Duniya ke Sabse Bade parmanu bomb आज दुनिया के हालात यह है कि हर देश खुद को फ़ौलादी बनाने के लिए प्रकृति और दुनिया को नुकसान पहुंचाने के लिए तैयार है। दुनिया का हर देश आत्म सुरक्षा के नाम पर बड़े बड़े परमाणु बम बनाकर तैयार कर रहा है। ऐसे में यह सिलसिला कबसे जारी हुआ और किस हद तक पहुंचा यह आपको जानना चाहिए। 

दुनिया का सबसे घातक और खतरनाक हथियार परमाणु बॉम्ब को ही माना जाता है और दुनिया की हर बड़ी सेना के पास यह हथियार उपलब्ध है। ऐसा कोई भी हथियार नहीं है जो परमाणु बॉम्ब की तरह तबाही मचाने की क्षमता हो जैसा कि आपने किन्ही न्यूज चैनल में मशरूम के आकार का धमाका देखा होगा। (Duniya ke Sabse Bade parmanu bomb)

यह भी पढ़े :दुनिया के 10 सबसे पुराने स्कूल | Duniya Ke Sabse Purane School | OLDEST SCHOOLS

आज हम आपको ऐसे ही परमाणु बॉम्ब के बारे में बतायेंगे। दुनिया का सबसे बड़ा परमाणु बॉम्ब आखिर कितना बड़ा हो सकता है शायद आपने इसकी कल्पना ही ना कि हो। इसीलिए आज हम आपको दुनिया के 10 सबसे बड़े परमाणु बम के बारे में बतायेंगे और उनसे जुड़े कुछ दिलचस्प तथ्यों को जानेंगे। 

10. Mk-14 / TX-14

अधिकतम yield : 6.9Mt

आकार : 18 फीट 5 इंच

वजन: 31,000 पाउंड

निर्माण की तिथि: 1954

Duniya ke Sabse Bade parmanu bomb

Source: wikimedia.org

दुनिया का पहला ठोस-ईंधन वाला हाइड्रोजन मार्क 14 बम था। यह बम का एक और  प्रयोगात्मक डिजाइन था।  इस तरह के सिर्फ 5 बॉम्ब बनाए गए थे। उन 5 में से कई का उपयोग कैसल यूनियन परीक्षण के दौरान  विस्फोट कर दिए गए थे। जब Mark 14 को बनाए हुए  दो साल बीत गए , तब इस सीरीज के अंतिम बॉम्ब के रूप में शेष MK 14 को MK 17 में तब्दील किया गया था।(Duniya ke Sabse Bade parmanu bomb)

क्या आप जानते है? 

मार्क 14 बॉम्ब की डेटोनेशन डिवाइस को “अलार्म क्लॉक” का नाम दिया गया था। हालांकि, इस नाम से उसका कोई सैद्धांतिक संबंध नहीं था। 

यह भी पढ़े :दुनिया की 10 सबसे खतरनाक जानलेवा बीमारियाँ | SABSE KHATARNAK BIMARIYAN | 2021

9. Mk-16 (TX-16/EC-16) परमाणु बम 

अधिकतम yield –  7mt

आकार – 24 फुट 8 इंच 

वजन – 42,000 पाउन्ड 

कब बनाया गया – 1954

आम तौर पर इस परमाणु बम को Mark 16 के नाम से जाना जाता है जबकि इसका आधिकारिक नाम Mk-16 इसके नाम के पीछे TX-16/EC-16 इसलिए लगाया गया है क्योंकि इसका निर्माण आपातकालीन और प्रयोगात्मक परिस्थिति में हुआ था। (Duniya ke Sabse Bade parmanu bomb)

TX-16 एकलौता ऐसा तैनात परमाणु बॉम्ब है जिसमें cryogenic liquid deuterium fusion ईधन का उपयोग किया गया है। हालांकि अब यह बॉम्ब retire हो गया है और इसकी जगह अब ठोस परमाणु ईधन वाले हथियारों ने ले ली है। 

क्या आप जानते है? 

यह बॉम्ब उस समय के सबसे खतरनाक बॉम्ब में से एक था और बाद में इसमे कई बदलाव किए गए थे। 

यह भी पढ़े :दुनिया की 10 ऐसी जगह जहां फोटो खींचना कानूनी अपराध है | 2021

8. B53 (Mk-53) 

अधिकतम yield : 9Mt

लंबाई: 12 फीट 6 इंच

वजन: 8,850 पाउंड

कब बनाया गया : 1958

Duniya ke Sabse Bade parmanu bomb

Source: wikimedia.org

यह thermonuclear बॉम्ब इतना खतरनाक है कि यह अपने साथ पूरा शहर तबाह करने की क्षमता रखता है। समय के साथ जब परमाणु वैज्ञानिकों को ऐसा लगा कि इसका बना रहना सुरक्षित नहीं है तो 1987 में इसको retire कर दिया गया।  B 53 बॉम्ब का आखिरी हिस्सा 2011 तक भी खत्म नहीं हो पाया था। (Duniya ke Sabse Bade parmanu bomb)

क्या आप जानते है? 

