यह सिर्फ एक सवाल नहीं की देश का विकास कैसे होगा?( BHARAT desh ka vikas kaise hoga) यह सवाल दर्शाता है कि आपका देश के प्रति क्या नजरिया है। साथ ही इससे यह भी पता चलता है कि आप एक सच्चे देशभक्त हैं। दोस्तों अगर भारत का हर इंसान ये सवाल करने लगे तो यह देश खुद बा खुद विकासशील हो जाएगा और दुनिया के विकसित देशों में शामिल हो जाएगा। 

देश का विकास तभी होता है जब देशवासियों का विकास होता है। भारत प्राचीन काल में सबसे विकसित देश था परंतु मुग़लों और अंग्रेजों के देश को लूटने के बाद इसकी रीड की हड्डी टूट गयी। भारत इकनॉमिक लेवल पर बहुत नीचे आ गया। फिर जब देश आजाद हुआ उसके बाद देश विकास की दिशा में आगे बढ़ने लगा। पर फिर भी देश के दुश्मन और ग़द्दार लोगों के द्वारा देश को नीचे गिराने के प्रयास होते रहते हैं। 

ऐसी स्थिति में यह बेहद जरूरी हो जाता है कि हम अपने देश के विकास में योगदान कैसे करें? 

दोस्तों अगर आप चाहते है कि भारत भी विकसित देशों की सूची में शामिल हो तो आपको जागरूक और शिक्षित होने की आवश्यकता है। 

 देश: भारत (हिन्दुस्तान) 

 स्थान: दक्षिण पूर्व एशिया।

प्रति व्यक्ति आय -: 2900$

 जनसंख्या: 1.27 अरब और अभी भी बढ़ रही है।

रोजगार क्षमता :- 8.2 मिलियन 

बेरोज़गारी दर :- 9.5%

सकल घरेलू उत्पाद वास्तविक वृद्धि दर    : 4.3%

सकल घरेलू उत्पाद में स्थान: 5

 जीडीपी: एक दशक में 1.9 ट्रिलियन अमरीकी डालर औसत।

व्यवसाय द्वारा श्रमिक क्षमता (१९९९): प्राइमरी(६०%), सेकेंडरी(१७%), सेवा (२३%)

गरीबी रेखा से नीचे की आबादी: 25%

 एचडी इंडेक्स: 0.675 (औसत से नीचे)।

 जीवन प्रत्याशा: 64 साल (एक दशक के साथ तीन साल बढ़ जाती है) औसत से 12 साल नीचे।

 प्रजनन क्षमता: .2.5 जन्म प्रति महिला। (आवश्यकता से अधिक 3 x)

 मिट्टी की उर्वरता: प्रति दशक छह खनिज इकाइयाँ घटती जा रही हैं।

 खनिज और प्राकृतिक भ्रष्टाचार: सक्रिय।

 किफायती और संघीय रिजर्व भ्रष्टाचार: सक्रिय।

 भारतीय अर्थव्यवस्था दुनिया की चौथी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है। 

भारत को विकसित और विकासशील देश बनाने के लिए आपको निम्न प्रकार से सहयोग करना है

1)शिक्षा का माध्यम और विकास : 

शिक्षा का माध्यम और विकास
शिक्षा का माध्यम और विकास

जैसे कि अगर आपने इतिहास पढ़ा है तो आप निश्चित तौर से यह जानते होगे की भारत प्राचीनकाल से शिक्षा के क्षेत्र में विश्व में सबसे आगे रहा है। देश विदेश से लोग भारत में शिक्षा लेने आते थे। दुनिया का सबसे पुराना विश्व विद्यालय भारत के अंदर नालंदा विश्वविद्यालय के नाम से बिहार में स्थित था। आखिर फिर भारत क्यु पीछे रह गया? क्यु देश विकास नहीं कर पाया? 

