अपना जुनून कैसे खोजे? जुनून ही है जो लोगों को सफ़लता के सुनहरे अवसर के करीब ला देते हैं। जब तक आप अपने जुनूँ को नहीं पहचानते, आप अपना समय ही बर्बाद कर रहे होते हैं क्योंकि आपको सफ़लता और संतुष्टि नहीं मिलती। दुनिया में रहने वाला कोई व्यक्ति सिर्फ तभी खुश रह सकता है जब उसके भीतर संतुष्टि हो। बिना संतुष्टि के जीवन बस एक सजा की तरह है। 

यदि आप अपने जीवन को बदलना चाहते है या आप अपने जीवन को बदलने का प्रयास कर रहे हैं तो आपके लिए अपने जुनून को खोजना पहली प्राथमिकता होनी चाहिए। हालांकि जितना आसान ये लगता है कि इसे आप आसानी से खोज सकते हैं पर इसे खोजना भी उतना ही अधिक मुश्किल है।(अपना जुनून कैसे खोजे?)

यदि आप हर दिन अपने काम पर जाने से डरते है या नौकरी पर जाने से डरते हैं। आपका मन नहीं लगता। आप खुद के भीतर लगातार प्रेरणा की कमी पाते है तो आपको अपने जुनून को खोजने की सबसे अधिक आवश्यकता है। कई बार आप खुद को इतना अधिक सुस्त महसूस करते है, कि आपसे आपके काम हो ही नहीं पाते।

इस तरह की स्थिति इस बात का प्रतीक है कि आप जो काम कर रहे हैं, आप उसमे Interested नहीं है, और जिस काम को आप अपनी पूरी इच्छा से ना करे आप उसमे सफ़लता प्राप्त कर ही नहीं सकते। यदि आप वही नौकरी या काम करते रहे जिसमें आप खुद को उबाऊ महसूस करते है तो आप हमेशा दुखी रहेगे साथ ही आप कभी भी अपनी सफ़लता नहीं पा सकेंगे।(अपना जुनून कैसे खोजे?)

 यही नहीं इस तरह की जिंदगी में आप जीवन में अपनी पूरी क्षमता का एहसास नहीं सकते। ।इसीलिए आपको जरूरत है उस काम को छोड़ने की और उस काम को पकड़ने की जिसमें आपका जुनून है। लेकिन सबसे बड़ी चुनौती यही है कि जुनून कैसे खोजा जाए? 

दोस्तों हम आपको बतायेंगे कि किस तरह आप अपने भीतर के जुनून को खोज सकते हैं। 

कल्पना कीजिए – 

अपना जुनून कैसे खोजे?

आप हर रोज बिस्तर से जागने जागते है तो आपके मन में क्या विचार होते हैं? जी हां काम के बारे में? क्या आप काम पर जाने के लिए उत्साहित होते हैं? या आप काम पर जाना ही नहीं चाहते? दुनिया में 3 प्रकार के लोग है – एक वो जो अपने काम से इतने ज्यादा खुश और उत्साहित है कि वो रात को सोना ही नहीं चाहते बस काम करना चाहते हैं। 

और सुबह उठकर भी उन्हें अपने काम के प्रति लगाव होता है। उनके लिए वह काम कोई नौकरी या काम नहीं है उनके लिए उनका काम एक रोमांच है, मजा है जिंदगी का ऐसे लोग अपने काम के बिना खुश नहीं रह सकते। (अपना जुनून कैसे खोजे?)

आप आप सोच सकते है कि ऐसा काम करना कितना अच्छा है जिसमें आपको मजा भी मिलता है और पैसा भी!! 

दोस्तों ऐसा कोई काम नहीं है बल्कि काम कर प्रति आपका जुनून ही है जो इसे इतना मजेदार बना देता है। 

दूसरी नंबर पर ऐसे लोग है, जो बस neutral होकर अपना काम करते है, ना तो उन्हें उसमे कोई आंनद आता है, ना वो अपने काम से दुःखी है। अब ऐसे लोगों को आदत पड़ चुकी होती है, घुटन में रहने की या उनकी कोई मजबूरी या जिम्मेदारियाँ उन्हें इस तरह के जीवन जीने पर मजबूर करती है। ऐसे लोग मध्यम ही रहते हैं। या यूँ कहां जाए इस तरह के लोग अपने जीवन को बोझ समझ कर जीते है। (अपना जुनून कैसे खोजे?)

