Sir Mein Funsi hone ke Karan Aur ilaj आपके बालो में होने वाली फुंसी निश्चित रूप से आपको शर्मिंदा महसूस करा सकती है। वह क्षण जब हम सिर पर अपना हाथ फ़ेर रहे होते है और अचानक से आपको सिर में हल्के से दर्द के साथ एक “bump” महसूस होता है। कई बार यह कुछ गंदगी और अन्य कुछ आम कारणों से हो जाते है पर हर बार ऐसा नहीं होता यदि आपने यह जाँचने में लापरवाही की तो परिणाम बदतर भी हो सकते हैं। (scalp acne) 

पर इसपर ध्यान देने के लिए आप बिल्कुल अकेले नहीं है, हम आपका पूरा सहयोग करेंगे कि किस तरह आप अपने सिर की फुंसीयों (pimple on Scalp) को ठीक कर सकते हैं। 

सिर में फुंसी होने के कारण बहुत सारे हो सकते हैं। सिर में फुंसी क्यों हुयीं है इस बात का प्रमाण बिना जाँच के नहीं दिया जा सकता हालांकि ऐसे बहुत से लक्षण है जिन्हें पहचान कर हम यह अंदाजा लगा सकते हैं कि सिर में फुंसी होने का कारण क्या है। (Sir Mein Funsi hone ke Karan Aur ilaj)

Also Read :विज्ञान के अनुसार : हस्तमैथुन स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह या फायदेमंद | Hastmaithun ke Fayde Aur Nuksaan

सबसे पहले आपको यह जानना चाहिए कि सिर में होने वाली यह फुंसी कितने प्रकार की होती है। 

सिर में होने वाली फुंसी के प्रकार  (Types of scalp pimples) 

Sir Mein Funsi hone ke Karan Aur ilaj

Image credit : healthline.com

आपके सिर के बाल वाले हिस्से में  पर फुंसी (मुंहासे) , या स्कैल्प फॉलिकुलिटिस होना बहुत स्वाभाविक और आम बात है। जब आपकी खोपड़ी में छोटी छोटी सी फुंसी होती है तो उनमें हल्की सी खुजली भी महसूस हो सकती है। कई बार सिर की फुंसी दर्दनाक और पपड़ीदार हो जाती है।

आपको यह बात समझने की आवश्यकता है कि आखिर कार आपके सिर की भी खाल है और उसमे pimples और acne होना स्वाभाविक है जैसे कि आपके चेहरे पर होते हैं। लेकिन इसमे समस्या यह है कि सिर में होने वाली फुंसी कई बार कई अन्य गंभीर बीमारियों का संकेत भी करती है जिसमें skin cancer (त्वचा कर्क रोग) शामिल है। (Sir Mein Funsi hone ke Karan Aur ilaj)

आपकी सिर में होने वाली फुंसी निम्न प्रकार की हो सकती है :

  • हल्के लक्षणों में Black head और व्हाइट head शामिल है। 
  • मध्यम लक्षणों में आपको सिर की त्वचा पर आसानी से नजर आने वाले दर्दनाक दाने दिखते है। 
  • गंभीर लक्षणों में यह सिर की सतह के नीचे से जुड़े होते है और बेहद दर्दनाक हो सकते हैं। हो सकता है फुंसी में पस भी पड़ने लगे। 

बहुत ज्यादा गंभीर सिर की फुंसी होने पर (acne necrotica  और dissecting cellulitis )  यह आपके सिर पर काली पपड़ी विकसित कर सकते हैं। हो सकता है कि यह फुंसी आपके सिर पर एक स्थायी निशान भी छोड़ दे इसके अलावा बालों का झड़ना, गंजेपन और गंभीर दर्द इत्यादि जैसी समस्याएं भी हो सकती है । यदि आपको लगता है, कि यह आपकी सहन शक्ति से बाहर है या यह कुछ और ही रूप ले रहा है तो आपकी तुरंत चिकित्सा सहायता लेनी चाहिए। (Sir Mein Funsi hone ke Karan Aur ilaj)

इस तरह की स्थिति के कई उपचार और दवाइयाँ है जो हम नीचे आपको उपलब्ध करायेंगे परंतु यदि आपको लगता है कि यह फुंसी बहुत ज्यादा लंबे समय से है। 

आपके नॉर्मल इलाज के बाद भी नहीं ठीक हो रहीं है तो आपको समय रहते डॉक्टर से परामर्श जरुर ले लेना चाहिए। 

Also Read :पेशाब में जलन और दर्द के कारण और उपचार | Dysuria Treatment

सिर की फुंसी की पहचान कैसे करें? (how to identify pimple on Scalp? ) 

खोपड़ी में होने वाली फुंसी की पहचान करना उतना मुश्किल नहीं होता क्योंकि यह आपके शरीर में होने वाले अन्य फोड़े फुंसी के समान ही होते हैं। सिर पर हाथ घुमाते समय जब आपको कोई दाने दार उठा हुआ हल्के दर्द वाला bump महसूस हो तो आपको समझना चाहिए कि यह एक सिर की फुंसी है। 

आपके सर के पिछले हिस्से में होने वाली फुंसी या मुँहासे को ज़िट्स या acne of scalp के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है। (Sir Mein Funsi hone ke Karan Aur ilaj)

सिर में फुंसी होने के कारण क्या है? 