दोस्तों हमे पीछे किया गया अंग्रेजो और मुग़लों ने हमारी संस्कृति और सभ्यता मिटाने का पूरा प्रयास किया पर वो ऐसा करने में सक्षम नहीं हुए पर उन्होंने भारत की शिक्षा और आर्थिक रूप से बिल्कुल खत्म कर दिया। 

अंग्रेजी शासन के दौरान हमे अंग्रजी पढ़ने पर विवश किया गया और तो और हमे शिक्षा से वंचित कर दिया गया। भारतीय लोगों से सिर्फ ईस्तेमाल किया उनके अधिकारों का पूर्ण रूप से हनन किया। 

अब आजादी के बाद देश ने द्वारा से कमर कसी और शिक्षा के क्षेत्र में काफी प्रगति की है।

 हमे अगर देश का विकास करना है तो सबसे पहले हमे शिक्षा का अधिकार सबको और उच्चतम शिक्षा प्राप्त करनी चाहिए। उच्च शिक्षा प्राप्त करके ही आप देश के विकास में योगदान कर पाएंगे। 

जब साक्षरता की बात आती है, तो 160 देशों की सूची में कंबोडिया, कैमरून और इर्र्रिया के बाद भारत 160 वें स्थान पर है।  देश की साक्षरता दर अभी भी 75 प्रतिशत से कम है, जबकि 90 देशों (वियतनाम और म्यांमार सहित) में 90 प्रतिशत से अधिक साक्षरता की रिपोर्ट है।  दूसरे शब्दों में, एक लंबा रास्ता तय करना है। देश का विकास कैसे होगा?( BHARAT desh ka vikas kaise hoga)

इस क्षेत्र में आपका कर्तब्य यह है कि अगर आप सक्षम है तो अपने परिवार और समाज से जुड़े सभी लोगों को अच्छी शिक्षा दिलाए। इसी संदर्भ में भारत में एक वाक्य बहुत मशहूर हुआ। 

“पढ़ेगा इंडिया तभी तो बढ़ेगा इंडिया”  भारत के मौजूदा प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में कई महत्वपूर्ण योजनाओं का क्रियान्वयन हुआ है। जिनके तहत भारत के उन वर्गों को मुफ्त शिक्षा मिल रहीं हैं जो आर्थिक रूप से इतने समृद्ध नहीं है। देश के अनुसूचित जनजाति और अन्य गरीबों के विकास के लिए कई उपाय किय जा रहे हैं। 

देश का विकास करने के लिए आपका मुख्य कर्तव्य है कि आप लोगों को शिक्षा के लिए जागरूक करे। 

2)कॉंग्रेस पार्टी का खात्मा करना होगा :  देश का विकास कैसे होगा?( BHARAT desh ka vikas kaise hoga)

कॉंग्रेस पार्टी का खात्मा करना होगा
कॉंग्रेस पार्टी का खात्मा करना होगा

दोस्तों सायद आपको नहीं पता होगा जिन्होंने हमारे देश को अपाहिज बनाया, लूटा- खशोटा  और पूरी तरह से हमे बर्बाद कर दिया। क्या वह लोग हमारा विकास होने देंगे? कॉंग्रेस पार्टी का संस्थापक ही अंग्रेज था । जिसका नाम Allan Octavian  था और यह एक अंग्रजी पार्टी है। इन्होंने हमारी भावनाओं के साथ धोखा करके हमे देश विरोधी नीतियों में उलझा जन्नत

न Z दिया जिसके चलते आज तक हम विकासशील होने में बाध्य रहे। देश का विकास करने की जगह हमारे देश को गर्त में ले जाने वाली पार्टी कॉंग्रेस पार्टी  आप अंदाजा लगा सकते हैं कि ये लोकतंत्र है और लोकतंत्र में परिवारवादी राजनीति करना कॉंग्रेस पार्टी कैसे देश का विकास करेगी। 

सोनिया गांधी ये नाम बदल कर रखा भारतीयों की भावनाएं के साथ खेलने के लिए जबकि इनका असली नाम Antonia Maino  है। देश का विकास कैसे होगा?(desh ka vikas kaise hoga)

