भूख ना लगने के कारण मुख्य रूप से भूख ना लगने की समस्या बच्चों में ज्यादा देखी जाती है हालांकि यह किसी को भी हो सकती है। भूख ना लगने के पीछे कई कारण हो सकते हैं जिसमें कई तरह की बीमारियाँ और लक्षण शामिल हो सकते हैं। आमतौर पर भूख ना लगने के पीछे आपकी हालिया दवाइयाँ, आपकी उम्र, और मानसिक विकार होते है हालांकि भूख ना लगने के और भी कई कारण हो सकते हैं। 

बहुत बार भूख ना लगने का कारण थोड़ा अजीब और अस्थायी हो सकता है जैसे पेट में किसी virus के संक्रमण होने पर। लेकिन कई बार स्थितियां गंभीर रूप धारण भी कर लेती है जिसमें आपको लंबे समय तक भूख नहीं लगती और इसके कई कुप्रभाव देखने को मिलते हैं। (भूख ना लगने के कारण)

भूख से तात्पर्य है कि एक व्यक्ति को एक दिन में कितनी  या कितनी बार खाना खाने की इच्छा होती है । भूख हमेशा भोजन या पोषक तत्वों की मात्रा के अनुरूप नहीं होता है जिसकी किसी व्यक्ति को वास्तव में आवश्यकता होती है।

भूख ना लगना क्या है ? (What is loss of Appetite? In Hindi) 

कम शब्दों में कहा जाए तो वास्तव में खाने खाने की इच्छा ना होना ही भूख ना लगने को परिभाषित करता है। भूख ना लगना कई कारणों से भिन्न हो सकता है – 

  • बिना खाना खाए काफ़ी लंबे समय तक रहने पर भी भीतर से यह एहसास ना होना की आप भूखे है। 
  • खाने के बारे मे सोच कर उल्टी आना या जी मचलना। 
  • भोजन करने की इच्छा ना होना। 
  • दर्द,सूजन, और किसी संक्रमण के कारण खाना खाने की इच्छा ना होना। 

जाने अनजाने में भूख ना लगने के यह लक्षण आपको कई बड़े नुकसान पहुंचाने का काम करते हैं। पोषकता की कमी, प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होना, वजन कम होना इत्यादि अन्य कई बड़ी शारीरिक समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।  (भूख ना लगने के कारण)

भूख ना लगने के लक्षण – 

बहुत ही लजीज खाने को देखने के बाद यदि आपके मुहँ में पानी नहीं आता तो यह एक भूख ना लगने के विकार का लक्षण हो सकता है । खाने के प्रति लापरवाह होना भी इसी श्रेणी में शामिल है। हालांकि कुछ भूख ना लगने के कुछ अन्य लक्षण निम्न है :

  • काफ़ी कम भोजन करके भी पेट भरने की संतुष्टि महसूस होना। 
  • निवाला अंदर निगलने में दिक्कत होना। 
  • पसंद का खाना बनने पर भी जबरजस्ती खाना खाने की कोशिश करना। 
  • किसी भी प्रकार के खाने में स्वाद की कमी महसूस होना। 
  • खाने की महक मात्र से पेट भर जाने की अनुभूति होना। 

भूख ना लगने के कई तरह के कारण हो सकते हैं। इसके लिए आपके शरीर की क्षमता जिम्मेदार हो सकती है कि आपको भूख ना लगने का कारण असल में क्या हो सकता है।  (भूख ना लगने के कारण)

भूख ना लगने के शारीरिक कारण – physical Symptoms Of Appetite In Hindi 

भूख ना लगने के शारीरिक लक्षणों में हमारी कई शारीरिक स्वास्थ्य स्थितियां ज़िम्मेदार हो सकती है। भूख ना लगने के इस तरह के कारणों में कई अल्प कालिक बीमारियाँ जैसे जुकाम, सर्दी, फ़्लू इत्यादि हो सकते है जिनसे पीड़ित होने पर आप भूख ना लगने के लक्षण महसूस कर सकते हैं।

 जब आपको यह छोटी मोटी बीमारियाँ होती है तो यह भूख ना लगने का अस्थायी कारण बनतीं है और बीमारी के ठीक होने के बाद आपको भूख समान्य व्यक्ति की तरह लगने लगती है।  (भूख ना लगने के कारण)

यदि आप महसूस करते है, कि आपको लंबे समय से भूख नहीं लग रहीं है तो, यह एक अंतर्निहित स्थिति का संकेत हो सकता है।  उसमे से कुछ पुरानी स्थितियों के कुछ उदाहरण जिनके कारण भूख कम हो सकती है निम्न है :

