 11 BENEFITS OF EATING TOMATO

3. अधिक व्यायाम करें

कब्ज ठीक करने के घरेलू उपचार

विभिन्न शोध अध्ययनों से पता चलता है कि व्यायाम कब्ज के लक्षणों में सुधार करने में काफी मदद कर सकता है ।

अध्ययनों से साबित होता है कि जो लोग व्यायाम नहीं करते और आलस्य में रहकर गतिहीन जीवन शैली को अपनाते हैं उनके अंदर कब्ज के बढ़ते जोखिमों को सबसे ज्यादा देखा गया  है। इस वजह से, कुछ स्वास्थ्य विशेषज्ञ मल को हिलाने के लिए व्यायाम बढ़ाने की सलाह देते हैं ।( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

हालांकि उनके मुताबिक़ , सभी अध्ययन इस बात से सहमत नहीं होते हैं कि व्यायाम कब्ज का इलाज कर सकता है।  इसलिए, इस मामले में और अधिक शोध की आवश्यकता है। 

आम लोगों पर किए गए कुछ अन्य अध्ययनों से पता चलता है कि व्यायाम से हमेशा कब्ज पर उतना प्रभाव नहीं पड़ता , लेकिन इससे कब्ज के कुछ लक्षणों को कम किया जा सकता है और लोगों के जीवन स्तर में सुधार होता है ।( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

कब्ज में सुधार करने के लिए कुछ हल्का व्यायाम करने की कोशिश करें – जैसे कि नियमित रूप से टहलना

  • तैरना
  • साइकिल चलाना
  • जॉगिंग करना 
  • योग 

यह भी पढ़े :भारत में कोरोना वैक्सीन के साइड इफेक्ट | INDIA COVID-19 VACCINATION SIDE EFFECTS

4. कॉफी पिएं, खासकर कैफीनयुक्त कॉफी

कुछ लोगों के लिए, कॉफी पीने से बाथरूम जाने की इच्छा बढ़ सकती है।  ऐसा इसलिए है क्योंकि कॉफी पाचन तंत्र में मांसपेशियों को उत्तेजित करती है ।

1998 के एक अध्ययन में पाया गया कि कैफीनयुक्त कॉफी उसी तरह आंत को उत्तेजित कर सकती है जैसे भोजन कर सकता है।  कैफीन युक्त कॉफी का प्रभाव पीने के पानी की तुलना में 60% अधिक और डिकैफ़िनेटेड बिना कैफीन युक्त कॉफी पीने से 23% अधिक मजबूत था।( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

कॉफी में थोड़ी मात्रा में घुलनशील फाइबर भी होते हैं जो आंतों के बैक्टीरिया  के संतुलन में सुधार करके कब्ज को रोकने में मदद करते हैं।

IBS से पीड़ित लोगों में कैफीन के आंत्र-उत्तेजक गुण काफी अधिक स्तर पर प्रभाव छोड़ते  हैं। और यह पाचन संबंधी लक्षणों को भी बदतर बना सकता है। ( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

उच्चतम गुणवत्ता वाली कैफीनयुक्त कॉफी (caffeinated coffee) खरीदने के लिए यहां क्लिक करें… 

सारांश :

कॉफी आंत में मांसपेशियों को उत्तेजित करके कब्ज को दूर करने में मदद कर सकती है।  इसमें घुलनशील फाइबर की हल्की मात्रा पायी जाती है जो आपके पाचन क्रिया में सुधार करता है। 

यह भी पढ़े :गेहूं की रोटी खाने के 15 फायदे, जो आपको रोटी खाने पर मजबूर कर देंगे

5. Senna, herbal laxative ( रेचक) ले

कब्ज ठीक करने के घरेलू उपचार

Senna एक लोकप्रिय सुरक्षित और प्रभावी हर्बल laxative  है जो कब्ज के इलाज में मदद करता है।  यह किसी दुकान  पर और ऑनलाइन, मौखिक (चाय इत्यादि के रूप में) और मलाशय दोनों रूपों में उपलब्ध है।

Senna में ग्लाइकोसाइड्स  नामक पौधे के रसायन होते हैं, जो आंत में मौजूद नसों को उत्तेजित करते हैं जिससे आप आसानी से मल त्याग कर पाते हैं। 

डॉक्टर senna को वयस्कों के लिए कम समय के लिए सुरक्षित मानते हैं, लेकिन अगर कुछ दिनों के बाद भी उनके कब्ज के लक्षण दूर नहीं होते हैं तो उन लोगों को डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

डॉक्टर आमतौर पर गर्भवती महिलाओं, जो स्तनपान करा रही हैं, या कुछ अन्य स्वास्थ्य स्थितियों वाले लोगों के लिए senna लेने की सलाह नहीं देते। ( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

अच्छी गुणवत्ता वाले HERBAL LAXATIVE SENNA खरीदने के लिए यहां क्लिक करें….. 

