Haldi ke Fayde Aur Nuksaan | भारतीयों रसोई घरों की शान हल्दी हम सभी के स्वास्थ्य के लिए वरदान साबित होती है। हल्दी में कुछ ऐसे गुणों को भंडार है, जो इसे बाकी सभी मसालों से गुणवान बनाता है। भारत में या दुनिया में भी शायद ही ऐसे कोई नमकीन व्यंजन हो, जो बिना हल्दी के तैयार किया जाता हो।

भारत में हल्दी का उपयोग खाद्य पदार्थों में स्वाद और रंग लाने के लिए भी किया जाता है। भारत में रहने वाले हिन्दू समुदाय के लोगों के हल्दी एक धार्मिक मसाला है और इसका उपयोग उनके द्वारा हर पूजा और अनुष्ठान में किया जाता है। (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

आप ऐसा सोचते होंगे कि हल्दी का मुख्य उपयोग सिर्फ खाने पीने की चीजें को बनाने में ही है, लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है।  यदि आपको जानकारी हो तो आप हल्दी का उपयोग एक औषधि के रूप में भी कर सकते हैं। 

हल्दी कई तरह के प्राकृतिक खनिजों और antibacterial गुणों से भरपूर है। प्राचीनकाल में हल्दी का उपयोग रंग के रूप में होता था और बाद में सब्जियों के मसाले के रूप में होने लगा। 

आज बाजारों में और ऑनलाइन हल्दी के उत्पाद capsule, अर्क और पाउडर के रूप में मौजूद है। हल्दी का उपयोग एक औषधि के रूप में भारत में पारंपरिक रूप से प्राचीन काल से ही होता आया है।  (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

हल्दी में पाए जाने वाला सबसे प्रमुख घटक “करक्यूमिन” (Curcumin) ।  करक्यूमिन के कई औषधीय फायदे होते है,। सूजन, जलन, पुराना दर्द और हड्डियों का दर्द का इलाज हल्दी से सम्भव है। आयुर्वेदिक चिकित्सा में हल्दी का उपयोग एक सबसे आम औषधि के रूप में होता था। 

गुजरते समय के साथ हल्दी अब पश्चिमी देशों में भी उपयोग में आने लगी है जबकि इसकी उत्पत्ति पूरी तरह भारतीय है। यह लेख हल्दी से जुड़े फायदों और नुकसान के बारे में और हर फायदे या नुकसान के पीछे होने वाली वजह को भी स्पष्टता से समझाया जाएगा।  (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

हल्दी क्या है? (What is Turmeric?) 

 हल्दी के फायदे और नुकसान

हल्दी मुख्य रूप से एक जड़ है। इसका वैज्ञानिक नाम Curcuma longa है जो कि अदरक के परिवार की Zingiberaceae से आती है। हल्दी एक फूल वाला पौधा है। 

स्वाद – 

हल्दी स्वाद के लिहाज से, थोड़ी सी चटपटी मसाले दार होने के साथ अत्यधिक कसैला और कड़वा स्वाद देती है और यह स्वाद से यह लगभग मसाला ही है। ज्यादातर करी पाउडर में हल्दी एक गहरा रंग और एक प्रकार का अभेद्य स्वाद देती है।  (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

हल्दी के प्रकार – 

1.Curcuma caesia – 

यह हल्दी का काला रूप है और इसके कई फायदे होते हैं। इस हल्दी का उपयोग कई तरह से किया जाता है। भारत में इस हल्दी का उपयोग तंत्र मंत्र में भी किया जाता है। 

2. Curcuma aromatica – 

यह हल्दी का जंगली रूप है, इसलिए इसे जंगली हल्दी के नाम से भी जाना जाता है। यह हल्दी अधिकतर जंगली क्षेत्रों में ही पायी जाती है।  (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

3. Curcuma amada – 

इस हल्दी की खासियत है, कि इसके पत्तों में से आम जैसी खुशबू आती है इसलिए इसे mango ginger के नाम से भी जाना जाता है। 

