TOP 15  दुनिया के सबसे बड़े पुल | DUNIYA KE 15 SABSE BADE PUL 2021आमतौर पर पुलों का निर्माण दो जगहों को जोड़ने के लिए होता रहा है जहा पर बड़ी बड़ी नदियाँ या पानी के श्रोत होते है जिन्हें पार करना मुस्किल होता है। पर आज के आधुनिक युग में पुलों की यह परिभाषा बदल दी गई है। इतिहास से लेके आज तक पुलों का महत्त्व मानव जाति शुरू से ही भली भांति जानती है और इसीलिए आज दुनिया में कुछ ऐसे हैरतअंगेज लंबे पुलों का निर्माण किया है जो आपको आश्चर्य करने के काफ़ी है। 

आजकल दुनिया के इन सबसे बड़े पुलों का ईस्तेमाल आवागमन के लिए होता है बल्कि यह पुल पूरी दुनिया के सैलानियों के लिए आकर्षण का केंद्र बन गए हैं। पूरी साल इन लंबे पुलों पर टूरिस्टों का तांता लगा रहता है।और लोग देखे भी क्यों ना क्युकी यह पुल अब पूरी दुनिया में बेहद खास और मशहूर है, कारण यह है कि ये है दुनिया के सबसे बड़े पुल जिनके पास रिकॉर्ड है कि यह दुनिया के सबसे लंबे पुल है और इनकी खूबसूरती की तो कोई मिसाल ही नहीं है। और यही मुख्य कारण है कि आज हम आपको ऐसे ही दुनिया के सबसे बड़े और लंबे पुलों के बारे में बतायेंगे। (दुनिया के सबसे बड़े पुल )

तो चलिए आज हम आपको ले चलते है इस रोमांचक सफर पर जहा हम देखेंगे और जानेंगे मानव इतिहास के अब तक के दुनिया के सबसे बड़े पुलों के बारे में। 

Also Read : डरना नहीं क्युकी ये है, दुनिया के सबसे खतरनाक पुल | DUNIYA KE 20 SABSE KHATARNAK PUL | (TOP 20)

 डेनयांग-कुशान ग्रैंड ब्रिज, चीन

देश –  जिआंगसु प्रांत, चीन 

लंबाई – 164 किलोमीटर (540,700 फिट) 

दुनिया का सबसे बड़ा पुल

अगर अब तक आपने सिर्फ ऐसे ही पुल देखे है जिन्हें पैदल पार किया जा सकता है तो यह पुल आपकी सोच और आपके अंदाज़े को बिल्कुल गलत ठहराता है। इसकी लंबाई इतनी अधिक है कि आप इस पुल को पैदल पार करने के बारे में सोचेंगे ही नहीं। हालांकि यह एक रेल्वे पुल है। इसकी कुल लंबाई 164 किलोमीटर (102 मील) नापी गयी है। 

इसकी लंबाई के अनुसार आप इसकी कीमत का अंदाजा शायद ही लगा पाएगें असल में इसके निर्माण में $8.2 डॉलर का खर्चा आया था जो कि अब तक का सबसे बड़ा और महँगा पुल भी कहा जा सकता है।

यह पुल बीजिंग-शंघाई हाई-स्पीड रेलवे ने बनाया । यह पुल शंघाई और नानजिंग के बीच जिआंगसु प्रांत में रेल लाइन पर स्थित है। दनयांग-कुंजन ग्रांड ब्रिज यांग्त्ज़ी नदी के समानांतर है।(दुनिया के सबसे बड़े पुल )

इसका मतलब है कि आप पुल पर रहते हुए नहरों और चावल के पेडों के दृश्य का आनंद ले सकते हैं।  यह यांग्त्ज़ी नदी डेल्टा में है ।यह क्षेत्र अपने चावल, पेड़ों, नदियों और झीलों के लिए पूरी दुनिया में जाना जाता है। 

पुल नदी के दक्षिण में लगभग 8 से 80 किमी (5 से 50 मील) यांग्त्ज़ी नदी के समानांतर चलता है।  चार पुल एक साथ मिलकर कुल 400 किलोमीटर की दूरी के होते है। (दुनिया के सबसे बड़े पुल )

