गेहूं की रोटी खाने के 15 फायदे, जो आपको इसको खाने पर मजबूर कर देंगे :मम्मी मजाक नहीं करती थी, जब वह रसोई घर में रोटियाँ सेंकते हुए रोटियों के फायदे गिनाया करती थी। तबे पर रोटियों की खुशबु भी बड़ी मनमोहक होती थी और अगर बात चूलें पर बनी रोटी की हो क्या ही कहने।

 हर भारतीय माँ चाहती है, कि उसके बच्चे भरपूर रोटी खाए और उसके पीछे का कारण शायद वह हमारे जानने से पहले ही जानती होगी। (गेहूं की रोटी खाने के 15 फायदे) 

पढ़ना ना भूले :भारत में कोरोना वैक्सीन के साइड इफेक्ट | INDIA COVID-19 VACCINATION SIDE EFFECTS

एक बात तो माननी होगी कि पुराने समय में हमारे पूर्वज – पुरखों की जो बाते थी वह बिना किसी वैज्ञानिक शोध के ही बड़ी परिपक्व और सटीक थी आखिर यूँ ही नहीं वह लोग इतने स्वस्थ और मजबूत काया वाले होते थे। 

असल में हमारे पूर्वज भले ही उस समय इतने अधिक वैज्ञानिक शोधों और आधुनिक जीवन से परिचित नहीं थे पर उनके पास उनके पूर्वजों द्वारा दिया गया आनुभविक ज्ञान था। इसलिए हमारे पूर्वक एक स्वस्थ और पूरी जिंदगी रोग रहित होकर जीते थे। (गेहूं की रोटी खाने के 15 फायदे) 

पढ़ना ना भूले :टमाटर खाने के फायदे | TOP 11 BENEFITS OF EATING TOMATO

बेशक इस लेख में हम गेहू के आटे से बनने वाली रोटियों के फायदे और नुकसान की बात करेगे पर उससे पहले हम जान लेते हैं कि आखिर 

गेहूं (wheat) क्या होता है? 

गेहूं एक अत्यंत सामान्य अनाज है और लगभग खाने बाली हर चीज में मौजूद होता है। फिर चाहे पास्ता, बैगल्स, क्रैकर्स और ब्रेड से लेकर केक और मफिन तक, यह पौष्टिक अनाज लगभग हर खाने वाली सामग्री एक अनिवार्य हिस्सा है।

 अब आपको गेहूं से कितना फायदा है यह निर्भर करता है कि आप गेहूं का सेवन किस तरह और कितना कर रहे हैं। शुद्घ गेहूं की बनी रोटियां आपको गेहूं का पर्याप्त और पूरा पोष्टिक आहार मुहैया कराती है। (गेहूं की रोटी खाने के 15 फायदे) 

पढ़ना ना भूले :जमीन पर सोने के फायदे और नुकसान | JAMEEN PAR SONE KE FAYDE | 2021

उदाहरण के लिए, यदि हम सीधा खेतों से निकला हुआ गेहूं का उपयोग करते है तो जाहिर है हमे उसके पूरे पोष्टिक पदार्थ मिलेगे और यह पोष्टिक आहार हमारे लिए काफी स्वास्थ प्रद होते हैं। 

जबकि इस अनाज के निकाले गए संस्करण जैसे मैदा या अन्य कोई सामाग्री जो गेहूं से तैयार होती है, वह गेहूं की तुलना में, कम स्वस्थ होते हैं क्योंकि गेहूं की बाहरी भूरी परत अक्सर हटा दी जाती है।  

इस परत में विटामिन बी 3, बी 2, बी 1, फोलिक एसिड, कॉपर, कैल्शियम, फॉस्फोरस, जिंक, फाइबर और आयरन जैसे कई पोषक तत्व होते हैं और इनका सेवन करने से आपके आहार पर असर पड़ सकता है।(गेहूं की रोटी खाने के 15 फायदे) 

पढ़ना ना भूले :अच्छी नींद के लिए प्रमाणित उपाय | नींद से सम्बंधित हर जबाब और जानकारी | ACCHI NEEND KAISE SOYE |2021