  • HIV 
  • लिवर की कोई गंभीर बीमारी 
  • hepatitis
  • Kidney से संबंधित कोई गम्भीर बीमारी 
  •  एक निष्क्रिय थायरॉयड, जिसे हाइपोथायरायडिज्म के रूप में जाना जाता है। 
  • बॉडी में ऐसे पोषक तत्वों की कमी जो भूख के लिए जिम्मेदार है। 
  • आंतों से जुड़ा कोई विकार, जैसे (IBS) चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम या सूजन आंत्र रोग आदि। 
  • कुछ प्रकार के कैंसर जैसे – आंतों का कैंसर, Pancreatic Cancer, stomach cancer और ovarian cancer etc 
  • दिल की धड़कन रुकना (heart failures) 
  • काफी लंबे समय तक फेफड़ों में रुकावट जैसे निमोनिया इत्यादि 
  • अन्य अंतःस्रावी (endocrine) विकार, जैसे कि एडिसन रोग और कुशिंग सिंड्रोम
  • कब्ज 

इन सब के अतरिक्त हार्मोन के बदलाव के कारण खासकर pregnancy के दौरान भूख ना लगने के लक्षण महसूस किये जा सकते हैं जो कि अल्पकालिक स्थिति होती है।  (भूख ना लगने के कारण)

भूख ना लगने के मानसिक (मनोवैज्ञानिक) कारण – 

भूख ना लगने के पीछे हमारे मस्तिष्क और सोच से जुड़े मनोवैज्ञानिक और भावनात्मक कारण भी हो सकते हैं। उदहारण के लिए यदि हमारे साथ कोई ऐसी घटना घटित हो जाती है जिससे हमारा हृदय आघात हुआ हो, ऐसे में भूख ना लगना स्वाभाविक है। जीवन में लगातार और बार बार ऐसी घटनाओं का होना भावनात्मक रूप से आपको कई तरह के शारीरिक और मानसिक नुकसान पहुंचाते है।  (भूख ना लगने के कारण)

लंबे समय तक तनाव होने से भी भूख ना लगने जैसी समस्यायों का सामना करना पड़ सकता है। इन्हीं कारणों और विकारों में भूख ना लगना भी शामिल है। (1) (विश्वसनीय स्त्रोत) 2018 में हुए एक अध्ययन के अनुसार पता चला कि ज्यादा खाने से भी तनाव पैदा हो सकता है जो कम खाने से ज्यादा गंभीर होता है। 

गौर कीजिए कई बार आपको जब खुशी महसूस होती है, तो आप बिना भूख के भी खाना खाने के लिए आतुर रहते है तो कहा जा सकता है कि भूख को प्रभावित करने के लिए शारीरिक और मनोवैज्ञानिक दोनों की कारण जिम्मेदार हो सकते हैं। 

हम आपको भूख ना लगने के कुछ मानसिक विकार बतायेंगे जिनसे भूख प्रभावित होती है :

  • दुःख 
  • मानसिक अशांति 
  • चिंता अशांति
  •  डिप्रेशन
  •  खाने के विकार, जैसे एनोरेक्सिया और बुलिमिया
  •  पदार्थ उपयोग विकार (substance use disorders) 

substance use disorders में कई तरह की ऐसी स्थिति बनतीं है जिसमें आप कुछ ऐसा खाते है जिससे आपकी मानसिकता पर कुप्रभाव पड़ता है और उस कारण से भूख ना लगने जैसी समस्याएं उत्पन होने लगती है। उदहारण के लिए नशीले और मादक पदार्थ जैसे लंबे समय से सिगरेट, गांजे, smack, हिरोइन, कोकीन, शराब आदि के सेवन   से यह विकार आसानी से हो जाता है।  (भूख ना लगने के कारण)

दवाइयों के कारण भूख ना लगने के कारण – 

कई प्रकार की दवाएं आपकी भूख को प्रभावित करने की क्षमता रखती है और यह किसी भी व्यक्ति की भूख को बदल सकती हैं।  दवाइयाँ आपको लगने वाली भूख की भावनाओं को कम कर सकती हैं। दवाइयाँ आपके स्वाद, और गंध लेने या स्वाद की भावना को बदल सकते हैं। कई बार यह मतली का कारण बन सकते हैं। इनमें से कोई भी दुष्प्रभाव आपकी भोजन करने की रुचि को कम कर सकते है। (भूख ना लगने के कारण)