यह पुल 2010 में बनकर तैयार हुआ था और आधिकारिक तौर पर लोगों के लिए 2011 में खोला गया। पुल के निर्माण में करीब 4 वर्ष का समय लगा था। यह पुल बनने से चाइना में करीब 10,000 लोगों को रोजगार मिला। Danyang–Kunshan Grand Bridge दुनिया का सबसे बड़ा पुल है। इस बात की आधिकारिक पुष्टि गिनिज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड से भी है। 

चंगुआ-काहोसंग विडक्ट


देश – ताइवान

लंबाई: 157,317 मीटर

चंगुआ-काहोसंग विडक्ट

पुल की लंबाई यह साफ करती है कि यह दुनिया का दूसरा सबसे लंबा पुल है । ताईवान हाई स्पीड रेल्वे द्वारा निर्मित यह पुल करीब 97.8 मील लम्बा है।   दिसंबर 2012 तक 200 मिलियन से अधिक यात्रियों को इस पुल पर ले जाया जा चुका था।

इस पुल के साथ THSR Changhua, Yunlin, Chiayi, Tainan स्टेशनों के साथ बनाया गया है। इस पुल का निर्माण 2007 में पूरा हुआ। यह पुल 157,317 मीटर (516,132 फीट) बड़ा है। इस लंबे पुल का निर्माण खास भूकंप प्रतिरोधी ढंग से किया गया है। ताकि इसे भूकंप ग्रस्त होने से बचाया जा सके। इनका निर्माण इस तरह से किया गया है कि अगर भूकंप के झटके महसूस किये जाए तो ट्रेन को रोका जा सकता है। (दुनिया के सबसे बड़े पुल )

यह भी पढ़े :दुनिया का सबसे महँगा खाना | (सबसे महंगे खाद्य पदार्थ) TOP 16 DUNIYA KE SABSE MEHNGE FOOD ITEM’S 2021

टियांजिन ग्रैंड ब्रिज, चीन


देश – चीन 

लंबाई – 113 किलोमीटर 

टियांजिन ग्रैंड ब्रिज, चीन

टियांजिन ग्रैंड ब्रिज एक रेलवे वियडक्ट ब्रिज है जो बीजिंग-शंघाई हाई-स्पीड रेलवे के हिस्से लैंगफैंग और क्विंगज़ियान के बीच में बना हुआ है। यह पुल दुनिया के सबसे लंबे पुलों में से एक है, जिसकी कुल लंबाई लगभग 113,700 मीटर या 70.6 मील है। 

यह पुल 2004 में बनना शुरू हुआ था और 2010 में बनकर तैयार हुआ। इसके उपरांत यह 2011 में खोला गया। उस समय तक यह दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा पुल माना गया था जो कि गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज भी किया गया था। (दुनिया के सबसे बड़े पुल )

कैंगडे ग्रैंड ब्रिज


देश – चीन 

लंबाई – 105,810 मीटर

कैंगडे ग्रैंड ब्रिज

 बीजिंग ग्रैंड ब्रिज की तरह, यह पुल भी बीजिंग और शंघाई को जोड़ने वाले एक उच्च गति वाले रेलवे को वहन करता है। कारीगरों ने इसमे तीन हजार से अधिक पियर्स का निर्माण किया ताकि कंगडे ​​ग्रैंड ब्रिज भूकंप का सामना करने में सक्षम बना रहे ।  बीजिंग-शाघई रेलवे को ले जाने वाले अधिकांश पुलों की तरह, कांगडे का निर्माण भी 2010 में पूरा हो गया था।(दुनिया के सबसे बड़े पुल )

यह भी पढ़े :TOP 15 दुनिया के सबसे बड़े कुत्ते | MOST BIGGEST DOGS IN THE WORLD | 2021

वेनान वेहे ग्रैंड ब्रिज


देश – चीन 

लंबाई – 79,732 मीटर

वेनान वेहे ग्रैंड ब्रिज

Weinan Weihe Grand Bridge झेंग्झौ-शीआन हाई-स्पीड रेलवे का ही एक हिस्सा है, जो चीन में झेंग्झौ और शीआन क्षेत्र को जोड़ता है। पुल को अधिकतम लंबाई 79,732 मीटर  (261,588 ft; 49.543 mi) है। यह पुल wie नदी को दो बार पार करने के साथ-साथ कई अन्य नदियों, राजमार्गों और रेलवे को भी पार करता है।