 इन्होंने अपने देश को लूट कर इटली में विकास किया।

 साथ ही इनकी बेटी प्रियंका गांधी  जिसने भी विदेशी आदमी रॉबर्ट बदरा   से शादी की। आप सोचिए क्या भारत में कोई अच्छा व्यक्ति नहीं था? इस पार्टी का कार्य सिर्फ देश को लूटने का धर्म के नाम पर बांटने का है। सोनिया गांधी ने दुनिया भर की संपत्तियां रॉबर्ट बदरा को दी है जिसका कोई लेखा जोखा भी नहीं है। जाने कितने ही ऐसे मुद्दे है जो सबूत है इस पार्टी ने देश को खोखला किया है।

 अब ऐसे लोगों को देश की बाघ डोर देके भारत देश कभी विकसित नहीं हो सकता है। अगर आप देश का विकास चाहते हैं तो कॉंग्रेस को छोड़कर किसी भी पार्टी का समर्थन करे और कॉंग्रेस नाम की दीमक को देश से बाहर फेंक दे। देश का( BHARAT desh ka vikas kaise hoga)

 विकास करने के लिए आपको देश के सभी लोगों को ज्यादा ज्यादा से कॉंग्रेस का सच बताना है। देश का विकास कैसे होगा?( BHARAT desh ka vikas kaise hoga)

3)गरीबी के आधर पर आरक्षण :

आरक्षण
आरक्षण

 दोस्तों भारत में आरक्षण जब लागू हुआ उस समय अनुसूचित जनजाति और अन्य पिछड़ा वर्ग के लोग काफी अशिक्षित और पीछे थे  और इसी कारण से बाबा साहब अम्बेडकर ने और नेताओं ने रोजगार में आरक्षण दिया जो कि एक सीमित अन्तराल तक लागू रहना था। 

आज के समय में यही आरक्षण भारत देश के विकास में रोड़ा बन रहा है। भारत के लिए आरक्षण एक धीमा जहर बन गया है। कॉंग्रेस पार्टी ने कभी इसे हटाने पर विचार नहीं किया क्युकी इसी आड़ में उनकी जातिवादी राजनीति फल फूल रहीं थीं। देश को गर्त में धकेलने वाला आरक्षण जाति नहीं ब्लकि आर्थिक स्थिति के अनुसार देना चाहिए था।  ( BHARAT desh ka vikas kaise hoga)

जातिवादी आरक्षण की वज़ह से गरीब और गरीब और अमीर और अमीर होता जा रहा है। 

ज्यादा पढ़ा लिखा व्यक्ति बेरोजगार घूम रहा है और जो योग्यता में कमजोर है फिर भी ऊँचे और बड़े पद पर नियुक्त है। इसका साफ़ नुकसान है जब जिम्मेदारियों वाले पदों पर बैठे लोग ही योग्य नहीं है तो देश का विकास सम्भव नहीं है।( BHARAT desh ka vikas kaise hoga)

आरक्षण सिर्फ आर्थिक स्थिति के अनुसार दिया जाना चाहिए परंतु राजनीतिक पार्टियाँ अपने निजी फायदों के लिए देश को पीछे कर रही है। 

बाबा साहेब अम्बेडकर और बाकी वरिष्ठ नेताओं ने यह सहमति बनाई थी कि एक निश्चित अवधि के बाद जातिवादी आरक्षण हटा दिया जाएगा। 

सच्चे देश प्रेमी आज की तारीक में आरक्षण के ख़िलाफ़ है इसके बाबजूद भी राजनैतिक दलों का कोई रुख नहीं है। क्युकी देश की एक बड़ी आबादी अनुसूचित और पिछड़ा वर्ग में आती है अगर आरक्षण हटाया गया तो उन्हें डर है कि आरक्षण नहीं दिया तो वोट नहीं मिलेगे।  ( BHARAT desh ka vikas kaise hoga)

आज का युवा वर्ग शिक्षित होता जा रहा है वह अपनी मेहनत से सफलता प्राप्त कर सकते है आरक्षण देश के युवाओ के विकास में अवरोध है। अगर हमे भारत का विकास करना है तो आरक्षण का विरोध करना ही पड़ेगा भले ही आप किसी जाति समुदाय से हो। देश हित सर्वोपरि राजनीतिज्ञ लोगों को सच्चाई से रूबरू कराया जाए कि हमे कोई लालच नहीं देश का विकास चाहिए। 

