अच्छा इंसान बनने के 12 तरीके हर इंसान के लिए यह महसूस करना आम है कि जब बात आत्म-सुधार की आती है तो आप हमेशा इसको ज्यादा अधिक कर सकते हैं। परंतु एक बेहतर और अच्छे इंसान  होने का मतलब यह कतई नहीं है कि आप खुद पर बहुत ज्यादा सख्ती बरतने लगे हों।  वास्तविकता में यह इसके विपरीत  है।

आप अपने भीतर जितनी अधिक आत्म-कृपा और आत्म-करुणा को बढ़ावा देंगे, आप अपने आसपास के लोगों के साथ वैसा ही व्यवहार करने के लिए उतने ही सुसज्जित होते जायेंगे ।  

यदि आप दूसरे लोगों के साथ अच्छा करते है तो कर्म का प्रभाव आपको उसका दोगुना अच्छा आपके जीवन में लौटा देता है। साथ ही, दूसरों के लिए अच्छा करने से आपके जीवन को अर्थ का एक गहरा अर्थ मिल सकता है।  यह आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में भी काफी मदद कर सकता है।(अच्छा इंसान बनने के 12 तरीके)

अपनी दैनिक दिनचर्या में आत्म-सुधार बनाने और अपने अंदर के नकारात्मक विचारों को दूर करने के कुछ तरीकों पर एक नज़र डालें।

लोगों का अभिवादन करना सीखें 

कई मनोवैज्ञानिकों के अनुसार यदि आप आते जाते हुए मिलने वाले लोगों से मुस्करा कर मिलते है तो यह उनके मन पर एक गहरी छाप छोड़ता है और आपकी यह बात आपको औरों से बेहतर बनाती है। 

बहुत बार आपके मन में उन लोगों की तस्वीरें आसानी से याद में रहती है जिन्होंने आपसे मुस्करा कर मुलाकात की और आपका अभिवादन किया। जिंदगी में आपको यही एक चीज लोगों की नजर में और खुद को नजर में अच्छा बना सकती है। (अच्छा इंसान बनने के 12 तरीके)

सोचिए कोई व्यक्ति किसी इंसान कि मदद तो करता है पर वह घमंड में उससे बात कर्ता है या उस इंसान से ठीक से बात नहीं करता वह उस व्यक्ति को बात करने लायक ही नहीं समझता। तो बताईये क्या ऐसे व्यक्ति को आप पंसद करेंगे? इसी प्रकार आप भले ही किसी की मदद ना करे यह चलेगा पर लोगों से मुस्कुरा कर मिले उनका अभिवादन करे। 

कृतज्ञता को अपनाएं 

आपके लिए लोग आगे आते हैं, आपको अपना समझते है और निःस्वार्थ भाव से आपका साथ देते है अगर आप ऐसे लोगों के प्रति अपनी कृतज्ञता व्यक्त नहीं करते तो फिर आप एक अच्छा इंसान बनने के लायक ही नहीं है। कृतज्ञता इंसान के कर्म का हिस्सा है, जब कोई आपके लिए कुछ अच्छा करता है तो यह आपका कर्म है कि आप उसका शुक्रिया अदा करे। 

आप अपने आप से सोचिए कि यदि आप किसी की मदद करते है और मदद लेने के बाद कोई वह इंसान आपको कोई प्रतिक्रिया नहीं देता तो क्या आप अगली बार उसके लिए मदद की भावना रखेगें? क्या आप उस व्यक्ति के लिए प्रेम भाव रखेंगे? 