 गेहूं पोषक तत्वों के एक मेजबान से भरा होता है जो आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा होता है।  इसमें उत्प्रेरक तत्व, विटामिन ई, विटामिन बी, खनिज लवण, तांबा, कैल्शियम, आयोडाइड, मैग्नीशियम, जस्ता, पोटेशियम, मैंगनीज, सल्फर, सिलिकॉन, क्लोरीन और आर्सेनिक शामिल हैं। 

यही कारण है कि यह किसी भी आहार के लिए शुद्घ गेहूं की रोटियां एक महान आधार है।(गेहूं की रोटी खाने के 15 फायदे) 

एक छोटी गेहूं की रोटी (करीब 6 इंच की ) में 71 कैलोरी, 3 ग्राम प्रोटीन, 0.4 ग्राम फैट और 15 ग्राम कार्बोहाइड्रेट होता हैं।(गेहूं की रोटी खाने के 15 फायदे) 

 

गेहूं की रोटी खाने के फायदे :

  • हड्डियों के लिए लाभकारी। 
  • Carbohydrate ऊर्जा का अच्छा श्रोत। 
  • मधुमेह (diabetes friendly) का खतरा नहीं रहता। 
  • दिमाग को स्वस्थ रखने में मदद करती है। 
  • Folic acid से भरपूर 
  • ANAEMIA जैसी घातक बीमारी से बचाव । 
  • त्वचा के लिए बेहतर है। 
  • कैलोरी के अनुकूल
  • आँखों के लिए लाभकारी 
  • हृदय स्वास्थ्य के लिए रोटी बेहतर विकल्प। 
  • पाचन तंत्र के लिए राम बाण। 
  • वजन कम करने में सहायक। 
  • कब्ज से राहत 
  • पित्ताशय की पथरी को रोकता है। 
  • स्तन कैंसर से पीड़ित होने से बचाती है। 

पढ़ना ना भूले :TOP 15 दुनिया के सबसे बड़े कुत्ते | MOST BIGGEST DOGS IN THE WORLD | 2021

1.हड्डियों के लिए लाभकारी :

गेहूं के आटे में प्रचुर मात्रा में फास्फोरस होता है, जो एक प्रमुख खनिज है। यह फास्फोरस हमारी हड्डियों के निर्माण के लिए कैल्शियम के साथ मिलकर काम करता है। (गेहूं की रोटी खाने के 15 फायदे) 

2. ऊर्जा का श्रोत 

 गेहूं का आटे में विटामिन बी 1 प्रचुर मात्रा में होता है जो ग्लूकोज चयापचय के लिए आवश्यक है।  यह हमारे भोजन से ऊर्जा निकालता है और इसे एटीपी (एडेनोसिन ट्राइफॉस्फेट) में परिवर्तित करता है।  अधिक खुराक के लिए पौष्टिक पराठा ट्राई करें।

3. मधुमेह (diabetes friendly) का खतरा नहीं रहता। 

गेहूं की रोटी में मैग्नीशियम की प्रयाप्त मात्रा होती है। गेहूं की रोटी कई स्वास्थ्य लाभों में योगदान देती है और और यह आपके शरीर में कम इंसुलिन की मात्रा की पूर्ति करता है । 

जस्ता की उपस्थिति के माध्यम से ब्लड शुगर के स्तर को नियंत्रित करने के लिए गेहूं की रोटी खाना एक बहुत बढ़िया विकल्प है ।(गेहूं की रोटी खाने के 15 फायदे) 

पढ़ना ना भूले :दुनिया के सबसे छोटे कुत्ते | सबसे छोटी नस्ल के कुत्ते |DUNIYA KE 10 SABSE CHOTE KUTTE

4. दिमाग को स्वस्थ रखने में मदद करती है। 

 गेहूं के आटे में मौजूद (Niacin) नियासिन मस्तिष्क के कामकाज और मानसिक स्वास्थ्य में सुधार के लिए अच्छा है। 

पढ़ना ना भूले :मोटापा घटाने के उपाय | वजन कम करने से संबंधित पूर्ण जानकारी | VAJAN GHATANE KE UPAY | 2021

