Duniya Ki Sabse Jayda Bheed आपके अनुमान में सबसे अधिक भीड़ कब इक्कठी हुयी होगी? लोगों की बहुत ज्यादा तादाद भीड़ रूप ले लेती है। आमतौर पर किसी उत्साही त्यौहार पर या किसी खास अवसर पर भीड़ लगना समान्य और काफी रोमांचक होता है पर क्या आपको पता है दुनिया में कई बार भीड़ लगना खतरनाक रूप धारण कर लेता है फिर अत्याधिक भीड़ की यह स्थिति आपदा का रूप धारण कर लेती है। (Duniya Ki Sabse Jayda Bheed )

लोगों का जमावड़ा लगने के लिए कई तरह के कारण हो सकते है – किसी महान व्यक्ति की अंतिम यात्रा से लेके किसी त्यौहार का उत्सव और कभी कभी साम्प्रदायिक दंगों में। 

यह भी पढ़े :Duniya ke Sabse Mehnge Mineral (खनिज) | Duniya ke Sabse Mehnge Mineral (khanij)

तो, लोगों की भीड़ का सबसे बड़ा जमावड़ा कितना विशाल हो सकता है?  आज हम मानव इतिहास में दर्ज अब तक की सबसे बड़ी शांतिपूर्ण सभाओं में से 10 पर एक नज़र डालेंगे और उन्हें इस आधार पर रैंक करेंगे कि उनमें कुल कितने लोग उपस्थित थे।  हम हर घटना के पीछे के कारणों के बारे में कुछ रोचक तथ्य और जरूरी बाते भी जानेंगे।

10. जमाल अब्देल नासेर के अंतिम संस्कार में 

कितनी भीड़ : 5 मिलियन से अधिक 

स्थान: काहिरा

दिनांक: 1970

भीड़ का कारण: राजनेता की मृत्यु

 रिकॉर्ड की गई दुनिया की सबसे ज्यादा भीड़

स्रोत: www.wikimedia.org 

मिस्र के दूसरे राष्ट्रपति जमाल अब्देल नासिर , जिन्होंने मिस्र की राजनीति में एक लंबे राजनीतिक जीवन का नेतृत्व किया था। उन्होंने करीब 1954 से 1970 तक अपना जीवन पूरी तरह देश के लिए समर्पित किया। उनका दृढ़ विश्वास और नेतृत्व का तरीका एक विवाद का स्रोत थे, खासकर जब उन्होंने इज़राइल के खिलाफ दो बार युद्ध करने का उनका निर्णय लिया ।

 फिर भी, उनकी लोकप्रियता लोगों के बीच बढ़ती गई क्योंकि उन्होंने अपने लोगों के बीच एकता को बढ़ावा दिया और उनके अंतिम संस्कार में दिल का दौरा पड़ने के बाद जबड़ा गिर गया। (Duniya Ki Sabse Jayda Bheed )

क्या आप जानते है? 

जमाल अब्देल नासिर संक्षिप्त संयुक्त अरब गणराज्य के निर्माता थे जो सन 1958 से 1961 तक चला।

9. विश्व युवा दिवस

कुल लोगों की उपस्थिति: 5 मिलियन

स्थान: मनीला

दिनांक: 1995

भीड़ का कारण: धार्मिक यात्रा

 रिकॉर्ड की गई दुनिया की सबसे ज्यादा भीड़

 स्रोत: www.youtube.com 

1995 में, मनीला में विश्व युवा दिवस का आयोजन पहली बार हुआ था। यह पहला ऐसा आशियाई देश था जहां यह कार्यक्रम हो रहा था और इस कार्यक्रम में लाखों धार्मिक युवा लोगों को पोप से मिलने का मौका मिलता है। 

यह अब तक की सबसे बड़ी सभाओं में से एक है। पोप जॉन पॉल द्वितीय ने पहली बार 1986 में रोम में इस कार्यक्रम का आयोजन शुरू किया था, और तब से यह हर साल आयोजित किया जाता है। (Duniya Ki Sabse Jayda Bheed )

क्या आप जानते है? 

