जोड़ों का दर्द आज के दौर की और आने वाले समय में सबसे बड़ी समस्या या बीमारी है। अंग्रजी दवाइयाँ अभी तक जोड़ों के दर्द के लिए कोई प्रभावी दवाइयाँ नहीं खोज पायी है जो इस दर्द को जड़ से ठीक कर सके। लेकिन आयुर्वेद एक वरदान है, आयुर्वेद आपको जोड़ों के दर्द से निजात दिलाने के लिए उपयोगी है। 

अंग्रजी दवाइयाँ अभी तक जोड़ों के दर्द के लिए कोई प्रभावी दवाइयाँ नहीं खोज पायी है जो इस दर्द को जड़ से ठीक कर सके। लेकिन आयुर्वेद एक वरदान है, आयुर्वेद आपको जोड़ों के दर्द से निजात दिलाने के लिए उपयोगी है। 

आयुर्वेद तेल किस तरह जोड़ों के दर्द को कम करता है? (Ayurvedic Oil For Joint Pain In Hindi) 

जोड़ों का दर्द आज सबसे आम समस्याओं में से एक है, ज्यादातर लोग जोड़ों के दर्द से परेशान है। जोड़ों का दर्द अर्थात्‌ हमारे शरीर के उन हिस्सों में दर्द होना जहा जोड़ है जैसे कि घुटने, कूल्हे या रीढ़ की हड्डी में दर्द  को जोड़ों के दर्द में शामिल किया गया है। 

जोड़ों के दर्द की समस्या तब और बड़ जाती है जब यह दर्द पुराना हो। जोड़ों में दर्द होने के पीछे कई कारण हो सकते लेकिन उनमें से मुख्य समस्या है, कार्टिलेज के टूट-फूट के कारण जोड़ों में दर्द हो सकता है। किसी चोट के कारण हो सकता है या गठिया जैसी बीमारी का परिणाम भी जोड़ों का दर्द ही है। 

दर्द कष्टदायक होता है, कारण चाहे जो भी हो जोड़ों का दर्द हमारे दैनिक जीवन को प्रभावित करता है। जोड़ों के दर्द से पीड़ित व्यक्ति, आम इंसानो से दुर्बल और कमजोर हो जाता है। ऐसे में आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति में बताई गई पारंपरिक दवाइयों के उपचार से जोड़ों के दर्द से तुरंत राहत पा सकते हैं।

 अँग्रेजी दवाइयाँ जोड़ों के दर्द में आराम तो दिला सकती है लेकिन उन दवाइयों के कई लंबे स्वास्थ्य दुष्प्रभाव है। इसीलिए आयुर्वेदिक चिकित्सा आपको जोड़ों के दर्द की समस्या से जड़ से छुटकारा दिला सकता, वो भी बिना किसी दुष्प्रभाव के। 

आयुर्वेद जोड़ों के दर्द के लिए सुरक्षित और प्राकृतिक प्रबंधन प्रदान करने में मदद करता है।  Myaxyl तेल एक दर्द निवारक आयुर्वेदिक तेल है जो जोड़ों के दर्द को प्रभावी ढंग से रोकने में मदद करता है।

जोड़ों का दर्द और आयुर्वेदिक उपचार 

आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति के अनुसार जोड़ों में दर्द होने का कारण है क्रियात्मक ऊर्जा और दोष का असंतुलन जिसके कारण ही जोड़ों में दर्द उतपन्न होता है। और आयुर्वेद में इस दोष को वात कहा जाता है।

 जोड़ों का दर्द तब उतपन्न होता है जब कार्य के दौरान ऊर्जा लगती है और जोड़ों के बीच खाली जगह रह जाती है। यानि कि एक असंतुलन जिसे हम वात या व्यानवत के रूप में जानते है। 

यह असंतुलन हमारे शरीर के जोड़ों वाले हिस्से में परिसंचरण समस्याओं का कारण बन सकता है, जिसके कारण जोड़ों वाली जगह में मौजूद ऊतकों (Tissues) को पोषण नहीं मिल पाता और वे कमजोर होकर निर्जीव हो जाते है और वह जगह रिक्त रह जाती है जिससे जोड़ों में दर्द होता है। यही कारण है कि इससे जोड़ों में टूट-फूट हो जाती है, जिससे जोड़ों पर तेज दर्द महसूस होता है।

‘श्लेशक कफ’ ऊर्जा का एक और रूप है, यह जोड़ों को चिकना रखने में मदद करती है जिससे आपके जोड़ों की गति सुचारू हो सके।