5. Folic acid से भरपूर 

विटामिन बी 9 (vitamin B9 ) आपके शरीर को नई कोशिकाओं, विशेष रूप से लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन और रखरखाव में मदद करता है।  

यह डीएनए में होने वाले परिवर्तनों को रोकने में भी मदद करता है जो कि कैंसर का कारण हो सकता है।डीएनए में ज्यादा परिवर्तन कैंसर का एक कारण होता है। गेहूं की रोटी में मौजूद ‘Folic acid’ इस प्रक्रिया को रोककर आपको सुरक्षित रखने में मदद करता है। (गेहूं की रोटी खाने के 15 फायदे) 

6. ANAEMIA जैसी घातक बीमारी से बचाव । 

गेहूं की रोटी आपको anaemia से बचा सकती है। गेहूं में पाए जाना वाला iron (लोहा) anaemia जैसी घातक बीमारी से हमारी प्रतिरोधक क्षमता विकसित करता है। 

7. त्वचा के लिए बेहतर है। 

‘सुपर ग्रेन’ (गेहूं) से बनी रोटियां न केवल आपके स्वास्थ्य के लिए, बल्कि आपकी त्वचा के लिए भी फायदेमंद है!  गेहूं में जिंक का उच्च प्रतिशत होता है जो आपकी त्वचा को निर्दोष और चमकदार बनाता है!

रोटियां (Chapati) उन खाद्य पदार्थों में से एक है जो आपकी त्वचा के लिए सबसे अच्छे हैं।  जस्ता (zinc) और अन्य खनिजों की अच्छाई के साथ, हर दिन गेहूं की रोटियां खाना आपकी त्वचा के लिए चमत्कार कर सकता है।(गेहूं की रोटी खाने के 15 फायदे) 

पढ़ना ना भूले :रस्सी कूदने के फायदे | 10 ऐसे फ़ायदे जो आपको रस्सी कूदने पर मजबूर कर देंगे। TOP 10 (2021)

8. कैलोरी के अनुकूल

अन्य खाद्य पदार्थों की तुलना में चपातियों (रोटियों) में कम संख्या में कैलोरी होती है।  वजन कम करने वाले आहार के लिए यह सबसे अच्छा भोजन है। 

यदि आप अपने खाने की कैलोरी को कम करना चाहते हैं, तो चपातियां एक बढ़िया विकल्प हैं।इसके अलावा, गेहूं की रोटी आपको लंबे समय तक तृप्त रख सकती हैं। (गेहूं की रोटी खाने के 15 फायदे) 

पढ़ना ना भूले :दुनिया की सबसे महंगी दवाइयां | DUNIYA KI SABSE MEHNGI DAWAIYA | MOST EXPENSIVE DRUGS 2021

 9. आँखों के लिए लाभकारी 

गेहूं के रोटियों में पाए जाना वाला zinc (जस्ता) हमारे शरीर में एक एंजाइम की गतिविधि में मदद करता है जो विटामिन ए का उत्पादन बढ़ाने में कारगर है, और Vitamin A  रतौंधी (night blindness) के इलाज में उपयोगी है।(गेहूं की रोटी खाने के 15 फायदे) 

10. हृदय स्वास्थ्य के लिए रोटी बेहतर विकल्प। 

गेहूं के आटे की बनी हुई रोटियां (चपाती) , घुलनशील फाइबर से भरपूर होती है , जो आपके दिल को स्वस्थ रखता है। 

 गेहूं के आटे की फाइबर सामग्री आपके शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रण में रखती है और इससे हृदय को उचित कार्य और स्वस्थ रक्त परिसंचरण में मदद मिलती है।(गेहूं की रोटी खाने के 15 फायदे) 

11. पाचन तंत्र के लिए राम बाण। 

गेहूं सबसे आसानी से पचने वाला अनाज है।  वास्तव में, अधिकांश अनाज शरीर को पचाने में मुश्किल होते हैं क्योंकि अधिकांश अनाज के ऊपर फाइटिक एसिड की परत होती है, जिससे उन्हें पचाने में मुश्किल होती है।  