4. Curcuma longa – 

यह हल्दी का सबसे उपयोगी रूप है जो मसालों से लेकर औषधि तक इस्तेमाल होती है। इस हल्दी का रंग भीतर से लाल या पीला होता है और इसके पौधे 60 से 65 cm तक ऊँचे होते है । इसी हल्दी का उपयोग घरेलु सब्ज़ियों को बनाने में होता है।  (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

हल्दी का इतिहास 

हल्दी के उपयोग का इतिहास भारत के वैदिक काल से 4000 ईशा पूर्व तक ले जाता है। उस समय हल्दी का उपयोग एक पवित्र मसाले के रूप में पूजा और धार्मिक अनुष्ठानों में होता था। हल्दी सम्भवतः 700 ईशा पूर्व चीन में पहुँची होगी। और पूर्वी अफ्रीका में 800 ईशा पूर्व और पश्चिमी Africa में 1200 ईशा पूर्व पहुंचीं और Jamaica तक 18 बी सदी तक पहुँच गयी। 

1280 में, मार्को पोलो द्वारा इस मसाले का वर्णन किया गया है। वह बताते हैं कि यह एक ऐसी सब्जी में आश्चर्यजनक था जो केसर के समान गुणों का प्रदर्शन करती थी। (विश्वसनीय स्त्रोत

हल्दी में पाए जाने वाले पोषक तत्व 

आज हल्दी पाउडर के रूप में आसानी से उपलब्ध है और यह कई सारे पोषक तत्वों से भरी हुई है।  यूनाइटेड स्टेट्स डिपार्टमेंट ऑफ एग्रीकल्चर (USDA)  के नेशनल न्यूट्रिएंट डेटाबेस के अनुसार, हल्दी पाउडर का एक बड़े चम्मच में निम्न पोषक तत्व होते है :

  • 0.3 ग्राम चीनी
  •  0.31 ग्राम फैट 
  • 0.91 ग्राम (जी) प्रोटीन
  • 29 कैलोरी
  • 2.1 ग्राम फाइबर
  • 6.31 ग्राम कार्बोहाइड्रेट

वही हल्दी की एक बड़ी चम्मच सेवन करने पर आपको निम्न पोषण खनिज प्राप्त होता है :

  • प्रतिदिन पूर्ति के लिए 16% iron 
  • प्रतिदिन पूर्ति के लिए 5%पोटेशियम 
  • प्रतिदिन की पूर्ति के लिए 3% विटामिन C
  • प्रतिदिन की पूर्ति के लिए 26% Magnesium 

हल्दी के फायदे 

हालांकि हल्दी एक स्वादिष्ट मसाले के रूप में दुनिया भर में उपयोग होता है लेकिन भारतीय और चीनी सभ्यताओं में हल्दी का उपयोग पारंपरिक रूप से आयुर्वेदिक और चीनी चिकित्सा में सूजन , त्वचा रोग, घाव, पाचन संबंधी बीमारियों और लिवर की बीमारियों के इलाज के लिए भी किया जाता है। (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

1.हल्दी में होते हैं Anti-inflammatory गुण – 

हल्दी के स्वास्थ उपयोगी गुणों में से एक हल्दी का anti inflammatory गुण आपको कई तरह से फायदे देता है। आर्थराइटिस फाउंडेशन दावा करता है कि उसके द्वारा किए कई अध्ययनों में हल्दी को सूजन कम करने के लिए उपयोगी माना है।  (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

हल्दी का एंटी inflammatory गुण आपके शरीर में होने वाली भड़काऊ उत्तेजना को कम करने में सहायक है। गठिया से पीड़ित लोगों के लिए हल्दी का उपयोग सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है। 

शोधकर्ताओं ने कहा कि सूजन को कम करने के लिए हर रोज दिन  में तीन बार  400 से 600 मिलीग्राम (मिलीग्राम) के हल्दी कैप्सूल लेने का सुझाव देते है।

डॉक्टरों द्वारा चुने हुए हल्दी के capsule यहां से खरीदे…. 