जब इस पुल का निर्माण पूरा हुआ था उस समय यह दुनिया का सबसे बड़ा पुल था। पर इसके बाद और बड़े पुल बनकर तैयार हुए और इसका स्थान पांचवां हो गया। 

पुल का निर्माण कार्य सन 2008 में ही पूरा हो गया था परंतु रेल्वे द्वारा 6 February, 2010 में खोली गई। 

वेनान वेह ग्रांड पुल तैयार करने में कम से कम 10,000 श्रमिक 2,300,000 घन मीटर कंक्रीट और 45,000 टन स्टील का उपयोग किया गया था। (दुनिया के सबसे बड़े पुल )

दुनिया की सबसे महंगी सब्जियां : दाम जानकर रह जायेगे हैरान | DUNIYA KI SABSE MEHNGI SABJIYA 2021

हांगकांग ज़ुहाई मकाओ ब्रिज


दुनिया का सबसे बड़ा पुल

देश – चीन 

लंबाई – 55 किलोमिटर 

हांगकांग-झुहाई-मकाऊ पुल दुनिया का सबसे लंबा स्टील ब्रिज-टनल सिस्टम है। यह पुल 23 October, 2018 में खोला गया था। यह पुल त्रिकोण केबल के रूप में है इस पुल में पानी के भीतर सुरंग है और तीन मानव निर्मित आइलैंड को जोड़ता है। यह Pearl नदी के डेल्टा पर तीन बड़े शहरों को जोड़ता है। इस पुल का निर्माण 2009 दिसम्बर में शरू हुआ था। 

पुल को पार करने के लिए ड्राइविंग किसी के लिए भी खुली नहीं है ।  ड्राइवर्स के पास हॉन्ग कॉन्ग और चीनी ड्राइविंग लाइसेंस होना अनिवार्य है और तीनों क्षेत्रों के लिए उचित बीमा होना चाहिए। 

बैंग न एक्सप्रेसवे

देश – थाईलैंड

लंबाई – 54,000 मीटर

बैंग न एक्सप्रेसवे

 यह पुल थाइलैंड की एक विशाल परियोजना थी।  बंग ना एक्सप्रेसवे के निर्माण में बहुत सारे बड़े नाम शामिल थे।  इस परियोजना के पीछे थाईलैंड के प्रधान मंत्री, सुवाविच रंगस्टपोल थे और इसको डिजाइन लुइस बर्जर और जीन एम ने किया । 

 बैंग न एक्सप्रेसवे थाईलैंड के कुछ सबसे महत्वपूर्ण और प्रमुख क्षेत्रों को जोड़ता है।  यह करीब 54 किलोमीटर तक फैला है।  सन 2000 के बाद से, पुल थाईलैंड की सबसे महत्वपूर्ण संरचनाओं में से एक रहा है। बैंग ना एक्सप्रेसवे, आधिकारिक तौर पर यह बुरफा विधी एक्सप्रेसवे है और यह करीब 55 km लंबा हाई वे है। यह एक टोल टैक्स रोड है। (दुनिया के सबसे बड़े पुल )

 एक्सप्रेसवे प्राधिकरण (EXAT) के स्वामित्व वाले राष्ट्रीय राजमार्ग मार्ग 34, (बैंग ना-ट्रेट राजमार्ग) के द्वारा संचालित है । बैंग ना एक्सप्रेसवे का डिजाइन दिवंगत लुईस बर्जर ने किया था।