तीसरे नंबर पर ऐसे लोग है जो अपने काम से नफरत करते है जिनके बारे में लेख के शुरुआत में चर्चा हुयी। ऐसे लोगों को अपने काम से सिर्फ नकारात्मकता हाथ लगती है उन्हें लगता है वो फँस गए है और उन्हें इससे बाहर निकलना है। 

इस तरह के लोग पूरी तरह दुखी, और अवसाद ग्रस्त हो जाते है। इनके लिए इनका लक्ष्य खत्म हो जाता है। 

दोस्तों आप भी बतायी गयी इन्हीं तीन श्रेणियों में से किसी एक से ताल्लुक रखते होंगे और यदि आप पहली श्रेणी से है तो आप इस लेख को पढ़ने आते ही नहीं तो यह जाहिर है कि आप दूसरे या तीसरी श्रेणी में से है। 

जीवन में अपने जुनून को खोजने के लिए आपको निम्न विचारों पर गौर करना चाहिए :

क्या आपके पास पहले से ही कुछ ऐसा है, जिसे आप बहुत पसंद करते हैं? 

क्या आप पहले से ही किसी ऐसे काम को पसंद करते है जो किसी प्रकार के रोजगार में परिवर्तित हो सकता है? बचपन में हम कई तरह के सपने सजाते है लेकिन हमे उनमें से किसी एक में सबसे ज्यादा दिलचस्पी होती थी। हमने उन सपनों को देखा जरुर पर कभी असल जिंदगी में पूरा करने की एक कोशिश भी नहीं की। (अपना जुनून कैसे खोजे?)

मान लीजिए आप बचपन में कहानियां पढ़ने के शौकीन थे तो आप इसमे भी अपने कैरियर बना सकते है। आप चाहे तो किताबों की एक दुकान खोल सकते है या एक वेबसाइट बनाए जहां पर आप कहानियों की किताबे और कहानिया बेचने के लिए डाले। यह तो एक उदहारण है मुख्य बात यह है आपको ऐसा काम करना चाहिए जिसके लिए आप भीतर से राजी हों। अगर आप ऐसा करेगे तो आपको सफ़लता जरुर मिलेगी। 

यदि आपके दिमाग में कुछ भी ऐसा है जो आपको पसंद है, आप उसके बारे में पूरी रिसर्च करके यह पता कर सकते है कि उससे पैसे कैसे बनाये जा सकते हैं। 

कुछ ऐसा है जिसे आप घन्टों पढ़ते रहते हैं? 

आपको खुद पर एक नजर रखने की आवश्यकता होती है आपको अपनी गतिविधियों से यह अंदाजा लगाना चाहिए कि सबसे अधिक समय किस चीज में लगाते है। आपको यह देखना चाहिए कि ऐसा क्या है, जिसके बारे में आप हमेशा जानना चाहते हैं? काम पर जाते जाते भी आप उस चीज से चिपके रहते हैं। आपको विचार करना चाहिए कि आप किस तरह उन्हें अपने कैरियर के एक विकल्प के रूप में चुन सकते हैं। (अपना जुनून कैसे खोजे?)

कुछ चीजे ऐसी होती जिनकी जानकारी के लिए आप, टीवी देखते है, पत्रिकाएं मंगाते है और इन्टरनेट पर भी देखते रहते हैं। इस तरह की चीज़ों में कुछ संभावनाएं हो सकती हैं, और ये सभी संभावित करियर पथ हैं।  इन विषयों के लिए अपना दिमाग बंद न करें।  उन्हें तब तक देखें जब तक आपको यह महसूस न हो कि आपका दिल संतुष्ट है, और इससे आपको शुरुआत करने में मदद मिलेगी। इसी तरह से आप सीखेंगे कि अपने जुनून को कैसे खोजें।

मन का मंथन करे – 

अपना जुनून कैसे खोजे?

