Hamesha Motivated kaise Rahe? अपने मन को ही जितना मानुष के लिए सबसे बड़ी उपलब्धि और सबसे बड़ी चुनौती भी यहीं है। लोगों के लिए कई बार खुद को convince करना आसान होता है वह कुछ भी मामूली सा बहाना कर के स्थितियों का सामना करने को तैयार कर हो जाते हैं। ( Hamesha Motivated kaise Rahe? )

पर हर इंसान एक जैसा नहीं होता, और यह दर्द उन लोगों में और भी गहराई से होता है जिनका बचपन बड़े प्यार और दुलार से गुजरा हो। हो सकता हो आपको अभी ये बातें वेतर्क लग रही हो पर इनका एक बड़ा संबंध आपके मस्तिष्क में उठने वाली सकरात्मक और नकारात्मक ऊर्जा से होता है। 

तो चलिए एक असान सा काम करते है । सामना करते है अपनी हर विषम परिस्थिति का और खुश रहते हैं। हर समय खुश रहना इतना भी मुश्किल काम नहीं है।  ( Hamesha Motivated kaise Rahe? )

लेकिन हर दिन खुश रहना सम्भव भी नहीं है। इसी प्रकार आप हर दिन खुद पर विश्वास नहीं रख सकते। आपके सपनों को साकार करने का जोश हर दिन वैसा ही नहीं रहता। जीवन उतना आसान है भी नहीं जैसा आजकल की फ़िल्मों में दिखाया जाता है या कुछ लोगों द्वारा उनके Instagram या Facebook में पोस्ट किया जाता है। 

जीवन जीना अपने आप में एक कला है और जो इसे संतुष्टि से जिए वही कलाकार है। जीवन कितना भी कष्टदायी और कठिन हो आपको परिस्थितियां कितनी भी बदतर हो आपका यह विश्वास उन्हें हरा देता है कि कोई रास्ता तो है जो आपको हर किस्म के दुख से बाहर निकालने के लिए सिर्फ आपके लिए बना हुआ है। 

चाहे जितनी भी समस्याओं का सामना करना पड़े पर हमे खुद के विश्वास को बनाए रखने के लिए उचित कदम उठाने पड़ते है। दुनिया में भले ही आपकी कोई भी स्थिति हो सबसे पहले आपको खुद की नजरों में नंबर 1 होना चाहिए। जिदंगी में सबसे ऊपर रहने ले लिए जरुरी है कि आप अपना एक लक्ष्य निर्धारित करे। आखिर बिना किसी लक्ष्य के जीवन ही क्या है? और उपलब्धी क्या है? 

आप अपने पूरे 24 घंटे का उपयोग किस तरह करते है इसका निर्धारण पूरी तरह आप पर होता है। पर हम आपको कुछ ऐसे प्राचीन नुस्खें बताएँगे जो आपके लिए मील का पत्थर साबित होंगे।  ( Hamesha Motivated kaise Rahe? )

हमारे पूर्वज हमसे कई ज्यादा समझदार और बुध्दिमान थे उनके पास ऐसी परिस्थितियों का सामना करने का मंत्र उस समय भी था जब इस तरह की परिस्थितियां बनतीं ही नहीं थी शायद उन्हें आभास था कि उनके यह नुस्खे आने वाली पीढ़ियों के लिए उपयोगी होगी। 

आपके लिए ध्यान और चिंतन करने के कुछ तरीके यहां दिए गए हैं।  ये बिलकुल सरल मेडिटेशन मोटिवेशन हैं।  आप इनका अभ्यास करें और आप स्वाभाविक रूप से हर समय प्रेरित रहेंगे। ( Hamesha Motivated kaise Rahe? )

Hamesha Motivated kaise Rahe?

 Hamesha Motivated kaise Rahe?

1. अपनी खुशी और स्वास्थ्य को बढ़ाए 

क्या आपने कभी सोचा है कि आप ही है जो इस दुनिया का संचालन कर रहे है? हां यह आपको मूर्खतापूर्ण लग सकता है क्योंकि आपने कभी वास्तविकता को समझना ही नहीं चाहा। यदि आप नहीं होते तो यह दुनिया नहीं होती यह बात सिर्फ आपके लिए शत-प्रतिशत सत्य है। 

क्योंकि आपकी मृत्यु आपके लिए जीवन का और इस दुनिया का संपूर्ण नाश कर देती है। तो हुए ना आप इस दुनिया के संचालक क्योंकि आप चाहे तो जी सकते है और आप चाहे तो नदी में खुद को मार कर दुनिया को खत्म कर सकते हैं।  ( Hamesha Motivated kaise Rahe? )