4) किसानों का मजबूती से विकास :

 किसानों का मजबूती से विकास
किसानों का मजबूती से विकास

भारत एक कृषि प्रधान देश है। भारत की अर्थव्यवस्था का काफी बड़ा हिस्सा कृषि क्षेत्र से संचालित होता है। ऐसे में भारत के किसान सशक्त हो आत्मनिर्भर हो यह सबसे जरुरी बात हो जाती है। देश के विकास के लिए हमारा किसान मजबूत होना चाहिए बिना किसानो के विकास के बिना देश का विकास बिल्कुल भी सम्भव नहीं है।

 मुख्य रूप से हमे छोटे किसानो की आवाज को उठाना चाहिए ताकि सरकार उनकी मदद कर सके। सरकार को किसानो के लिए नई नई विकासशील योजनाएं निकालनी चाहिए।

 हर भारतीय किसान को सूखा प्रभावित क्षेत्रों के लिए और अन्य आपदाओं से प्रभावित क्षेत्रों के किसानों को पूरा मुआवजा देना चाहिए।किसानो द्वारा लिए गए कर्जों को माफ़ कर देना चाहिए। कॉंग्रेस के शासन काल में तमाम किसानों ने आत्महत्या की और आज भी कर रहे है। हमे जरूरत है देश को आजादी भ्रस्टाचार मुक्त सरकार दिलाने की और देश का विकास कराने की।( BHARAT desh ka vikas kaise hoga)

  हम दुनिया का कोई भी विकसित देश देख ले वहाँ किसानों के लिए सरकार किसानों को हर सम्भव मदद मुहैया कराती है। देश में खाद्य पदार्थों की कीमत में बढ़ोतरी ना हो इसलिए हमे कृषि उत्पादन को बेहतर बनाने के लिए पूरा प्रयास करना चाहिए।( BHARAT desh ka vikas kaise hoga)

 किसानों को उनकी उपज और मेहनत का पूरा पैसा मिलता है तभी किसान संपन्न होगा। एक बार किसान संपन्न हो जाता है तो हमारे देश का विकास कोई नहीं रोक सकता। 

भारत का किसान दुनिया का सर्वश्रेष्ठ किसान है अगर उसको ज़रा सी मदद मिल जाए तो वह देश को विकसित करने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। 

“विकसित किसान विकासशील देश की पहचान” 

5)विदेशी उत्पादों का बहिष्कार : 

भारत देश का विकास कैसे होगा?2012 || BHARAT DESH KA VIKAS KAISE HOGA?||

विश्व बाजार में जो देश सबसे ज्यादा निर्यात करते हैं उन्हें विकसित देशों में शामिल किया जाता है। हालाकि भारत भी एक बड़ा निर्यातक देश है। भारत का उत्पाद भारतीय बाजारो में लोग नहीं खरीदते जिसकी वज़ह से छोटे उद्योगों की और व्यापरियों को सही मुनाफा नहीं होता और इसका प्रभाव देश की अर्थव्यवस्था पर साफ़ तौर से देखा जा सकता है।( BHARAT desh ka vikas kaise hoga)

देश के व्यापार को बढ़ावा देने के लिए और और स्वदेशी उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए मौजूदा सरकार तमाम प्रयास कर रहीं हैं। 

हाल ही में योजना निकाली गयी  मेक ईन इंडिया जिसके लिए भारत में स्वदेशी तकनीक से बने उत्पादों को भारतीय बाजार में उतारा गया। देश के विकास में योगदान देने के लिए हमे स्वदेशी उत्पादों का ईस्तेमाल करना होगा और विदेशी उत्पादों का बहिष्कार करना पड़ेगा। 

हमारा देश तभी आत्मनिर्भर होगा जब हमारे लोग (हिन्दुस्तानी नागरिक) स्वदेशी उत्पादों का पूर्ण उपयोग करेगे।  ( BHARAT desh ka vikas kaise hoga)

