नोटों पर गाँधी जी की फोटो क्यूँ छापी जाती है?( Note par Gandhi ji ki photo kyu chapi jati hai)  यह सवाल कभी ना कभी आपके मन में जरुर आया होगा कि आख़िर और भी तो इतने स्वतंत्रता सेनानी थे जिन्होंने देश के लिए अपनी जान दे दी फिर इन्हीं की फोटो क्यूँ छापी जाती है? 

भारत में जब ग़रीबी चरम पर थी और देश को अंग्रेज लूट रहे थे। उस समय महात्मा गाँधी का परिवार और स्वयं वह काफी अमीर थे वर्ना विदेश में शिक्षा प्राप्त करना किसी गरीब इंसान की पहुंच से बाहर है।

 यह बात सत्य है गाँधी जी ने देश को एकता के सूत्र में बांधने का प्रयास किया और लोगों के भीतर राष्ट्र बाद की भावना जागृत की इसी लिया हम आज आज़ाद है परंतु हर मामले में गांधी जी सही ही नहीं थे उन्होंने खुद को देश के लिए समर्पित किया और राष्ट्र पिता कहलाए।

 परंतु उस समय उनके हाथ में सत्ता और ताकत दोनों ही थे उन्होंने अपने परिवार को उसका पूरा फ़ायदा उठाने दिया। परिणामस्वरूप आप देख ही रहे है गाँधी परिवार में परिवार बाद की राजनीति 60 साल से लगातार राज किया।( नोटों पर गाँधी जी की फोटो क्यूँ छापी जाती है?Note par Gandhi ji ki photo kyu chapi jati hai)  

कभी आपने विचार किया है कि इतने आंदोलन में इतने निर्दोषों पर गोलियां चलाई गयी फांसी की सजा हुयी सब हुआ पर गांधी जी हमेशा बचते गए। इन्होंने जहा आंदोलन किए वहाँ अंग्रेजो ने कोई कार्रवाई नहीं की ऐसा क्यु? 

नोटों पर गाँधी जी की फोटो क्यूँ छापी जाती है

अब जिसकी लाठि उसकी भेस यही सत्य है। हालांकि जब पहले नोटों पर अशोक का निशान छापा जाता था। परंतु आरबीआई बैंक ने यह कह कर गाँधी जी की फोटो छापी क्युकी तस्वीर की नकल आसानी से नहीं की जा सकती और अशोक का निशान आसानी से बन सकता है और इसलिए उसको हटाकर गाँधी जी की फोटो नोटों पर छपने लगी। ( नोटों पर गाँधी जी की फोटो क्यूँ छापी जाती है?Note par Gandhi ji ki photo kyu chapi jati hai)  

अब आरबीआई वालों ने ऐसा किसके कहने पर किया होगा क्यु किया होगा आप इतने समझदार है ही। इसके पीछे उन्होंने और भी कई तर्क दिए जैसे कि :

गांधी जी की लोकप्रियता सबसे अधिक थी :

नोटों पर गाँधी जी की फोटो छापने के लिए यह कारण भी दिया गया कि महात्मा गाँधी जी जितना कोई भी नेता लोकप्रिय नहीं था इसलिए भी उनकी फोटो नोट पर छापी गयी। 

हो सकता है आपको यह तर्क सही लगे परंतु सवाल यह है कि लोकप्रियता आती कैसे है? 

थोड़ा मानसिक मंथन करने के बाद आप समझ पायेगे की समय चाहे कोई भी हो नेता अपनी जात कभी नहीं भूलता नेता नेता होता है यह आपसे बेहतर और कौन जान सकता है। ( नोटों पर गाँधी जी की फोटो क्यूँ छापी जाती है?Note par Gandhi ji ki photo kyu chapi jati hai)  

नोटों पर गाँधी जी की फोटो क्यूँ छापी जाती है?Note par Gandhi ji ki photo kyu chapi jati hai

एक सवाल खुद से और पूछिये की आख़िर भारत और पाकिस्तान को अलग अलग क्यु किया गया होगा? 

आप तकलीफ mat लीजिए इस सवाल का जवाब में खुद देता हू। 

असल में जब अंग्रेजो को लगा अब भारतीय जनता के भीतर राष्ट्रवाद और क्रोध की भावना है तो वह चाह कर भी भारत में और ज्यादा नहीं रुक नहीं सकते थे और अभी तक गाँधी जी अपने पीछे इतनी जनता को अहिंसा के नाम पर काबु करके रखे थे वर्ना अंग्रेज तो जाने कब ही चले गए होते।( नोटों पर गाँधी जी की फोटो क्यूँ छापी जाती है?Note par Gandhi ji ki photo kyu chapi jati hai)  

 आपको लगता है बिना हिंसा के भारत आजाद हो सकता था? इतिहास गवाह है आज तक कोई भी राज़ करने वाली सरकार बिना युद्ध में हारे या जान से मरे बिना या संघर्ष के बिना कभी राज नहीं छोड़ा है तो क्या यह अंग्रेज इस तरह भारत अहिंसा से छोड़ देते? कभी भी नहीं छोड़ते अहिंसा बादी आंदोलनों के पीछे की राजनीति ही असली राजनीति थी कारण यह था कि ज्यादा से ज्यादा लोग अहिंसा के मार्ग पर थे और अंग्रेज आराम से जलियांवाला बाग बना देते थे।

