दिखने में कीड़े जैसे लगने वाला शहतूत, असल में बेहद लोकप्रिय और फायदेमंद है। हालाकि कई जगहों पर शहतूत इतना लोकप्रिय नहीं है क्योंकि लोग प्रकृति के इस अनमोल तोहफे के बारे में जानते ही नहीं है। शहतूत एक ऐसा फल है जिसके दो स्वाद हो सकते हैं, और इसीलिए भी शहतूत काफी पसंद किया जाता है। हल्का कच्चा शहतूत खट्टा स्वाद वाला होता है, वही पूरी तरह से पका हुआ शहतूत शहद की तरह मीठा होता है। 

शहतूत का पेड़ परंपरागत रूप से उनकी पत्तियों के लिए उगाए जाते हैं – मुख्य रूप से एशिया और उत्तरी अमेरिका में – क्योंकि वे एकमात्र ऐसा भोजन हैं जो रेशम के कीड़े खाते हैं 

शोधकर्ताओं ने शहतूत को कई तरह के स्वास्थ्य फायदों के साथ जोड़ा है। शहतूत ब्लड शुगर को नियंत्रित करता है, खराब Cholesterol के स्तर को कम करने में सहायक होता है और हृदय स्वास्थ्य को बेहतर रखने में मदद करता है ।शहतूत ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखने में भी सहायक है। पाचन तंत्र को बेहतर बनाने के लिए भी शहतूत फायदेमंद होता है। 

वही दूसरी तरह शहतूत खाने से कैंसर का खतरा कम होता है और रक्त परिसंचरण में सुधार होता है। शहतूत से एनीमिया का इलाज होता है, नेत्र दृष्टि में सुधार होता है, दिल को स्वस्थ रखने में मदद मिलती है, मस्तिष्क के स्वास्थ्य को बढ़ावा मिलता है, प्रतिरक्षा शक्ति में वृद्धि होती है और हड्डी के ऊतकों का निर्माण होता है।

Table of Contents

शहतूत क्या है? 

शहतूत के फायदे , उपयोग और नुकसान

अंगूर जैसे स्वाद वाला शहतूत एक फल है। शहतूत की संरचना ब्लैकबेरी या लोगानबेरी के समान होती है। शहतूत अपने फल परिवार में सबसे रसीले फल है। शहतूत मांसल, बेहद स्वादिष्ट और रसीले होते हैं। शहतूत का स्वाद हल्का, मीठा होता है। शहतूत अंजीर और ब्रेडफ्रूट से संबंधित हैं।(1)

शहतूत कोई ऐसा फल नहीं है जो एक फल हो बल्कि इसमे कई सारे फल एक साथ केंद्रित होते हैं इसी कारण यह बेहद रसीला होता है। फल एक समूह में होते हैं और एक केंद्रीय अक्ष के चारों ओर एकाग्र रूप से व्यवस्थित होते हैं।  शहतूत का सेवन ताजा और सूखे दोनों ही रूपों में किया जा सकता है। शहतूत रेशमकीट के पेड़ से प्राप्त होते हैं।

हालांकि शहतूत की कई प्रजातियां है, लेकिन मुख्य रूप से शहतूत तीन प्रकार के होते हैं :

  • लाल शहतूत (Morus Rubra) 
  • सफेद शहतूत (Morus Alba) 
  • काला शहतूत (Morus Nigra) 

शहतूत में मात्र 60 कैलोरी होती है जो इसे वजन घटाने के लिए के लिए भी स्वस्थ आहार बनाता है। शहतूत में पाए जाने वाला कार्बोहाइड्रेट शुगर को ग्लूकोज में बदल देते हैं, जिससे हमारे शरीर की कोशिकाओं को ऊर्जा मिलती है।  शहतूत खनिजों से भरपूर है इसलिए इसके सेवन से आपके शरीर में आयरन की मात्रा को भी बढ़ जाती है और शहतूत आपके टिश्यू (ऊतकों) को आवश्यक ऑक्सीजन देता है।  शहतूत में राइबोफ्लेविन (विटामिन बी-2 के रूप में भी जाना जाता है) भी होता है, जो आपके ऊतकों को मुक्त कणों (Free Radicals) से बचाता है और पूरे शरीर में ऑक्सीजन को स्थानांतरित करने में मदद करता है।

इतने सारे पोषक तत्वों के साथ, शहतूत सचमुच फलों के साम्राज्य में हरफनमौला है।  आइए जानते हैं इसके कुछ फायदों के बारे में।