2. बेहतर लिवर के लिए करे हल्दी का सेवन 

सभी जानते है कि हल्दी के भीतर पर्याप्त मात्रा मे antioxidants होते है । और यह antioxidants हमारे शरीर की सबसे जरुरी क्रियाओं को पूरा करने में मदद करते है ।

हल्दी में पाए जाने वाले antioxidants का प्रभाव इतना प्रभावशाली होता है कि यह आपके लिवर को नुकसान पहुंचाने वाले सभी हानिकारक पदार्थों को नष्ट कर देते हैं।  (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

ऐसे लोग जो लंबे समय से डायबिटीज़ और या अन्य किसी रोग से पीड़ित होने की वजह से दबा ले रहे है, उनके लिवर पर काफी नुकसान पहुंचता है। आप हल्दी का सेवन करके अपने लिवर को स्वस्थ्य रख सकते हैं। (विश्वसनीय स्त्रोत

3. कैंसर को खतरे को कम करने में सहायक हल्दी 

हल्दी में मिलने वाला सबसे उपयोगी घटक “करक्यूमिन” यह दावा करता है कि वह कैंसर के खतरे को कम करने मदद कर सकता है।  (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

हल्दी का सेवन आपको प्रोस्टेट ग्रंथी के कैंसर, अग्नाशय (Pancreatic Cancer ) के कैंसर और Multiple Myeloma से सुरक्षित करता है। 

4. पाचन तंत्र में सुधार करने में कारगर हल्दी 

हल्दी आपकी सब्जी के स्वाद बढ़ाने के साथ साथ आपके पाचन तंत्र को मजबूत और सुचारु बनाती है। हल्दी के पाउडर में पाए जाने वाले कुछ पोषक तत्व आपके लिए एक सुचारु मल त्याग का बंदोबस्त करते है।  (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

सब्जियों में उपयोग होने वाले इस मसाले के antioxidants और एंटी inflammatory गुण आपकी पाचक शक्ति को मजबूत बनाने का कार्य करते हैं। 

वैदिक काल से ही हल्दी का उपयोग आयुर्वेदिक चिकित्सा में पेट सही करने के लिए किया जाता है। आज पश्चिमी देश भी इसपर पूरा शोध कर रहे हैं। (विश्वसनीय स्त्रोत

हल्दी आपकी आंतों में आने वाली सुजन को, और IBS (irritating bowel syndrome) को सही करने में मदद कर सकती है। 

5. दर्द से छुटकारा पाने के लिए करे हल्दी का उपयोग 

कभी आपको पीठ का दर्द जो या किसी अंदरुनी चोट का हल्दी हर तरह से आपके दर्द को कम करने में सहायक होती है। जैसा कि ऊपर स्पस्ट किया कि हल्दी घटिया के दर्द निवारण के लिए भी एक उपयोगी औषधि है।  (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

किए गए एक अध्ययन में सबूत मिले है कि हल्दी घटिया के दर्द को काफी हद तक कम करती है। अध्ययन के दौरान दवाई लेने वाले और दवाई के साथ हल्दी लेने वाले लोगों पर शोध किया गया और शोध में पाया गया जिन्होंने हल्दी और दवाई का सेवन किया उन्हें घटिया के दर्द से काफी आराम मिला। 

हालांकि हर व्यक्ति के लिए हल्दी की खुराक अलग हो सकती है। घटिया के रोगियों के लिए प्रतिदिन एक 800 मिलीग्राम का capsule उपयोगी होगा। 

6. घाव भरने के लिए हल्दी का उपयोग रामबाण 

बचपन मे कहीं चोट या कटने पर मम्मी ने हल्दी का उपयोग किया ही होगा यदि आपको यह याद नहीं तो आज यह समझ लीजिए कि हल्दी हमारे घावों को बहुत जल्दी भरने में सक्षम है।  (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