कुछ दवाएं और चिकित्सा उपचार जिनका यह प्रभाव हो सकता है उनमें शामिल हैं:

  • एंटीबायोटिक दवाओं के प्रभाव से 
  • हेवी (स्ट्रॉन्ग) दर्द निवारक गोलियों के सेवन से , जैसे कोडीन और मॉर्फिन
  • एंटीडिप्रेसन्ट (अवसाद के इलाज के लिए खाई जाने वाली दवाइयां आपकी भूख कम कर सकती है) 
  • शामक
  • थायराइड हार्मोन  से संबंधित दवाएं
  • कीमोथेरपी के कारण भी भूख ना लगने जैसी समस्याएं हो सकती है। 
  • प्रतिरक्षा चिकित्सा
  • विकिरण चिकित्सा
  • कब्ज 

उम्र के प्रभाव से भूख ना लगने के कारण – 

उम्र बढ़ने के साथ आपकी भूख कम हो सकती है और यह स्वभाविक है लेकिन इसका उपचार जरुरी है। (2)(विश्वसनीय स्त्रोत)  बड़ती उम्र में भूख ना लगने के लक्षण सबसे ज्यादा महिलाओं में देखे जाते हैं। खासकर उन महिलाओं में जो किसी नर्सिंग होम या अस्पताल में रहती है।  (भूख ना लगने के कारण)

आपकी बढ़ती हुयी उम्र निम्न प्रभावों से आपकी भूख कम कर सकती है :

मनोसामाजिक कारण – 

उम्र बढ़ने के साथ आपका जीवन अकेला होता चला जाता है और आप अपने कमरे से बगीचों तक सीमित हो जाते है। आपकी समाजिक लिप्तता कम हो जाती है और इसका प्रभाव कभी वृद्घ ना होने वाले मन पर भी पड़ता है जिसके प्रभाव से आपकी भूख कम होना लाजमी है। अकेले रहने वाले वृद्ध लोगों की भूख कम हो सकती है।  मानसिक स्वास्थ्य की स्थिति, जैसे कि अवसाद, भी इसमे एक भूमिका निभा सकता हैं।

शारीरिक कारण – 

बढ़ती उम्र के प्रभाव के साथ आपके शरीर में कई तरह के हार्मोनल बदलाव होते है जिससे आपकी भूख प्रभावित हो सकती है। इसके अतरिक्त पाचन तंत्र और इंद्रियों में उम्र से संबंधित परिवर्तन, जैसे गंध या स्वाद शामिल हैं।  वृद्ध वयस्कों में भी पुरानी बीमारियां होने की संभावना अधिक होती है जो उनकी भूख को प्रभावित कर सकती हैं।

दवाइयों के कारण – 

वृध्दावस्था में जी रहे लोगों की दवाइयाँ हमेशा चालू ही रहती है और सम्भवतः उनकी दवाइयाँ की वजह से भी भूख ना लगना स्वाभाविक है।  (भूख ना लगने के कारण)

भूख ना लगने के घरेलू उपचार  – (Treatment for loss of Appetite In Hindi) 

यदि आप एक स्वस्थ्य रूप से खाने का सेवन नहीं कर पाते है तो इसके लिए कई तरह के उपाय ऐसे है जो आपकी भूख बढ़ाने में मदद कर सकते हैं। यदि आप किसी दबाई खाने की वज़ह से खुद की भूख में कमी महसूस करते है तो आप इस बारे में अपने डॉक्टर से बात कर सकते हैं। भूख बढ़ाने के लिए कुछ घरेलू उपाय निम्न है :

अपनी खाने खाने की आदतों में सुधार करे – 

कई बार आप खाना खाने की इच्छा खो देते है इसके पीछे बहुत ज्यादा भोजन एक साथ कर लेना इस तरह के कारण हो सकते हैं। मान लीजिए यदि आपको भूख नहीं लगती है, या बहुत कम भूख लगती है तो आप एक साथ ज्यादा खाना खाने की जगह थोड़ा थोड़ा खाना समय समय पर खाकर इस विकार से मुक्ति पा सकते है। 

अपनी आदतों को बदले और भोजन करने के कुछ निश्चित समय निर्धारित करे जिससे उस समय आपको भूख लगने की संभावना बढ़ जाती है।  (भूख ना लगने के कारण)

अतरिक्त Zinc का सेवन करे – 

शरीर में पोषकता की कमी खासकर zinc की कमी आपको भूख ना लगने जैसे विकारों से पीड़ित कर सकती है। Zinc हमारे हमारे शरीर में पोषक तत्वो को अवशोषित करने की क्षमता को बढ़ाता है, जिसके कारण हमे भूख लगने लगती है। बाजर में और ऑनलाइन कई तरह के zinc सप्लिमेंट्स मिलते है जिन्हें आप अपने नियमित अहार में शामिल करके भूख ना लगने जैसी समस्यायों से निवट सकते हैं। 

डॉक्टरों द्वारा चुने हुए कुछ चुनिन्दा zinc प्रोडक्ट यहां क्लिक करके खरीद सकते हैं… 

  1. भूख बढ़ाने के लिए सिरप (Digest elixir) 

अभी खरीदे.. 