इसके अलावा, गेहूं की रोटियों में Bran  (चोकर) होता है, जो बेहतर मल त्याग को बढ़ावा देता है और Irritable Bowel Syndrome (IBS)(चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम) से बचाव करता है। (गेहूं की रोटी खाने के 15 फायदे) 

पढ़ना ना भूले :विपत्तियों का सामना कैसे करें? | अत्यंत दुख का सामना कैसे करें? | Atyant dukh ka saamna kaise karein?2021

12. वजन कम करने में सहायक। 

जब बात वजन घटाने की आती है, तो गेहू की रोटियां खाने के लिए सबसे अच्छा खाना हो सकता है। क्योंकि गेहूं की रोटी में ना के बराबर कैलरी होती है। 

इसका मतलब यह हुआ कि आप अपना वजन कम करने के लिए जितनी चाहे चपाती (रोटी) खा सकते हैं और यह रोटियाँ वजन कम करने में सहायक सिद्ध होती है। (गेहूं की रोटी खाने के 15 फायदे) 

इसके अतिरिक्त गेहूं में पाए जाने वाला फाइबर आपके पेट में एक अच्छा आधार रखता है, जिससे आपको लंबे समय तक भूख भी नहीं लगती और यह घ्रेलिन (ghrelin ) की रिहाई को रोकती है – एक हार्मोन जो भूख का कारण बनता है और आपको अधिक खाने के लिए मजबूर करता है। (गेहूं की रोटी खाने के 15 फायदे) 

13. कब्ज में राहत 

गेहूं की रोटी के फायदों में से के कब्ज की शिकायत को दूर रखना इसका एक मुख्य फायदा है ।  यह कब्ज को रोकने में मदद करता है। 

गेहूं में मौजूद फाइबर कब्ज को कम करने में सहायक होता है। जो लोग कब्ज से पीड़ित हैं वह गेहूं की रोटियों को अपने आहार में शामिल कर सकते हैं। (गेहूं की रोटी खाने के 15 फायदे) 

पढ़ना ना भूले :अकेलेपन से होने वाले फायदे और नुकसान?2021|Akelepan Se Hone Wale Fayde Aur Nuksaan?2021| TOP BEST Advantages & Disadvantages of Living Alone

14. पित्त पथरी को रोकने में मदद करती है। 

गेहूं की रोटी महिलाओं में पित्त पथरी को रोकने में मदद कर सकती है।  पित्त में एसिड के अत्यधिक स्राव के कारण पित्त पथरी (gallstone ) बनती है।  

और गेहूं में पाए जाने  अघुलनशील फाइबर यह पथरी बनने से रोकते है, यह गेहूं के ये फाइबर चिकना पाचन सुनिश्चित करते है जिसके लिए पित्त में कम एसिड के  स्राव की आवश्यकता होती है, जिससे पित्त की पथरी को रोका जा सकता है।(गेहूं की रोटी खाने के 15 फायदे) 

पढ़ना ना भूले :मन को शांत और स्थिर कैसे करें? | Man ko Shant Aur Isthir Kaise karein ? | Top Best 11 ways To clam and stabilize Your Mind

15. स्तन कैंसर से पीड़ित होने से बचाती है। 

महिलाओ में बनने वाला एक हार्मोन जिसे estrogen  कहते है, जब इसका (एस्ट्रोजन) का स्तर बढ़ता है और अत्यधिक स्तर तक पहुंच जाता है, तो यह स्तन कैंसर  की ओर जाता है।  

गेहूं का चोकर (bran) एस्ट्रोजेन के स्तर का अनुकूलन करता है, ताकि वे हर समय नियंत्रित रहें, जिससे स्तन कैंसर को रोका जा सके।  

bran गेहूं की उपरी परत में होता है और यदि आप शुद्ध गेहूं के आटे की बनी हुयीं रोटियों का सेवन करते है, तो ब्रेस्ट कैंसर से बचाव किया जा सकता है। 

 (गेहूं की रोटी खाने के 15 फायदे) 

भारत में गेहूं की रोटियों के प्रकार :