हल्दी का उपयोग प्राचीन काल में शल्य चिकित्सा के बाद घावों को तेजी से भरने के लिए किया जाता था। आज भी भारत के गाँव देहातों में हल्दी को घाव भरने के उपयोग में लिया जाता है। 

हल्दी हमारे खाल के ऊपर के ऊतकों का निर्माण बहुत तेजी से करने में मदद करती है जिससे घाव में पस और गलाब नहीं पड़ता।  (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

हालांकि त्वचा के घावों को ठीक करने के बारे में हल्दी के करक्यूमिन फॉर्मूलेशन पर अभी और भी शोध होने बाकी है। हल्दी के antiseptic और त्वचा उपचार में उपयोगी गुण हल्दी को घावों को भरने के लिए एक उपर्युक्त औषधि बनाते है।  (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

7. हल्दी से घटायें वजन 

Haldi ke Fayde Aur Nuksaan

हल्दी में पाए जाने वाला करक्यूमिन हमारे शरीर के व्हाइट फैट टिशू के साथ रिएक्शन करती है। और यह सफेद फैट ऊतक ही हमारे मोटापे के लिए जिम्मेदार माने जाते हैं। हल्दी हमारे शरीर में फैट के खिलाफ कार्य करती है। यह आपके वजन को कम करने में और आपके फैट को सीमित करने के लिए सुरक्षित और उपयोगी है ।

एक अध्ययन में पता चला कि हल्दी खाने वाले लोगों ने उन लोगों की तुलना में बराबर वजन कम किया जो लोग वजन कम करने के लिए विभिन्न तरह के उपाय और कसरत कर रहे थे। ((विश्वसनीय स्त्रोत) 

हल्दी में पाया जाने वाला करक्यूमिन शरीर में जमे हुए अतिरिक्त फैट को सीमित करके हमारे शरीर की अधिक सूजन को कम करके वजन कम करने में सहायक होता है।  (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

8. मधुमेह को नियंत्रण करने के लिए करे हल्दी का उपयोग 

शोधकर्ताओं द्वारा किए गए कुछ शोधों से पता चलता है कि हल्दी इंसुलिन को कम करने में सहायक हो सकती है। हल्दी का सेवन शुगर से पीड़ित रहे और वर्तमान में शुगर से ग्रसित  रोगियों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। 

हल्दी इंसुलिन  प्रतिरोध में सुधार करनेमें भी सहायक होती है। जो टाइप 2 मधुमेह के लिए जिम्मेदार होता है।  (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

लेकिन आपको यह ध्यान रखना चाहिए कि यह आपकी दवाइयों को विस्थापित नहीं कर सकती बल्कि आपको अपनी शुगर की दवाइयों के साथ हल्दी या curcumin के capsule का सेवन करना चाहिए जिससे आपको काफी ज्यादा फायदा मिलेगा। 

इसके अतरिक्त हल्दी या curcumin लेने से पहले अपने डॉक्टर से सम्पर्क कर ले तभी इनका उपयोग चालू करे।  (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

सारांश – 

हल्दी में पाए जाने वाला curcumin हमारे शरीर की ब्लड शुगर को कम करके इंसुलिन को नियंत्रित रखता है। इसलिए यह टाइप 2 मधुमेह को रोकने के लिए महत्पूर्ण है। 

9. त्वचा के लिए फायदेमंद हल्दी 

हल्दी के एंटी inflammatory, antiseptics, antioxidant और antibacterial गुणों की वज़ह से यह आपके खून को हानिकारक पदार्थों से साफ करती है और त्वचा को स्वस्थ्य बनाने में मदद करती है। हल्दी आपकी त्वचा पर उठने वाली कील, मुँहासे, फुंसी, फोड़े जैसी स्थितियों को बनने से रोकती है।  (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

हल्दी का एंटी-नियोप्लास्टिक गुण इसे त्वचा पर होने वाले ट्यूमर या घाव को रोकने में मदद करते है। 