लिवर को detox करे – 

कई बार आपके लिवर में कई तरह के विकार हो जाते है जिसके कारण वह अपना काम ठीक तरह से नहीं कर पाता। इसी कारण से हमे भूख ना लगने जैसी कई पेट संबन्धी समस्याए हो जाती है। इसीलिए लिवर को स्वस्थ्य रखने के लिए आप डॉक्टरों द्वारा चुनी हुई यह गोलियां का सेवन करें निश्चित रूप से आपको भूख और पेट से जुड़े विकारों से राहत मिलेगी। 

  1. लिवर को स्वस्थ्य रखने के लिए और जहरीले पदार्थों की सफाई के लिए (liver loyal) 

अभी खरीदे.. 

अतरिक्त खनिजों का सेवन करें – 

हमारे शरीर के लिए खनिजों की उपलब्धता होना बेहद महत्वपूर्ण है। यदि इनमें कोई कमी हुयी तो निश्चित ही आपको कई तरह की बीमारियों से ग्रसित होने के खतरे बड़ जाते हैं।

ऐसे में अपने शरीर की भूख बढ़ाने के लिए आपको खनिजों की अतरिक्त मात्रा का सेवन करना चाहिए ताकि आपको कोई अन्य बीमारी ग्रसित ना कर ले। खनिज हमारी प्रतिरोधक क्षमता विकसित करके हमारी भूख बढ़ाने का काम करते हैं। 

  1. भूख बढ़ाने के लिए अतरिक्त खनिजों की गोलियां (zinc complex) 

अभी खरीदे.. 

अकेले खाना ना खाए अपने लोगों के साथ खाए – 

किए गए कई शोधों में इस बात की पुष्टि हुई है कि यदि आप अकेले खाना खाते है तो यह आपकी भूख को कम करने का काम करता है। 2016 में हुए इस अध्ययन में इस बात की पुष्टि हुयी को अकेले की अपेक्षा यदि आप अपने दोस्तों या परिवार के साथ भोजन करते है तो यह कारक आपकी भूख बढ़ाने का काम कर सकता है ।(3) (विश्वसनीय स्त्रोत) 

वही खाए जिसमें दिलचस्पी हो – 

जब आप महसूस करते है कि आप भोजन करने की इच्छा को खो रहे हैं ऐसे में खाने में अपनी दिलचस्पी बढ़ाने के लिए अपने पसंद के पकवान खाना सुरू करे यह आपके भोजन करने की इच्छा को ना सिर्फ बढ़ाता है बल्कि खाने के प्रति आपके लगाव को भी बेहतर करता है। 

फाइबर युक्त भोजन कम करे – 

फाइबर कोई ऐसी चीज नहीं है जिसे आप बहुत जल्दी से पचा पाए और आपके खाने में बहुत लंबे से ज्यादा फाइबर युक्त भोजन शामिल है तो सम्भवतः आपकी भूख में कमी आने के पीछे यही कारण हो। ऐसे में आपको कम फाइबर वाले खाद्य पदार्थों को अपने अहार में शामिल करना चाहिए। फाइबर युक्त भोजन जैसे गेहूं, आदि को कम करे। फाइबर युक्त भोजन के बाद आप काफी देर तक पेट भरा हुआ महसूस करते हैं। 

अपनी दिनचर्या में कुछ जरुरी बदलाव करे – 

प्रतिदिन व्यायाम – 

व्यायाम के जो फायदे है मुझे नहीं लगता आपको इसके बारे में कुछ विस्तार से  जानने की जिज्ञासा होगी। आपको यह समझ लेना चाहिये कि व्यायाम आपके Metabolism के लिए सबसे महत्त्वपूर्ण क्रिया है यदि आप व्यायाम करेगे तो आपको पेट से संबंधित कोई भी विकार नहीं होगा यदि होगा भी तो वह आपके व्यायाम से ठीक हो जाएगा। भूख ना लगना व्यायाम ना करने वालों के अंदर ज्यादा देखा जाता है। 