सारांश :

हर्बल laxative  senna कब्ज के लिए एक लोकप्रिय उपाय है।  यह आपकी मल त्याग क्रिया को सुगम और  तेज करता है। 

यह भी पढ़े :सिगरेट छोड़ने के उपाय | TOP 15 TIPS | CIGARETTE CHODNE KE UPAY

6. प्रोबायोटिक खाएं या प्रोबायोटिक सप्लीमेंट लें

कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार

प्रोबायोटिक्स पुरानी कब्ज को रोकने में मदद कर सकते हैं। हमारी आंत में पाए जाने वाले जीवित प्रोबायोटिक्स, यानी कि कुछ लाभकारी बैक्टीरिया होते हैं जो हमारी पाचन क्रिया को बेहतर बनाने में मदद करते हैं। उनमें से जिवित bacteria  Bifidobacteria  और Lactobacillus  है। यह bacteria स्वाभाविक रूप से आंत में होते हैं और हमारे लिए लाभकारी होते है। 

हम लोग प्रोबायोटिक खाद्य पदार्थ खाकर इस तरह के bacteria के स्तर को बढ़ा सकते हैं, जिससे हमे कब्ज में काफी राहत मिलती है ।( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

ऐसे कुछ लोगों को जिन्हें पुरानी कब्ज है, उनकी आंत में probiotics बैक्टीरिया का असंतुलन होता है। अपने खाने अधिक प्रोबायोटिक खाद्य पदार्थों का इस्तेमाल करके खाने इस संतुलन को सुधारने और कब्ज को रोकने में मदद मिल सकती है।

2019 की समीक्षा में पाया गया कि 2 सप्ताह के लिए प्रोबायोटिक्स लेने से कब्ज का इलाज करने में मदद मिल सकती है, इससे मल की आवृत्ति और स्थिरता  बढ़ जाती है।

यह bacteria छोटी चेन वाले फैटी एसिड का उत्पादन करके कब्ज के इलाज में भी मदद कर सकते हैं।  इसके अलावा यह bacteria आंत की गतिविधियों में सुधार कर सकते हैं, जिससे मल का त्याग करना आसान हो जाता है ।( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

वैकल्पिक रूप से, एक प्रोबायोटिक खाद्य पदार्थ को अपने खाने में शामिल करने का प्रयास करें। किए गए कुछ अध्ययनों में पाया गया है कि bacteria वाले सप्लीमेंट्स का सेवन करके उन्हें 4 सप्ताह बाद लाभ महसूस होने लगे ।

बाजर या किसी किराने की दुकान से प्रोबायोटिक सप्लीमेंट लेने की कोशिश करें,या फिर आप इन्हें ऑनलाइन ऑर्डर करके भी मंगवा सकते हैं जिसमें सबसे उच्च क्वालिटी के प्रोबायोटिक सप्लीमेंट आपको नीचे दी गई लिंक पर क्लिक करके खरीद सकते हैं।

Healthy Hey Nutrition Probiotics 50 Billion CFU Multi- Strains, 60 Veg. Capsules, Targeted Release Technology, Stomach Acid Resistant, No Need for Refrigeration, Non-GMO, Gluten-Free

खरीदने के बाद इन्हें नियमित अपने खाने में शामिल करे या घर में मौजूद कुछ खाद्य प्रीबायोटिक खाद्य पदार्थों में शामिल हैं:

  •  दही
  •  खट्टी गोभी
  •  किमची

सारांश :

प्रोबायोटिक्स पुरानी कब्ज के इलाज में मदद कर सकते हैं।  प्रोबायोटिक खाद्य पदार्थ खाने या पूरक लेने का प्रयास करें। ( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

यह भी पढ़े :बात करने में कितनी कैलोरी खर्च होती है? 2021

7.  प्राकृतिक या डॉक्टर द्वारा सुझाए गए जुलाब

एक उपयुक्त जुलाव (पेट साफ करने के लिए दवाई) चुनने के बारे में एक व्यक्ति डॉक्टर या फार्मासिस्ट से बात कर सकता है। इनके प्रभाव अलग-अलग प्रकार  की क्रिया के अनुसार अलग-अलग होते हैं, लेकिन ये सभी सभी कब्ज के लिए काफी प्रभावी होते हैं ।( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

एक डॉक्टर निम्नलिखित प्रकारों में से किसी एक जुलाव की सिफारिश कर सकता है:

 बल्किंग एजेंट: ये फाइबर-आधारित जुलाब हैं जो मल में पानी की मात्रा को बढ़ाते हैं।

 मल पतला करने के लिए : इनमें मल को नरम करने और आंत के माध्यम से उनके मार्ग को आसान बनाने के लिए तेल होते हैं।