शहतूत का इतिहास – 

शहतूत के फायदे , उपयोग और नुकसान

जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया है कि शहतूत से अधिक उपयोग शहतूत के पेड़ की पत्तियों का होता है। क्योंकि शहतूत की पत्तियों का उपयोग रेशम के कीड़े को खिलाने के लिए किया जाता है इसीलिए शहतूत का इतिहास रेशम उद्योग के विकास से जुड़ा हुआ है।  

रेशम के कीड़ों को मोटा करने के लिए पूर्वी क्षेत्रों में शहतूत के पत्तों का उपयोग किया जाता था। दुनिया भर में शहतूत के पेड़ों के प्रसार के पीछे रेशम उद्योग ही है जिसमें रेशम उद्योग के लिए शहतूत के पत्तों की आवश्यकता थी। 

धीरे-धीरे शहतूत ओरिएंटल देशों से यूरोप के ग्रामीण क्षेत्रों में फैल गया। और आज भी, आप तुर्की के लोगों को शहतूत के पेड़ उगाते हुए देख सकते हैं, वह भूमि जहाँ विश्व प्रसिद्ध तुर्की रेशम कालीन का उत्पादन किया जाता है।

शहतूत को प्राचीन यूनानियों के साथ भी जोड़ा गया है माना जाता है कि प्राचीन युनानी लोगों में शहतूत लोकप्रिय थे, और यह फल ज्ञान की देवी मिनर्वा को समर्पित था।  इतिहासकारों के अनुसार पहला शहतूत  करीब 1500 के दशक में इंग्लैंड में लगाया गया था।

शहतूत के पोषक तत्व – 

शहतूत पोषण से भरपूर है जिसमें खनिज, प्रोटीन और विटामिन प्रचुर मात्रा में पाए जाते है। शहतूत का पेड़ उनकी पत्तियों के लिए उगाये जाते है जो कि मुख्य रूप से उत्तरी अमेरिका और एशिया में उगाये जाते है। शहतूत कई तरह से उपयोग किया जाता है जिसमें शहतूत से शराब, दबाई, फलों का रस, jam और चाय और डिब्बे बंद खाद्य पदार्थों में होता है। 

ताजे पेड़ से टूटे हुए शहतूत में 88% पानी होता है और प्रति कप केवल 60 कैलोरी (140 ग्राम) होती है।

शहतूत के ताजा वजन से, वे 9.8% कार्ब्स, 1.7% फाइबर, 1.4% प्रोटीन और 0.4% फैट प्रदान करते हैं।

शहतूत को अक्सर किशमिश की तरह सुखाकर खाया जाता है। सूखे हुए शहतूत के इस रूप में, शहतूत 70% कार्ब्स, 14% फाइबर, 12% प्रोटीन और 3% फैट होता हैं – शहतूत के यह पोषण इसे अधिकांश जामुनों की तुलना में प्रोटीन से काफी अधिक बनाते हैं।

शहतूत हमारे स्वास्थय के लिए फायदेमंद फाइटोन्यूट्रिएंट यौगिकों से बने होते हैं जिनमें पॉलीफेनोल वर्णक एंटीऑक्सिडेंट, खनिज, विटामिन, लिपिड, प्रोटीन, आहार फाइबर, उच्च जल सामग्री आदि शामिल हैं।

शहतूत में राइबोफ्लेविन भी होता है और यह आयरन का बेहतरीन स्रोत हैं।  शहतूत पोटेशियम, मैंगनीज, मैग्नीशियम, फास्फोरस, सोडियम और जस्ता जैसे खनिजों का अच्छा स्रोत हैं।  इनमें एंथोसायनिन की मात्रा काफी अधिक होती है।  इनमें रेस्वेराट्रोल और ज़ेक्सैन्थिन भी होते हैं।

100 ग्राम ताजे शहतूत में पाए जाने वाले मुख्य पोषक तत्व निम्न है – 

कैलरी – 43

प्रोटीन – 1.4 ग्राम 

Carbs – 9.8 ग्राम 

फाइबर – 1.7 ग्राम – 

शहतूत में प्रचुर मात्रा में फाइबर मौजूद होता है, जो शहतूत के ताजे वजन का 1.7% होता है। शहतूत में पाए जाने वाले फाइबर दोनों ही रूपों में होते है घुलन शील और अघुलनशील। शहतूत में यह फाइबर पेक्टिन के रूप में घुलनशील करीब 25%)और लिग्निन के रूप में अघुलनशील करीब 75% होते हैं। (2)

स्वस्थ्य पाचन क्रिया के लिए फाइबर महत्पूर्ण घटक होते हैं यह आपके पाचन तंत्र को बेहतर बनाए रखने, और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करके कई बीमारियों के जोखिम को कम करने में मदद करते हैं। (3)