मुद्दा यह है कि आप अपने जीवन में एक निरंतर कारक हैं।  आप अपनी कहानी में मुख्य अभिनेता हैं, और क्या आपने किसी अभिनेता को कमजोर या खराब स्वास्थ्य में देखा है? नहीं  ना तो आप कमजोर और खराब स्वास्थ्य में हो ही नहीं सकते आप खुद को ठीक करके उठते हुए सितारे की तरह है। अपने आप को उतनी ही ऊर्जा और सकारात्मकता के साथ मजबूत करें जितना आप इकठ्ठा कर सकते हैं।  ( Hamesha Motivated kaise Rahe? )

2. खुद की काबिलियत को याद रखे 

चलिए मान लेते है, कि आपका बहुत ही कठिन समय से गुजर रहे है पर थोड़ा रुक कर यह सोचिए कि क्या आप सच में इन सब से डर रहे है? आपको अपनी क्षमताओं पर भरोसा रखना होगा और हर दिन हर सुबह और दिन में जितना मन करे उतनी बार खुद को याद दिलाए की आपकी क्षमतायें क्या है। 

आप आपके मन में सवाल होगा भला ऐसा हम क्यों करे?  क्योंकि जब भी आप कोई मुश्किल महसूस करते है आप अपनी असली क्षमताओं को भूल जाते हैं।  ( Hamesha Motivated kaise Rahe? )

यदि आपसे इतना भी ना हो सके तो सिर्फ एक बात पर भरोसा करे – भरोसा करे कि आपके साथ सब अच्छा होगा और अच्छा ही हो रहा है। आप जानते है हर चीज का एक निर्धारित और सही समय होता है। 

अपने competition को भूल जाए, उस हड़बड़ी को भूल जाइए जिससे बाकी सभी गुजर और आप कुछ देर पहले आप भी गुजर रहे थे । 

 अपनी मौलिकता, अपने सपनों और खुद पर विश्वास करें और उस सपने को साकार करने की दिशा में काम करें जो आपने तय किया है । अपने आप को अपनी क्षमताओं की याद दिलाएं। क्योंकि आप इस फिल्म के हीरो है।  ( Hamesha Motivated kaise Rahe? )

3. अपने मन को साफ करने के लिए.. 

आपका मन साफ होना बहुत जरूरी है, मन साफ होने से मतलब है कि आपके मन में खुद के प्रति कोई संदेह नहीं होना चाहिए। यदि है भी तो उसे साफ करे। इसके अतरिक्त और कई तरीके है जिससे आप खुद को प्रेरित रख सकते हैं जैसे कि – योग, प्राणयाम, ध्यान लगाना ना भूले। 

अपने अंदर सकरात्मक ऊर्जा का विकास निरन्तर होता रहे इसीलिए यह दैनिक क्रियायें बहुत ज्यादा aa आवश्यक है। एक स्वस्थ भोजन खाए और पर्याप्त नींद ले।  ( Hamesha Motivated kaise Rahe? )

4. ध्यान के माध्यम से प्रेरित होना सीखे 

इंसान की जुनूनियत हर असंभव काम को भी सम्भव करने की क्षमता रखती है। इसलिए आपको अपने जुनून को शक्ति और विश्वास के साथ प्रज्वलित करने की कोशिश नियमित करते रहे। इसके लिए आपके लिए सबसे आसान तरीका मेडिटेशन करना है। 

बेशक आपको यह एक घिसा पीटा idea लग सकता है पर आपके लगने से क्या होता है? सच तो सच होता है क्योंकि विज्ञान ने साबित किया कि मेडिटेशन आपको प्रेरित करने में मदद करता है ।

 ध्यान हमारे मस्तिष्क में सकारात्मक भावनाओं को बढ़ाता है, आपके जीवन की संतुष्टि को बढ़ाता है,यही नहीं यह आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में सहायक होता है और हर तरह के दर्द को कम करता है फिर चाहे वह किसी आशिक का टूटे हुए दिल का दर्द हो या कोई अन्य । मेडिटेशन आपको ज्यादा समय तक एकाग्र रहने में भी मदद करता है।  ( Hamesha Motivated kaise Rahe? )

5. लंबी नजर रखो 

सफ़लता असफ़लता आती जाती रहेगी पर आपको यह याद रखना है कि आपने जो लक्ष्य सुनिश्चित किया था आप उसकी ओर निरन्तर बढ़ने का प्रयास कर रहे हैं ना? यदि कर रहे है तो फिर बस, फिर आपको चिंता और तनाव लेने की कोई आवश्यकता ही नहीं है।  ( Hamesha Motivated kaise Rahe? )