समझने वाली बात यह है, कि कृतज्ञता आपको बेहतर और एक अच्छा इंसान बनाने के लिए एक प्रमुख पहलु है। आपकी कृतज्ञता आपके व्यावहार को दर्शाती है। यह आपके भीतर का एक ऐसा गुण है जो कोई भी व्यक्ति देखता है तो आपसे प्रेम करने लगता है। यदि आप चाहते है कि लोग आपसे प्यार करे तो आपको यह भाव अपने भीतर पैदा करने ही होंगे। कृतज्ञता समाज में आपकी प्रतिष्ठा को बढ़ाती है। (अच्छा इंसान बनने के 12 तरीके)

नीचे आपके जीवन के कुछ क्षेत्र दिए गए हैं और उनके अनुसार आपको आपकी कृतज्ञता को व्यक्त करना है :

  • विकास – जब आप किसी से कुछ सीखते हैं, कोई नया कौशल सीखते है तो आपको कृतज्ञता व्यक्त करते हुए उनका अभिवादन करना चाहिए । 
  • मित्र और परिवार – ऐसे लोगों से कृतज्ञ रहे जो आपको हमेशा समृद्ध बनाते है बनाने के लिए हमेशा आगे आते हैं। 
  • शांति – अपने छोटे से छोटे काम जैसे कॉफी पीने या किताब लेने के लिए भी कृतज्ञता व्यक्त करे। 
  • आश्चर्यचकित – अचानक से हुए किसी काम के लिए, जैसे कोई आपको जन्मदिवस पर कोई surprise देते है तब ।

ऐसी बातों की सूची बनाए जो आपको कृतज्ञ बनातीं है। 

कुछ घण्टों के लिए आधुनिक उपकरणों से दूरी बना कर देखें 

लंबे समय तक अपने फोन और लैपटाप से चिपके रहने से आपकी मानसिकता बंध जाती है। बहुत थोड़ा भी समय यदि आप सिर्फ खुद के साथ गुजारते है तो वह काफी महत्वपूर्ण और फायदेमंद होता है। आधुनिकता के इस दौर में लोग लोग सुबह जागने से लेके रात को सोने तक मोबाइल का उपयोग करते है। (अच्छा इंसान बनने के 12 तरीके)

मोबाइल या लैपटॉप को ज्यादा इस्तेमाल करने का सबसे बड़ा नुकसान आपकी नींद पर पड़ता है और नींद का सीधा संबंध आपकी मेंटल condition पर पड़ता है। रिसर्च से पता चलता है कि यदि आप दिन में 10 घंटे से अधिक डिस्प्ले के सामने रहते है तो यह आपकी मानसिकता को बेकार करके आपको अवसाद और तनाव में डालता है। 

ऐसे में आपको कुछ समय के लिए दिन में 2 घंटे कभी कभी खुद को दिया कीजिए अपने परिवार ले साथ समय गुजारे या शाम को बिना फोन के कही घूमने निकल जाए, अपने दोस्तों के साथ समय गुजारे। 

इस तरह के प्रयास आपके मस्तिष्क को संतुलित रखते है जिससे आप बेहतर फैसले ले पाते है और बेहतर फैसले वही लेता है, जो इंसान बेहतर और अच्छा होता है। (अच्छा इंसान बनने के 12 तरीके)

सकारात्मक आत्मचिंतन करे 

गलतियां सबसे होती है, और हर सफल व्यक्ति ने कही ना कहीं असफलता का स्वाद भी चखा है। आपकी असफलताओं के कारण मन में उठने वाली नकारात्मक ऊर्जा आपके मानसिक संतुलन को बिगाड़ देती है। आपसे कोई भी गलती हुयी हो, खुद को कोसना बंद करे, खुद की नजरों में गिरना बंद करे। 

अपने आप को सांत्वना दे और खुद पर भरोसा करके अपने मन में सकारात्मकता लाए उसके बाद उसी का आत्मचिंतन करे। 

उदाहरण के लिए – मान लीजिए आप लगातार अपने मन में खुद से कह रहे हैं कि आप एक अच्छे व्यक्ति नहीं है या आप किसी के लायक नहीं है इत्यादि तो ऐसी बातें आपको गर्त में नीचे खींचती है जिसका सीधा असर आपके व्यक्तित्व पर पड़ता है।  (अच्छा इंसान बनने के 12 तरीके)