सरकार को छोटे व्यापारियों को बढावा देना होगा और इस क्षेत्र में सरकार कार्य कर रही है। हमारे देश का व्यापारी वर्ग अगर सक्षम होगा तो देश की अर्थव्यवस्था मज़बूत होगी और देश का विकास होगा। 

अगर हमारी भारतीय कंपनी देश में उत्पादन करेंगी तो हमारे देश के लोगों को रोजगार भी मिलेगा जिससे भारतीय अर्थव्यवस्था पर काफी अच्छा प्रभाव पड़ेगा। 

6) बेरोजगारी हटाओ अभियान :

 रोज़गार के बिना विकास सम्भव नहीं सरकारों का प्रयास रहना चाहिए कि देश में बेरोजगारी कम हो। और जिनके पास रोजगार नहीं सरकार उनके लिए निश्चित रूप से रोजगार गारंटी अधिनियम के प्रावधानों के अंतर्गत रोजगार मुहैया कराए। 

जैसी योग्यता वैसा रोजगार सरकार को ध्यान देना चाहिए कि योग्यता के अनुसार ही रोजगार के पदों को आबंटित करवायें।हमारा इसमे मुल्य कर्तव्य है कि हमे बिल्कुल भी बेरोजगार नहीं रहना है कम से कम हमे अपना खुद का खर्चा हर कीमत पर उठाना चाहिए।  ( BHARAT desh ka vikas kaise hoga)

भारतीय युवा मेहनतकश और तार्किक रूप से मजबूत होना चाहिए। बिस्तर पर पड़े पड़े देश के विकास में आप कोई योगदान नहीं कर सकते। आप चाहते है देश आगे बड़े विकास करे तो पहले आपका कर्तव्य है कि आप अपना खुद का विकास करे।  ( BHARAT desh ka vikas kaise hoga)

सरकार नौकरी दे या ना दे रोजगार तलाशना हमारी खुद की जिम्मेदारी है। हालांकि सरकार इसमे हमारी मदद करती है। अपनी काबिलियत दिखाओ और देश का विकास करो देश का नाम ऊँचा करो। 

7)नशा मुक्त भारत :

नशा मुक्त भारत
नशा मुक्त भारत

हमारे पड़ोसी देशों की साज़िश हमेशा से हमे नीचे गिराने की रही है। यही कारण है कि वह नशीले और मादक पदार्थों की तस्करी भारत में करते है। उनका पूरा टार्गेट भारतीय युवाओ पर है वह आने बाली नस्ल बेकार करना चाहते हैं( BHARAT desh ka vikas kaise hoga)

 नशा हमारे देश के युवाओ को खोखला कर रहा है। उनके अंदर राष्ट्र के प्रति कोई सम्वेदना और प्यार नहीं रह जाता और ऐसे लोग कुछ करने लायक भी नहीं रहते वह बस अराजकता और अपराधी गतिविधियों में लिप्त होने लगते हैं। 

भारत का युवा ऐसी साजिशों को डटकर सामना करेगा। ज्यादातर नशीले पदार्थ पाकिस्तान और अफगानिस्तान, बांग्लादेश और चाइना से भारत में आते है। भारतीय सरकार को इनके लिए और सक्त नियमों का गठन करना चाहिए। 

नशे में लिप्त युवा भारतीय विकास में बहुत बड़ा संकट है हमे इस नशे की जंग से लड़ना होगा इससे बाहर निकलना होगा इसका विरोध करते हुए लोगों को इसके प्रति ज्यादा से ज्यादा जागरूक करना होगा।  (desh ka vikas kaise hoga) 

हमारा युवा नशा मुक्त होगा तभी भारत विकसित होगा। “नशा नाश की सीडी है” यह इसलोगन युवाओ के बीच अब काफी मशहूर हो रहा है। नशा मुक्त भारतीय युवा भारत के विकास में सहायक सिद्ध होंगे। 

8)कुरीतियों का खंडन और सामाजिक विकास : 