यदि आप ऐसा सोचते है कि बिना कुछ किए आपके दिमाग में एक खयाल आ जाएगा कि आपको ये करना है तो अफसोस ऐसा कभी नहीं होगा। आपको प्रयास करना होगा, आपको अपने विचारों को एक डायरी में लिखना शुरू कर देना चाहिए। ताकि आप यह तय कर सके कि आपको किस तरह के विचार ज्यादा आते है और किसमें आपको ज्यादा दिलचस्पी है।  आप जो कुछ भी लिख लेते है, वह सब बाद में आपके काम आता है। 

प्ररेणा पाने के लिए आप अपने आसपास देखे, अपने कंप्युटर पर, या कहीं भी और विचारों को लिखे हालांकि आप उसमे किसी तरह के नकारत्मक विचार ना लिखे। (अपना जुनून कैसे खोजे?)

अपने पसंद के लोगों को देखे – 

कुछ लोग आपको बड़े पसंद आते है लेकिन आपने कभी ये नहीं सोचा कि आखिर वो लोग आपको क्यों इतने पसंद है। आपको उनके काम करने का तरीका पसंद है या वो लोग जो काम करते है आपको वह काम पसंद है? इस तरह से भी आप खुद के जुनून को खोज सकते हैं। 

आप उन लोगों से बात करे कि आखिर वह लोग इस मुकाम तक कैसे पहुँचे उन्होंने यहां तक पहुंचने के लिए उस काम को कैसे किया? कई सारे सवाल आप उनलोगों से पूछ सकते हैं। आपको उन लोगों से भी बात करनी चाहिए जिन्होंने पहले से ही अपने जुनून की खोज कर ली है। (अपना जुनून कैसे खोजे?)

भले यह सब जानने में आपको काफी समय लग सकता है लेकिन यह आपकी जिंदगी और खुशियो का सवाल है। आपको अपने जुनून की खोज करने के लिए हर सम्भव हद तक जाना चाहिए। 

अपनी नौकरी अभी नहीं छोड़े – 

जब आपने यह विचार बना ही लिया है कि यह काम आप अब और नहीं कर सकते तो आपको अभी से ही नौकरी छोड़ने की आवश्यकता नहीं है। आपको सभी बातों को ध्यान में रखना होगा। आपका यह फैसला सराहनीय था कि जो काम आपको पसंद नहीं आप उसे नहीं करेगे लेकिन आप एकदम से उस काम को नहीं छोड़ सकते।

आपको अपने जुनून को खोजने और पूरा करने के लिए कुछ आर्थिक सहायता की आवश्यकता होगी इसीलिए आपको फ़िलहाल जब तक कि आप पूरी तरह अपने जुनून की खोज करके उसकी पड़ताल नहीं कर लेते तब तक आपको आर्थिक रूप से मजबूत रहना चाहिए। (अपना जुनून कैसे खोजे?)

जब आप संभावनाओं पर शोध कर रहे हों तो अपनी नौकरी में बने रहना सबसे अच्छा है। यदि सम्भव है तो आप अपने पसंद के काम को साल दो साल तक अपनी पुरानी नौकरी के साथ करे। और यदि ऐसा संभव नहीं है तो आपको बहुत जल्दी से नौकरी नहीं छोड़नी चाहिए। आपको अपने जुनून को पूरा करने के लिए आप एक दो साल तक नौकरी करके कुछ पैसे जमा करेगे तो यह आपके लिए और बेहतर रहेगा। 

पहले आजमा कर देखे – 

किसी भी काम को पहले आजमा लेना ही सबसे बेहतर उपाय है चुकीं आप अभी अपने जुनून को खोजने का प्रयास कर रहे है, इसलिए आपको इसे आजमाना जरुरी है ताकि आपको पता लग सके कि जो काम आप कर रहे है, उसमे वास्तव में आपको कोई दिलचस्पी है या नहीं। अपनी नौकरी जारी रखे और अपने नए काम पर भी ध्यान दे। बाद में जब आपको पक्का हो जाए कि वह काम करने में आपको मजा आ रहा है फिर आप उसे अपने जुनून के रूप में अपना सकते हैं। (अपना जुनून कैसे खोजे?)