यह खतरनाक बॉम्ब B53  दुनिया के सबसे पुराने परमाणु बम में से एक था। 

यह भी पढ़े :ये है, 2021 में दुनिया की सबसे आधुनिक तकनीकें | TOP 10 NEW TECHNOLOGIES IN 2021

7. Mk-36 परमाणु बम 

अधिकतम yield : 10Mt

लंबाई: 150 इंच

वजन: 17,700 पाउंड

कब बनाया गया : 1957

Duniya ke Sabse Bade parmanu bomb

Source: wikimedia.org

पहले बनाया गया मार्क 22 बॉम्ब का और खतरनाक और  उन्नत संस्करण। यह बॉम्ब बहुत ही शक्तिशाली मार्क 36 को विस्फोट कराने से पहले सुरक्षित दूरी तक पहुंचने के लिए विमानों को ज्यादा समय देने के लिए इसको दो पैराशूट लगाकर उतारा गया था। ताकि सभी विमान सुरक्षित स्थानो पर पहुच सके। (Duniya ke Sabse Bade parmanu bomb)

क्या आप जानते है? 

कुल 940 Mk-36 परमाणु बम में से 275 bombs को mk-21 में तब्दील कर दिया गया था। असल में यह सारे बॉम्ब Mk-21 पर ही आधारित थे। 

यह भी पढ़े :दुनिया के सबसे बड़े पानी के जहाज | LONGEST SHIPS IN THE WORLD | TOP 10 SHIPS 2021

6. Sausage” Ivy Mike H-Bomb

अधिकतम yield : 10.4Mt

आकार : 24 फीट 7 इंच

वजन: 42000 पाउंड

निर्माण तिथि: 1952

Duniya ke Sabse Bade parmanu bomb

 Source: flickr.com

Teller–Ulam staged fusion device का पहला पूरा टेस्ट आइवी माइक डेटोनेशन था। Ivy Mike के टेस्ट के दौरान  विस्फोटित उपकरण का नाम “द सॉसेज” रखा गया था और यह अब तक का परीक्षण किया गया पहला true hydrogen bomb था। (Duniya ke Sabse Bade parmanu bomb)

इसको बनाने के पीछे सॉसेज के आकार और दक्षता के स्तर का मतलब था कि इसका मुख्य उद्देश्य बस अवधारणाओं के प्रमाण के रूप में काम करना था, न कि यह एक बड़े हथियार के रूप में इस्तेमाल किया जाए ।

क्या आप जानते है? 

उस समय, जब इस परमाणु बॉम्ब का विस्फोट किया गया तब यह दुनिया का सबसे खतरनाक धमाका था। 

यह भी पढ़े :TOP 15 दुनिया के सबसे बड़े कुत्ते | MOST BIGGEST DOGS IN THE WORLD | 2021

5. Mk 24/B-24 

अधिकतम yield : 10Mt से 15Mt

आकार : 24 फीट 6 इंच

कुल वजन : 41,400 – 42,000

निर्माण की तिथि: 1954

 Castle Yankee test के परिणामों के आधार पर बनाया गया thermonuclear बॉम्ब दुनिया के सबसे खतरनाक परमाणु बॉम्ब में से एक था। अमेरिका में किए गए तीसरे थर्मोन्यूक्लियर बम परीक्षण में इसका विस्फोट किया गया और उस समय यह अबतक के सभी बॉम्ब की तुलना में अधिक खतरनाक था। (Duniya ke Sabse Bade parmanu bomb)

क्या आप जानते है? 

हालांकि इस बॉम्ब का डिजाइन काफी कुछ Mk 17 जैसी थी। MK 24 के डिजाइन में शामिल पैराशूट का diameter 64 फीट था।

यह भी पढ़े :दुनिया के 25 सबसे खतरनाक जानवर | (TOP 25)DUNIYA KE SABSE KHATARNAK JANWAR

4. Mk-17/EC-17

अधिकतम yield : 10Mt से 15Mt

लंबाई: 24 फीट 6 इंच

वजन: 42,000 पाउंड

निर्माण की तिथि: 1954

Duniya ke Sabse Bade parmanu bomb

Source: wikimedia.org

अमेरिका में बने अन्य दो परमाणु बम जिन्हें विमान से गिरना मुश्किल था वही मार्क 17 अमेरिका द्वारा उत्पादित पहला ऐसा बॉम्ब था जिसे आसानी से एक विमान से गिराया जा सकता था।  (Duniya ke Sabse Bade parmanu bomb)

MK 17 संयुक्त राज्य में बनाया जाने वाला सबसे भारी थर्मोन्यूक्लियर हथियार था। अमेरिका द्वारा बनाए गए यह बम इतने भारी थे कि उन्हें पहुंचाने वाले पायलटों ने महसूस किया कि जब उन्होंने बॉम्ब को उतारा उसके बाद वह और ज्यादा ऊपर उड़ सके। 

क्या आप जानते है? 