आपको अपने जीवन पर एक लंबी नजर रखनी चाहिए, आज का दिन खराब था भी तो क्या हुआ, आपको पता है कि एक दिन अच्छा भी होगा। समझदार व्यक्ति हमेशा अपने लक्ष्य पर नजरे जमा कर रखते है बीच में क्या होता है क्या नहीं होता है ये सब बेकार है आपको तो सिर्फ अपने मुख्य लक्ष्य पर फोकस रखना चाहिए। 

क्या एक दिन की असफ़लता के चलते कोई कंपनी वाला अपनी कंपनी बेच देगा? या एक दिन बिक्री नहीं हुयीं तो दुकानदार दुकानदारी छोड़ देगा? 

यह आपको सोचना है हर दिन एक जैसा नहीं होता पर आपके भीतर सहनशक्ति होनी चाहिए सब्र होना चाहिए क्योंकि सब्र सफ़लता का दूसरा नाम है।  ( Hamesha Motivated kaise Rahe? )

हो सके तो छोटे छोटे लक्ष्य निर्धारित करे जिन्हें आप आसानी से पा सके इससे आपका आत्मविश्वास भी बढ़ता है और आप अपने मुख्य लक्ष्य की तरफ आसानी से आगे बढ़ते जाते है। 

6. सरल व्यक्तित्व का निर्माण करे 

सरल बनना कोई एक दिन का काम नहीं है। आपको निरंतर सरलता और सज्जनता का अभ्यास करते रहना पड़ेगा। आपकी सरलता आपके लिए कितनी फायदेमंद है शायद यह बात आपने पहले कभी नहीं सोची होगी। 

लेकिन आपको यह समझना चाहिए कि क्रोध आपकी सकारात्मकता को खत्म करने का काम करता है और आपकी सरलता आपके व्यक्तित्व के निखार को बढ़ाती है।  ( Hamesha Motivated kaise Rahe? )

खुद को नोटिस करे हो सके तो अपने छोटे छोटे व्यवहारों को एक निजी डायरी में लिखना शरू करें और एक पैनी नजर से देखे कि कब आप अपने आपे से बाहर थे? कब ऐसा मौका आया जब आप बिना किसी पर चिल्लाए परिस्थित को सम्भाल सकते थे? एहसास कीजिए कि कितनी बार आप बेवजह अपने आप से बाहर निकल जाते है? 

ध्यान कीजिए कि क्या आपने किसी ऐसी चीज़ पर प्रतिक्रिया दी, जिसकी आपको आवश्यकता नहीं थी?  क्या आपने कुछ ऐसा कहा था जिसे टाला जा सकता था?

अपने बारे में बहुत ज्यादा सोचने की जरूरत नहीं है बस आपको अपने दिमाग को और अपने व्यावहार में शांति और सरलता की  स्थापना  करनी है। यदि ग़लती से कभी आप अपने आपे से बाहर चले भी जाते हैं तो आपको जल्द ही एहसास हो जाएगा।  ( Hamesha Motivated kaise Rahe? )

7. एक निजी डायरी में खुद को उतारे 

घर की ड्रेसिंग टेबल में लगा काँच आपको आपकी उपरी साजसज्जा के लिए चमड़ी तो दिखा सकता है पर आपके मन के कालेपन को नहीं दिखा सकता। जिस प्रकार शीशा आपके लिए बफादार होता है। उसी प्रकार एक डायरी भी आपके प्रति अपनी वफादारी निभाती है और किसी शीशे से कई ज्यादा महत्वपूर्ण होती है। 

आपकी एक निजी डायरी आपके मन के भाग का आईना होती है। जब आप पूरी ईमानदारी से अपने विचारों को अपने व्यावहारो को उससे साझा करते है तो वही डायरी आपको एक अच्छा दिशा निर्देश देती है जो आपका मन कभी नहीं दे सकता।  ( Hamesha Motivated kaise Rahe? )

एक बुध्दिजीवी इंसान की जिंदगी में डायरी होने का महत्त्व सबसे ऊपर होता है। अपनी भावनाओं, व्यावहारो योजनाओं, और अनसुलझे सवालों को लिखने के लिए एक चुनिंदा डायरी यहां से खरीदे…. 

