भारत में कोरोना वैक्सीन के साइड इफेक्ट | INDIA COVID-19 VACCINATION SIDE EFFECTS COVID-19 virus के बढ़ते प्रभाव के कारण हाल ही में भारतीय सरकार द्वारा दो मुख्य COVID-19 वैक्सीन को हरी झंडी दिखाई है। भारतीय स्वास्थ मंत्रालय द्वारा अप्रूव्ड ये वैक्सीन Oxford-AstraZeneca  covid shield और भारत बायोटेक की को वैक्सीन काफी हद तक उपयोगी सिद्ध हो रही है। (भारत में कोरोना वैक्सीन के साइड इफेक्ट) 

यह भी पढ़े :टमाटर खाने के फायदे | TOP 11 BENEFITS OF EATING TOMATO

ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका और सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की वैक्सीन 

यूरोपीय चिकित्सा एजेंसी (EMA) और डेनिश स्वास्थ्य प्राधिकरण (DHA) ने हाल ही में देखा ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राज़ेनेका वैक्सीन लगवाने वाले लोगों में रक्त के थक्कों (blood clotting) की घटनाओं पायी जा रही है। हालांकि यह शिकायत ना के बराबर लोगों में देखने को मिली है। (भारत में कोरोना वैक्सीन के साइड इफेक्ट) 

यह भी पढ़े :जमीन पर सोने के फायदे और नुकसान | JAMEEN PAR SONE KE FAYDE | 2021

 इस टीके को लगवाने वाले 5 मिलियन लोगों में से, रक्त के थक्कों (blood clotting) के मात्र 30 मामले ही सामने आए हैं।  हालाकि डेनमार्क में एक मामला एक व्यक्ती की मौत के बाद देखने को मिला था।(भारत में कोरोना वैक्सीन के साइड इफेक्ट) 

 18 मार्च, 2021 को, EMA ने पूरी जाँच और शोध करने के बाद निष्कर्ष निकाला कि ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका टीका बिल्कुल सुरक्षित है और यह टीका किसी भी तरह के रक्त के थक्कों (blood clotting) के समग्र जोखिम को नहीं बढ़ाता है। उन्होंने बताया कि टीका लगवाने वाले लोगों में रक्त के थक्कों की घटना की दर सामान्य आबादी की तुलना में कम है।(भारत में कोरोना वैक्सीन के साइड इफेक्ट) 

EMA द्वारा किए गए महत्वपूर्ण शोध के बाद पता चला कि 

thrombocytopenia के बहुत ही दुर्लभ मामले रक्त के थक्कों (blood clotting) को समर्थन देते है। और जिन लोगों को thrombocytopenia की शिकायत है उनके लिए भी वैक्सीन में कुछ बदलाव किए जायेगे। आम इंसान ले लिए यह वैक्सीन एकदम सुरक्षित है। 

मुद्दे की बात यह है कि शोध के दौरान यह अभी तक साफ़ नहीं हो पाया है, कि blood clotting  असल में वैक्सीन की वजह से हुआ या कोई अन्य कारण था। (भारत में कोरोना वैक्सीन के साइड इफेक्ट) 

 डेनमार्क, नॉर्वे, जर्मनी और फ्रांस सहित कई बड़े देशों ने रक्त के थक्कों की प्रारंभिक रिपोर्टों के लिए एहतियाती प्रतिक्रिया के रूप में इस टीकाकरण के वितरण पर रोक लगा दी थी ।  (भारत में कोरोना वैक्सीन के साइड इफेक्ट) 

परंतु अब जांच के बाद इनमें से कई देशों ने इस टीके के उपयोग को फिर से शुरू करने की योजना बनाई है, परंतु चिंता की बात यह है कि vaccination पर रोक लगाने के बाद टीकाकरण की रफ्तार काफी कम हो गयी है। 

यह भी पढ़े :अच्छी नींद के लिए प्रमाणित उपाय | नींद से सम्बंधित हर जबाब और जानकारी | ACCHI NEEND KAISE SOYE |2021

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया का कोविल्ड ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका वैक्सीन का स्थानीय रूप से निर्मित संस्करण है।  भारत ने कोविशिल्ड से संबंधित रक्त के थक्के (blood clotting) जमने की कोई घटना नहीं बताई है और वर्तमान में इसका वितरण बंद करने की कोई योजना नहीं है।

हालांकि, भारत में ड्रग नियामक एजेंसियां ​​अभी भी डेटा की बारीकी से जांच कर रही हैं,, यह सुनिश्चित करने के लिए की कहीं वैक्सीन का blood clotting से संबंध तो नहीं हैं।(भारत में कोरोना वैक्सीन के साइड इफेक्ट) 

यह भी पढ़े :रस्सी कूदने के फायदे | 10 ऐसे फ़ायदे जो आपको रस्सी कूदने पर मजबूर कर देंगे। TOP 10 (2021)

