Benefits Of Law Of Attraction In Hindi “आकर्षण का नियम” (Law Of Attraction) इस नियम के मुताबिक हम जिसकी भी चाहना करते है वह हमे प्राप्त होता है। लोगों की समझ से परे यह नियम प्रकृति के सारे नियमों को ताक पर रखता है। यदि आप यह सोचते है कि भला ऐसे कैसे हो सकता है। मै किसी चीज के प्रति अपनी इच्छा जताता हूँ तो वह मुझे प्राप्त हो जाती है? क्या कोई जादू है क्या? इस तरह के कई विचार और सवाल आपके मन को अस्थिर कर रहे होंगे। 

आपके अस्थिर मन के इलाज के साथ साथ आपके हर सवाल का जवाब और सबूत है मेरे पास। तो निश्चित होकर अपने मन की एकाग्रता इस लेख के प्रति बनाए रखे में आज आपको कुछ नया बताऊँगा जिसका अनुभव आपके लिए आपके जीवन को बेहतर बनाने के लिए काम आएगा।(Benefits Of Law Of Attraction In Hindi )

आकर्षण का नियम कहता है कि – हम जिसे (कोई चीज या वस्तु इत्यादि) भी अपनी पूरी शिद्दत से चाहने की कोशिश करते है, इच्छा करते हैं तो वह चीज हमे प्राप्त होती है। इस बारे में शायद आपका पहले से ही कोई अनुभव रहा होगा लेकिन जागरुकता की कमी के कारण आपने उसे महज एक इत्तेफ़ाक समझ लिया। लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है जब हम सच्चे मन से अपनी चाहत को खुद से जाहिर करते है तो हमारे वातावरण के आसपास सिर्फ सकारात्मक ऊर्जा फैल जाती है जिसका प्रभाव इतना तीव्र होता है कि, आपकी इच्छायें पूर्ण होने लगती है। 

खेर यह तो बात थी इस नियम के काम करने की लेकिन यह काम कैसे करता है यह आपके लिए जानना जरूरी है। 

“आकर्षण के नियम” की पुष्टि करने वाले सैकड़ों लेख इन्टरनेट पर मौजूद है जो दर्शाते है कि यह नियम को मिथ्या नहीं है। हालांकि लोग इस नियम से पहले परिचित नहीं थे, कुछ साल पहले आयी एक किताब ” रहस्य” जिसे “Rhonda Byrne” ने लिखा था। यह किताब दुनिया कि सबसे ज्यादा बिकने वाली किताब बनी। यह किताब पूरी तरह “आकर्षण के नियम” पर ही आधारित थी यदि आप इसे पढ़ना चाहे तो नीचे दिए गए link से खरीद सकते है यह किताब हिन्दी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में उपलब्ध है। (Benefits Of Law Of Attraction In Hindi )

हालांकि आज आकर्षण के नियम पर कई तरह के शोध चल रहे हैं लेकिन दुर्भाग्य से यह नियम अप्रत्यक्ष रूप से कार्य करता है। 

आज हम आपको बतायेंगे कि किस तरह आप आकर्षण के नियम से अपने जीवन को बेहतर बना सकते हैं। 

आकर्षण का नियम बताता है कि हमारे पास जीवन में अपनी मनचाही चीजों को आकर्षित करने की क्षमता है।  आपके जीवन के विभिन्न बिंदुओं पर आपको मिले नकारात्मक असर , निराशावादी संदेशों के विपरीत, आपका दिमाग और आपका विश्वास आपके लक्ष्यों को पूरा करने की अनुमति देने के लिए पूरी तरह मजबूत हैं। (Benefits Of Law Of Attraction In Hindi )

एक बार जब आप अपने लाभ के लिए आकर्षण के नियम का उपयोग करने की कला में महारत हासिल कर लेते हैं, तो यह आपका दुनिया देखने का नजरिया बदलना शुरू हो जाता है और आपके पास सफलताएं आने लगती है। 