 और जब लोगों की जान जाती और गुस्से में लोग अंग्रेजो से बदला लेते तब तब पुज्य गाँधी जी अपने आंदोलन को वापस ले लेते जैसे कि (चौरी चौरा कांड) तो जब आजाद भारत का सपना देखने वाले ज्यादातर लोग अहिंसा बादी आंदोलन में गांधी जी के साथ थे तो आज़ादी की लड़ाई कौन लड़ता? तभी भगत सिंह, सुख देव जैसे युवाओ को जान से हाथ धोना पड़ा और अपने गाँधी जी अपनी पूरी जिन्दगी जी लिए। ( नोटों पर गाँधी जी की फोटो क्यूँ छापी जाती है?Note par Gandhi ji ki photo kyu chapi jati hai)  

अब जब अंग्रेजो के समय किसी के पास ताकत नहीं थी ताकत थी तो सिर्फ अंग्रेजो के पास तो गाँधी जी कैसे इतने ताक़त भर  थे कि इनके साथ में इनके परिवार से कोई भी अंग्रेजो द्वारा फांसी पर या अंग्रेजो की गोली से नहीं मारा गया? असली बात तो यह थी गाँधी जी अंग्रेजो के पसंदीदा थे क्यु थे यह आप सोच सकते है। 

तो गाँधी जी की लोकप्रियता आप काफ़ी हद तक समझ पाये होंगे। और यह भी कि उनके आंदोलनों पर गोली बारी क्यु नहीं होती थी। ( नोटों पर गाँधी जी की फोटो क्यूँ छापी जाती है?Note par Gandhi ji ki photo kyu chapi jati hai)  

गाँधी जी राष्ट्रपिता हैं :

महात्मा गाँधी को राष्ट पिता माना गया है और नोटों पर उनकी फोटो छपना इस वज़ह से वाज़िब समझा जा सकता है। 

गाँधी जी को देश विदेश में जानने वाले लोग बहुत है और वह उनके लिए सम्मान की भावना रखते है। 

अगर किसी और की फोटो नोट पर छापी जाती तो टकराव की स्थिति पैदा हो सकती थी इसलिए उनकी फोटो नोट पर छापी गयी ।( नोटों पर गाँधी जी की फोटो क्यूँ छापी जाती है?Note par Gandhi ji ki photo kyu chapi jati hai)  

देश का बंटवारा क्यु हुआ? ( नोटों पर गाँधी जी की फोटो क्यूँ छापी जाती है?Note par Gandhi ji ki photo kyu chapi jati hai)  

जब सत्ता के लालच में चूर नेहरू और जिन्ना खुद को प्रधानमन्त्री बनाना चाहते थे तो कोई विकल्प नहीं था कि दोनों लोग कैसे प्रधानमंत्री बन सकते है इसीलिए दोनों की सत्ता की भूख मिटाने के लिए देश को बाँट दिया गया। 

क्या आज भारत में मुस्लमान नहीं है?( नोटों पर गाँधी जी की फोटो क्यूँ छापी जाती है?Note par Gandhi ji ki photo kyu chapi jati hai)  

 है ना हम सब प्यार से रहते है थोड़ा बहुत टकराव होता है तो वो अब भी होता है हम हिन्दू मुस्लिम भाई आराम से साथ रह सकते थे परन्तु ऐसे सत्ता के भूखे भेड़ियों ने देश को बाँट दिया। जाने कितने ही मासूमों की जान गयी थी इस बंटवारे में कारण सिर्फ एक था कि दोनों ही सत्ता चाहते थे इस तरह दोनों प्रधानमन्त्री बन गए और बेचारी जनता मारी गयी। ( नोटों पर गाँधी जी की फोटो क्यूँ छापी जाती है?Note par Gandhi ji ki photo kyu chapi jati hai)  

हमारा मुद्दा था कि नोटों पर गाँधी जी की फोटो क्यूँ छापी जाती है? 

दोस्तों एक कारण आपको पता है जो कि आरबीआई द्वारा कहा गया था और दूसरा कारण यह था कि :

किसी और की नोटों फोटो लगाते तो लोगों की भावनाओ पर प्रभाव पड़ता :

दोस्तों इनका कहना था कि कोई और स्वतंत्रता सेनानी या महाराणा प्रताप या अशोक या किसी और की फोटो लगाते तो लोग उन्हें उनके जगह से जोड़ते और सब की भावनाओ का सम्मान रखने के लिए गाँधी जी की फोटो नोट पर छाप दी गई। ( नोटों पर गाँधी जी की फोटो क्यूँ छापी जाती है?Note par Gandhi ji ki photo kyu chapi jati hai)  

क्या आप आरबीआई के इस कारण से सहमत है? ( नोटों पर गाँधी जी की फोटो क्यूँ छापी जाती है?Note par Gandhi ji ki photo kyu chapi jati hai)  