यह कार्यक्रम  प्रत्येक वर्ष Palm Sunday को मनाया जाता है।

8. पापल सभा

 रिकॉर्ड की गई दुनिया की सबसे ज्यादा भीड़

भीड़ की उपस्थिति: 6 मिलियन

स्थान: मनीला

दिनांक: 2015

कारण: धार्मिक यात्रा

 स्रोत: www.wikimedia.org 

फिलीपींस में हुयी इस पोप यात्रा में बड़े पैमाने पर लोगों की भीड़ एकत्रित हुयी । इस धर्मिक यात्रा में करीब 6 मिलियन लोगों के इकठ्ठा हुए इस तरह के आंकड़े सामने आए थे। 

हालांकि उस समय मौसम बरसाती और अवांछनीय था, इसके बाबजूद भी फिलीपींस के लोगों को यात्रा के लिए मोमबत्तियों के साथ आने से नहीं रोक पाया । पोप का मुख्य उद्देश्य शांति और एकता के संदेश को बढ़ावा देना।  उन्होंने पोप फ्रांसिस को अपने औपचारिक सफेद वस्त्र के ऊपर एक चमकीले पीले रंग की पोंचो पहने हुए भी देखा गया ! (Duniya Ki Sabse Jayda Bheed )

क्या आप जानते है? 

2015 की इस यात्रा की मुख्य थीम “दया और करुणा,”  थी ।

यह भी पढ़े :रात को हल्दी वाला दूध पीने के फायदे | BENEFITS OF TURMERIC MILK | 2021

7. अयातुल्ला खुमैनी का अंतिम संस्कार

भीड़ की उपस्थिति: 10 मिलियन

स्थान: तेहरान

दिनांक: 1989

भीड़ का कारण: राजनेता की मृत्यु

 रिकॉर्ड की गई दुनिया की सबसे ज्यादा भीड़

 स्रोत: wikimedia.org

रूहोल्लाह खुमैनी एक प्रभावशाली ईरानी राजनीतिक और धार्मिक नेता थे जिन्हें बाद में अयातुल्ला की उपाधि प्राप्त हुयी थी। यह उपाधि  प्रमुख शिया विद्वानों के लिए आरक्षित होती है।

 नेता का राजनीतिक रूप से मुखर होना और मजबूत इरादों वाला होने का एक अतीत था, इसके अतरिक्त उन्हें पहले शाह के पश्चिमी-समर्थक विचारों का विरोध करने के लिए भी गिरफ्तार किया गया था। उनके अंतिम संस्कार में इतनी अधिक भीड़ होगी इस बात का अंदाजा किसी को भी नहीं था।  (Duniya Ki Sabse Jayda Bheed )

क्या आप जानते है? 

रूहोल्लाह अपनी मृत्यु से कुछ समय पहले,  एक “फतवा” जारी करने और अपने उपन्यास “द सैटेनिक वर्सेज” के लिए लेखक सलमान रुश्दी की मृत्यु की चुनौती देने के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बदनाम हो गए थे । 

यह भी पढ़े :बात करने में कितनी कैलोरी खर्च होती है? 2021

6. अरबाईन तीर्थ स्थल 

भीड़ की उपस्थिति: 14 मिलियन

स्थान: कर्बला

दिनांक: 2017

भीड़ का कारण: धार्मिक त्योहार

अरबीन तीर्थयात्रा अक्सर कर्बला में मुसलमानों द्वारा हर साल की जाने वाली लंबी सैर है।  यह तीर्थयात्रा स्वैच्छिक है, हज के विपरीत, मक्का की अनिवार्य यात्रा जिसे सभी मुसलमानों द्वारा जीवन में कम से कम एक बार किया जाना चाहिए जो सक्षम हैं। 

 तीर्थयात्रियों के साथ-साथ, अरबाइन तीर्थयात्रा उन लोगों को भी आकर्षित करती है जो यात्रा करने वालों को विभिन्न प्रकार की सेवाएं प्रदान करते हैं।

क्या आप जानते है? 