1. अपने सपने देखने की क्षमता को और प्रबल करे – 

Benefits Of Law Of Attraction In Hindi

सकारात्मकता के प्रभाव से सब वाकिफ़ है और जब आप अपने विचारों में सकारात्मकता लाते है तो आकर्षण का नियम और ज्यादा शक्तिशाली ढ़ंग से कार्य कर्ता 

करता है । आपके वह विचार जो आपको पूर्ण संतुष्टि प्रदान करते है आपको उन्हें थोड़ा ज्यादा समय देना चाहिए। जब आप आप अपने सपने को और प्रभावी ढंग से देखते है तो नतीजतन, आप जानबूझकर अपने सपनों को पूरा करने की संभावना बढ़ा सकते हैं।

 आप सिर्फ अपने भविष्य के बारे में अपने नजरिए को अपनी सोच को महत्वाकांक्षी, आशावादी,और रोमांचकारी बनाए सिर्फ इतना छोटा सा काम आपको बड़ी सफलताओं के निकट ले जा सकता है। आपको सिर्फ अपना अधिक समय इस तरह के विचारो को देना होता है। आपको ऊर्जा इतनी अधिक होती है कि आपकी सफलता की संभावना बढ़ जाती है।(Benefits Of Law Of Attraction In Hindi )

2. खुद की सोच पर कितना विश्वास है? – 

कई बार लोग सोचना शुरू कर देते है और उन्हें उसके उपर्युक्त परिणाम नही मिलते? ऐसा होने के पीछे कई कारण हो सकते हैं। आकर्षण के नियम की विशेषज्ञ बताते है कि आपके विचारों में आपका विश्वास सम्मलित होना चाहिए यदि आपको खुद के ही विचारों पर भरोसा नहीं है तो यह आपको और अधिक नकारात्मकता की तरफ ले जाता है जिसके कई दुष्परिणाम हो सकते हैं। ऐसा भी हो सकता है कि आपका बना बनाता काम ही बिगड़ जाए। 

आप विचारों को सोचिए और उन्हें अपने मन में साबित कीजिए अर्थात्‌ कार्य के ना होने की संभावना शून्य प्रतिशत भी नहीं होना चाहिए। आपको आपको सोची हुयी योजनाओं पर पूर्ण भरोसा करना होगा। वही आपका संदेह आपको ले डूबेगा। आकर्षण के नियम के समर्थकों का तर्क है कि आपको अपने स्वयं के अंतर्ज्ञान की सटीकता में विश्वास करे , जिससे आपकी भावनाएं स्वाभाविक रूप से आपको सही रास्ते की ओर खींच सकें। 

3. अपने आप को सफलता के करीब देखे –

 

आपके लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए आपको कई बार ऐसी भावनाओं का एहसास होता है, कि आप तो उन्हें असानी से हासिल कर सकते है और आपको अपनी सफलता बेहद नजदीक नजर आती है। लेकिन दुर्भाग्य से आपकी यह मानसिकता कुछ पलों की मेहमान होती है। इसके बाद आप खुद को हतोत्साहित महसूस करने लगते हैं। आपको संदेह होने लगता है और धीरे-धीरे यही संदेह आपको असफलता में परिवर्तित हो जाता है। 

आपको अपने लक्ष्यों को निर्धारित करते समय यह ध्यान रखना चाहिए कि क्या वाकई आप इसे चाहते है और यदि आपकी चाहत सच्ची है तो आकर्षण का यह नियम काम करेगा और आपको उसके नजदीक ले जाता है। ऐसे में आपको खुद को हर समय सफ़लता के नजदीक ही देखना है कभी यह नहीं सोचना कि यह नहीं हो पाएगा। आपकी मानसिकता का सीधा प्रभाव वातावरण में मौजूद ऊर्जा पर पड़ता है इसलिए ध्यान रहे गलती से भी अपने लक्ष्य के बारे में नकारात्मक विचार पैदा ना होने दे और यदि हो भी रहे है तो उनपर काबु पाए। 