हालांकि आपको यह ध्यान रखना चाहिए कि त्वचा पर हल्दी के लिए किए गए एक अध्ययन में हल्दी के उपयोग से कुछ लोगों को contact dermatitis की सूजन हो गयी। इसलिए आपको यदि हल्दी लगाने पर कोई असहजता महसूस हो तो आप इसका उपयोग करना तुरंत बंद कर दे। 

लेकिन मुहं से खाने पर हल्दी का उपयोग एकदम सुरक्षित है लेकिन आपको एक निश्चित मात्रा में ही इसका सेवन करना चाहिए। यह आपकी त्वचा में निखार लाती है। 

10. बड़ती उम्र के प्रभाव को रोकने के लिए हल्दी का उपयोग 

किए गए कई इस बात की पुष्टि करते है कि हल्दी में ऐसे गुण है, जो आपके DNA की मरम्मत में सहायता कर सकते हैं। शरीर में होने वाली इस तरह की क्रियाएं कई तरह की बीमारी को रोकने और उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा करने में मदद कर सकती हैं।(विश्वसनीय स्त्रोत)  (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

11. मौखिक बीमारियों को दूर करने में हल्दी सहायक 

हल्दी मुहं की बीमारियों को रोकने के लिए भी एक उपयोगी मसाला है। यह हमारे मुँह की पीरियडोंटल बीमारियों को रोक सकती है और मौखिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाए रखने में मदद कर सकती है।  (विश्वसनीय स्त्रोत) 

पायरिया – 

पायरिया मुहं से संबंधित बीमारी है जिसमें मुहं से दुर्गंध आती है और आपके मसूड़े कमजोर हो जाते है जिससे आपके दांत गिरने लगते है। 

हल्दी इस बीमारी से लड़ने में मदद कर सकती है। सरसों का तेल और हल्दी मिलाकर मसूड़ों पर सुबह और सोने से पहले लगाए कुछ दिनों के भीतर ही आपको आराम मिलना शुरू हो जाएगा।  (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

12. जहर को निष्क्रिय करने के लिए है हल्दी में एंटी-वेनम गुण 

यदि किसी जहरीले जीव ने आपको काट लिया है तो आप हल्दी का उपयोग करके उसका प्रभाव कुछ कम कर सकते हैं। हल्दी में पाए जाने वाले करक्यूमिनोइड्स जहर को निष्क्रिय करने के लिए जाने जाते हैं। यदि आप डंक वाली जगह पर हल्दी लगा लेते है तो यह कोबरा के जहर को निष्क्रिय कर सकते हैं।  (विश्वसनीय स्त्रोत)

13. कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए करे हल्दी का उपयोग 

आजकल के बसा युक्त खानपान से आपका स्वस्थ्य और ज्यादा खतरे में आ गया पर यदि आप हल्दी का सेवन करते रहते है तो यह आपको शरीर में बढ़ते हुए खराब cholesterol के स्तर को कम करने में सहायक हो सकती है।  (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

शोधकर्ताओं द्वारा किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि करक्यूमिन में सूजन-रोधी (सूजन को कम करने वाले घटक) प्रभाव होते हैं और यह आपके कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने मे मदद करते  है। हल्दी के यह गुण आपके हृदय स्वास्थ्य को बेहतर बनाते  हैं।  (विश्वसनीय स्त्रोत

14. सर्दी जुकाम ठीक करने के लिए हल्दी का उपयोग 

हल्दी की तासीर गर्म होती है और इस वज़ह से यह जुकाम खासी और सर्दी लगने पर उपयोगी सिद्ध होती है। हल्दी का antibacterial गुण ना सिर्फ आपकी सर्दी को ठीक करता है बल्कि आपकी प्रतिरोधक क्षमता विकसित करके अगली बार आपके पीड़ित होने की संभावना भी कम करता है।  (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