खरीदने के लिए यहां क्लिक करें… 

8. परोपकारी बनकर देखे 

किसी की मदद करके क्या मिलता है यह आप तब तक नहीं समझ पायेगे जब तक कि आप किसी की सच्चे मन से मदद कर नहीं लेते। जो ऊर्जा परोपकार करके मिलती है शायद ही वह दुनिया के किसी अन्य कार्य से मिले। 

जरूरी नहीं कि मदद सिर्फ पैसे देकर की जा सके, मदद करने के कई तरीके है जो आप अच्छी तरह से जानते है। किसी को खाना खिलाकर किसी को रास्ता पार कराकर परोपकार करने के अनगिनत तरीके है। बदले में आपको जो ऊर्जा मिलती है, उसका कोई मुकाबला हीं है।  ( Hamesha Motivated kaise Rahe? )

अपने विचारों को नयी उड़ान दे… पढ़े “secret” “रहस्य” – लेखक Ronda bhyne

“रहस्य” किताब खरीदने के लिए यहां क्लिक करें

9. अपने भीतर से प्रेरित हो ना कि बाहर से 

कई बार सड़क पर जाते हुए किसी बड़े इंसान को देख कर आपका मन प्रेरणा से भर जाता है। आप सोचते है आपको भी उसी की तरह तरक्की करनी है और आपका जोश उस समय वाकई देखने के लायक होता है लेकिन यह जोश कितनी देर या दिन का होता है? 

आपको यही समझने की आवश्यकता है कि आपके जो भी प्रेरणा है वह आपके अंदर से आए, खुद से आए। आपकी प्ररेणा का स्रोत कोई भी हो पर  प्रेरणा आपके अंदर से ही उत्पन्न होनी चाहिए। 

लेकिन दुर्भाग्य से प्रेरणा आमतौर पर बाहरी परिस्थितियों से प्रेरित होती है। इसीलिए जब आप उस तरह के वातावरण से दूर होते हैं तो साथ में प्रेरणा भी गायब हो जाती है। आपके लिए जरूरी है कि एक प्रेरित व्यक्ति बनें। और प्रेरणा अपने भीतर से जाग्रत करे।  ( Hamesha Motivated kaise Rahe? )

10. सब्र और धैर्य की शक्ति पर संदेह ना करें 

इंसान की सबसे बड़ी उपलब्धि है कि वह धैर्यशील होना इंसान की सबसे बड़ी ताकत समझी जाती है। मान लीजिए कभी कोई कष्ट लंबे समय तक रुक भी जाता है तो आपको पता होना चाहिए कि यह दुख आपके धैर्य से से बड़ा नहीं है। 

कई बार आप अपनी मेहनत को सिर्फ इसी कमी के कारण बर्बाद कर लेते है कि आपसे सब्र नहीं हो पाया। क्रोध हो या कोई भी बात हो आपके लिए सब्र का महत्त्व सबसे है।  ( Hamesha Motivated kaise Rahe? )

जाम से निकलने के बाद आप अपनी गाड़ी को रफ्तार से भगाना चाहते है पर यह धैर्य नहीं है – बल्कि आपको यह करना चाहिए था,  जाम से निकलने के बाद भी आपको अपनी गाड़ी की  उसी रफ्तार को बनाए रखना जो आपने जाम में फंसने से पहले से कर रखी थी। 

धैर्य ही सफलता का दूसरा नाम है।। 

यह भी पढ़े :

खुद को माफ कैसे करें? Khud ko Maaf kaise kare?

कर्म क्या है ? | What Is Karma?

क्रोध को नियंत्रित करने के 10 सबसे बेहतर उपाय | krodh ko niyantrit karne ke 10 Sabse behtar upay | TOP BEST TIPS TO CONTROL YOUR ANGER

अकेलेपन से होने वाले फायदे और नुकसान?2021|Akelepan Se Hone Wale Fayde Aur Nuksaan?2021| TOP BEST Advantages & Disadvantages of Living Alone

मन को शांत और स्थिर कैसे करें? | Man ko Shant Aur Isthir Kaise karein ? | Top Best 11 ways To clam and stabilize Your Mind

लेखकों के लिए 10 सर्वश्रेष्ठ डायरी | TOP 10 Best Dairies For Writers

बुद्धिमान व्यक्ति के 12 लक्षण | बुद्धि क्या है ?

By Nihal chauhan

मैं Nihal Chauhan एक ऐसी सोच का संरक्षण कर रहा हू, जिसमें मेरे देश का विकास है। में इस हिंदुस्तान की संतान हू और मेरा कर्तव्य है कि में मेरे देश में रहने वाले सभी हिंदुस्तानियों को जागरूक करू और हिंदी भाषा को मजबूत करू। आपके सहयोग की मुझे और हिंदुस्तान को जरुरत है कृपया हमसे जुड़ कर हमे शेयर करके और प्रचार करके देश का और हिंदी भाषा का सहयोग करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.