4. आप अपना सच जानते है – 

हमारी सोच, हमारे ख्याल और हमारे मन में आने वाला एक एक विचार इन सभी के ऊपर हमारा नियत्रंण होता है। लेकिन नियंत्रण तभी होता है जब आपने इसके लिए काफी अच्छी खासी प्रैक्टिस की हो अन्यथा तो आप सोचना कुछ और चाहते है और सोचते कुछ और जा रहे हैं इस तरह की मनोस्थिति बन जाती है। 

कोई भी व्यक्ति पैदा होते से ही अपने मन पर महारत हासिल नहीं कर पाता, यह सब कुछ उसके अपने प्रयासों की देन है। आप भी जब लगातार प्रयास करते है तो आप

अपने मन को अपने अनुसार बदल सकते है। जैसे कि – 

एक पल में आपको कोई वस्तु पसंद आयी और आप उसे चाहते है और आपका पूरा निर्णय है कि आप उसे प्राप्त करेंगे। लेकिन अगले ही पल किसी अन्य व्यक्ति को वह वस्तु पसंद आ जाती है ऐसे में आप क्या करेंगे? 

वह व्यक्ति जिसने अपने मन पर जीत हासिल की है वह इस वस्तु को बड़ी आसानी से सामने वाले को दे देगा और उसको इससे रत्ती भर भी फर्क नहीं पड़ेगा। 

वही दूसरी तरफ एक ऐसा व्यक्ति जो अपने मन का गुलाम है, उसकी मनोदशा इस समय सबसे बदतर हालत में होगी वह इसके लिए झगड़ा करेगा दुखी होगा अपने ईश्वर को गलत समझेगा यहां तक कि उसके चारो तरफ इतनी अधिक नकारत्मक ऊर्जा उत्पन्न होगी कि उसके आने वाले काम भी बिगड़ते चले जाएंगे और शाम को बिस्तर पर सोने से पहले वह दुःखी होकर विचार करेगा कि साला! आज का दिन ही बेकार था या मेरी किस्मत ही बेकार है। 

अब आप चुनिए आप क्या चाहते है – आकर्षण के नियम के हर पहलू को समझे खुद को नकारत्मक विचारो से कोषों दूर रखे बेशक आपको पता है कि यह आपके मुताबिक नहीं हो रहा फिर भी अपने आपको स्थिर रखे और अपनी सकारात्मक सोच को लगातार जारी रखने का प्रयास करें। 

5. अपने ध्यान का केंद्र बदले परिस्थियां अपने आप बदलेगी – 

आकर्षण का नियम

जब आप ठीक महसूस नहीं कर रहे होते हैं उस समय आपके मन में निश्चित ही नकारात्मक ऊर्जा का भरपूर प्रभाव होता है। असल में जो स्थिति है वह उतनी बदतर होती नहीं है जितनी कि वह आपको लगती है या महसूस होती है। ऐसे में आपके ध्यान का केंद्र ही यह तय करता है कि आप किस तरह की ऊर्जा का उपयोग कर रहे है और उसी के अनुसार आपका मन काम करने लगता है। वही यदि आपके ध्यान का केंद्र कुछ सकारात्मक विचारों के साथ है तो यह आपके मन में नई ऊर्जा और स्फूर्ति का संचार करता है। 

असान शब्दों में समझिए – जब आपका ध्यान का केंद्र यानी कि वह विषय जिसके बारे में आप विचार कर रहे है वह कैसा है? आप उस विषय को किस नजरिये से सोच रहे हैं आपका नजरिया उस विषय के प्रति सकारात्मक है या नकारत्मक? यदि आपका नजरिया नकारत्मक है तो आपको नुकसान उठाना ही पड़ेगा और सकारात्मक है तो आपकी सफलता की संभावना बड़ती है। इसीलिए यह जरुरी है कि आप अपने ध्यान के केंद्र को सकरात्मक रखे और यदि यह नकारत्मक है तो इसे सकारात्मक में बदले। 