भारतीयों के लिए रोटी उनकी diet का अभिन्न हिस्सा है। रोटियों के बिना भारतीयों का पेट नहीं भरा जा सकता है। और भारत की हार रसोई में चाहे वह किसी भी धर्म या जाति, समुदाय की हो रोटी तो आपको हर रसोई की शान के रूप में मिलेगी ही। (गेहूं की रोटी खाने के 15 फायदे) 

 भारत में रोटियां किसी भी सब्जी, दाल या मीट किसी के साथ में भी बड़े चाव से खाया जाता है। और इन रोटियों को बनाने के तरीकों में आपको काफी ज्यादा भिन्नता देखने को मिलती है। (गेहूं की रोटी खाने के 15 फायदे) 

भारत में रोटियाँ कई प्रकार की होती है पर अगर हम गेहूं की रोटियों के प्रकार की बात करे तो उनमें से कुछ मुख्य ioकुछ नीचे दी गई है :

  • Khamiri roti 
  • राजस्थानी रोटी 
  • गुजराती रोटी 
  • टिक्कर 
  • रुमाली रोटी 
  • तबा रोटी 

रोटियों की वैरायटी बहुत है पर हमने उसमे से कुछ ही आपके सामने रखी है भारत में कुल 170 तरह की रोटियां बनाई जाती है, जिनको बनाने के तरीके अलग है। 

पढ़ना ना भूले :दुनिया की 10 ऐसी जगह जहां फोटो खींचना कानूनी अपराध है | 2021

गेहूं की रोटी में कितना पोषण है? 

गेहूं की रोटियों में अनगिनत पोषक तत्व पाए जाते हैं। गेहूं की रोटियों में सबसे ज्यादा मात्रा में पाए जाने वाले विटामिन (बी 1, बी 2, बी 3, बी 6, और बी 9), लोहा, कैल्शियम, फास्फोरस, मैग्नीशियम और पोटेशियम जैसे पोषक तत्वों से समृद्ध है।  (गेहूं की रोटी खाने के 15 फायदे) 

पढ़ना ना भूले :दुनिया की 10 सबसे खतरनाक जानलेवा बीमारियाँ | SABSE KHATARNAK BIMARIYAN | 2021

एक सादा रोटी  घुलनशील फाइबर का एक उत्कृष्ट स्रोत है , जो आपके रक्त में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद करती है, कब्ज को रोकती है और हमारे पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने में मदद करती है। 

गेहूं की बनी रोटियां जटिल कार्बोहाइड्रेट से भरी हुई होती है, जो आपको निरंतर ऊर्जा देती है और यह रोटियां आपको घंटों तक तृप्त रख सकती है।  यह रोटियां बिना  किसी तेल के बनाई जाती है और इसलिए यह और भी ज्यादा स्वस्थ हो जाती है। (गेहूं की रोटी खाने के 15 फायदे) 

मुलायम गेहूं की रोटी कैसे बनाते है? 

लाखों भारतीयों के लिए रोटी बनना दैनिक प्रक्रिया है।  भारत में कोई भी भोजन फुलका के बिना पूरा नहीं होता है और हम आपको बताते हैं कि उन्हें बनाना कितना आसान है।  रोटी पकाने की विधि बनाने की सभी सामग्री भारतीय रसोई में आसानी से उपलब्ध होती है ।  (गेहूं की रोटी खाने के 15 फायदे) 

पढ़ना ना भूले :ये है, 2021 में दुनिया की सबसे आधुनिक तकनीकें | TOP 10 NEW TECHNOLOGIES IN 2021

रोटी बनाने के शुद्ध गेहूं के आटे, तेल और नमक को मिलाएं और पर्याप्त पानी का उपयोग करके एक नरम नरम आटा गूंध लें।  

15 से 20 मिनट के लिए अलग रख दें।  आटे को 15 से 20 मिनट के लिए ढककर रख दें।इसके बाद इस आटे को 8 बराबर भागों में विभाजित करें और आटा के प्रत्येक भाग को एक पतली सर्कल में रोल करें।  