कई कई बार ऐसा होता है कि कोई काम हमे शुरू में तो पसंद आता है लेकिन कुछ महीने गुजरने के बाद आप उससे भी ऊबना चालू कर देते हैं। इसीलिये किसी भी काम को पूरी तरह अपनाने से पहले उसे आजमा कर जरूर देखे। 

जितना हो सके उतनी जानकारी जुटाने का प्रयास करे – 

अपना जुनून कैसे खोजे?

जो आपको पसंद है या जो काम अब आपने अपने लिए चुना है। आपको उस काम के बारे में पहले पूरी जानकारी जुटानी चाहिए। जब आप उसके बारे में बहुत दिलचस्पी से जानकारी निकालते है तो यह एक संकेत होता है कि यह आपका जुनून हो सकता है और यदि आप जानकारी जुटाते समय ही खुद को उबाऊ महसूस करने लगे तो आपको समझ जाना चाहिए कि यह आपके लिए ठीक नहीं है। (अपना जुनून कैसे खोजे?)

अपने चुने हुए विषय के बारे में इन्टरनेट में मौजूद हर वेबसाइट को खंगाल डाले जो आपके उस विषय से जुड़ी हुयी है। आपको यह सारे काम धीरे-धीरे करने है और साथ में अपना पुराना काम भी चालू रखना है। जब तक कि वह विषय आपके सारे मापदंडों पर फिर नहीं होता तब तक आपको अपने पुराने काम से रिश्ता नहीं तोड़ना चाहिए। 

जिस काम के बारे में आप जानकारी निकाल रहे है आप उस की तह तक जाए और पता लगाएं कि उसे करने के लिए आप प्रयाप्त है या नहीं? 

अभ्यास करे – 

मान लेते है आपने कोई काम चुन लिया है और वह आपके मुताबिक है और आपको वह काम करने में आनंद मिलता है लेकिन आपको सिर्फ शौकिया कौशल स्तर पर उस काम में नहीं जाना चाहिए। सरल शब्दों में कहें तो आपको किसी भी काम करने के लिए अपनी पूरी मेहनत देने की आवश्यकता होती सिर्फ शौक होने से आप किसी भी कार्य में सफ़लता नहीं पाते। कईयों लोग ऐसे है जो अपने काम में मेहनत नहीं करते और फिर असफ़लता के कारण उनका काम में मन नहीं लगता और उन्हें लगता है कि उनका जुनून कुछ और है। (अपना जुनून कैसे खोजे?)

दोस्तों मेहनत करोगे तो ही सफ़लता मिलेगी और मेहनत के बाद यदि सफ़लता नहीं भी मिलती तो भी आपके मन में कोई मलाल नहीं रहता की आपने प्रयास ही नहीं किया। इससे आपको संतुष्टि मिलती है, और संतुष्टि सुख की निशानी है। हालांकि यदि आप मेहनत करते है तो 99% आपको सफ़लता मिलती ही है। लेकिन यदि आप अपने जुनून के साथ काम को अंजाम देते है तो 100% सफ़लता  मिलती है। 

यदि आप पैसा कमाना चाहते हैं – एक पेशेवर बनने के लिए – आपके पास पेशेवर कौशल होना चाहिए। अंत तक घंटों अभ्यास करें और ध्यान केंद्रित करना सीखें;  अगर यह कुछ ऐसा है जिसे आप पसंद करते हैं, तो अभ्यास कुछ ऐसा होना चाहिए जो आप करना चाहते हैं। (अपना जुनून कैसे खोजे?)

कभी हार ना माने  – 

दुनिया का सबसे आसान काम करने में भी लोगों को समस्याओं का अनुभव हुआ है। आपको यह मान लेना चाहिए कि आप दुनिया का कोई सा भी काम कर ले फिर भी आपके पास कुछ दुख और कुछ नहीं सुख हमेशा बने ही रहेंगे। अर्थात्‌ किसी भी काम को अधूरा छोड़ना आपके लिए सबसे अधिक नुकसानदायक हो सकता है। खासकर जब आप अपने जुनून के साथ होते है तब आपको बहुत ज्यादा धैर्य रखने की आवश्यकता होती है। 