खुद को ठंडा रखे – 

आपके शरीर का तापमान आपकी भूख को प्रभावित करता है ।इसीलिए आपको कई बार बहुत अधिक गर्मी से बचने की आवश्यकता होती है। शरीर को ठंडा रखने से आपको भूख ना लगने जैसी समस्यायों से छुटकारा मिल सकता है। इसके अतरिक्त यदि आप खुदको ठंडा रखते है तो dehydration, जी मचलना और सिर दर्द और आँखों में दर्द जैसी समस्याओं से भी बच सकते हैं। 

खुद को hydrated रखने के आप डॉक्टर के सुझाए हुआ यह उत्पाद उपयोग में ले.. 

  1. ठंडा रहने के लिए hydration drink 

अभी खरीदे.. 

भूख ना लगने पर डॉक्टर को कब दिखाये? 

हमारी शारीरिक बीमारियाँ तब तक झेली और घर पर सही की जा सकती है जब तक आप उनसे पूरी तरह परिचित रहते हैं। लेकिन यदि मामला गम्भीर होता है, तो आप ऐसे बदलावों को नहीं झेल सकते ना ही उनका उपचार घर reh रहकर किया जा सकता है। इसीलिए यदि आपको नीचे दिए गए कुछ लक्षण खुद में दिखते है या महसूस होते हैं तो आपको तुरंत चिकित्सीय सहायता लेनी चाहिए।  (भूख ना लगने के कारण)

  • खाने के तुरंत बाद उल्टी हो जाना या जी मचलना 
  • मल त्याग के दौरान खून 
  • पेशाब का गहरा रंग 
  • पेट दर्द 
  • एकदम से वजन कम होना 

आपको अपने शरीर को समझने के लिए उसपर हमेशा निरीक्षण करते रहना चाहिए। यदि कुछ ऐसे लक्षण दिखते है जो आपकी समझ के बाहर है तो डॉक्टर की सलाह लेना आवश्यक हो जाता है। 

अंतिम शब्द :

भूख ना लगने के कई संभावित कारण हो सकते हैं।  अल्पकालिक बीमारियों या दवाओं से भूख में अस्थायी कमी हो देखी जा सकती है। वही दूसरी तरफ पुरानी शारीरिक या मानसिक स्वास्थ्य स्थितियां जैसे अवसाद, तनाव इत्यादि लंबे समय तक चलने वाले भूख ना लगने के  कारण बन सकते हैं। (भूख ना लगने के कारण)

किसी भी बीमारी के लिए डॉक्टर से सहायता लेना किसी भी अंतर्निहित स्थिति को संबोधित करने का पहला कदम है। लोग अपनी भूख बढ़ाने की कोशिश करने के लिए अपने खाने की आदतों और जीवन शैली को भी समायोजित कर सकते हैं।  हालांकि, यह चिकित्सा देखभाल का विकल्प नहीं है।

यह भी पढ़े :

चाय के फायदे और नुकसान – Tea Benefits And side effects In Hindi

धूम्रपान COVID-19 के जोखिम को कैसे बढ़ाता है? – SMOKING vs CORONAVIRUS

अंगूर खाने के फायदे | Angoor Khane Ke Fayde – Health Benefits of grapes in Hindi

बादाम खाने के फायदे और नुकसान – TOP 15 Almonds Benefits and Side Effects in Hindi

अंडकोश (पोतों) में खुजली के 7 कारण और इलाज | Andkosh Me Khujli Ke Karan Aur ilaj

केसर खाने के फायदे | kesar khane ke Fayde | BENEFITS OF SAFFRON

विज्ञान के अनुसार : हस्तमैथुन स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह या फायदेमंद | Hastmaithun ke Fayde Aur Nuksaan

पेशाब में जलन और दर्द के कारण और उपचार | Dysuria Treatment

By Nihal chauhan

मैं Nihal Chauhan एक ऐसी सोच का संरक्षण कर रहा हू, जिसमें मेरे देश का विकास है। में इस हिंदुस्तान की संतान हू और मेरा कर्तव्य है कि में मेरे देश में रहने वाले सभी हिंदुस्तानियों को जागरूक करू और हिंदी भाषा को मजबूत करू। आपके सहयोग की मुझे और हिंदुस्तान को जरुरत है कृपया हमसे जुड़ कर हमे शेयर करके और प्रचार करके देश का और हिंदी भाषा का सहयोग करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.