शुगर – 8.1 ग्राम 

फैट – 0.4 ग्राम 

Calcium – 60%

Vitamin C – 10%

Iron – 5%

पानी – 88%

पेड़ से टूटे हुए ताजा शहतूत में नॉर्मल शुगर , स्टार्च और घुलनशील और अघुलनशील फाइबर के रूप में करीब 10% कार्ब्स होते हैं। शहतूत में पानी की मात्रा अधिक होती है इसलिए यह आपको पानी की कमी से बचाते है और इनमे भी कैलोरी भी कम होती हैं।

शहतूत : विटामिन और खनिज 

शहतूत में कई प्रकार की Vitamin और खनिज पाए जाते हैं जिसमें से शहतूत मुख्य रूप से विटामिन c और Iron से भरपूर होते हैं। 

Vitamin C – हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में सहायक होती है और त्वचा के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होती है। vitamin C विभिन्न शारीरिक कार्यों के लिए महत्वपूर्ण है। (4)

Iron – हमारे शारीरिक विकास और बेहतर स्वास्थ्य के लिए लोहा बेहद जरूरी है। शहतूत में लोह तत्व प्रचुर मात्रा में होते हैं। लोहा हमारे पूरे शरीर में ऑक्सीजन का परिवहन करता है ।

Vitamin K1 – को फाइलोक्विनोन (phylloquinone) के रूप में भी पहचाना जाता है, Vitamin k blood clotting (रक्त के थक्के) और हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होती है। (5) (6)

Vitamin E –  विटामिन E एक Antioxidant की भूमिका निभाती है जो oxidative स्ट्रेस से उत्पन होने वाले फ्री रैडिकल (मुक्त कणों) से होने वाले नुकसान से बचाती है। oxidative stress को कैंसर से जोड़ा गया है। (7)

Potassium – पोटेशियम मानव शरीर के लिए एक महत्वपूर्ण खनिज है, यह हमारे ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करता है और हृदय स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए उपयोगी है। (8)

कुल मिलकार शहतूत vitamin और खनिजों से भरपूर होते हैं जिसमें से आयरन और विटामिन सी दोनों की उच्च मात्रा होती है, साथ ही साथ पोटेशियम और विटामिन E और K की भी अच्छी मात्रा होती है।

शहतूत के फायदे – Benefits of mulberry In Hindi 

शहतूत को खाने से कई तरह से स्वास्थ्य फायदे उठाए जा सकते हैं। खासकर काले शहतूत अधिक पोषण युक्त माने जाते हैं। बेहतर लाभ उठाने के लिए आपको शहतूत का सेवन करना चालू कर देना चाहिए जिससे आपको निम्न फायदे होंगे :

पाचन तंत्र को बेहतर करने के लिए शहतूत के फायदे – Benefits Of mulberry For Digestion In Hindi 

शहतूत फाइबर का उच्च स्त्रोत होते हैं। बेहतर पाचन के लिए हमारे शरीर को पर्याप्त फाइबर चाहिए होते हैं जो कि शहतूत खाने से मिल सकते हैं। फाइबर पेट में मल को बढ़ाने में मदद मिलती है जिससे आप सुगम मल त्याग कर पाते हैं। यह प्रक्रिया हमें कब्ज, सूजन और पेट में होने वाली ऐंठन की समस्या से छुटकारा दिलाती है।

रिटिस इंस्टीट्यूट और कैथोलिक यूनिवर्सिटी ऑफ सेक्रेड हार्ट द्वारा किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि जिन लोगों ने अपने आहार में तीन महीने के लिए शहतूत को शामिल किया उन्होंने अपने कुल वजन का 10% वजन कम किया। 

ब्लड शुगर को नियंत्रित करने के लिए शहतूत के फायदे – Mulberries for sugar control In Hindi 

आज शुगर दुनिया की सबसे बड़ी बीमारियों में से एक है, हाल में हुए एक शोध के अनुसार भारत में रहने वाला हर 5 वा व्यक्ति अनियन्त्रित ब्लड शुगर के साथ जीवन जीं रहा है। यदि आप भी शुगर की बीमारी से ग्रसित होने से बचना चाहते है तो सफेद शहतूत का सेवन आपके लिए सबसे बेहतर उपाय है। 

वैज्ञानिकों द्वारा किए गए कुछ अध्यन स्पस्ट करते है कि सफेद शहतूत में पाए जाने वाले कुछ रसायन टाइप -2 मधुमेह के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवाओं के समान होते हैं। शहतूत में पाए जाने 1-deoxynojirimycin (DNJ), यौगिक शुगर को तोड़कर और रक्त में अवशोषित होने की अनुमति देकर ब्लड शुगर के स्तर को नियंत्रित रखने में मदद करते हैं। (9)(10)