कुरीतियों का खंडन
कुरीतियों का खंडन

देश का विकास समाज के विकास से संबंधित है। हम सभी जानते हैं भारत में कई तरह के धर्मों समाज के लोग एक साथ रहते हैं। जिनके अपने अपने धार्मिक विश्वास है। और धार्मिकता हमे काफी कुछ आचरण सिखाती है पर इसके साथ ही समाज के असमाजिक तत्वो के द्वारा कुछ कुरीतियों का निर्माण कर गए जिनका आज भी भारत के लोग निर्वहन करते है। हमे जागरूक होने की जरुरत है धर्म के नाम पर देश के टुकड़े नहीं हो सकते।  ( BHARAT desh ka vikas kaise hoga)

समाज की कुरीतियों का पूर्ण रूप से समाप्ति के बाद ही भारत का विकास सम्भव होगा। सरकार इस क्षेत्र में काफी कानून बना चुकी है पर फिर लोगों के शिक्षित और जागरूक ना होने के कारण वह अंध विश्वास में गलत कार्य करते है। ( BHARAT desh ka vikas kaise hoga)

 हमे लोगों को जागरूक करना चाहिए और सही गलत में खुद फर्क समझना चाइये कोई धर्म या धर्मिक किताब आपको कुरीतियों पर बिस्वास करने की अनुमती नहीं देती। देश का विकास समाज के विकास के साथ है। 

9)महिला सशक्तिकरण :

महिला सशक्तिकरण
महिला सशक्तिकरण

भारतीय नारी बेहद मजबूत और हर परिस्थित से लड़ने के लिए तैयार है। हालांकि इतिहास में महिलाओं को उनके हक्क से वंचित रखा गया है। पर आज का भारत महिलाओ को बराबर अधिकार दे रहा है। सरकार के साथ प्रत्येक व्यक्ति का यह कर्तव्य बनता है कि महिलाओं के हित के लिए वह आगे आए।महिलाये सशक्त होंगी और मर्दों के कंधों से कंधे मिलाकर कार्य करेगी तो देश का विकास दोगुनी तेजी से होगा। ( BHARAT desh ka vikas kaise hoga)

 मौजूदा सरकार ने महिलाओं के लिए कई योजनाएं बनाई है। जिनके चलते महिलाओं को मजबूत बनाने के लिए उन्हें कई फायदे दिए जा रहे हैं। 

महिलाये भारत के भीतर एक बड़ी ताकत के साथ उभर कर सामने आयी है। हर क्षेत्र में महिलाओ को आरक्षण मिलना चाहिए और काफी हद तक भारतीय महिला सशक्त हुयी है। देश का दुर्भाग्य है कि आज भी देश के कुछ हिस्सों में जहा लोग जागरूक और शिक्षित नहीं है वहाँ महिलाओ के साथ अच्छा व्यवहार नहीं होता।( BHARAT desh ka vikas kaise hoga)

 उन्हें पैदा होते ही मार दिया जाता है। साथ ही उन्हें कई कुरीतियों से गुजरना पड़ता है।सरकार ने कानून बनाए है और इनपर कार्यवाही भी होती है पर फिर भी भारत अन्य देशों के मुकाबले महिला सशक्तिकरण में काफी पीछे है।

 हालांकि महिलाओं के सशक्तिकरण में विकास होता जा रहा है। 

देश के विकास के लिए हमे महिलाओ का समर्थन करते हुए लोगों को ज्यादा से ज्यादा जागरुक करना होगा। तभी देश का विकास सम्भव है। 

10) मजबूत सैन्य सुरक्षा : 

मजबूत सैन्य सुरक्षा
मजबूत सैन्य सुरक्षा

भारतीय सेना दुनिया की सबसे बड़ी और मजबूत सेनाओं में आती है। किसी भी देश के लिए सुरक्षा सबसे महत्पूर्ण मुद्दा होता है। आप देश का विकास करे कुछ भी अगर और अगर आप सुरक्षित ही नहीं है? आपकी सेना ही कमजोर तो उस देश को विकसित देशों में नहीं गिना जा सकता है। 

मजबूत सैन्य ताकत एक विकासशील देश की निशानी है। कॉंग्रेस के सासन काल में जब नेहरू प्रदान मंत्री थे भारत उस समय चाइना से 1962 का युद्ध हार गया था। ( BHARAT desh ka vikas kaise hoga)