6. आकर्षण का नियम सफलता के बारे में आपके विश्वास को पूरी तरह बदल देगा – 

कई लोग ऐसा मानते हुए बड़े होते हैं कि सिर्फ असाधारण रूप से बुद्धिमान ,अमीर,  सुंदर या ऐसे लोग जिन्हें कुछ  स्पष्ट रूप से विशेषाधिकार प्राप्त है सिर्फ यही लोग सफलता प्राप्त कर सकते हैं। लेकिन , एक बार जब आप आकर्षण के नियम में  अपना मूल विश्वास बना लेते है और आकर्षण के नियम को पूरी तरह लागू करते हैं, तो आप देखेंगे कि सफलता एक ऐसी चीज है जो सभी के लिए उपलब्ध है।

7. बिसरी बाते सिर्फ नुकसान देती है – 

बहुत बार आप खुद को ही गिरा हुआ महसूस करते है। आप खुद के प्रति इतने ज्यादा आलोचनात्मक हो जाते है कि इससे आपके निजी जीवन पर प्रभाव पड़ने लगता है। गलतियाँ भूल सबसे होती है लेकिन उन्हें भुलाकर हमे आगे ऐसी गलती ना दोहराने की सीख लेनी चाहिए लेकिन ऐसा करने की जगह आप अपनी उस एक गलती को अपने मन में इस तरह बैठा लेते हैं कि उसके खयाल समय समय पर आपको तंग करते रहते हैं। 

कई बार आपके मन में अपने कुछ ऐसे पुराने विचार आते है जो आपको पूरी तरह नकारात्मकता से भर देते है। ऐसे समय में आपको कुछ भी अच्छा नहीं लगता और आप अपने लक्ष्य के प्रति गैर जिम्मेदार होने लगते है। धीरे धीरे आप पूरी तरह नकारात्मकता के चंगुल में फँस जाते हैं। 

आकर्षण का नियम यह तय करता है कि आपके पास सिर्फ और सिर्फ सकारात्मक भाव होना चाहिए खासकर उन लक्ष्यों के बारे में जिनके लिए आप विचार करते हैं। 

पुराने विचार आपको सिर्फ नकारत्मक ऊर्जा ही दे सकते है इसलिए जरुरी है कि आप भविश्य और वर्तमान के बारे में विचार करे। 

8. आपके विचार आपकी शारीरिक क्षमताओं को बढ़ाते हैं – 

कई बड़े बड़े चैंपियन एथलीट इस बात की पुष्टि करते है कि आपकी सोच और आपके विचार आपकी शारीरिक क्षमताओं को बड़े पैमाने पर प्रभावित करते हैं। 2014 के एक अध्यन के दौरान यह बात समाने आयी कि किसी भी प्रकार के शारीरिक विकास के लिए आपको सकारात्मकता भरी दृष्टी काफी कारगर होती है। 

9. आपको जीवन में बहुत बड़ा बदलाव लाने में देर नहीं लगेगी – 

हर दिन जाने कितना ही समय हम फिजूल में बर्बाद कर देते है। यदि आपके पास हर दिन सिर्फ पंद्रह मिनट भी हैं, तो इस समय का सदुपयोग आप ध्यान की स्थिति में प्रवेश करने से कर सकते है। सिर्फ 15 मिनट का समय निकाल कर आप विशेष रूप से उन विचारों पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं जो यह दर्शाते है कि जब आप अपने लक्ष्यों को पूरा करेंगे तो यह कैसा दिखेगा। 

 इसे ही विज़ुअलाइज़ेशन प्रक्रिया, कहा जाता है। और आकर्षण के नियम का पहला कदम यही है। यह प्रक्रिया आकर्षण के नियम का उपयोग करने का एक प्रमुख तत्व है। इस प्रक्रिया को करने के लिए समय या ऊर्जा के बड़े बलिदान की आवश्यकता नहीं होती है, लेकिन निश्चित रूप से यह कई प्रमुख लाभ प्रदान करता है।