रक्त परिसंचरण बेहतर बनाने के लिए शहतूत के फायदे – Benefits of mulberry for better blood circulation In Hindi 

बेहतर स्वास्थ्य के लिए ब्लड Circulation सुचारु हो यह सुनिश्चित करना बेहद आवश्यक है। शहतूत में पाए जाने वाले Antioxidant इसे आपके लिए फायदेमंद बनाते है। शहतूत में मौजूद Antioxidants हमारी रक्त वाहिकाओं को लचीला और उन्हें फैलाकर कामकाज को बढ़ाने और बेहतर ढंग से करने में मदद करते हैं। नतीजतन, हमारा रक्त प्रवाह बाधित नहीं होता है और हृदय और शरीर के अन्य हिस्सों में रक्त का प्रवाह पूरी तरह सटीकता से और मुक्त होता है।

शहतूत Iron ka उच्च स्त्रोत होते हैं जो लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन को बढ़ाने के लिए जिम्मेदार होते हैं। शहतूत एनीमिया जैसी बीमारी को ठीक करने के लिए सुरक्षित और फायदेमंद है ।वही पोटेशियम ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखने में मदद करता है। 

कैंसर के जोखिम को कम करने के लिए शहतूत के फायदे – 

तनाव को बड़ती स्थिति हमारे शरीर में oxidative तनाव को बढावा देती है जिससे शरीर में मुक्त कण उत्पन होते है जिन्हें कैंसर के लिए मुख्य रूप से जिम्मेदार माना जाता है। ऐसे में शहतूत आपकी इस गंभीर समस्या को दूर करने में मदद कर सकते हैं। बढ़ते हुए oxidative स्ट्रेस से ऊतकों और कोशिकाओं को नुकसान पहुंचता है। जिससे कैंसर होने की संभावना अधिक होती है। (14)

हज़ारों वर्षों से, शहतूत पारंपरिक चीनी चिकित्सा का हिस्सा रहा है। इसका उपयोग एक उपाय के रूप में कैंसर के खिलाफ किया जाता था। लेकिन अब कुछ शोधकर्ता मानते हैं कि इन प्रतिष्ठित कैंसर-निवारक प्रभावों का वैज्ञानिक आधार हो सकता है। (15)

किए गए कुछ पशु अध्ययनों से संकेत मिलते है कि शहतूत के रस में हो एंटीऑक्सिडेंट मौजूद है वे ऑक्सीडेटिव तनाव को कम कर सकते हैं – इस तरह से शहतूत संभावित रूप से कैंसर के जोखिम को कम कर सकता हैं। (16)

हालांकि हम शहतूत को कैंसर या किसी भी बीमारी का इलाज नहीं समझ सकते लेकिन सांकेतिक रूप से जो प्रभाव देखे गए हैं उन्हें भी नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। 

आँखों की रोशनी बढ़ाने के लिए शहतूत के फायदे – Benefits Of Mulberry For Increasing Eyesight 

आँखों की रोशनी बढ़ाने के लिए शहतूत का सेवन करना स्वादिष्ट और उपयोगी उपाय है। हमारी आँखों के स्वास्थ्य के लिए उपयोगी तत्व ज़ेक्सैन्थिन शहतूत में प्रचुर मात्रा में मौजूद है। यह यौगिक हमारी आँखों को बनाने वाली कोशिकाओं में ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने में मदद करता है। शहतूत रेटिना को हानिकारक अल्ट्रा वायलेट किरणों से भी बचाता है।  शहतूत में मौजूद कैरोटेनॉयड्स मोतियाबिंद और मैकुलर डिजनरेशन जैसी बीमारियों को रोकने में मदद करते हैं।

मस्तिष्क स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद शहतूत –

अल्जाईमर जैसी बीमारी को ठीक करने के लिए शहतूत बेहद महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। शहतूत में calcium होता है जो मस्तिष्क की कैल्शियम की जरूरत को स्वस्थ रखता है। Calcium हमारे दिमाग को युवा और सतर्क रखता है।  (11) वैज्ञानिकों के अनुसार शहतूत में साइटोप्रोटेक्टिव यानी कि सेल्स को नुकसान से बचाने वाले और न्यूरोप्रोटेक्टिव यानी कि तंत्रिका तंत्र से जुड़ी समस्याओं को दूर करने वाले प्रभाव पाए जाते है। इस प्रकार शहतूत हमारे मस्तिष्क के स्वास्थ को बेहतर बनाने के लिए उपयोगी सिद्ध होता है। 