COVID-19 वैक्सीन के ऐसे दुष्प्रभावों (side effects) के बारे में आपको पता होना चाहिए(भारत में कोरोना वैक्सीन के साइड इफेक्ट) 

अबतक की मुख्य जानकारी और रिपोर्ट के अनुसार COVID-19 की वैक्सीन के बाद होने वाले साइड इफेक्ट की पूरी सूची तैयार हो चुकी है। (भारत में कोरोना वैक्सीन के साइड इफेक्ट) 

यह भी पढ़े :अकेलेपन से होने वाले फायदे और नुकसान?2021|Akelepan Se Hone Wale Fayde Aur Nuksaan?2021| TOP BEST Advantages & Disadvantages of Living Alone

बुखार, ठंड लगना, मांसपेशियों में दर्द, इंजेक्शन स्थल पर दर्द और एक तरह की अस्वस्थता का अनुभव होना टीके लगने के बाद के सामान्य प्रभाव हो सकते हैं- और जिनके  लिए आपको तैयार हो जाना चाहिए।(भारत में कोरोना वैक्सीन के साइड इफेक्ट) 

हालांकि जैसे जैसे टीकाकरण (vaccination) बढ़ाता जा रहा है लोगों में और नए नए दुष्प्रभाव देखे जा रहे हैं। और corona की वैक्सीन लगने के बाद के साइड इफेक्ट अभी पुख्ता तौर से तय नहीं किए जा सकते जबतक की अधिकतर लोग इस टीके को लगवा नहीं लेते।

 फिर भी जो  COVID-19 की वैक्सीन लगवा चुके है उनके भीतर कुछ सामन्य लक्ष्मण के साइड इफेक्ट देखने को मिले हैं। और उन्हीं में से कुछ मुख्य लक्ष्मण के साइड इफेक्ट जो अधिकतर लोगों में वैक्सीन लेने के बाद देखने को मिले वो निम्नलिखित है :

Corona vaccine के दुष्प्रभाव :

  • होंटों में सूजन 
  • Covid – आर्म 
  • बढ़े हुए लिम्फ नोड्स(lymph node’s) 
  • खून के थक्के 
  • धुँधला दिखना 
  • इंजेक्शन स्थल पर दर्द

होंटों की सूजन 

डॉक्टर के मुताबिक वैक्सीन के बाद यदि आपके होंठ सूझ गए है तो या तो आपको कोई allergy हो सकती है या फिर यह वैक्सीन के कारण भी हो सकता है। परंतु इसमे चिंतित होने वाली बात नहीं है यह बस एक प्रक्रिया का हिस्सा है। (भारत में कोरोना वैक्सीन के साइड इफेक्ट) 

Covid आर्म (टीके की जगह पर दर्द) 

कोरोना वैक्सीन के साइड इफेक्ट

एक और नया दुष्परिणाम जो देर से पता चला है, वह है ‘COVID आर्म’- एक ऐसा साइड-इफ़ेक्ट जो लाभार्थियों को इंजेक्शन के स्थान पर एक अजीब, लाल घाव के साथ छोड़ सकता है और लंबे समय तक कठोरता और दर्द का अनुभव कर सकता है। (भारत में कोरोना वैक्सीन के साइड इफेक्ट) 

चिकित्सकीय रूप से, इसे त्वचीय त्वरण अतिसंवेदनशीलता के रूप में संदर्भित किया जा रहा  है, जिसका अनिवार्य रूप से त्वचा पर विलंबित प्रतिक्रिया का मतलब है।

घाव को छूने पर दर्दनाक होने की सूचना , और खुजली का भी अनुभव किया गया है । यह घाव आपकी बाजू पर वैक्सीन लेने के 7 से 8 दिन के अंदर आ सकता है। (भारत में कोरोना वैक्सीन के साइड इफेक्ट) 

अच्छी बात! यह है कि यह संक्षिप्त है, और संभवतः एक हानिरहित प्रतिक्रिया है और यह वैक्सीन का दूसरा शॉट  लेने के लिए एक लक्षण भी हो सकता है। 

बढ़े हुए लिम्फ नोड्स

कहा जा सकता है Covid की वैक्सीन से होने वाला सबसे अजीब दुष्प्रभाव यही है। बढ़ते हुए lymph node’s COVID-19 वैक्सीन का एक साइड इफेक्ट है पर इसे स्तन कैंसर- के लक्षणों के रूप में गलत देखा जा रहा है। (भारत में कोरोना वैक्सीन के साइड इफेक्ट) 

Covid वैक्सीन से लिम्फ नोड्स में सूजन भी आ सकती है।  ये बगल में एक गांठ के रूप में दिखाई दे सकते हैं, जिसने कुछ महिलाओं को चिंतित किया है जिन्होंने सोचा था कि यह स्तन कैंसर का संकेत हो सकता है।

विशेषज्ञों का मानना ​​है, कि साइड-इफेक्ट्स रोगियों के लिए चिंता पैदा कर सकते हैं, क्योंकि यह एक  कैंसर लक्षण जैसा दिखता है और इसलिए, अभी और जागरूकता लाने की आवश्यकता है।(भारत में कोरोना वैक्सीन के साइड इफेक्ट) 

