क्या आपका पीरियड नॉर्मल है? आपका मासिक धर्म चक्र आपको आपके स्त्री रोग संबंधी स्वास्थ्य के बारे में क्या बता सकता है ? हर एक महिला के लिए मासिक धर्म का अनुभव अलग अलग हो सकता है जरूरी नहीं कि सभी महिलाएं एक ही तरह का दर्द महसूस करे। हर महिला के लिए उसके मासिक धर्म का चक्र की अवधि , दर्द, रक्तप्रवाह, ऐंठन और प्रवाह भारीपन अलग अलग हो सकता है। 

यह सारी बातें आपको बताती है कि आपका पीरियड नॉर्मल है या यह निर्धारित स्वस्थ्य मापदंडों के बाहर है। यह पता लगाने के लिए की आपके पीरियड्स समान्य है या नहीं? हम आपको पूरी जानकारी मुहैया कराएंगे। 

क्या आपका पीरियड नॉर्मल है?

एक समान्य मासिक धर्म का चक्र क्या माना जाता है? 

21 से 35 दिन का मासिक धर्म चक्र नॉर्मल माना जा सकता है। यदि average देखा जाए तो 28 दिन का मासिक धर्म चक्र नॉर्मल और स्वस्थ्य माना जाता है। मासिक धर्म 5 से 6 दिन तक रहे तो इन्हें समान्य श्रेणी में ही रखा जाता है। यदि आपकी पीरियड्स की अवधि 5 या 6 दिन से ज्यादा है तो आपको उचित चिकित्सा सलाह लेनी चाहिए। (क्या आपका पीरियड नॉर्मल है?)

मासिक धर्म किस उम्र में शुरू और खत्म होता है? 

किसी भी लड़की के लिए मासिक धर्म शरू होना इस बात का संकेत होता है, कि वह अब प्रजनन करने के लिए तैयार हो रहीं है। मासिक धर्म की सामान्य अवधि 11 से 13 वर्ष की उम्र में लड़की के यौवन के आसपास शुरू होती है, और  यह प्रजनन क्षमता की शुरुआत का प्रतीक है। हालांकि शुरुआती एक साल तक मासिक धर्म में कुछ अनियमितता होने की आशंका होती है।

एक सटीक मासिक धर्म स्थापित करने के लिए लकड़ी शुरुआत में मासिक धर्म की अनियमितता देख सकती है। कभी कभी यह 3 से चार दिन या कभी 5 से 6 दिन लेकिन धीरे-धीरे यह अवधि भी समान्य और स्थगित हो जाती है। हो सकता है मासिक धर्म का पूर्ण पैटर्न बनने के लिए बीच में एक या दो महीने का गैप भी हो जाए।  (क्या आपका पीरियड नॉर्मल है?)

पीरियड्स के झंझट से छुटकारा पाने की उम्र 51 साल पर आती है और इस स्टेज को अंग्रेजी में MENOPAUSE कहते है और हिंदी में “रजोनिवृत्ति”। इस उम्र के आसपास आने पर आप मासिक धर्म चक्र से निजात पा लेते हैं। 

असामान्य पीरियड्स प्रवाह (Menstrual flow) कैसे स्पॉट करें? 

Menstrual flow)

आपके समान्य पीरियड्स के दौरान आपने जो लक्षण महसूस किये यदि आपको उनसे अलग लक्षण और अलग रक्तप्रवाह महसूस करते है तो आप आसानी से Abnormal Menstruation Flow को स्पॉट कर सकते हैं।  (क्या आपका पीरियड नॉर्मल है?)

असामान्य मासिक धर्म के लक्षण क्या है? 