कारण साफ़ था उस समय हमारी सेना मजबूत नहीं थी उसके पास अच्छे हथियार और संसाधन नहीं थे जिससे वह दुश्मन का सामना कर सके। वही अगर आज के भारत की बात की जाए तो भारतीय सीमा बल काफी मुस्तैद और मजबूत है। 

भारतीय सेना आज मोदी जी के सासन में इतनी मजबूत है कि दुनिया की किसी भी सेना को लोहा मन बा सकती है। मोदी जी ने देश की सुरक्षा पर खास ध्यान दिया है उन्होंने भारतीय सेना को मजबूत करने के लिए कई उपाय निकाले और कई सैन्य उपकरण मुहैया करवाये। ) ( BHARAT desh ka vikas kaise hoga)

देश की सुरक्षा मजबूत है तभी देश विकास कर पाएगा अन्यथा कोई भी विदेशी आक्रमण करके लूट ले जाएगा जैसे इतिहास में होता आया है। 

आज का भारत विकासशील है और इस मार्ग पर अग्रसर है। “विकसित सेना विकास शील देश” 

11) भ्रस्टाचार के खिलाफ आवाज उठाए :

भ्रस्टाचार के खिलाफ आवाज उठाए
भ्रस्टाचार के खिलाफ आवाज उठाए

 भ्रस्टाचार भारत की सबसे बड़ी चुनौती है। यह एक ऐसी समस्या है जिसको सिर्फ सरकार सही नहीं कर सकती। अगर आप देश से प्रेम करते है तो आपको इसके खिलाफ अपनी आवाज मजबूत करके सरकार तक पहुंचानी होगी। भ्रष्टाचारी देश को खोखला कर रहे है।

 सरकार देश के लोगों के विकास के लिए तमाम योजनाएं निकालती है और वह सहायता गरीब व्यक्ति तक पहुचने से पहले ही सरकारी पदों पर बेटे भ्रष्टाचारी लोग खा जाते है। 

ऐसे लोगों के ख़िलाफ़ हमे खुल कर विरोध दिखाना चाहिए इन्हें एक्सपोज कीजिए और इन्हें इसकी सज़ा मिलनी चाहिए।  ( BHARAT desh ka vikas kaise hoga)

भ्रस्टाचार इसलिए होता है क्युकी हम जागरूक नहीं है। जब हम शिक्षित और जागरूक होंगे तो भ्रस्टाचार खुद खत्म हो जाएगा। 

हमे भ्रस्टाचार के ख़िलाफ़ एक बड़ी जंग लड़नी है। और दे( BHARAT desh ka vikas kaise hoga)

श को इस से बाहर निकालना है। देश का विकास भारत का विकास भ्रस्टाचार को हटा कर ही है। 

12)स्वास्थ्य व्यवस्था में सुधार : 

स्वास्थ्य व्यवस्था में सुधार
स्वास्थ्य व्यवस्था

प्रति हजार बच्चों में 5 साल या उससे कम उम्र के वो कुपोषित बच्चे जिनकी म्रत्यु हो जाती है। 

कुछ आकड़े इस प्रकार है :

 बांग्लादेश

 77

 ब्राज़िल

 36

 चीन

 09

 मिस्र

 मेक्सिको

 29

 नाइजीरिया

 183

 पाकिस्तान

 109

 41

 भारत

 93

 इंडोनेशिया

 45

देश का विकास प्रति व्यक्ति स्वास्थ के आधर पर मापा जाता है। भारत इस मामले में काफी पीछे है। भारत के भीतर स्वास्थ्य विभागों का काफी विकास करने की जरूरत है। भारत के भीतर कुपोषित लोगों की संख्या काफी ज्यादा है। 

जब तक हमारे नागरिक पोषित नहीं होते तब तक भारत विकास नहीं कर सकता। सरकार कार्य कर रही है। भारतीय स्वास्थ विभागों के लिए कुछ नए कानून लागू करना चाहिए ताकि स्वास्थ संबंधित विभागों को और बेहतर ढंग से संचालित किया जाए। 