2017 की अरब यात्रा के इस तीर्थ में गैर-मुस्लिम लोगों को भी मानवता में विश्वास का बयान देने के लिए शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया था।  (Duniya Ki Sabse Jayda Bheed )

5. सी एन अन्नादुरई का अंतिम संस्कार

भीड़ की उपस्थिति: 15 मिलियन

स्थान: तमिलनाडु

दिनांक: 4 February 1969

भीड़ का कारण: राजनेता की मृत्यु

 रिकॉर्ड की गई दुनिया की सबसे ज्यादा भीड़

 स्रोत: www.ezhilisaiarasu.wordpress.com 

द्रविड़ के नेता एन. अन्नादुरई को लोग “अन्ना” कहकर पुकारते थे और तमिल में “अन्ना” को “बड़ा भाई” कहा जाता है। वह  भारत, तमिलनाडु के प्रथम मुख्यमंत्री और मद्रास के अंतिम मुख्यमंत्री के रूप में सेवा करने वाले पहले द्रविड़ पार्टी के सदस्य भी थे।   (Duniya Ki Sabse Jayda Bheed )

उनका जीवन बेहद सादा और वह बहुत सादगी से रहते थे हालांकि लोगों का भला करने के लिए उन्होंने कई बार बहुत विरोध का सामना किया। और बाद में मुंह के कैंसर से पीड़ित होने के कारण उनका निधन हो गया। कैंसर होने का मुख्य कारण उनकी तंबाकू चबाने की आदत को दिया गया। (Duniya Ki Sabse Jayda Bheed )

क्या आप जानते है? 

एन अन्नादुरई के अंतिम संस्कार को गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स ने सबसे ज्यादा भीड़ का जमावड़ा के लिए मान्यता दी गई थी। 

यह भी पढ़े :दुनिया की 7 सबसे पुरानी चट्टानें और पत्थर | OLDEST ROCKS

4. अरबीन तीर्थयात्रा 2016

भीड़ की उपस्थिति: 25 मिलियन

स्थान: कर्बला

दिनांक: 2016

भीड़ का कारण: धार्मिक त्योहार

Duniya Ki Sabse Jayda Bheed

 स्रोत: wikimedia.org

अरबीन तीर्थयात्रियों को दुनिया में लोगों का सबसे बड़ा वार्षिक जमावड़ा माना जाता है ।  

दुनिया भर से कई तीर्थयात्री  कर्बला की यात्रा करते हैं,। उनमें से कुछ  बगदाद या उससे भी दूर दराज के क्षेत्रों से आते हैं। यात्री धार्मिक स्थलों और अन्य पवित्र स्थानों की यात्रा के लिए कई दिनों तक पैदल चलते हैं।  

कई लोग इस  यात्रा में तीर्थयात्रियों की सहायता के लिए आते हैं, वे करुणा की भावना से मुफ्त भोजन, प्राथमिक चिकित्सा और यहां तक ​​कि दंत चिकित्सा सेवाएं भी प्रदान करते हैं। (Duniya Ki Sabse Jayda Bheed )

क्या आप जानते है? 

अरबीन हुसैन इब्न “अली” के सम्मान में आयोजित किया जाता रहा है, जो मुस्लिम पैगंबर मुहम्मद के पोते और शहीद थे जिनकी मृत्यु कर्बला में हुई थी।

3. अरबीन तीर्थयात्रा 2015

भीड़ की उपस्थिति: 27 मिलियन

स्थान: कर्बला

दिनांक: 2015

भीड़ का कारण: धार्मिक त्योहार

यहां तक ​​कि हज भी कर्बला तीर्थयात्रा के सामने कम तीर्थ यात्री जुटा पाता है। यात्रा में पिछले वर्षों की तुलना में 2015 में इराकी राजधानी में सुरक्षा काफी अधिक थी। ज्यादातर  तीर्थयात्रियों को उस वर्ष यात्रा के दौरान अपनी उपस्थिति दर्ज करानी पड़ी थी और इस बार भीड़ ने पिछले बर्ष का रिकॉर्ड तोड़ दिया जब तक यह 22 मिलियन तक पहुंच गया, और उसके बाद भी संख्या में वृद्धि जारी रही। (Duniya Ki Sabse Jayda Bheed )

क्या आप जानते है? 