लिवर को स्वस्थ्य रखने के लिए शहतूत उपयोगी – 

शहतूत हमारे लिवर को स्वस्थ्य रखने के लिए सबसे बेहतर उपाय है। यदि आप शराब का सेवन करते है तो शहतूत आपके लिए सबसे अधिक स्वार्थपूर्ण है, क्योंकि शराब पीने वाले लोगों का सबसे ज्यादा नुकसान लिवर का ही होता है। शहतूत Iron से भरपूर है और लिवर को स्वस्थ्य रखने के लिए Iron प्रमुख घटक है। यदि आप शहतूत का सेवन करते है तो यह आपके लिवर के ब्लड को साफ करता है और लिवर को पोषण युक्त बनाता है। 

फ्लू और सर्दी  से बचने के लिए शहतूत के फायदे – 

कमजोर immunity system वाले लोग अक्सर फ्लू और सर्दी से पीड़ित हो जाते है ऐसे में यदि आप शहतूत का सेवन करे तो आप स्वस्थ्य रह सकते हैं। सफेद शहतूत कसैले प्रवर्ती के होते हैं और anti-bacterial गुणों से युक्त होते हैं जो कि बैक्टीरिया को मारने के लिए जाने जाते हैं। इस तरह शहतूत फ्लू और सर्दी को रोकते हैं और आपको स्वस्थ्य रखने में मदद करते हैं।  शहतूत में फ्लेवोनोइड्स भी होते हैं, जो जुकाम के कारण में भी मदद करते हैं।

हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए शहतूत के फायदे – 

हड्डियों के बेहतर विकास के लिए calcium, iron और vitamin K सबसे अच्छा संयोजन है जो कि हमे शहतूत से प्राप्त हो जाता है। इसीलिए शहतूत हमारी हड्डियां मजबूत बनाते है । शहतूत में पाए जाने वाले पोषक तत्व हड्डियाँ को कमजोर होने से रोकते है और हड्डियों के ऊतकों का विकास करते हैं जिससे हड्डियों के विकारों जैसे ऑस्टियोपोरोसिस और गठिया को रोकने में मदद मिलती हैं।

प्रतिरक्षा तंत्र मजबूत करने के लिए फायदेमंद होता है शहतूत – 

मैक्रोफेज में मौजूद एल्कलॉइड को सक्रिय करने के शहतूत उपयोगी होते है जिसे बेहतर प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए जाना जाता है। शहतूत में vitamin c का मुख्य स्त्रोत है और Vitamin c प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूत बनाने के लिए सबसे महत्वपूर्ण vitamin मानी मानी जाती है। इस तरह से शहतूत हमारी इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाकर हमे बीमारियों से ग्रस्त होने से बचाते है ।

Anti Inflammatory गुणों से भरपूर – 

शहतूत में पाए जाने वाला एक यौगिक रेस्वेराट्रोल जिसमें Anti-inflammatory गुण होते हैं। यह शहतूत को दर्द और सूजन से निजात दिलाने वाला फल बनाता है। शहतूत में पाए जाने वाली एंथोसायनिन सूजन को कम करने में सहायक होती है और इसी कारण से इसका उपयोग allopathic दवाइयों में किया जाता रहा है। 

बढ़ती उम्र के प्रभाव को कम करने के लिए प्रभावी एंटी-एजिंग एजेंट – 

आपकी बढ़ती हुई उम्र के प्रभाव के पीछे कई तरह के कारण है जिसमें से एक मुख्य कारण है हानिकारक ultraviolet किरनें जो आपकी त्वचा को डल और झुर्रियों दार बना देती है। लेकिन शहतूत में पाए जाने वाला एक यौगिक रेस्वेराट्रोल ultraviolet किरणों से होने वाली क्षति से आपकी त्वचा को सुरक्षित रखता है जिससे आपकी त्वचा सुन्दर और ज़बां दिखने लगती है। (17)

शहतूत Antioxidants से युक्त होते हैं और एंटीऑक्सिडेंट बेहतरीन एंटी-एजिंग एजेंट हैं। त्वचा पर बनने वाली महीन रेखाएं और झुर्रियों को दूर करने के लिए शहतूत में बीटा-कैरोटीन जैसे एंटीऑक्सिडेंट होते है जो फ्री रैडिकल से होने वाले नुकसान को कम करने में मदद करते हैं। शहतूत में vitamin A, vitamin C और vitamin E का संयोजन है जो झुर्रियों को उबरने से से रोकता है। 