15. स्तनों से जुड़ी बीमारियों को हल्दी से करे दूर 

स्तनों की कोई भी परेशानी हो यदि आप हल्दी का सेवन करते है तो आपको आराम मिलना शरू होता है इसके अतरिक्त आप स्तनों के ऊपर हल्दी का लेप लगाकर भी कई तरह ले लाभ उठा सकती है।  (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

16. दाद, खाज – खुजली को ठीक करने में हल्दी है उपयोगी 

हल्दी के एंटी septic, antifungal और antibacterial गुण हल्दी को आपकी त्वचा सबंधी समस्याओं से छुटकारा दिलाने मे मदद करते है । जिस भी जगह पर दाद खाज या खुजली महसूस हो रहीं हो वही नीम को पट्टियों को हल्दी के साथ पीस कर लेप लगाए। निश्चित रूप से जल्दी ही आराम मिलेगा ।

हल्दी और करक्यूमिन

                            हल्दी (Turmeric)                       करक्यूमिन (Curcumin) 
हल्दी एक पौधा है, जिसका मुख्य उपयोग खाना पकाने वाले मसालों में किया जाता है। हल्दी का उपयोग पाउडर के रूप में या पीस कर आसानी से किया जा सकता है। हल्दी का उपयोग सूखा कर या पूरी तरह ताजा रूप में भी किया जाता है। Curcumin एक पदार्थ या यौगिक है जो हल्दी के पौधे की जड़ों मे पाया जाता है। हल्दी के पीले होने के पीछे मुख्य कारण उसमे curcumin की मौजूदगी होती है। यह एक कैरोटीनॉयड है जो मजबूत एंटीऑक्सीडेंट गुण प्रदर्शित करता है।

हल्दी से होने वाले नुकसान और दुष्प्रभाव 

हल्दी के अनेक फायदे है तो इसके अत्यधिक उपयोग से आपको हल्दी के कुछ दुष्प्रभाव भी देखने को मिलते है। हल्दी से जुड़े कुछ नुकसान नीचे दिए गए हैं।  (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

अत्याधिक हल्दी के सेवन से होता है पेट खराब 

जैसा कि आपने ऊपर जाना कि हल्दी पाचक शक्ति को बढ़ाता है पर यदि आप बहुत ज्यादा हल्दी का सेवन करते है तो हल्दी का यही गुण एक दुर्गुण बनकर आपके पेट में जलन पैदा कर सकता है। 

कैंसर के इलाज में हल्दी के प्रभाव के शोध के दौरान पता चला कि हल्दी से कुछ लोगों के पेट खराब हो गए और उन्हें इसे रोकना पड़ा। (विश्वसनीय स्त्रोत

हल्दी आपके पेट में बहुत ज्यादा गैस्ट्रिक acid निर्माण को बढावा देती है जिससे जलन होना शरू हो जाती है। इसलिये हमेशा हल्दी का सेवन एक उचित और सीमित मात्रा में करे।  (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

खून को पतला कर देती है हल्दी 

हल्दी में ऐसे गुणों की भरमार है जो आपके खून को साफ करते है। लेकिन यदि आप इसका बहुत ज्यादा सेवन करते है तो हल्दी का यह गुण आपके खून को बहुत पतला कर देता है जिससे आपका ब्लड प्रेशर हाई हो सकता है। 

इसीलिये जो लोग खून को पतला करने वाली दवाइयाँ खाते है उन्हें हल्दी के सेवन से बचना चाहिए या बहुत कम मात्रा में खाना चाहिए।  (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

सारांश – 

बहुत ज्यादा हल्दी की खुराक लेना या लंबे समय तक हल्दी का उपयोग करने से गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याएं हो सकती हैं। इसके साथ ही, हल्दी के संपर्क में आने से कॉन्टैक्ट डर्मेटाइटिस भी हो सकता है। (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