  • गंध – पीरियड्स के दौरान Smell Infections (गंध संक्रमण) होना या विशेष रूप से बैक्टीरियल वेजिनोसिस होना आपको बहुत गंदी दुर्गंध से पीड़ित कर सकता है। इस तरह के smells infection सिर्फ पीरियड्स के दौरान ही नहीं बल्कि कभी भी हो सकते हैं। 
  • रंग – पीरियड्स के दौरान निकलने वाला रक्त प्रवाह का रंग गहरे लाल रंग से लेकर हल्के लाल रंग और गहरा ब्राउन रंग तक समान्य माना जाता है। लेकिन यदि इसका रंग हरा है और साथ में सफेद मवाद भी आ रहा है तो इसके यह सामन्य नहीं है। 
  • Consistency – छोटे गोल गोल या डोम के आकार के खून के थक्के स्वाभाविक है लेकिन यदि आप मास के बड़े टुकड़े (एक गोल्फ बाल जितने बड़े) महसूस करते है तो यह असमान्य है। यदि खून में कुछ छोटे छोटे दानेदार ऊतक (Tissue) है, तो चिंता ना करे यह आपके गर्भाश्य की भीतरी टूटने वाली परत का हिस्सा होती है। 
  • असमान्य रूप से बहुत ज्यादा प्रवाह होना – इस विकार को menorrhagia के नाम से भी जाना जाता है। इसका पता तब चलता है जब आपको एक घंटे में अपना पैड बदलना पड़े अर्थात्‌ तादाद से ज्यादा bleeding हो रहीं हैं। यदि आपको चक्कर आ रहे हैं तो यह भी इसी बात का संकेत है कि आपका रक्त रिसाव समान्य से अधिक हो रहा है। 
  • तीव्र दर्द और ऐंठन –  आमतौर पर पीरियड्स में होने वाले दर्द सामान्य होते है। पीरियड्स की वज़ह से आपकी दैनिक क्रिया पर कोई असर नहीं पड़ता यदि आपके मामले में ऐसा नहीं है? आप समान्य से ज्यादा दर्द और सूजन महसूस करती है जिससे आप अपनी दैनिक क्रियाएं करने में भी असमर्थ हो जाती है तो यह असमान्य है और हो सकता है आप किसी विकार से पीड़ित हो। इस तरह की स्थिति एंडोमेट्रियोसिस भी हो सकती है, जिसमें आप लगातार तीव्र दर्द का अनुभव करती है। इस बारे में और अधिक जानने के लिए यहां क्लिक करें…. 
  • जी मचलना और उल्टी  –  यदि आप किसी भी तरह के गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल लक्षण अनुभव करती है तो यह मासिक धर्म के लिए असमान्य हो सकता है। मासिक धर्म के दौरान उल्टी और मितली का अनुभव करते है तो इसका कुछ ना कुछ मतलब निकलता है। लोग इस तरह के लक्षणों को IBS (irritable bowel syndrome) समझते हैं, जिसे हिंदी में चिड़चिड़ा आंत विकार भी कहा जाता है। लेकिन यह IBS नहीं हो सकता। ब्लकि यह लक्षण Endometriosis के हो सकते है चुकीं इसके लक्षण एक जैसे है इसलिए confusion हो जाती है ।

असमान्य पीरियड्स (Menstrual cycle) का कारण क्या हो सकते है?

असमान्य period होने के पीछे कई कारण हो सकते हैं। दुनिया भर में सबसे अधिक समस्या इसी चीज़ की है कि महिलाओं को असमान्य मासिक धर्म का अनुभव करना पड़ता है। निम्न कारणों से आप असमान्य पीरियड्स का अनुभव कर सकती है :

  • STD Disease – कई तरह की Sexually transmitted बीमारियाँ भी असमान्य पीरियड्स का कारण बन सकती है। STD ऐसी बीमारियाँ होती है जो सम्भोग करने से फैलती है। STD या कोई infection होने पर आपके गर्भाश्य से जुड़ी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है जिससे कि आपका मासिक धर्म प्रभावित होता है। 
  • एंडोमेट्रियोसिस – , एक पुरानी बीमारी जिसमें गर्भाशय जैसा ऊतक गर्भाशय के बाहर अन्य अंगों पर बढ़ता है, भारी रक्तस्राव और तीव्र दर्द का कारण बन सकता है।
  • पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (PCOS), – यह एक तरह का अनियंत्रित हार्मोन के उत्पादन से जुड़ा हुआ विकार है। जिसमें androgen का उत्पादन बड़ने के कारण यह पुरुष मेट्रोरहागिया को प्रेरित करता है जिसके कारण मासिक धर्म की अवधि ज्यादा हो जाती है और आगे भी यह बढ़ती ही जाती है। 
  • PELVIC INFLAMMATORY DISEASE  (PID), – इस बीमारी में महिलाओं के reproduction system में infections हो जाता है जिससे उन्हें मासिक धर्म में के , अनियमित चक्र, तीव्र दर्द और ऐंठन के साथ साथ बहुत ज्यादा रक्त प्रवाह होता है। यह आपकी योनि में , बदबूदार योनि बलगम पैदा कर सकता है।
  • तनाव – यदि आप बहुत ज्यादा तनाव ग्रस्त रहते है तो यह आपके मासिक धर्म को असमान्य बना सकता है। तनाव गोनैडोट्रोपिन और गोनैडल स्टेरॉयड हार्मोन को दबा देता है, जो सामान्य मासिक धर्म चक्र को बाधित करता है। 
  • खाने के विकार, परहेज और बहुत ज्यादा व्यायाम से भी पीरियड्स पर प्रभाव पड़ता है। इस तरह की स्थिति को एमेनोरिया कहा जाता है। ऐसा होने के पीछे का कारण hypothalamus से गोनैडोट्रोपिन के रिसाव का बाधित होना माना जाता है। 
  • मोटापा – आमतौर पर मोटापा असमान्य मासिक धर्म से जुड़ी किसी समस्या से संबंधित नहीं है लेकिन यह PCOS और गर्भाशय के कैंसर के खतरे को बढ़ाता है, ये दोनों आपको असामान्य रक्तस्राव के लिए प्रेरित कर सकते हैं। 