शेख जाबेर अल-अहमद अल-सबा कॉजवे

देश – कुवैत 

लंबाई – 48,500 मीटर

शेख जाबेर अल-अहमद अल-सबा कॉजवे

Sheikh Jaber Al-Ahmad Al-Sabah एक बहुत बड़ी परियोजना है। जिसके तहत करीब 3.3 बिलियन अमेरीकी डॉलर से इस पुल का निर्माण किया गया है। यह पुल कुवैत के दो हिस्सों फैला है और इसके तहत दो परियोजनाएं जोड़ी गयी है। एक मेन लिंक, जो कुवैत सिटी को भविष्य के सिल्क से जोड़ता है।और दूसरी दोहा लिंक जो जो कुवैत सिटी को दोहा और कुवैत एंटरटेनमेंट सिटी से जोड़ता है।  (दुनिया के सबसे बड़े पुल )

यह पुल कुवैत की अब तक की सबसे बड़ी राष्टीय परियोजनाओं में से एक है जो कि राष्ट्रीय परियोजना 2035 का हिस्सा है। 

पुल का नाम स्वर्गीय शेख जाबेर अल-सबाह के नाम पर रखा गया है जिन्होंने कुवैत में खाड़ी युद्ध के दौरान शासन किया था।  कुवैत के विकास में उनके योगदान को याद करने के लिए यह पुल खास उन्हीं के नाम पर रखा गया है । यह कुवैत में सबसे बड़े और सबसे चुनौतीपूर्ण परिवहन बुनियादी ढांचा परियोजनाओं में से एक है, साथ ही पूरे मध्य पूर्व क्षेत्र में भी।  मेन लिंक की कुल दूरी 36.14 किमी पर दुनिया का चौथा सबसे लंबा सड़क पुल है।  दोनों पुलों की संयुक्त लंबाई 48.5 किलोमीटर है। (दुनिया के सबसे बड़े पुल )

बीजिंग ग्रांड ब्रिज

देश – चीन 

लंबाई – 48,153 मीटर

दुनिया का सबसे बड़ा पुल

बीजिंग ग्रांड-बीजिंग हाई-स्पीड रेलवे पर 48.153 किलोमीटर (29.921 मील) लंबा रेलवे पुल है, जो बीजिंग में स्थित है।  यह दुनिया के सबसे लंबे पुलों में से एक है।

यह चीन के दो सबसे बड़े शहर बीजिंग और शंघाई को जोड़ता है। (दुनिया के सबसे बड़े पुल )

लेक पोंटचार्टेन कॉजवे

देश – संयुक्त राज्य अमेरिका

लंबाई – 38,442 मीटर


दुनिया के सबसे बड़े पुल

दो समांतर पुल जो कि लेक पोंटचार्टेन को पार करते हैं। इनकी लंबाई काफ़ी ज्यादा है। दोनों पुलों की लंबाई कुल 38.35 km है। पुल का दक्षिणी हिस्सा 1956 में खुला। और फिर लगभग 13 साल बाद, उत्तर की ओर का हिस्सा भी खोल दिया गया था। 1969 के बाद से, इसे गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स द्वारा दुनिया में पानी के सबसे लंबे पुल के रूप में सूचीबद्ध किया गया था। 

लाइन 1, वुहान मेट्रो ब्रिज


देश – चीन 

लंबाई – 37,788 मीटर

दुनिया का सबसे बड़ा मेट्रो पुल चाइना के वुहान में स्थित है। जी हां वही वुहान जहां से corona virus पूरी दुनिया में फैला था। वुहान मेट्रो  लाइन 1 वुहान शहर, के हुबेई में एक एलिवेटेड मेट्रो लाइन है। यह दुनिया में सबसे लंबे समय तक लगातार चलने वाला मेट्रो पुल है।  यह पुल 28 जुलाई 2004 को खोला गया था। 

जकार्ता-सीकम्पेक एलिवेटेड टोल रोड

देश – जकार्ता

लंबाई – 36.4 किलोमीटर 

जकार्ता-सीकम्पेक एलिवेटेड टोल रोड 36.4 किलोमीटर लंबा (22.6 मील) ऊंचा एक्सप्रेसवे है, जो इंडोनेशिया के वेस्ट जावा के कारावांग से सीकुनीर, बीकासी तक फैला हुआ है।  यह मौजूदा जकार्ता-सिकम्पेक टोल रोड के कुछ खंडों से होकर गुजरता है।  यह इंडोनेशिया में सबसे लंबा फ्लाईओवर है, और दक्षिणपूर्व एशिया में सबसे लंबा डबल डेकर एक्सप्रेसवे है।