ऐसी स्थिति में आपको किसी एक तथ्य को ध्यान में रखकर अपने आप को इस नकारात्मक द्वंद से बाहर निकल आना चाहिए। अपने मन को आशावादी दृष्टीकोण दे और अपने आप पर भरोसा करे। 

“तथ्य + आशावादी सोच = सकारात्मकता” 

अगली बार जब आपके मन में नकारात्मक ऊर्जा घर करे तो आपको यह सोचना है कि :

“मैं जनता हूँ, यह फैसला (या जो भी स्थिति है) चुनौतीपूर्ण है, लेकिन मैंने इसमें बहुत सारे सार्थक विचार रखे हैं और मैंने इस बारे अपनी पूरी तैयारी की है, और मेरे लिए सभी विकल्पों पर विचार किया है , इसलिए मुझे विश्वास है कि मैं इस क्षण में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर रहा हूं ।”

इस तरह के लगातार प्रयास आपको सकारत्मक और एक अच्छा और बेहतर इंसान बनने में मदद करेगे। 

अपनी जिम्मेदारी समझे 

हमेशा खुद की गलतियों पर दूसरों को दोष देना बंद करे आपका यह व्यावहार आपको नीचे ले जा रहा है और एक दिन यह आपके पतन का कारण बनेगा। आपकी जिम्मेदारियां आपको एक मजबूत व्यक्तित्व प्रदान करती है एक ऐसा गुण देती है जो बहुत मुश्किल और मेहनत से मिलता है। 

कई बार हम अपनी गलतियां दूसरे व्यक्ति पर थोपते है और कभी कभी तो इतनी बारीकी से यह काम किया जाता है कि हमे खुद को भी एहसास दिलाना मुश्किल होता है कि वास्तविकता में गलती किसकी थी परंतु बाद में आप अपनी गलती का आत्मचिंतन करते है और यह आपको नकारात्मकता में झोंक देता है। (अच्छा इंसान बनने के 12 तरीके)

इंसान सुंदर हो सकता है, वह पैसे वाला ही सकता है, उसके पास और भी कई खासियत हो सकती है इन सब के बावजूद भी इंसान जिम्मेदार इंसान नहीं होता। यदि आप खुद की जिम्मेदारी समझते है तो यह आपके लिए काफी अच्छा है। ज़िम्मेदार व्यक्ति की पूछ हर जगह होती है लोग उसे दिल से सम्मान देते है। 

विचार करे कि आप इस समय जिस तरह का जीवन जी रहे है उसमे आपका कितना योगदान है? अपने आप जो ज़िम्मेदारी उठाने के लिए तैयार करें क्योंकि आप एक अच्छे और बेहतर इंसान है। 

गलतियों को छुपाने की जगह उजागर करके क्षमा मांगे 

अपनी गलती का एहसास करना दुनिया का सबसे खूबसूरत और ईमानदार अनुभव है हर इंसान के पास इस तरह की मनोवृति नहीं होती कि वह खुद की गलतियों को कबूल कर सके जो इंसान अपनी गलतियां कबुल करने की दम रखता है असल में वही सबसे मजबूत इंसान है। आगे चलकर उसका यही गुण उस व्यक्ति को एक सबसे क़ीमती गुण देगा और वह गुण है- “सफलता” ।(अच्छा इंसान बनने के 12 तरीके)

आप सोच रहे होंगे ऐसा क्यों? ऐसा इसलिए क्योंकि जो इंसान अपनी गलतियों को सामने लाता है वह उन गलतियों पर सुधार करके खुद को बेहतर बना लेता है। और जो इंसान अपनी गलतियों से सीखता हो उसका अनुभव उसे सफ़लता उपहार में देता है। 

