पेट्रोल कहा से आता है? कई लोगों के मन में यह सवाल रहता है कि भारत में पेट्रोल कहा से आता है? पेट्रोल मंहगा क्यों है? भारत में तेल के भंडार कहा है इत्यादि कई सवाल आते हैं और इन्ही सवालों के विस्तार से जानकारी हम आपको देंगे। 

दोस्तों भारत दुनिया की बड़ी एक अर्थव्यवस्था वाला देश है और यहा कच्चे तेल यानी कि क्रूड ऑयल यही वह तेल है जो सभी किस्मों के पेट्रोल, डीजल और ज्वलनशील तेलों के लिए महत्वपूर्ण होता है। पेट्रोल का सबसे बड़ा उत्पादक या कह सके कि प्राकृतिक तेल और गैस भंडार में सबसे अधिक भाग( सउदी अरब का है। हालांकि और भी कई देश है जिनके पास कच्चे तेल (पेट्रोल) के भंडारण है। पेट्रोल कहा से आता है?)

चलिए हम इसको पॉइंट टू पॉइंट समझने की कोशिश करते हैं तो सबसे पहले बात करते है कि :

पेट्रोल क्या है? 

हिन्दी में पेट्रोल को शिलातैल  कहा जाता है। यह पेट्रोलियम से बनता है। पेट्रोलियम एक ग्रीक सब्द है जिसमें petra का अर्थ है स्टोन यानि कि पत्थर oleum का अर्थ है ऑइल यानि तेल। पेट्रोल पेट्रोलियम का ही एक रूप है जिसको विभिन्न क्रियाओं के द्वारा बनाया जाता है।पेट्रोल कहा से आता है?)

पेट्रोल कैसे बनता है? 

पेट्रॉल कहो या पेट्रोलियम जैसा कि हमने ऊपर जाना कि पेट्रोलियम से ही सारे fossil fuel (जीवाश्म ईंधन) बने है। 

दुनिया में जमीन के भीतर कई जीवाश्म ईंधन श्रोत पाए गए है जिनमें से कुछ मुख्य है। हमे समझना यह है कि आख़िर पेट्रोल बनता कैसे है। 

करोड़ों साल पुराने जीवाश्म (म्रत्य जानवरों और पेड़ों के शरीर) ज्यादा तापमान पर जमीन के नीचे दबे रहते हैं। और यहा हवा का आभाव होता है और दबाब उच्च होता है ऐसे में कुछ प्राकृतिक रासायनिक क्रियाओं के कारण हमे पेट्रोलियम मिलता है इनके श्रोत समुद्र तल के नीचे भी पाए जाते हैं। क्युकी कई बर्ष पहले जहा अब समुद्र है कभी वहाँ जमीन हुआ करती थी इसीलिए ये कहीं भी पाए जाते हैं।( पेट्रोल कहा से आता है?)

 इन्हीं श्रोतों से निकलने वाला कच्चा तेल पेट्रोलियम या जीवाश्म ईंधन (fossil fuel) इन ईंधनों का निर्माण करोडों अरबों साल पहले हुआ था जो कि हम आज ईस्तेमाल कर पाते हैं और इसी के वजह से टेक्नोलॉजी इतनी आगे पहुच पायी है परंतु इनका दुरुपयोग से यह भंडार अब खत्म होने के कगार पर है। इनके ज्यादा ईस्तेमाल से प्रदूषण बड़ रहा है उससे पृथ्वी गर्म हो रहीं हैं जिससे बर्फीले glaciers पिघल रहे हैं और हमारी जमीन डूबती जा रही है। हम इसे ग्लोबल वार्मिंग  हिन्दी में इसे भूमंडलीय उष्मिकरणं के नाम से जानते हैं। 

आइए हम कुछ ऐसे संकटों के बारे में जानते हैं जो पेट्रोलियम के दुरुपयोग से हो रहे हैं : ( पेट्रोल कहा से आता है?)

पेट्रोलियम के दुरूपयोग से समस्याएँ :

  • वातावरण गर्म हो रहा है। 
  • गर्म वातावरण के कारण कई वन्य जीवों की प्रजाति लुप्त होने के कगार पर है। 
  • गर्म वातावरण से glacier में जमी बर्फ पिघलना शरू हो गयी है जिससे ग्लोबल वार्मिंग की समस्या हो रहीं हैं। 
  • दूषित वातावरण से फेफड़ों से संबंधित कई बीमारियाँ हो रहीं है। 
  • भविष्य में पेट्रोलियम पूरी तरह खत्म हो जाएगा। 
  • बड़ती हुयी गर्मी से मानव जीवन भी अस्त व्यस्त हो रहा है। 
  • बढ़ते हुए पेट्रोलियम का उपयोग ऐसे कामों में किया जा रहा है जहा पर हम बिना इसके ईस्तेमाल के अपने स्वास्थ को बेहतर कर सकते हैं परंतु मोटरसाइकिल और कारो की वज़ह से हमारा स्वास्थ भी बेहतरी नहीं कर पाता। 

पेट्रोल कहा से आता है? 

पेट्रोल कहा से आता है?