मैनचैक दलदल पुल


देश – संयुक्त राज्य अमेरिका 

लंबाई – 36 किलोमीटर 

दुनिया के सबसे बड़े पुल

आप शायद न्यू ऑरलियन्स, लुइसियाना की भूत की कहानियों से परिचित होंगे ।  लेकिन, यहाँ लुइसियाना का एक और पक्ष है।  वह है यहा मौजूद यह लंबा पुल जिसका निर्माण काफी पहले हुआ था और यह 1979 में खोला गया था। उस दौर में यह पुल दुनिया का सबसे बड़ा पुल माना जाता था। मैनचैक दलदल ब्रिज अंतरराज्यीय 55 और यूएस रूट 51 को पार करता है।

वास्को डी गामा ब्रिज


देश – यूरोप 

लंबाई – 17 किलोमीटर 

वास्को डी गामा ब्रिज

पुर्तगाल के लिस्बन के पूर्व में स्थित यह पुल यूरोप का सबसे लंबा पुल माना जाता है। इस पुल को तैयार होने के लिए 18 महीने और 3,000 से अधिक मजदूर लगे थे।

टैगस नदी के ऊपर बना यह पुल 17 किलोमीटर लंबा है। 

इस पुल का नाम “वास्को डी गामा 1498 में भारत से आने वाले पांचवें शताब्दी  में प्रसिद्ध पुर्तगाली खोजकर्ता के उपलक्ष्य के नाम पर रखा गया था। गामा अटलांटिक महासागर से समुद्र के रास्ते भारत पहुंचने वाला पहला यूरोपीय था। (दुनिया के सबसे बड़े पुल )

यह भी पढ़े :दुनिया के सबसे बड़े पानी के जहाज | LONGEST SHIPS IN THE WORLD | TOP 10 SHIPS 2021

हांग्जो बे ब्रिज

देश – चीन 

लंबाई – 22.2 मील 

दुनिया के सबसे बड़े पुल
दुनिया के सबसे बड़े पुल

यह पुल चीन में दो एक्स्प्रेस पेश करता है।  हांग्जो बे ब्रिज एक खाड़ी के ऊपर से गुजरता है इसलिए इसका नाम भी उस खाड़ी से ही प्रेरित है। यह स्टे-केबल ब्रिज 35,673 मीटर लंबा (17,037 फीट) में फैला हुआ है।  यदि आप झेजियांग या झेजियांग के झेजियांग प्रांत में जाने की योजना बनाते हैं, तो आपको निश्चित रूप से इस पुल से गुजरने का मौका मिलता है ।  टोल शुल्क प्रति कार केवल 80 CNY (लगभग 11 USD) है।  यह पुल बेहद सुन्दर और आकर्षण का केन्द्र है ।यह निश्चित रूप से ड्राइविंग और दर्शनीय स्थलों के अनुभव के लायक है।

यह भी पढ़े :दुनिया के सबसे छोटे कुत्ते | सबसे छोटी नस्ल के कुत्ते |DUNIYA KE 10 SABSE CHOTE KUTTE

उम्मीद है कि आपको यह TOP 15  दुनिया के सबसे बड़े पुल | DUNIYA KE 15 SABSE BADE PUL 2021 लेख पसंद आया होगा ।लेख से संबंधित शिकायत और सुझाव नीचे कमेन्ट box में या हमे मेल करके दर्ज करा सकते हैं। 

दोस्तों लेख कैसा लगा कमेन्ट करके जरूर बताये ।

By Nihal chauhan

मैं Nihal Chauhan एक ऐसी सोच का संरक्षण कर रहा हू, जिसमें मेरे देश का विकास है। में इस हिंदुस्तान की संतान हू और मेरा कर्तव्य है कि में मेरे देश में रहने वाले सभी हिंदुस्तानियों को जागरूक करू और हिंदी भाषा को मजबूत करू। आपके सहयोग की मुझे और हिंदुस्तान को जरुरत है कृपया हमसे जुड़ कर हमे शेयर करके और प्रचार करके देश का और हिंदी भाषा का सहयोग करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.