एक नॉन स्टिक तवा पर रोटी को पकाएं और फिर इसे खुली आंच पर तब तक पकाएं जब तक कि यह फूल न जाए।  इस प्रकार मुलायम रोटी तैयार हो जाती है।

 मैं सही रोटी बनाने की विधि के लिए कुछ महत्वपूर्ण सुझाव साझा करना चाहूंगा।

  • गेहूं के आटे का पैकेट और एक स्टील का बड़ा कटोरा जिससे आटा बाहर नहीं फैले। 
  • पानी डालते समय, पानी को थोड़ा-थोड़ा करके आवश्यकतानुसार डाले ख्याल रखें एकदम ज्यादा पानी ना डाले वरना आटा चिपचिपा हो जाएगा और गूंधने में मुश्किल होगी।  पानी की मात्रा आटे की गुणवत्ता पर निर्भर करती है।
  • रोटियों के लिए आटा नरम होना चाहिए और पूरियों के लिए कड़ा नहीं होना चाहिए।  यदि आटा बहुत नरम है, तो यह चिपचिपा हो जाएगा और आप रोल करने में असमर्थ होंगे।
  • रोटियों को सेंकने के बाद खुले में ना रखे और धीमी आँच पर सेंकने की कोशिश करे। सेंकने के बाद उन्हें ढ़क कर रखे वर्ना वह सख्त हो जाती है। 

गेहूं की रोटी खाने के दुष्प्रभाव और एलर्जी 

जिन लोगों को गेहूं से एलर्जी की आशंका है, उन्हें गेहूं से बचने की चेतावनी दी जाती है क्योंकि यह आपके शारीरिक प्रतिक्रिया को और बदतर बना सकता है।  इससे नीचे दिए गए कुछ नुकसान हो सकते है। 

  • एक्जिमा
  • खुजली 
  • पित्ती 
  • चकत्ते 

गेहूं ‘में ऑक्सालेट्स की मात्रा अधिक होती है, यही कारण है कि आपको इसके साथ अति नहीं करनी चाहिए।  आपके रक्त में बहुत अधिक ऑक्सालेट्स 

  • गुर्दे की पथरी 
  • पित्त पथरी और
  •  गाउट

 जैसी समस्याओं का सामना कर सकते हैं। 

गेहूं की रोटी भारत में एक मुख्य भोजन है।  यह भारतीय खाने का एक बहुमुखी घटक है और बड़े पैमाने पर रोटी, पराठा और शीरा जैसी अन्य कितने ही व्यंजनों को बनाने के लिए उपयोग किया जाता है।(गेहूं की रोटी खाने के 15 फायदे) 

पढ़ना ना भूले :डरना नहीं क्युकी ये है, दुनिया के सबसे खतरनाक पुल | DUNIYA KE 20 SABSE KHATARNAK PUL | (TOP 20)

गेहूं की रोटियों खाने के स्वास्थ्य लाभ सुनिश्चित नहीं किए जा सकते । कोई आश्चर्य नहीं कि इतने सारे भारतीय इस अद्भुत गेहूं की रोटी को अपने दैनिक आहार के हिस्से के रूप में शामिल करते हैं।  आप कितनी बार चपाती खाते हैं और आपको इसके बारे में क्या पसंद है?  नीचे टिप्पणी करके हमें बताएं!

पढ़ना ना भूले :दुनिया का सबसे महँगा खाना | (सबसे महंगे खाद्य पदार्थ) TOP 16 DUNIYA KE SABSE MEHNGE FOOD ITEM’S 2021

By Nihal chauhan

मैं Nihal Chauhan एक ऐसी सोच का संरक्षण कर रहा हू, जिसमें मेरे देश का विकास है। में इस हिंदुस्तान की संतान हू और मेरा कर्तव्य है कि में मेरे देश में रहने वाले सभी हिंदुस्तानियों को जागरूक करू और हिंदी भाषा को मजबूत करू। आपके सहयोग की मुझे और हिंदुस्तान को जरुरत है कृपया हमसे जुड़ कर हमे शेयर करके और प्रचार करके देश का और हिंदी भाषा का सहयोग करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.