उस समय आपका पूरा नियंत्रण अपने आप पर होता है जब आप जिम्मेदार होते हैं। जब तक अपनी गलतियों को मानने की स्वीकारता नहीं लाते तब तक आप एक जिम्मेदार व्यक्ति बन ही नहीं सकते। 

छोटे छोटे कृत्यों से दयालुता पेश करते रहें 

दूसरों के प्रति दयालुता की भावना आपके लिए आपके उद्देश्य में सटीकता लाती है। छोटे-छोटे कामों से भी आप दयालुता का भाव स्पष्ट कर सकते हैं। 

  • किसी अनजाने व्यक्ति की तारीफ करके देखे 
  • अपने सहकर्मी के लिए एक दिन खाना ले 
  • किसी गरीब की मदद करके देखो 
  • अपने किसी मित्र को कार्ड भेजे 

कई तरह आप अपने दयालुता के भाव को स्पष्ट कर सकते हैं। असल में यह भाव आपके मानसिक विकास को प्रबल करता है और आपकी सकारात्मक ऊर्जा को भी बूस्ट करता है। 

पर्याप्त नींद लें

आपकी नींद पूरी होती है तो आपके चेहरे की मुस्कान ही न्यारी होती है। यदि नींद नहीं पूरी होती तो यह आपके पूरे दिन को और गहराई से देखा जाए तो जिन्दगी को भी खराब कर सकती है। (अच्छा इंसान बनने के 12 तरीके)

पूरी तरह से आराम महसूस नहीं करने से आप खुद को पूरे दिन क्रोधी और असहज महसूस करते हैं।  क्रोध इंसान का सबसे बुरा विकार है यह इंसान की ऐसी कमजोरी है जो किसी भी इंसान को तबाह कर सकती है। इसलिए हर रात कम से सात से आठ घंटे सोने की कोशिश करें।

दिन में देर से कैफीन की खपत को कम करके, मेलाटोनिन सप्लीमेंट लेने, या सोने से पहले गर्म स्नान या शॉवर में आराम करके अपनी नींद की गुणवत्ता में सुधार करने के तरीके खोजें।

यह भी पढ़े : अच्छी नींद के लिए प्रमाणित उपाय 

अपनी साँसों पर ध्यान लगाकर सांस लें

आप चाहे स्टेशन पर जो या किसी बस स्टॉप पर, चाहे किसी किराने की दुकान पर लाइन में, या सोने से पहले अपनी साँस लेने के पैटर्न को समझे और अपनी सांस लेने पर ध्यान केंद्रित करने के लिए कुछ समय निकालें। 

शोधकर्ताओं द्वारा किए गए कई यह साबित करते है कि  दिन में कुछ मिनट गहरी सांस लेने का अभ्यास हमारे शरीर की विश्राम प्रतिक्रिया को तेज करता है और तनाव को नियंत्रित करता है।(अच्छा इंसान बनने के 12 तरीके)

आपको साँस लेने के लिए निम्नलिखित तरीकों को अपनाना चाहिए :

 सामान्य रूप से श्वास लें और साँस छोड़ें,यह निश्चित  करें कि आपने साँस लेने में जितना समय लिया है उससे अधिक समय साँस को छोड़ने में लें।

इस तरह की प्रक्रिया को तब तक दोहराएं जब तक आप खुद में आराम महसूस न करने लगें।  यदि आप गिनना पसंद करते हैं, तो4  की गिनती के लिए साँस लेने की कोशिश करें, 7 की गिनती के लिए साँस को रोके  और 8 की गिनती पर साँस छोड़ें।(अच्छा इंसान बनने के 12 तरीके)

आत्म-देखभाल में व्यस्त रहें

आज के ज़माने में आत्म देखभाल के नाम पर जाने कौनसी कौनसी थेरपी की जाती है परंतु हकीकत में वह सब व्यर्थ है। असल में आपको मानसिक देखभाल तब होती है जब आपकी माँ आपके सर पर हाथ घुमाती हुयी आपको सुला देती है और उस लेवल का आत्म देखभाल दुनिया की किसी भी थेरपी में नहीं है। (अच्छा इंसान बनने के 12 तरीके)