अमेरिका द्वारा करीब 200 MK 17 बॉम्ब का उत्पादन किया गया था। 

3. TX-21 “Shrimp” (Castle Bravo)

अधिकतम yield : 14.8Mt

आकार : 12 फीट 6 इंच

वजन: 15,000 पाउंड

कब बनाया : 1954

Duniya ke Sabse Bade parmanu bomb

Source: wikimedia.org

संयुक्त राज्य अमरीका में बनाया गया Mk 21 परमाणु गुरुत्वाकर्षण बम TX-21 “झींगा (Castle) ” प्रोटोटाइप पर आधारित था इसका उपयोग “Castle bravo” नामक एक विस्फोट टेस्ट के दौरान हुआ था । अमेरिका में सबसे बड़ा विस्फोटक बॉम्ब Mk  21 वाला अमेरिकी विस्फोट है।(Duniya ke Sabse Bade parmanu bomb)

क्या आप जानते है? 

वैज्ञानिकों द्वारा इस बॉम्ब को फटने के बारे में कुछ गलत अंदाज़े लगाएं थे उनके अनुमान के उल्टा यह बॉम्ब बहुत ज्यादा विस्फोटक निकला था।  नतीजतन, बिकनी एटोल  का पूरा पूर्वी हिस्सा रेडियोधर्मी (nuclear radiation) रूप से दूषित हो गया।

यह भी पढ़े :दुनिया के 10 सबसे खतरनाक देश | DUNIYA KE SABSE KHATARNAK DESH | 2021

2. B41 परमाणु बॉम्ब 

अधिकतम yield : 25Mt

लंबाई: 12 फीट 4 इंच

वजन: 10,690 पाउंड

निर्माण की तिथि: 1955

Duniya ke Sabse Bade parmanu bomb

Source: wikimedia.org

संयुक्त राज्य अमेरिका द्वारा बनाया गया यह परमाणु बम सिर्फ तीन चरणों में तैयार होने वाला थर्मोन्यूक्लियर हथियार था। अमेरिका के इस बॉम्ब को पूरे देश का सबसे बड़ा और खतरनाक बॉम्ब माना जाता है। 

दुनिया भर में यह परमाणु बॉम्ब अपने आकार के लिए प्रसिद्ध है। यह बॉम्ब अपने आकार और धमाके में दुनिया के सभी Bombs को पीछे कर देता है।   B41 अपने समय का सबसे कुशल बम था।(Duniya ke Sabse Bade parmanu bomb)

क्या आप जानते है? 

B41 परमाणु बम की एक खासियत यह भी है कि यह दो बड़े धमाके कर सकता है और यह इस बात पर निर्भर करता है कि इसको दागा कैसे जाता है। 

यह भी पढ़े :भारत की सबसे अजीबो-गरीब चीजें जो सिर्फ भारत में ही हो सकती है। Top 20

1.Tsar Bomba (RDS-220 hydrogen bomb)

अधिकतम yield : 50Mt

आकार : 26 फीट

वजन: 60,000 पाउंड

कब बनाया गया : 1961

Duniya ke Sabse Bade parmanu bomb

Source: wikimedia.org

दुनिया का सबसे बड़ा परमाणु बम RDS-220 हाइड्रोजन बम है। ,  यह आश्चर्यजनक थर्मोन्यूक्लियर बम USSR द्वारा दुनिया में सबसे बड़ा परमाणु हथियार बनाने के लक्ष्य के साथ बनाया गया था। इस समय भी यह अबतक का  सबसे शक्तिशाली विस्फोटक का रिकॉर्ड रखता है।(Duniya ke Sabse Bade parmanu bomb)

क्या आप जानते है? 

इस बॉम्ब के टेस्ट को सुरक्षित रूप से करने के लिए बहुत जद्दोजहद से गुजरना पड़ा था। कोई ऐसी खाली और निर्जन जगह की तलाश मुश्किल थी जहाँ इस खतरनाक परमाणु बम का परीक्षण किया जा सकता था। 

यह भी पढ़े :10 गरीबी के लक्षण और आदतें जो बताते है, कि व्यक्ति की परवरिश गरीबी से हुयी है।

By Nihal chauhan

मैं Nihal Chauhan एक ऐसी सोच का संरक्षण कर रहा हू, जिसमें मेरे देश का विकास है। में इस हिंदुस्तान की संतान हू और मेरा कर्तव्य है कि में मेरे देश में रहने वाले सभी हिंदुस्तानियों को जागरूक करू और हिंदी भाषा को मजबूत करू। आपके सहयोग की मुझे और हिंदुस्तान को जरुरत है कृपया हमसे जुड़ कर हमे शेयर करके और प्रचार करके देश का और हिंदी भाषा का सहयोग करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.