शरीर के दोषों और ऊर्जा के बीच के असंतुलन के कारण पाचन अग्नि कमजोर हो जाती है। जिसके कारण हमारे शरीर में दूषित पदार्थ एकत्रित होने लगते है बाद में वात दोष इन दूषित पदार्थों को जोड़ों तक ले जाता है और बाद में यही जोड़ों के दर्द का कारण बनता है। जो दूषित पदार्थ जोड़ों तक पहुंचता है उसके कारण श्लेशक कफ (ऊर्जा का रूप) सूख जाता है। यह जोड़ों में दर्द पैदा करने वाले स्नेहन को प्रभावित करता है।  

आयुर्वेद मानता है कि शरीर में विकारों को कम करने के लिए या जोड़ों के दर्द को ठीक करने के लिए दोष और ऊर्जा का संतुलन जरूरी है। यह संतुलन योग, व्यायाम, स्वस्थ्य आहार और जीवनशैली में उचित बदलाव करके बनाया जा सकता है। आप आयुर्वेदिक हर्बल सप्लिमेंट्स खाकर भी स्वस्थ रह सकते हैं। Myaxyl तेल प्रकृति का अनमोल उपहार है जो आपको जोड़ों के दर्द से राहत दिलाने में सक्षम है ।

जोड़ों के दर्द के लिए Myaxyl तेल के फायदे 

Myaxyl तेल दुर्लभ जड़ी बूटियों से तैयार किया गया तेल है जो आपके जोड़ों के दर्द को जड़ से खत्म कर सकता है। किसी भी अन्य तेल की तुलना में यह तेल सर्वोत्तम है। तेल को बनाने के लिए प्राकृतिक रूप से एकत्रित की गयी आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां है, जिनका विशेष ज्ञान आयुर्वेदिक विज्ञान में सदियों से मिलता आया है। तेल को बनाने के लिए चुनिंदा जड़ी बूटियों का चुनाव किया गया जो जोड़ों के दर्द को जड़ से ठीक करने की क्षमता रखती है। 

यह तेल आपके शरीर के जोड़ों और मांसपेशियों को मजबूत करने में भी मदद करता हैं और इस प्रकार यह आयुर्वेदिक तेल पुराने दर्द से ग्रस्त मरीजों के लिए रामबाण इलाज साबित होता हैं।

 प्रभावित जोड़ों पर तेल का इस्तेमाल किया जा सकता है। जो लोग घुटने के गंभीर दर्द से पीड़ित हैं उन्हें इस तेल का उपयोग करने में मदद मिलेगी।  तेल जोड़ों में धतूस या ऊतकों में प्रवेश करता है और इस प्रकार दर्द के लक्षणों को प्रबंधित करने में मदद करता है।

आयुर्वेद में Myaxyl दर्द निवारक तेल शास्त्रीय आयुर्वेदिक ग्रंथों के अनुसार तैयार किया गया है।  गठिया के रोगियों के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला सूत्रीकरण बहुत मददगार होता है।  इस तेल का उपयोग करके गठिया और गाउट के जोड़ों के दर्द को खत्म करने में मदद की जा सकती है।  मांसपेशियों में खिंचाव या चोट के कारण मांसपेशियों में दर्द एक आम समस्या है । Myaxyl तेल मांसपेशियों के दर्द के लिए मालिश वाला आयुर्वेदिक तेल है। 

जब आप इस तेल की मालिश शरू कर देते है तो आपका पुराने से पुराना जोड़ों का दर्द धीरे-धीरे समाप्त होने लगता है। यह एक संपूर्ण हर्बल तेल है जिसे रसायनों, परबेन्स और पेट्रोलियम उप-उत्पादों से मुक्त कहा जा सकता है । यह तेल पूरी तरह प्राकृतिक आयुर्वेदिक तेल है जो दुष्प्रभाव रहित है। 

 Myaxyl तेल के लाभ

Myaxyl तेल जोड़ों के दर्द को पूरी तरह कम करने में सहायक है। यह कई अन्य स्वास्थ्य लाभ प्रदान करने में भी मदद करता है।  इसमे शामिल है:

  • इस तेल का उपयोग करके जोड़ों और मांसपेशियों में सूजन, जकड़न, और दर्द को कम करने में मदद की जा सकती है।
  • रुमेटीइड गठिया, पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस और गाउट से पीड़ित लोगों के लिए यह तेल बेहद उपयोगी और फायदेमंद है। 
  • इस तेल का उपयोग करके जोड़ों की गतिशीलता में सुधार करने में मदद की जा सकती है क्योंकि यह जोड़ों को मजबूत बनाने में मदद करता है।
  • इस तेल से प्रभावित हिस्से की मालिश करके कष्टदायी मांसपेशियों की ऐंठन को नियंत्रित करने में मदद की जा सकती है।
  • यह मालिश वाले क्षेत्र में रक्त परिसंचरण में सुधार करने में मदद कर सकता है।
  • इस तेल से घुटने के गंभीर दर्द और पीठ दर्द में मदद मिल सकती है।