डार्क स्पॉट को हटाने में सहायक – 

Antioxidants आपकी त्वचा से दाग धब्बे हटाकर उसे साफ और नीखरा हुआ बना देते हैं। शहतूत में Antioxidants भरपूर मात्रा में पाए जाते है जो आपकी त्वचा को स्वस्थ बनाने के लिए जिम्मेदार होते हैं। शहतूत आपकी त्वचा में मेलेनिन संश्लेषण को विनियमित करने में मदद करता है, जो स्वाभाविक रूप से काले धब्बे को साफ करता है।

Antioxidants आपकी त्वचा के छिद्रों को खोल कर उनमे से दूषित पदार्थों को बाहर निकालते है और त्वचा को नम रखने में मदद करते हैं। शहतूत आपकी त्वचा को अतरिक्त पोषण देकर उसे सुन्दर और स्वस्थ बनाता है। 

डार्क सर्कल हटाने के 20 आयुर्वेदिक और मेडिकल उपाय | Dark Circle Hatane Ke Upay

सुखी और रूखी त्वचा का इलाज 

शहतूत में vitamin e और A भरपूर मात्रा में होती है। vitamin A और E की कमी के कारण ही हमारी त्वचा सुखी और बेज़ान हो जाती है। इसीलिए शहतूत का सेवन करके आप अपनी रूखी और बेज़ान त्वचा को फिर से खिलता हुआ बना सकते हैं। शहतूत आपकी त्वचा को अंदर से हाइड्रेट करने में मदद करते हैं। शहतूत की जड़ का अर्क irritated skin को शांत करता है। यह आपकी त्वचा को मुलायम और लचीला भी बनाते है इसलिए आप चाहे तो एक कटोरी शहतूत सुबह खाए क्योंकि ये खनिजों से भरपूर होते है और आपकी त्वचा को साफ और चमकदार बनाने के लिए उपयोगी है। 

चेहरे के लिए घर पर बनाए 10 घरेलू Face Scrub | TOP 10 Best Homemade Face Scrubs In Hindi

बालों के विकास के लिए महत्पूर्ण होते हैं शहतूत – 

शोधकर्ताओं ने शहतूत के यौगिकों का अध्यन के अनुसार इसे बालों के विकास के लिए महत्पूर्ण माना है। शहतूत में Antioxidants होते है जो आपके बालों के विकास को बढ़ावा देते है और उन्हें टूटने से रोकते हैं। 

शहतूत आपके बालों के प्राकृतिक रंग को बनाए रखने में मदद करता है। शहतूत में vitamin c और B calcium और Iron की मात्रा ऐसा होने के पीछे जिम्मेदार है। 

शहतूत कहा से खरीदे? 

आम तौर पर यह आपके आसपास लगे किसी पेड़ से मिल जाते है लेकिन यदि ऐसा नहीं है तो आप इन्हें ऑनलाइन मँगवा सकते है । आप शहतूत से बने कई उत्पादों को ऑनलाइन खरीद सकते है जो आपके स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए उपयोगी है। 

शहतूत खरीदने के लिए यहां क्लिक करें..  Our choice 

शहतूत को अपने आहार में कैसे जोड़े?

शहतूत के बारे में एक खास बात यह भी है कि आप शहतूत के फल के अतरिक्त इसके पत्ते और छाल भी खा सकते हैं। शहतूत को खाने के लिए आप इसे सीधे भी खा सकते है क्योंकि ये बेहद स्वास्थ्यवर्धक होते हैं आप चाहे तो इन्हें सूखाकर मेवा के साथ मिलाकर कहा सकते हैं। काजू या बादाम के साथ सूखे शहतूत खाए बेहद लज़ीज़ संयोजन है। आप चाहे तो शहतूत का रस निकाल कर पी सकते है। 

यदि आप चाहते है तो आप इसका सिरप तैयार कर सकते हैं जिसका सेवन आप नियमित रूप से कर सकते हैं। या फिर आप ऑनलाइन शहतूत का सिरप मँगवा कर शहतूत से जुड़े सभी स्वास्थ्य लाभ उठा सकते हैं। 

यदि आप चाय के शौकीन है तो आप षष्ठ के पत्तों को सूखा कर उनकी चाय बना सकते है जो कि बेहद स्वास्थ्यवर्धक और स्वादिष्ट होती है। 