यह भी पढ़े :मन को शांत और स्थिर कैसे करें? | Man ko Shant Aur Isthir Kaise karein ? | Top Best 11 ways To clam and stabilize Your Mind

धुँधला दिखना 

Covid वैक्सीन से एक और विचित्र दुष्परिणाम देखने को मिला है जो यह है कि टीके के बाद आपको कुछ दिनों तक धुँधला दिखना चालू हो सकता है। जिसने अभी कुछ लोगों की दृष्टि को बिगड़ा है।(भारत में कोरोना वैक्सीन के साइड इफेक्ट) 

 कुछ केस स्टडीज के अनुसार, टीका लगवाना कुछ लोगों को कुछ दिनों के लिए धुंधली या धुंधली दृष्टि के साथ छोड़ सकता है। 

हालांकि यह दुष्प्रभाव असामान्य और थोड़ा चिंताजनक है, विशेषज्ञों का मानना ​​है कि दृष्टि की समस्या को आमतौर पर फ्लू के टीके जैसे अन्य टीकों के साथ भी अनुभव किया जा सकता है और इसलिए, अभी COVID टीकों की प्रभावशीलता या सुरक्षा पर संदेह करने का एक बड़ा कारण नहीं होना चाहिए।(भारत में कोरोना वैक्सीन के साइड इफेक्ट) 

भारत की Covid वैक्सीन के साइड इफेक्ट 

Covidshield का टीका लगाने पर होने वाले दुष्प्रभाव :

  • सिर दर्द 
  • कमजोरी 
  • ठंड लगना
  • बुखार 
  • बेचैनी 
  • जी मचलना 
  • मांसपेशियों में दर्द 
  • Injections लगने वाली जगह दर्द और सूजन 

Covaccine से होने वाले साइड इफेक्ट :

  • थकान 
  • पेट दर्द 
  • जुकाम 
  • खासी 
  • बुखार 
  • Injections लगने वाली जगह दर्द 
  • सरदर्द 
  • अत्यधिक पसीना 
  • ठंड 

कोई फर्क नहीं पड़ता side effects (दुष्प्रभावों) से, वैक्सीन काम कर रही है। 

देश में लोगों के भीतर कुछ गलतफहमियां फैल गयी है लोग वैक्सीन लगवाने से डर रहे है ऐसी स्थिति में आपको लोगों को जागरूक करने की आवश्यकता है, क्युकी WHO द्वारा यह बात साफ कर दी गयी है कि वैक्सीन पूरी तरह काम करने में सक्षम है। (भारत में कोरोना वैक्सीन के साइड इफेक्ट) 

यह भी पढ़े :मोटापा घटाने के उपाय | वजन कम करने से संबंधित पूर्ण जानकारी | VAJAN GHATANE KE UPAY | 2021

पॉवेल ने इस बात पर भी जोर दिया कि साइड इफेक्ट के डर से लोगों को टीकाकरण का पूरा कोर्स प्राप्त करने से हतोत्साहित नहीं करना चाहिए, जबकि यह इंगित करता है कि वैक्सीन की पहली खुराक आपकी प्रतिरक्षा में लगभग 50 प्रतिशत तक सुधार करती है । (भारत में कोरोना वैक्सीन के साइड इफेक्ट) 

यदि आपके आपको कोरोना की वैक्सीन लेने के बाद यदि आपको ये लक्षण देखने को नहीं मिलते या लक्षणों की कमी है तो इसका मतलब यह नहीं है, कि आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली ठीक से काम नहीं कर रही है।

Powell के कहा कि वैक्सीन का पहला डोज “पहला टीका आपके शरीर को वायरस पर प्रतिक्रिया करने का तरीका सिखाता है,” 

उन्होंने कहा वैक्सीन एंटीबॉडी और मेमोरी टी कोशिकाओं से लैस हैं, जो पहले शॉट से वायरस प्रोटीन को पहचानते हैं, दूसरी खुराक देने पर प्रतिरक्षा प्रणाली की प्रतिक्रिया अधिक मजबूत हो जाती है।(भारत में कोरोना वैक्सीन के साइड इफेक्ट) 

नोट :- दी गयी जानकारी विश्व स्वास्थ संघटन और TIMES OF INDIA के अनुसार है ।

By Nihal chauhan

मैं Nihal Chauhan एक ऐसी सोच का संरक्षण कर रहा हू, जिसमें मेरे देश का विकास है। में इस हिंदुस्तान की संतान हू और मेरा कर्तव्य है कि में मेरे देश में रहने वाले सभी हिंदुस्तानियों को जागरूक करू और हिंदी भाषा को मजबूत करू। आपके सहयोग की मुझे और हिंदुस्तान को जरुरत है कृपया हमसे जुड़ कर हमे शेयर करके और प्रचार करके देश का और हिंदी भाषा का सहयोग करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.