MOTAPA KAM KARNE KE ASAAN UPAY 

पीरियड्स की अनियमितता का कारण क्या है? – (What Causes Menstrual Cycle Irregularities? IN HINDI ) 

मासिक धर्म की अनियमितता 35 दिनों से ज्यादा की मानी जाती है, एक स्वस्थ मासिक धर्म 21 से 28 दिनों के अंतराल पर होना चाहिए। यदि आपके पीरियड्स 21 दिन से कम दिनों में आ जाते हैं या फिर 35 दिनों के बाद भी नहीं आते तो यह मासिक धर्म के अनियमितता में गिने जाते हैं। 

इस तरह की स्थिति बनने के पीछे कई तरह के विकार हो सकते है जिसमें – थायराइड की समस्या, पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज (PID), और पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (PCOS) जैसी बीमारियों से ग्रसित होने के कारण हो सकता है। 

बीमारियों के अलावा ऐसे कुछ कारण जो आपके मासिक धर्म की अनियमितता के लिए जिम्मेदार होते हैं निम्न है :

  • अधिक व्यायाम 
  • खाने से जुड़े 
  • तनाव 
  • चिंता 
  • अवसाद 
  • हार्मोनल disbalance 
  • परहेज 
  • पेरिमेनोपॉज़ 
  • वजन घटाने का प्रयास 

ऊपर बताये गये कारणों से आप पीरियड्स की अनियमितता का अनुभव कर सकते हैं। यदि आप स्वस्थ्य और पीड़ा रहित मासिक धर्म चाहते है तो लेख के अंत में दिए कुछ उत्पादों का सेवन करे। 

नॉर्मल पीरियड्स के लिए क्या करे? (Treatment for Abnormal Menstruation Cycle In Hindi) 

यदि आप पहले से ही किसी प्रकार की दवाइयों का सेवन करते है तो आप अपने डॉक्टर के पास जाकर अपने आहार को बदलने के बारे में बात कर सकते हैं। ऐसी स्थिति में आपको डॉक्टर से ही सलाह लेनी चाहिए और खुद कुछ भी नहीं करना चाहिए। लेकिन इस सब के दौरान आप अपने पीरियड्स को नॉर्मल करने के लिए कुछ जरुरी कदम उठा सकते हैं :

  • यदि आप बहुत मोटे है तो आपको अपना वजन कम करने के लिए प्रयास करना चाहिए जिसके लिए आपको मध्यम व्यायाम का सहारा लेना है। बहुत अधिक व्यायाम भी आपको असमान्य मासिक धर्म की तरफ ले जा सकता है। 
  • पीरियड्स को नॉर्मल करने के लिए आप नियमित योग करे। 
  • चिंता, तनाव और अवसाद मुक्त रहे । 
  • मेडिटेशन करे। 
  • दर्द से बचने के लिए आप नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स का सेवन कर सकते हैं। (periods के दर्द से बचने के बारे में जानने के लिए यहां क्लिक करें..) 

अंतिम विचार :

महिलाओ के लिए यह बेहद जरुरी है कि उनका मासिक धर्म स्वस्थ हो। कई बार थोड़ी बहुत अनियमितता हो सकती लेकिन यदि आपको महसूस होता है कि यह आपके अनुसार नहीं है तो आपको अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। स्वस्थ्य मासिक धर्म के लिए आपको स्वस्थ्य आहार लेना चाहिए। 

यदि आप बार बार पैड बदलने से परेशान है तो आपको period cup का उपयोग करना चाहिए यह आपको अधिक आजादी देते हैं और पूरी तरह सुरक्षित है। 

Period cup खरीदने के लिए यहां क्लिक करें…. 

यह भी पढ़े :

विज्ञान के अनुसार : हस्तमैथुन स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह या फायदेमंद | Hastmaithun ke Fayde Aur Nuksaan

jangho ki khujli ke Karan Aur ilaj | जांघों की खुजली के कारण , इलाज और लक्षण (jock Itching)

ब्रेस्ट (स्तन) साइज बढ़ाने के 10 उपाय | BREAST SIZE Badhane ke Upay

उल्टी रोकने के उपाय | Ulti Rokne ke Upay | How To Treat vomiting?

पेशाब में जलन और दर्द के कारण और उपचार | Dysuria Treatment

By Nihal chauhan

मैं Nihal Chauhan एक ऐसी सोच का संरक्षण कर रहा हू, जिसमें मेरे देश का विकास है। में इस हिंदुस्तान की संतान हू और मेरा कर्तव्य है कि में मेरे देश में रहने वाले सभी हिंदुस्तानियों को जागरूक करू और हिंदी भाषा को मजबूत करू। आपके सहयोग की मुझे और हिंदुस्तान को जरुरत है कृपया हमसे जुड़ कर हमे शेयर करके और प्रचार करके देश का और हिंदी भाषा का सहयोग करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.