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने क्या कहा :

उनके मुताबिक यह लोक सभा में लिखित जबाब में कहा कि यह फैसला पूरी तरह आरबीआई का है कि नोटों पर सिर्फ महात्मा गाँधी की ही फोटो छापी जाएगी। क्युकी गाँधी भारतीय संस्कृति और विचारधारा के सबसे बड़े प्रतिनिधि थे। ( नोटों पर गाँधी जी की फोटो क्यूँ छापी जाती है?Note par Gandhi ji ki photo kyu chapi jati hai)  

आप लोग अभी भी समझिए की पैसे की ताकत क्या है सत्ता की ताकत क्या है। आप समझदार है पढ़े लिखे है हमे एक ऐसा इतिहास पढ़ाया गया है जो कि सिर्फ किसी को अच्छा बता रहा है सच नहीं है उसमें। 

अच्छा चलिए एक बात सोचिए किसी नेता को आपने जीन्स टी शर्ट में देखा है? नहीं देखा होगा क्युकी असल में उसी दिखावे के कारण वह जनता को बेवक़ूफ़ बनाते है। ( नोटों पर गाँधी जी की फोटो क्यूँ छापी जाती है?Note par Gandhi ji ki photo kyu chapi jati hai)  

अब जरा सोचिए क्या गाँधी जी के पास पूरे कपड़े पहने के पैसे नहीं थे पैसे बहुत थे पर वह धोती और लाठी उनकी ताकत थी। 

जिसकी दम पर वह आंदोलन करते थे। 

गाँधी जी की नोट पर छपी फोटो का चुनाव कैसे हुआ :

नोटों पर छपी गाँधी जी की फोटो असली फोटो है जो कि 

तब ली गयी थीं जब इंग्लैंड के राजनीतिज्ञ लॉर्ड फ्रेडरिक पेथिक लॉरेंस का भारत आना हुआ था । यह तस्वीर वॉइसराय हाउस (राष्ट्रपति भवन) में खींची गई थी। ( नोटों पर गाँधी जी की फोटो क्यूँ छापी जाती है?Note par Gandhi ji ki photo kyu chapi jati hai)  

निष्कर्ष : दोस्तों मेरा यह लेख किताबी आधार पर पर है अगर इसको पढ़कर आपको कोई आपत्ति हुयी है तो उसके लिए ह्रदय से माफ़ी हू। एक हर बात के दो पहलू होते है इसी तरह एक पहलू यह भी है सत्य क्या है यह आप को तय करना है। ( नोटों पर गाँधी जी की फोटो क्यूँ छापी जाती है?Note par Gandhi ji ki photo kyu chapi jati hai)  

दोस्तों यह लेख आपको पसंद आया हो या ना आया हो परंतु सत्य को सामने रखने का काम मेरा था लेख में लिखी जानकारी कई विदेशी लेखकों की किताबों के मिश्रण से मिली जानकारी के अनुसार है इसलिए इसको उसी आधार लिखा गया है। 

सत्य की खोज नहीं करनी पड़ती सत्य हम एक बार पढ या सुनकर ही समझ जाते है कि बात में कितनी सत्यता हो सकती है। ( नोटों पर गाँधी जी की फोटो क्यूँ छापी जाती है?Note par Gandhi ji ki photo kyu chapi jati hai)  

दोस्तों अगर आपको हमारा यह लेख ( नोटों पर गाँधी जी की फोटो क्यूँ छापी जाती है?Note par Gandhi ji ki photo kyu chapi jati hai)  

पसंद आया है तो इसको ज्यादा से ज्यादा शेयर करे ताकि और भी लोग सत्य को जान पाए और लेख से संबंधित शिकायत और सुझाव नीचे कमेन्ट box में या हमे मेल करके दर्ज करा सकते हैं। 

आपके सुझाव हमारे लिए काफ़ी उपयोगी होते हैं। 

धन्यावाद।। 

यह भी पढ़े : और ऑनलाइन पैसे कमाने के मुख्य तरीके और मनोरंजन से भरपूर हर तरह की जानकारी आपकोभारत के 10 सबसे शक्तिशाली राजा | BHARAT KE 10 SABSE SHAKTISHALI RAJA | TOP 10 Most powerful king’s of INDIA

धरती पर इंसान कहा से आए ? | dharti par insaan kaha se aaye? | इंसानों के इतिहास से जुड़ी पूरी जानकारी | मानव इतिहास

By Nihal chauhan

मैं Nihal Chauhan एक ऐसी सोच का संरक्षण कर रहा हू, जिसमें मेरे देश का विकास है। में इस हिंदुस्तान की संतान हू और मेरा कर्तव्य है कि में मेरे देश में रहने वाले सभी हिंदुस्तानियों को जागरूक करू और हिंदी भाषा को मजबूत करू। आपके सहयोग की मुझे और हिंदुस्तान को जरुरत है कृपया हमसे जुड़ कर हमे शेयर करके और प्रचार करके देश का और हिंदी भाषा का सहयोग करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.