असल में यह (आत्म देखभाल) “यदि आप अपना खान पान स्वस्थ रखते है तो आपका  मस्तिष्क और शरीर भी स्वस्थ्य रहेंगे अपने बेहतर आत्म देखभाल के लिए पोषकता से भरपूर भोजन करे। 

इसी तरह, अपना खुद का ख्याल रखते समय आपको खुद से हर रोज़ यह प्रश्न करने चाहिए कि :

  • क्या आप प्रतिदिन व्यायाम कर रहे हैं? या सिर्फ दिमाग से ही अपने शरीर को हिलाने की कोशिश रहे है 
  • क्या आप दूसरों के साथ जुड़ने के लिए समय निकाल रहे हैं? और 
  • क्या आप अपने लिए विश्राम के लिए य खाली कुछ समय निकाल रहे है ? 

ऊपर दिए गए सभी सवालों में जो काम है उनके लिए आपको घंटे बर्बाद करने की आवश्यकता नहीं है इन्हें समय लेने वाले प्रयासों की आवश्यकता नहीं है। दिन में 10- या 20-मिनट के लिए समय की तलाश करें जहाँ आप टहलने के लिए बाहर जा सकें या अपने लिए एक कटोरी ताज़े फल तैयार कर सकें।

बदलाव के मॉडल को लागू करे 

ज़रा सोचिए! यदि आपके पास कोई जादू होता और आप सब कुछ वैसा कर पाते जैसा आप चाहते है तो क्या होता? इस बात को सोचने मात्र से आपकी बुद्धि पर सकारात्मक प्रभाव होते हैं। 

दिन में कुछ देर के लिए इसी तरह की सुकून के पल जिया करे यह सोचे बिना की यह सब सम्भव कब होगा। 

एक डायरी या कंप्युटर में लिखे की आप क्या क्या चाहते है और थोड़ा सा समय ले और वही चीजे लिखे जिनके बारे में आप खुद गंभीर है। ख्वाहिशों की यह सूची इतनी लंबी हो कि इसमे सालो की अवधि समा जाए। (अच्छा इंसान बनने के 12 तरीके)

ऐसा करने से आप हताशा से बाहर निकल पाएंगे और अपने मुख्य लक्ष्यों की तरह निशाना साधते हुए आगे बढ़ते जायेगे। अपनी लिस्ट में लिखी बातों के अनुसार यदि आपको वह सब पाना है तो निश्चित ही आपको एक बड़ा परिवर्तन करना होगा और यही पर लागू होता है परिवर्तन का नियम। आपको खुद को बदलना पड़ेगा और बदलाव की शुरुआत कहा से करनी है यह आप स्वयं तय करेंगे। 

परिवर्तन के लिए आपको मुख्य रूप इन चार चरणों को फोलो करना चाहिए – 

  • पुरानी बीते हुए कल की गलतियां – पुराने समय को खासकर ऐसे समय को जिसे याद करके आप नकारात्मकता से भर जाते है उसे पूरी तरह भुला दे। 
  • वर्तमान में – वर्तमान में होने वाली हर छोटी बड़ी बात पर अपना पूरा नियंत्रण रखे और चिंतन करते रहे कि अगला कदम क्या उठाना चाहिए। 
  • पूरी तैयारी – खुद को तैयार रखे हर तरह की स्थिति गुजरने के लिए चाहे वह किसी भी क्षेत्र मे हो आपको हमेशा तैयार होना चाहिए। 
  • कर्म और क्रिया – जो आपने निर्धारित किया है उसमे अनुसार कर्म करते जाओ। अपने लक्ष्य के तरफ अग्रसर बढ़ते रहो। 