शहतूत का सिरप खरीदने के लिए यहां क्लिक करें… 

शहतूत के उपयोग – Uses Of Mulberry In Hindi 

शहतूत के स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद और स्वास्थ्यवर्धक है। इसीलिए इसका उपयोग कई तरीकों से किया जा सकता है। हमने ऊपर आपको बताया कि आप किस तरह शहतूत से चाय, सिरप और सर्वत इत्यादि बना सकते हैं। शहतूत के अद्वितीय फायदों के कारण इससे कई तरह की दवाइयाँ भी बनाई जाती है। आप शहतूत का उपयोग किसी भी तरह कर सकते है आप चाहे तो इसके पत्तों को सब्जियों के रूप में बनाए या फल को किसी मीठी व्यंजन में जोड़े। आप इसकी छाल का पेस्ट बनाकर अपने चेहरे पर लेप लगाए जिससे आपकी त्वचा मुलायम और कील मुहांसों से मुक्त हो जाएगी। 

दुनिया भर में शहतूत का उपयोग विभिन्न प्रकार की मिठाइयाँ बनाने में किया जाता है। शहतूत का स्वाद बेहद smoothy होता है इसलिए इसे केक या filing बनाने के दौरान इस्तेमाल किया जाता है। 

शहतूत से बनाये लाजवाब डिश – 

शहतूत की खीर – 

शहतूत का स्वाद सभी फलों से अनोखा और स्वादिष्ट है इसीलिए शहतूत से तैयार हुयी कोई भी डिश आपके मुहँ में पानी ला सकती है। आज हम आपको शहतूत की खीर के बारे में बतायेंगे – 

सामाग्री – 

  • 4 कप शहतूत (यदि ताजे है तो 4 कप और सूखे हुए है तो 1 या आधा कप) (यदि शहतूत का सिरप है तो 3 चम्मच) 
  • 3 बड़े चम्मच चीनी 
  • आधा किलो फुल क्रीम दूध 
  • स्वाद अनुसार मेवा 

कैसे बनाएं – 

एक बर्तन में चीनी डाले, आधा चम्मच ghee के साथ मेवा डाले और हल्का सा पानी मिलाए बाद में दूध डालकर हल्का गाड़ा होने तक उबालें। दूसरी तरफ शहतूत का पेस्ट बनाकर तैयार करे और उसको एक सूती कपड़े में डालकर पूरा रस निचोड ले। दूध उबालने के दौरान ही निकाला हुया रस दूध में डाले। सबसे आखिरी में खीर को गैस से उतारने से एक मिनट पहले कुछ सजे शहतूत उसमे डाले।  लीजिए तैयार है आपकी लज़ीज़ शहतूत की खीर। 

शहतूत का शर्बत – 

गर्मियों के दौरान शहतूत का शर्बत आपके स्वास्थ्य को बेहतर रखने में मदद करेगा और यह आपको पानी की कमी से भी बचाएगा। 

सामाग्री – 

  • 1 कप चीनी 
  • 2 कप पानी 
  • 5 कप शहतूत  (सूखे है तो 2 कप, सिरप है तो 3 चम्मच) 
  • मनपसंद आइस क्रीम 
  • पुदीना की पत्ती 

कैस बनाए – 

शहतूत का शर्बत बनाने के लिए सबसे पहले  एक बर्तन में चीनी और पानी को मध्यम आंच पर उबालें।  इसे 3 से 4 मिनट तक उबालें।

शहतूत को अच्छे से धों कर सभी हरे डंठल तोड़ लें। आंच बंद कर दें और इसे ठंडा होने दें। शहतूत और पुदीना पत्तियों को मिलाकर पेस्ट बनाए और इसपर चासनी डालकर अच्छे से मिलाए। बाद में इसे छान कर आइस क्रीम डालकर खाए। 

शहतूत के बारे में कुछ जानने योग्य तथ्य – 

  • शहतूत का उपयोग प्राचीन चीनी चिकित्सा में होता आया है। चीनी चिकित्सा में शहतूत के पेड़ के हर हिस्से का उपयोग किसी ना किसी औषधि के रूप में हुआ है। 
  • शहतूत की जड़ों के अर्क से त्वचा का चिड़चिड़ापन शान्त किया जा सकता है। 
  • शहतूत के पत्ते रेशम के कीड़ों को खिलाए जाते है जिससे वे जल्दी मोटे हो जाते हैं। 
  • शहतूत का फल पेड़ उगने के 10 साल बाद फल देने योग्य बनता है। 
  • आमतौर पर शहतूत का पेड़ 30 से 80 फीट की ऊंचाई तक बढ़ते हैं। सफेद शहतूत की किस्म सबसे बड़ी है, और काली शहतूत सबसे छोटी है, और केवल एक झाड़ी के रूप में बढ़ती है।
  • शहतूत तेल की खुशबू बेहद लोकप्रिय और पसंद की जाती है जिस वज़ह से इसे मोमबत्ती, साबुन, शैम्पू और सेंट आदि में उपयोग किया जाता है। 
  • प्राचीन रोम के लोग शहतूत का उपयोग फेफड़ों से संबधित रोगों के उपचार के लिए करते थे। 