10. सपने फायदेमंद होते हैं, इनका कोई दुष्प्रभाव नहीं – 

अपने सपनों के बारे में सोचना और उनके संभावित परिणामों का विश्लेषण करना महत्वपूर्ण है। अगर आपको पता है कि आप जो काम कर रहे हैं उसकी सफ़लता किस तरह की होगी तो आपको निश्चित ही उस पर विचार करना चाहिए और उन पलों के साथ कुछ समय बिताना चाहिए जब आप खुद को सफल महसूस करते हैं।

हालाँकि, सपनों और विज़ुअलाइज़ेशन के बीच एक मजबूत समानांतर रेखा खींचने की गलती न करें। क्योंकि सपने हकीकत के समान शक्ति नहीं रखते हैं।  सपने सिर्फ इसलिए जरुरी है क्योंकि यह आपको ऊर्जा देते है और यह आकर्षण के नियम का मुख्य हिस्सा है। हालांकि सिर्फ सपने ही आपको सफलता नहीं देंगे पर यह आपको सफ़लता के निकट ले आते हैं। 

11. आकर्षण का नियम आपको स्वाभिमानी बनाता है – 

आप जब हर दिन आकर्षण के नियम का पालन करके अपने आपको अपनी सफ़लता के निकट पाते है तो आपको खुद पर अटूट विश्वास हो जाता है जिसके परिणामस्वरूप आप स्वाभिमानी हो जाते है। अब जब आप आकर्षण के नियम का पालन करते है तो आप कोई ऐसे व्यक्ति नहीं रहते जिसे किसी प्रकार की दया की आवश्यकता हो या वह किसी से दया चाहता हो। 

12. जिसे चाहो उसे अपना बनाओ – 

आकर्षण का नियम

यदि आप सच्ची शिद्दत से किसी को चाहते है तो आपको आकर्षण के नियम को अपनाना चाहिए क्योंकि इसमे इतनी शक्ति है कि यह आपको उस व्यक्ति विशेष के पास ले आता है आप जिसे सोचते है और चाहते हैं। बशर्ते आपको अपने मूल कर्तव्य भी करने होते हैं। 

अंतिम विचार :

कोई नहीं जानता कि पृथ्वी कैसे और क्यों बनी? और जिससे यह बनी वह सब कुछ कैसे बना? ना ही कोई यह जानता है कि पृथ्वी पर जीवन कैसे आया और क्यों आया? हालांकि मनुष्य को प्राकृतिक नियमो की एक सौगात जरुर मिली जिसे समझकर वह अपने जीवन को आसान बना सकता है। ऐसे ही नियमों मे से एक है “LAW OF ATTRACTION” यह नियम वास्तविकता में कार्य करता है। बस आपको यह खोजना चाहिए कि ऐसा क्या है जो आपको इस नियम को लागू करने से रोक रहा है। 

ALSO READS : 

जीवन से हारा हुआ महसूस करने पर क्या करें? – Jeevan Se Hara Hua Mehsus Karne Par Kya Kare ?

“माया” क्या है ? – What Is “Maya” ? – Maya kya hai ?

विश्वास कैसे बनाएं ?- Vishwas kaise Banaye? – How To Cultivate Faith?

खुद को माफ कैसे करें? Khud ko Maaf kaise kare?

बुरे दिन से निबटने के 5 सफल तरीके | How To deal With A bad day ?

By Nihal chauhan

मैं Nihal Chauhan एक ऐसी सोच का संरक्षण कर रहा हू, जिसमें मेरे देश का विकास है। में इस हिंदुस्तान की संतान हू और मेरा कर्तव्य है कि में मेरे देश में रहने वाले सभी हिंदुस्तानियों को जागरूक करू और हिंदी भाषा को मजबूत करू। आपके सहयोग की मुझे और हिंदुस्तान को जरुरत है कृपया हमसे जुड़ कर हमे शेयर करके और प्रचार करके देश का और हिंदी भाषा का सहयोग करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.