पेट्रोलियम के श्रोतों में मुख्य है कि जमीन की खुदाई करने पर इनके कुएं बनाए जाते है जिनमें से कच्चा तेल निकलता है। और इन्ही कुओं के ऊपर लगी मशीनों से इसे बाहर निकाला जाता है बाद में इन को बड़े बड़े प्लांटों में भेजा जाता है जिन को ऑइल रिफाइनरियों में तब्दील किया गया है। 

रिफाइनिंग के दौरान कच्चे तेल को अलग अलग तापमान पर गरम किया जाता है जिसके परिणामस्वरूप हमे पेट्रोल, डीज़ल, मोम, भिन्न भिन्न प्रकार के ईधन प्राप्त होते हैं। (पेट्रोल कहा से आता है?)

दुनिया में पेट्रोल के सबसे ज्यादा भंडारण कहा स्थित है? 

कच्चे तेल का सबसे ज्यादा भंडार अभी तक सउदी अरब में मिले है। दुनिया में पेट्रोलियम के पाँच मुख्य उत्पादक देश है जिनमें पहले स्थान पर सऊदी अरब को ही रखा गया है। ( पेट्रोल कहा से आता है)

दुनिया में पेट्रोल (कच्चे तेल) के सबसे ज्यादा भंडारण वाले 5 देश निम्नलिखित है :

  • सऊदी अरब 
  • वेनेजुएला 
  • कनाडा 
  • ईरान 
  • इराक 

ऊपर लिखे यह पाँच देशों के पास पेट्रोलियम के सबसे अधिक भंडारण है परंतु अमेरिका की कुछ खुफ़िया एजेंसियों की रिपोर्टें के मुताबिक वेनेजुएला दुनिया के सबसे अधिक कच्चे तेल का भंडारण वाला देश है रिपोर्ट के मुताबिक वेनेजुएला 30,231 करोड़ बैरल कच्चा तेल है। और सऊदी में लगभग 26,622 करोड़ कच्चे तेल के बैरल है। ( पेट्रोल कहा से आता है?)

और अगर हम अपने भारत की बात करे तो इस सूची में हम काफ़ी पीछे है करीब 23 बे स्थान पर भारत को रखा गया है 449.6 करोड़ बैरल कच्चा तेल है। इन देशों की अर्थव्यवस्था का एक बड़ा हिस्सा इसी से विकसित हुआ है।वेनेजुएला की 97 % आय इसी पर निर्धारित है। (पेट्रोल कहा से आता है?)

यह भी पढ़े :दुनिया के सबसे छोटे कुत्ते | सबसे छोटी नस्ल के कुत्ते |DUNIYA KE 10 SABSE CHOTE KUTTE

भारत में पेट्रोल कहा से आता है? 

Oil  (ऑइल इंडिया लिमिटेड) और ONGC (oil and natural gas corporation limited) भारत में कच्चे तेल और प्राकृतिक गैस मंत्रालय के अधीन कार्य करने वाली बड़ी कंपनियां है। भारत में oil के द्वारा कच्चे तेल के कई श्रोत खोजे जा चुके जिसमें से मुख्य श्रोत असम में है। इसके साथ ही राजस्थान, में 1998 में तेल की खोज की गयी थी। भारत में कच्चे तेल के श्रोत तो है परंतु बेहद कम है और इसीलिए भारत को पेट्रोलियम बाहर से लेना पड़ता है। इस श्रेणी में कई बड़े देश शामिल हैं। ( पेट्रोल कहा से आता है?)

मुख्य तौर पर भारत को सबसे ज्यादा कच्चे तेल की सप्लाई करने वाला देश सऊदी अरब ही है परंतु साल 17 से 18 के बीच भारत को पेट्रोलियम सप्लाई करने वाला मुख्य देश इराक़ बन गया है। भारत में पेट्रोलियम अमेरिका, इराक, सऊदी,ईरान, संयुक्त अरब अमीरात,नाइजीरिया, कुवैत, मेक्सिको से आता है। यह कुछ मुख्य देश है जहा से भारत में पेट्रोल कच्चा तेल आता है। 

इन सभी देशों में कौन सा देश ज्यादा मात्रा में भारत को तेल सप्लायर करता है इसका सटीक विवरण तो नहीं परन्तु यही कुछ देश आगे पीछे होते रहते हैं। ( पेट्रोल कहा से आता है?)

यह भी पढ़े:दुनिया की सबसे महंगी साइकिल | TOP 15 MOST EXPENSIVE BICYCLES 2021

इस पेट्रोल कहा से आता है? | भारत में पेट्रोल कहा से आता है? लेख से संबंधित शिकायत और सुझाव नीचे कमेन्ट box में या हमे मेल करके दर्ज कराए ।

जानकारी कैसी लगी कृपया कमेन्ट करके बताये ।।

शेयर करो।। जागरूक बनो जागरूकता फैलाव.. 

यह भी पढ़े : दुनिया का सबसे पुराना शहर | TOP 15 OLDEST CITY IN THE WORLD (updated 2021)

By Nihal chauhan

मैं Nihal Chauhan एक ऐसी सोच का संरक्षण कर रहा हू, जिसमें मेरे देश का विकास है। में इस हिंदुस्तान की संतान हू और मेरा कर्तव्य है कि में मेरे देश में रहने वाले सभी हिंदुस्तानियों को जागरूक करू और हिंदी भाषा को मजबूत करू। आपके सहयोग की मुझे और हिंदुस्तान को जरुरत है कृपया हमसे जुड़ कर हमे शेयर करके और प्रचार करके देश का और हिंदी भाषा का सहयोग करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.