हालांकि शहतूत से कई स्वास्थ्य फायदे जुड़े हुए है लेकिन दुनिया की हर चीज में अच्छाई बुराई दोनों चीजे होती है हालांकि हमारा मकसद आपको शहतूत से डराना नहीं है बल्कि ये बताना है कि आप पूरी जागरुकता के साथ शहतूत से जुड़े स्वास्थ्य फायदों का लाभ ले और किसी भी तरह के नुकसान या दुष्प्रभाव से बचे। आगे हम शहतूत के नुकसान के बारे में जानेंगे :

शहतूत के नुकसान – Side Effects Of mulberry In Hindi 

शहतूत खाने के कुछ सम्भावित नुकसान भी हो सकते हैं इसलिए आपको शहतूत खाने से पहले निम्न बातों पर पहले ध्यान देना चाहिए – 

  • Kidney से संबंधित बीमारियों से ग्रस्त लोगों को शहतूत का कम सेवन करना चाहिए क्योंकि शहतूत पोटेशियम से युक्त होता है। 
  • अत्याधिक शहतूत का सेवन आपकी ब्लड शुगर को अधिक कम कर सकता है जिससे आप हाइपोग्लाइसीमिया नामक विकार से पीड़ित हो सकते हैं। 
  • कुछ कुछ लोगों की शहतूत से allergy हो सकती है जिस कारण से उनकी त्वचा पर लाल रंग के निशान आ सकते हैं इसीलिए पहले जाँच ले की कहीं आप शहतूत से allergic तो नहीं है ।
  • कुछ लोगों की शहतूत खाने से नशे का अनुभव हो सकता है, जिसमें उन्हें मतिभ्रम हो सकता है। 
  • यदि आप गर्भवती है तो शहतूत खाने से पहले अपने अपने चिकित्सक से सलाह ले। 

हालांकि नियमित रूप से शहतूत खाना सुरक्षित और से सेहत के लिए फायदेमंद है लेकिन अमेरिकन डायबिटीज एसोसिएशन द्वारा किए गए एक परीक्षण के अनुसार, यह पाया गया कि बहुत अधिक शहतूत खाना घातक हो सकता है।क्योंकि यह आपके शरीर में ब्लड शुगर को बेहद कम कर देता है जो खतरनाक है। अपनी त्वचा पर शहतूत के अर्क का उपयोग ना करे ।

अंतिम विचार – 

शहतूत कुदरत द्वारा दिए गए अनमोल उपहारों में से एक है। शोधकर्ताओं ने शहतूत को कई बड़ी बीमारियों से बचने के लिए जिम्मेदार माना है जिसमें डायबिटीज़, ब्लड प्रेशर, cholesterol और कैंसर इत्यादि शामिल है। नियमित रूप से शहतूत का सेवन आपकी त्वचा और बालों को बेहतर बनाने के उपयोगी है। शहतूत द्वारा बनाए गए व्यंजनों और उत्पादों का उपयोग करके आप शहतूत के अनोखे स्वाद का लुफ्त ले सकते हैं। 

यह भी पढ़े :

आम खाने के फायदे | विज्ञान के आधार पर TOP 10 BENEFITS OF EATING MANGO

टमाटर खाने के फायदे | TOP 11 BENEFITS OF EATING TOMATO

कटहल के बीज के फायदे | kathal ke beej ke Fayde

केसर खाने के फायदे | kesar khane ke Fayde | BENEFITS OF SAFFRON

प्रेगनेंसी में अखरोट खाने के 10 फायदे | Pregnancy Me Akhrot Khane Ke Fayde

गेहूं की रोटी खाने के 15 फायदे, जो आपको रोटी खाने पर मजबूर कर देंगे
अंगूर खाने के फायदे | Angoor Khane Ke Fayde – Health Benefits of grapes in Hindi

By Nihal chauhan

मैं Nihal Chauhan एक ऐसी सोच का संरक्षण कर रहा हू, जिसमें मेरे देश का विकास है। में इस हिंदुस्तान की संतान हू और मेरा कर्तव्य है कि में मेरे देश में रहने वाले सभी हिंदुस्तानियों को जागरूक करू और हिंदी भाषा को मजबूत करू। आपके सहयोग की मुझे और हिंदुस्तान को जरुरत है कृपया हमसे जुड़ कर हमे शेयर करके और प्रचार करके देश का और हिंदी भाषा का सहयोग करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.