हुसैन इब्न अली की मृत्यु को उस घटना के रूप में जोड़ा था जिसने सुन्नी और शिया मुसलमानों के बीच बड़ी दरार को जन्म दिया। 

यह भी पढ़े :ठंडे पानी से नहाने के फायदे | BENEFITS OF COLD WATER BATHING | 2021

2. कुंभ मेला 2010

भीड़ की उपस्थिति: 60-80 मिलियन

स्थान: हरिद्वार

दिनांक: 14 अप्रैल, 2010

भीड़ का कारण: धार्मिक सभा

Duniya Ki Sabse Jayda Bheed

स्रोत: wikimedia.org

भारत में हिंदू धर्म की आस्थाओं से जुड़ा यह मेला इतनी अधिक संख्या में लोगों का जमावड़ा लगाता है कि यह दुनिया का सबसे ज्यादा भीड़ इक्कठी करने वाला मेला बन जाता है।

कुंभ मेले में धार्मिक सभा में हिंदू मिथक को सुनती है कि कैसे देवताओं और राक्षसों ने अमरता के अमृत पर लड़ाई लड़ी, इसकी चार बूंदों को पृथ्वी पर गिरा दिया, जो उस समय  पवित्र नदियाँ बन गईं और उसी जगह यह मेला लगता है। 

तीर्थयात्री जो यात्रा करते हैं और सभा में शामिल होते हैं, उनका मानना ​​है कि जब वे पवित्र नदियों में प्रवेश करते हैं तो वे अमरता के सार में स्नान कर रहे होते हैं।  एक बार इस त्योहार के शुरू होने के बाद, यह  एक से तीन महीने तक चल सकता है। (Duniya Ki Sabse Jayda Bheed )

क्या आप जानते है? 

कुंभ मेले में डुबकी लेने के लिए सालों से ध्यान मग्न बैठे धार्मिक साधु भी एकांत से निकलते हैं। 

यह भी पढ़े :दुनिया के 10 सबसे महान और प्रसिद्ध वैज्ञानिक | TOP 10 SCIENTIST

1. कुंभ मेला 2013

भीड़ की उपस्थिति: 120 मिलियन

स्थान: प्रयागराज

दिनांक: 10 फरवरी, 2013

भीड़ का कारण: धार्मिक सभा

Duniya Ki Sabse Jayda Bheed

 स्रोत: फ़्लिकर.कॉम

दुनिया की सबसे बड़ी ज्यादा भीड़ भारत के 2013 के हिन्दू धर्म के धर्मिक कुंभ मेले में हुयी थी। यह मेला पूरी तरह शांतिपूर्ण होते हैं और सरकार सुरक्षा के मापदंड तय करती है। 

यह हिंदू समारोह प्रत्येक 12 साल की अवधि में से चार बार मनाया जाता है।  प्रत्येक सभा का स्थल उन चार नदियों के बीच घूमता है जिन्हें हिंदू धर्म के लोगों द्वारा पवित्र माना जाता है। 

यह मेला सभी प्रकार की जीवन शैली वाले लोगों को अपनी आस्था का जश्न मनाने के लिए आकर्षित करता है।  इसमे सबसे ज्यादा भाग लेने वालों में साधु संत शामिल हैं।  (Duniya Ki Sabse Jayda Bheed )

क्या आप जानते है? 

यह साधू इतने आस्था मग्न होते है, कि यह पवित्र पुरुष गहन शारीरिक परीक्षणों से गुजरते हैं और साल भर नग्न रहते हैं।

यह भी पढ़े :आम खाने के फायदे | विज्ञान के आधार पर TOP 10 BENEFITS OF EATING MANGO

By Nihal chauhan

मैं Nihal Chauhan एक ऐसी सोच का संरक्षण कर रहा हू, जिसमें मेरे देश का विकास है। में इस हिंदुस्तान की संतान हू और मेरा कर्तव्य है कि में मेरे देश में रहने वाले सभी हिंदुस्तानियों को जागरूक करू और हिंदी भाषा को मजबूत करू। आपके सहयोग की मुझे और हिंदुस्तान को जरुरत है कृपया हमसे जुड़ कर हमे शेयर करके और प्रचार करके देश का और हिंदी भाषा का सहयोग करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.