उत्तेजक जुलाब: ये आंत में नसों को उत्तेजित करके मल त्याग को बढ़ाते हैं।

आसमाटिक जुलाब: ये आस-पास के ऊतकों से पानी को पाचन तंत्र में खींचकर मल को नरम करते हैं।

हालांकि, लोगों को इनमें से अधिकतर जुलाब नियमित रूप से डॉक्टर से बात किए बिना नहीं लेना चाहिए।

सारांश :

कब्ज से राहत के लिए जुलाब प्रभावी होते हैं।  उपयोग करने के लिए सबसे अच्छे लोगों के बारे में डॉक्टर या फार्मासिस्ट से बात करें।( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

यह भी पढ़े :

दुनिया के 10 सबसे पुराने दरवाजे | OLDEST DOORS IN THE WORLD

8. प्रीबायोटिक खाद्य पदार्थ खाएं

कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार

प्रीबायोटिक एक ना पचने वाले कार्बोहाइड्रेट फाइबर होते हैं। प्रीबायोटिक में oligosaccharide  and inulin

होते हैं।

यद्यपि खाने वाले फाइबर मल की स्थिरता और थोक में सुधार करके कब्ज को कम करते हैं, प्रीबायोटिक का प्रभाव पाचन स्वास्थ्य में सुधार करके होता है ।

प्रीबायोटिक फाइबर आंत में मौजूद लाभकारी बैक्टीरिया को जरूरी रसद खिलाकर पाचन स्वास्थ्य में सुधार करते हैं, जिससे  प्रोबायोटिक्स bacteria की संख्या में इजाफा होता है और आंत में बैक्टीरिया के संतुलन में सुधार हो जाता है।( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

कुछ प्रीबायोटिक मल त्याग की आवृत्ति को बढ़ाने में मदद कर सकते हैं, साथ ही मल को नरम बना सकते हैं जिससे मल त्याग करने में आसानी होती है और कब्ज से निजात मिल जाती है ।( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

प्रीबायोटिक खाद्य पदार्थों में शामिल हैं:

  •  कासनी
  •  लहसुन
  •  प्याज
  •  केले
  •  लीक
  •  चने

सारांश :

जिन खाद्य पदार्थों में प्रीबायोटिक फाइबर होते हैं, वे पाचन स्वास्थ्य और लाभकारी आंत के बैक्टीरिया के संतुलन में सुधार कर सकते हैं।  प्रीबायोटिक्स कब्ज को दूर करने में मदद कर सकते हैं।( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

यह भी पढ़े :ठंडे पानी से नहाने के फायदे | BENEFITS OF COLD WATER BATHING | 2021

9. मैग्नीशियम साइट्रेट आज़माएं

मैग्नीशियम साइट्रेट कब्ज के खिलाफ इस्तेमाल किए जाने वाला एक लोकप्रिय घरेलू उपाय है।  यह एक प्रकार का आसमाटिक रेचक (जुलाब) है जिसे लोग अपने आस-पास किसी दुकान से पर या ऑनलाइन खरीद सकते हैं।( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

मध्यम मात्रा में मैग्नीशियम की खुराक लेने से कब्ज को दूर करने में मदद मिल सकती है।  सर्जरी या अन्य चिकित्सा प्रक्रियाओं  से पहले आंत्र तैयार करने और साफ करने के लिए डॉक्टर Magnesium citrate की उच्च खुराक का उपयोग करते हैं।

ऑनलाइन उच्चतम क्वालिटी वाले मैग्नीशियम साइट्रेट खरीदने के लिए यहां क्लिक करें…. 

सारांश : 

मैग्नीशियम साइट्रेट लेना, एक लाभकारी घरेलू उपाय है , यह कब्ज को दूर करने में मदद कर सकता है।( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

12. आलूबुखारा खाएं (Prunes) 

आलूबुखारा एक प्राकृतिक रेचक (पेट साफ करने की औषधि) हैं। लोग अक्सर कब्ज के लिए प्राकृतिक उपाय के रूप में और इसके अच्छे प्रभाव के कारण आलूबुखारा और इसके जूस का सेवन करते हैं। 

आलूबुखारा सबसे सुलभ प्राकृतिक औषधि है जो आपकी कब्ज को दूर करने में काफी सहायक सिद्ध हो सकता है। आलूबुखारा कही भी बेहद आसानी से उपलब्ध हो सकता है।

फाइबर के अलावा, आलूबुखारा में सोर्बिटोल (sorbitol) होता है। यह एक sugar alcohol है जिसका प्रभाव पेट साफ करने के लिए होता है ।( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