कुछ शोधों में पाया गया कि 1 महीने से अधिक समय तक हल्दी या करक्यूमिन का सेवन करने के बाद प्रतिभागियों को कुछ लिवर से संबंधित समस्यायों का सामना करना पड़ा था।  

पित्ताशय की थैली (gallbladder) की बीमारियों से पीड़ित लोगों को भी हल्दी के सेवन से बचना चाहिए। हालांकि आपके खाने में दो चुटकी हल्दी कोई नुकसान पहुंचाती। लेकिन यह याद रखे कि बहुत ज्यादा हल्दी का सेवन नुकसान देह है।  (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

हल्दी से जुड़े कुछ अन्य महत्पूर्ण सवालों के जवाब – 

क्या हल्दी किडनी के लिए नुकसानदायक है? 

एक सामन्य इंसान के लिए हल्दी की उचित खुराक फायदेमंद ही है लेकिन ऐसे लोग जिन्हें पत्थरी या अन्य कोई पेशाब से संबंधित विकार है उन्हें हल्दी का कम सेवन करना चाहिए। खाने में मौजूद हल्दी किसी के लिए भी नुकसान देह नहीं होती।  (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

क्या हर रोज हल्दी का सेवन करना सुरक्षित है? 

आधिकारिक तौर से किए गए हल्दी के शोधों में 8 g तक हल्दी प्रतिदिन कई महीनों तक दी गई और उसके कोई दुष्प्रभाव देखने को नहीं मिले। कहां जा सकता है कि हल्दी की 1-3 ग्राम की खुराक फायदेमंद है। 

क्या हल्दी चेहरे पर लगाने से त्वचा साफ और चमकदार हो जाती है? 

इस मामले में अभी और ज्यादा शोध की आवश्यकता है, हल्दी का लेप सीधा त्वचा पर लगाकर क्या फायदे है यह तथ्य अभी clear नहीं है ।हालांकि लोगों को इसके सकारात्मक फायदे मिले हैं।  (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

क्या हल्दी से पेट में गैस बनतीं है? 

नहीं, हल्दी का सीमित मात्रा में सेवन आपको किसी भी तरह की समस्या में नहीं डालता पर यदि आप बहुत ज्यादा हल्दी का सेवन कर लेते है तो यह आपके पेट को खराब कर सकती है।  (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

हल्दी के बारे में आखिरी विचार 

भारतीय लोगों के लिए हल्दी कोई नयी चीज नहीं है, सालों से भारतीय आयुर्वेद चिकित्सा में हल्दी का उपयोग होता आया है। हल्दी में पाए जाने वाले गुण अद्वितीय है और हल्दी का सीमित उपयोग हमे स्वस्थ्य रखने के लिए बेहतर है। 

तमाम बीमारियों के इलाज के रूप में हल्दी का उपयोग किया गया है, जिसमें 

  • स्त्री रोग 
  • जठरांत्र 
  • लिवर की समस्याए
  • संक्रामक रोग
  •  रक्त रोग 

शामिल हैं। हल्दी में पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट गुणों के कारण, हल्दी को अल्सर और कैंसर जैसे सूजन संबंधी विकारों के खिलाफ उपयोगी बताया गया है।  यह जिगर और गुर्दे की रक्षा करने और गठिया और अन्य पुरानी बीमारियों को हल करने में भी मदद कर सकती है। (Haldi ke Fayde Aur Nuksaan)

यह भी पढ़े :

By Nihal chauhan

मैं Nihal Chauhan एक ऐसी सोच का संरक्षण कर रहा हू, जिसमें मेरे देश का विकास है। में इस हिंदुस्तान की संतान हू और मेरा कर्तव्य है कि में मेरे देश में रहने वाले सभी हिंदुस्तानियों को जागरूक करू और हिंदी भाषा को मजबूत करू। आपके सहयोग की मुझे और हिंदुस्तान को जरुरत है कृपया हमसे जुड़ कर हमे शेयर करके और प्रचार करके देश का और हिंदी भाषा का सहयोग करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.