आप जो भी कर रहे है, उसमे सफ़लता कब मिले या ना मिले आपको हर समय उसमे अपना बेस्ट देना है और पूरे जोश से लगे रहना है। आपको अपने काम से प्यार होना चाहिए, जैसे कि आप अपने प्रेमी या प्रेमिका से करते है। बेशक आपको उससे कोई फायदा नहीं फिर भी आप उसे छोड़ नहीं सकते इसी तरह आप अपने जुनून को छोड़ नहीं सकते और यदि वह काम हकीकत में आपका जुनून होगा तो आप चाहकर भी उसे छोड़ नहीं पायेंगे। (अपना जुनून कैसे खोजे?)

कभी हार ना मानना ही सफ़लता का दूसरा नाम है। आपका जुनून आपको इस मुकाम पर पहुंचा सकता है। यदि आपके पास आपका जुनून है तो आप हार मान ही नहीं सकते यदि आप हार मान रहे हैं तो समझ लीजिए कि वह आपका जुनून है ही नहीं। 

हर दिन अच्छा नहीं होता, कभी नुकसान कभी फायदा लगा रहता है आपको किसी भी चीज से प्रभावित नहीं होना है बल्कि अपने काम को उसी रफ्तार से करना है जैसा आपने उसे पहली बार चालू करने पर किया था। 

यदि आपको अपना जुनून मिल गया है लेकिन आप अभी भी उस काम के सहारे जीवन यापन करने में सफल नहीं हुए हैं?  कोशिश करते रहें, और तब तक कोशिश करें जब तक आप सफल न हों।  सफलता आसान नहीं होती, इसलिए जल्दी हार मान लेना असफलता का एक निश्चित तरीका है।(अपना जुनून कैसे खोजे?)

अंतिम विचार :

आपका जुनून क्या है यह आपको समझना होगा लेकिन जुनून की पहचान करने के लिए कई तरीके है, जिनके बारे में हमने ऊपर जाना हैं। आप जो भी करते है, उसमे आप सिर्फ जीतना चाहते है, लेकिन ऐसा नहीं है। आप दुनिया का कोई भी काम चुनो सबमें संघर्ष करना होता है, हर सफ़ल व्यक्ति के पीछे कईयों असफलताओं का सार होता है लेकिन वह व्यक्ति सफल इसलिए होता क्योंकि वह अपने काम में लगातार बना रहता है। वह असफलताओं से डरता नहीं है बल्कि उनसे सीखता है। (अपना जुनून कैसे खोजे?)

जुनून को खोजना आसान है लेकिन उसके लिए संघर्ष करना थोड़ा कठिन हो सकता है। आपको संघर्षशील होने की आवश्यकता है। एक बार सोच समझ कर चुनाव करे और फिर उसी पर टिके रहे। 

कोई जल्दबाज़ी नहीं है आपने जुनून को खोजने के लिए पर्याप्त समय ले और उसपर पूरा शोध करे। 

यह भी पढ़े :

अकेले खुश कैसे रहें? : अकेले खुश रहने के 13 तरीके

धैर्य कैसे रखें ? : सफलता के लिए धैर्य क्यों जरूरी है?

पक्की सफलता के लिए आकर्षण के 10 नियम | Benefits Of Law Of Attraction In Hindi

जीवन से हारा हुआ महसूस करने पर क्या करें? – Jeevan Se Hara Hua Mehsus Karne Par Kya Kare ?

विश्वास कैसे बनाएं ?- Vishwas kaise Banaye? – How To Cultivate Faith?

बुरे दिन से निबटने के 5 सफल तरीके | How To deal With A bad day ?

By Nihal chauhan

मैं Nihal Chauhan एक ऐसी सोच का संरक्षण कर रहा हू, जिसमें मेरे देश का विकास है। में इस हिंदुस्तान की संतान हू और मेरा कर्तव्य है कि में मेरे देश में रहने वाले सभी हिंदुस्तानियों को जागरूक करू और हिंदी भाषा को मजबूत करू। आपके सहयोग की मुझे और हिंदुस्तान को जरुरत है कृपया हमसे जुड़ कर हमे शेयर करके और प्रचार करके देश का और हिंदी भाषा का सहयोग करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.