यह चार चरण आपके भटकाव को पूरी तरह खत्म करके आपको नियंत्रित रखेंगे जिससे आप एक बेहतर और सफल व्यक्ति बन पायेगे। जब आप दिए गए चार चरणों को अपनी जिंदगी का हिस्सा बना लेते हैं तो आपको बस इनपर चलते रहना है निरंतर और हमेशा। (अच्छा इंसान बनने के 12 तरीके)

अपनी ताकत पहचाने और उसका लाभ प्राप्त करे 

आपकी क्षमताओं को आपसे बेहतर कोई नहीं समझता हो सकता है आप अभी तक उनसे वाकिफ ना हुए हो पर इतना पक्का है कि आपको उसके बारे में एहसास तो होता है। अपनी ताकत पहचाने का मूल अर्थ यह है कि आप अपना आत्मचिंतन करके यह समझे की आप किस में सबसे बेस्ट है,? ऐसा क्या है जिसमें आपको सबसे ज्यादा interest है?

जब आप यह समझ जाते है तो फिर आपका काम सबसे ज्यादा आसान हो जाता है। दुनिया के 79% लोग ऐसे है जो अपनी काबिलियत और क्षमताओं को 50 साल के बाद समझ पाते है लेकिन उस समय तक काफी टाईम निकल जाता है। इसलिये यह बहुत जरूरी है कि आप अपनी काबिलियत को पहचाने। यदि आपको यह चुनने में समस्या होती है तो खुद को समय दीजिए आत्मचिंतन कीजिए आपको उत्तर जरुर मिलेगा। (अच्छा इंसान बनने के 12 तरीके)

सफ़लता असफ़लता जुड़ी हुयी है यदि आप बहुत ज्यादा चुनौतिपूर्ण महसूस करने लगते है तो आप तनावग्रस्त महसूस करने लगते हैं और वही दूसरी तरफ जब आप बड़े आराम से अपना काम करते है और काम को चुनौतिपूर्ण नहीं समझते तब आप उस कार्य से ऊब जाते हैं। 

अब यही विडंबना है कि आखिर हम चाहते क्या है? और इस जगह पर आप आपनी पसंद करे कि आप किस तरह के इंसान बनना चाहते हैं? 

आम तौर पर जीवन जितना चुनौतीपूर्ण होता है आपके लिए आगे बढ़ना उतना ज्यादा रोमांचक होता है इसलिए। किसी भी काम को करने से पहले यह तय करे कि आखिर आपको किस तरह का जीवन जीना है रोमांचक या बोरियत भरा? 

अपने व्यक्तित्व को निखारने के लिए कुछ चुनिंदा किताबें पढ़े….. 

कुछ खास किताबे यहां से खरीदे… 

यह भी पढ़े :

श्री कृष्ण : एक सत्य या मिथक? | Mysterious Historical Unknown Facts About Lord Krishna

जिंदगी में पोजिटिव रहने के 3 अनकहे रहस्य | Jindgi Me Positive Kaise Rahe?

बुरे दिन से निबटने के 5 सफल तरीके | How To deal With A bad day ?

हमेशा प्रेरित (Motivated) रहने के 9 प्राचीन तरीके | Hamesha Motivated kaise Rahe?

खुद को माफ कैसे करें? Khud ko Maaf kaise kare?

कर्म क्या है ? | What Is Karma?

By Nihal chauhan

मैं Nihal Chauhan एक ऐसी सोच का संरक्षण कर रहा हू, जिसमें मेरे देश का विकास है। में इस हिंदुस्तान की संतान हू और मेरा कर्तव्य है कि में मेरे देश में रहने वाले सभी हिंदुस्तानियों को जागरूक करू और हिंदी भाषा को मजबूत करू। आपके सहयोग की मुझे और हिंदुस्तान को जरुरत है कृपया हमसे जुड़ कर हमे शेयर करके और प्रचार करके देश का और हिंदी भाषा का सहयोग करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.