भारत में सबसे ज्यादा कुपोषण मध्य प्रदेश में है। भारत के हर गाँव कस्बे में स्वास्थ अस्पताल होना जरूरी है। भारतीय बचे कुपोषण का शिकार हो रहे है आखिर क्यु? सरकार को ऐसे क्षेत्रों में विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। हमे सरकार को ऐसे हालातों से रुबरु कराना चाहिए। 

अपने स्वास्थ और अपने आसपास के लोगों को स्वस्थ रहने की सलाह देना चाहिए। “हम स्वस्थ्य तो देश स्वस्थ्य”

Also Read : mutual funds kya hai aur kaise kaam karta ha

13)स्वतंत्र मीडिया :

स्वतंत्र मीडिया
स्वतंत्र मीडिया

किसी भी देश के विकास में मीडिया का बड़ा योगदान होता है। सच को दिखाना मीडिया का काम है और सरकार को इन्हें स्वतन्त्र रूप से अपने कार्य करने की आज़ादी देनी चाहिए। मीडिया जनता का संबंध काफी महत्वपूण्र होता है। जनता मीडिया को सच समझती है और इसके लिए जरुरी है कि मीडिया ईमानदारी से अपने कर्तव्यों को निभाए। 

भारत का संविधान मीडिया को स्वतंत्र खबरों का प्रसारण करने का अधिकार देती है और सरकार को इसकी गरिमा बनाए रखनी है। 

दोस्तों भारत एक विकासशील देश है इसको विकसित करने के लिए हमे कई प्रयास करने होंगे। भारत के विकास में सबसे बड़ा सहयोग इसमे आपकी शिक्षा से होगा। देश के प्रति ईमानदारी और देश भक्ति होना भी देश को मज़बूत बनाता है। आपको सही मायनों में देश का विकास करना है तो आप इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा शेयर करके भी कर सकते हैं।

 यह आपकी देश भक्ति दर्शाता है। लोगों को जागरूक करना आपका कर्तव्य है मैंने अपना कर्तव्य पूरा किया अब आपको यह लेख ज्यादा से ज्यादा शेयर करना है ताकि यह जरूरी जानकारी सबको मिल पाए। 

देश के लोगों को जागरूक करके ही हम देश का असली विकास करने में सक्षम हो सकते है। इसमे आपको हर तरह से प्रयास करना होगा। उम्मीद है आप इसको शेयर करके देश के विकास में सहायक यह कार्य जरूर करेगे। 

हम जानते हैं कि विकास आर्थिक, राजनीतिक, सामाजिक और धार्मिक उत्थान का कुल योग है।  जब हर कोई एक विकसित राष्ट्र का सपना देखेगा और हर छोटा कदम भारत को विकास की ओर ले जाएगा तो क्या देश उसकी जीत पर मुस्कुराएगा। देश का विकास कैसे होगा?(desh ka vikas kaise hoga)

 उम्मीद है आप इस  देश का विकास कैसे होगा?(desh ka vikas kaise hoga)

जानकारी को सार्वजनिक रूप से शेयर जरुर करेगे ये देश की बात है। आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। लेख से संबंधित शिकायत और सुझाव नीचे कमेन्ट box में या हमे मेल करके दर्ज करा सकते हैं। 

जय हिंद।। धन्यावाद

Also Read : share market kya hai aur kaise kaam karta hai

By Nihal chauhan

मैं Nihal Chauhan एक ऐसी सोच का संरक्षण कर रहा हू, जिसमें मेरे देश का विकास है। में इस हिंदुस्तान की संतान हू और मेरा कर्तव्य है कि में मेरे देश में रहने वाले सभी हिंदुस्तानियों को जागरूक करू और हिंदी भाषा को मजबूत करू। आपके सहयोग की मुझे और हिंदुस्तान को जरुरत है कृपया हमसे जुड़ कर हमे शेयर करके और प्रचार करके देश का और हिंदी भाषा का सहयोग करे।

One thought on “भारत देश का विकास कैसे होगा? 2021 || BHARAT Desh Ka Vikas Kaise Hoga?||top best 13 REASONS How will India develop?”

Leave a Reply

Your email address will not be published.