तेल की सामाग्री और उनके फायदे – 

  • नीलगिरी तेल : यह सबसे लोकप्रिय तेलों में से एक है जो मांसपेशियों में दर्द और दर्द को प्रबंधित करने में मदद करता है।  यह एंटीस्पास्मोडिक है और मांसपेशियों में ऐंठन और दर्द के दौरान मदद करता है।
  • तिल का तेल :  Myaxyl को तैयार करने के लिए इस तेल का उपयोग आधार के रूप में किया जाता है।  इसका उपयोग दर्द के लक्षणों को प्रबंधित करने में मदद के लिए किया जाता है।  तेल अच्छी तरह से अनुकूल है क्योंकि यह जड़ी-बूटियों के गुणों को जोड़ों के ऊतकों में गहराई तक ले जाने में मदद कर सकता है।  यह जोड़ों के दर्द को प्रभावी ढंग से प्रबंधित करने में मदद करता है।
  • देवदरु (सेड्रस देवदरा): यह जड़ी बूटी सूजन-रोधी है और इस प्रकार सूजन और दर्द को कम करने में मदद करती है।  यह शरीर में विषाक्त पदार्थों को कम करने में मदद करता है जो जोड़ों के दर्द को और बदतर करते है। यह हमारी पाचन अग्नि को दुरुस्त करने में मदद करता है और इस प्रकार यह हमारे शरीर में बनने वाले विष निर्माण को कम करने में मदद करता है।
  • रसना (Alpinia galanga): वात दोष के बढ़ने के कारण होने वाले दर्द को रोकने में रसना बहुत मददगार सिद्ध होता है।  यह जोड़ों के दर्द को खत्म करने में बहुत मददगार है और सूजन को कम करने में भी मदद करता है।
  • नंदी वृक्ष (Tabernaemontana divaricata): यह एक प्राकृतिक जड़ी बूटी है जो एंटीऑक्सीडेंट और सूजन रोधी गुणों से युक्त है। इसलिए यह आपके जोड़ों के दर्द को कम करने के साथ साथ अनावश्यक सूजन को खत्म करती है। यह जोड़ों के दर्द को प्रबंधित करने में आमतौर पर इस्तेमाल की जाने वाली जड़ी-बूटियों में से एक है।

तेल का इस्तेमाल कैसे करें? 

तेल लगाने के लिए आपको 5 से 10 मिलीलीटर तेल लेना चाहिए और अपनी उँगलियों से प्रभावित जगह पर मालिश करे, ध्यान रखें कि इसे ज्यादा रगड़ने की आवश्यकता नहीं है। 

अंतिम विचार – 

Myaxyl तेल के कारण आज दुनिया भर के लोगों को जोड़ों के दर्द से आराम मिला है। यह जोड़ों के दर्द से निपटने का एक सुरक्षित और सौम्य तरीका है। आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति की यह एक बड़ी सफलता है। हमे हमेशा शुरुआती इलाज आयुर्वेदिक से ही शुरू करना चाहिए क्योंकि इसके कोई दुष्परिणाम नहीं होते। 

Myaxyl तेल खरीदने के लिए यहां क्लिक करें… 

यह भी पढ़े :

एसिडिटी को कम करने के लिए 8 प्राकृतिक घरेलू उपाय – Acidity ko Kam Karne Ke Gharelu Upay

योनि की खराब दुर्गंध के लिए आयुर्वेदिक उपचार

स्वस्थ स्तनों के लिए 3 जड़ी बूटियां – Healthy Breast Remedies In Hindi

गिलोय के 10 स्वास्थ्य फायदे – Giloy ke Fayde – Giloy Benefits In Hindi

पुरुषों में हृदय रोग के 8  लक्षण ! – Signs of Heart Disease in Men In Hindi

बालों को तेजी से उगाने के लिए 10 प्राकृतिक उपाय – Balo Ko Teji Se Ugane Ke Liye Prakritik Upay

 

By Nihal chauhan

मैं Nihal Chauhan एक ऐसी सोच का संरक्षण कर रहा हू, जिसमें मेरे देश का विकास है। में इस हिंदुस्तान की संतान हू और मेरा कर्तव्य है कि में मेरे देश में रहने वाले सभी हिंदुस्तानियों को जागरूक करू और हिंदी भाषा को मजबूत करू। आपके सहयोग की मुझे और हिंदुस्तान को जरुरत है कृपया हमसे जुड़ कर हमे शेयर करके और प्रचार करके देश का और हिंदी भाषा का सहयोग करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.