कुछ अध्ययनों से पता चला है कि Psyllium जैसे फाइबर की तुलना में आलूबुखारा अधिक प्रभावी हो सकते है।

एक अच्छी प्रभावी खुराक जो आपको कब्ज में आराम दे लगभग 50 ग्राम, या सात मध्यम आकार के आलूबुखारा , प्रतिदिन दो बार खाए। ( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

YAHA SE KHARIDE…

सारांश : 

आलूबुखारा में sugar alcohol सोर्बिटोल होता है, जिससे कब्ज की शिकायत दूर करने में अच्छे प्रभाव होते है। आलूबुखारा कब्ज के लिए एक बहुत ही प्रभावी उपाय हो सकता है।( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

यह भी पढ़े :रात को हल्दी वाला दूध पीने के फायदे | BENEFITS OF TURMERIC MILK | 2021

कब्ज के लिए कुछ भारतीय घरेलू उपाय :

  • त्रिफला चूर्ण का सेवन करे 
  • सोते समय पपीता खाए 
  • रात को सोने के समय एक ग्लास दूध में एक से दो चम्मच एरण्ड का तेल डालकर पीए। 
  • 5 से 6 मुनक्के को भिगोकर दूध में या पानी में मिलाकर खाएं। 
  • बेलपत्र  के फल का सेवन करे या juice बना कर पिए ।
  • रात को सोते समय एक चम्मच भुनी हुई सौंफ को पानी में मिलाकर पीए। 
  • रात को सोने से पहले अलसी  का पाउडर एक चम्मच पानी के साथ ले। 
  • सुबह एक गिलास पानी में काला नमक और नींबू पीए। 
  • जीरा और अजवाइन को भूनकर पाउडर बना ले और काले नमक के साथ एक चम्मच पाउडर मिला कर पानी में पीए। 

कब्ज में क्या खाएं? 

कब्ज से पीड़ित लोगों के लिए अपने खाने में खास तौर पर फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों को खाना चाहिए। प्रतिदिन 20 से 30 ग्राम फाइबर युक्त भोजन का सेवन करे। ( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

                          सब्जियां                             फल 
पत्ता गोभी अंजीर 
Broccoli अनानास
गाजर, पालक और अन्य हरि पत्तेदार सब्जियां खुबानी, पपीता, आम, 

इसके अतिरिक्त यदि आप रोटी खाते है तो अपने गेहूं के आटे में चने का आटा मिलाकर रोटियां बनवाए। 

यह भी पढ़े :सर्दी जुकाम ठीक करने के घरेलू उपाय | सर्दी जुकाम के आयुर्वेदिक,और मेडिकल उपचार

कब्ज के परहेज ? (avoidance of constipation) 

कब्ज होने पर निम्नलिखित चीजों का परहेज करे :

  •  दूध से जुड़े किसी भी खाद्य पदार्थों को खाने से बचना चाहिए। 
  • मैदा, ब्रेड या मैदे से बनी किसी भी चीज को ना खाए। 
  • मसाले दार भोजन ना करें। 
  • ज्यादा रात तक ना जागे एक समय बनाए और उसी समय पर नींद ले। 

कब्ज के लिए योगासन 

कब्ज के लिए योगासन

Image credit -healthline.com

भारत में योग का महत्व प्राचीन काल से ही रहा है और योग की मदद से कई लोग निरोग हुए है ऐसे में कब्ज के उपचार के लिए कुछ योग नीचे बताये गये हैं :

  • मयूरासन
  • पवन मुक्तासन
  • सुप्तमत्स्येन्द्रासन
  • अर्धमत्स्येन्द्रासन
  • बालासन
  • हलासन

उम्मीद है बताये गये उपचारों से आपको राहत मिलेगी मन में अन्य कोई बीमारी को लेकर सवाल है तो नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में बेझिझक पूछिये। लेख को ज्यादा से ज्यादा शेयर करे ताकि लोगों को अधिक लाभ मिल सके। लेख से संबंधित शिकायत और सुझावों के लिए हमें हमारे Facebook पेज पर संदेश भेजें। ( कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार)

यह भी पढ़े :आम खाने के फायदे | विज्ञान के आधार पर TOP 10 BENEFITS OF EATING MANGO

By Nihal chauhan

मैं Nihal Chauhan एक ऐसी सोच का संरक्षण कर रहा हू, जिसमें मेरे देश का विकास है। में इस हिंदुस्तान की संतान हू और मेरा कर्तव्य है कि में मेरे देश में रहने वाले सभी हिंदुस्तानियों को जागरूक करू और हिंदी भाषा को मजबूत करू। आपके सहयोग की मुझे और हिंदुस्तान को जरुरत है कृपया हमसे जुड़ कर हमे शेयर करके और प्रचार करके देश का और हिंदी भाषा का सहयोग करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.