सिर में फुंसी होने के कारण और इलाज

देखिए सिर की फुंसी होने के वैज्ञानिक कारण यह है कि जब आपके सिर के बाल वाले उपरी हिस्से वाली जगह के छोटे छिद्र या रोम छिद्र बंद हो जाते है तब आपको सिर में होने वाली फुंसी का अनुभव हो सकता है। 

इसके अतिरिक्त जब आपकी खोपड़ी का तेल (sebum), गंदगी, bacteria इत्यादि खोपड़ी के छिद्रों में जमा हो जाते है तब भी आपको सिर की फुंसी का अनुभव करना पड़ सकता है। (Sir Mein Funsi hone ke Karan Aur ilaj)

कई बार आपकी खोपड़ी के dead skin cells (मृतत्वचा कोशिकाएं) , स्वाभाविक रूप से होने वाला तेल जो आपके सिर की त्वचा को नमीयुक्त रखता है (सीबम), और बैक्टीरिया छिद्रों में प्रवेश करते हैं।  इसलिए कोशिकाएं रोमछिद्रों से बाहर नहीं निकल पाती हैं,। 

 जिसके परिणामस्वरूप  आपकी खोपड़ी में कई तरह के मुंहासे और फुंसी होती हैं।  यदि यह फुंसी और मुँहासे ज्यादा गंभीर रूप धारण कर लेते है तो इसका कारण अधिक बैक्टीरिया होते हैं।(Sir Mein Funsi hone ke Karan Aur ilaj)

सिर की फुंसी होने के कारणों में कुछ जीव भी शामिल है :

सिर के रोम छिद्रों के बंद होने के लिए निम्न कारण जिम्मेदार हो सकते हैं :

  • अत्यधिक शैम्पू, जेल या अन्य कोई उत्पाद का बालो पर उपयोग करना। 
  • लंबे समय से बालो को साफ ना करना। 
  • Gym या व्यायाम के बाद लंबे समय तक सिर को साफ ना करना। 
  • किसी कसी हुयी टोपी को पहने रहना या सिर को कसकर बाँध लेने से। 
  • सिर में होने वाला dandruff और डेड स्किन सेल्स आपके रोम छिद्रों में भर जाने के कारण। 
  • लंबे समय तक धूप में रहने से भी आपका पसीना खोपड़ी के छिद्रों को बंद कर देता है। 

अल्सर (cysts) 

अल्सर आपको देखने में फुंसी जैसा ही लगेगा पर आप ध्यान करेगे तो पाएंगे कि इसमे मुँहासे जैसा कुछ नहीं होता। इसका मुहँ नहीं होता ना ही उसमे कोई सफेद पदार्थ होता है। 

असल में यह आपकी खोपड़ी में सख्त चिकनी गांठ बालो के बीच बनती है। अल्सर धीमे धीमे बनते है और ज्यादा दर्द दर्दनाक और चोट पहुचाने वाले नहीं होते हालांकि यह ऊपर से आपको लाल ही दिखते हैं। 

और इनमें सूजन भी होती है। इसका पता लगाने के लिए आपको सिर में हाथ डालकर यदेखना चाहिए। अल्सर दुर्गंध के साथ एक गाढ़ा तरल पदार्थ छोड़ते हैं। (Sir Mein Funsi hone ke Karan Aur ilaj)

हालांकि यह आपको कोई नुकसान नहीं पहुंचाते और आम तौर पर अपने आप ठीक भी हो जाते हैं परन्तु यदि यह ठीक नहीं होते हैं तो आपको अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। 

स्किन कैंसर

स्किन कैंसर एक बहुत ही गंभीर बीमारी है और यह कैंसर का एक जिसे सबसे आम रूप है , जिसे बेसल सेल कार्सिनोमा कहा जाता है। यह आमतौर पर उस हिस्से बढ़ता है जो सूर्य के सीधे संपर्क में आते है जैसे सिर और गर्दन वाले हिस्से में। आपके सिर में यह कैंसरआकार और क्षेत्र के आधार पर 1.1% से 71% तक  फैल सकता  है।  लेकिन इसका इलाज काफी हद तक संभव है। (Sir Mein Funsi hone ke Karan Aur ilaj)

Also Read :भारत 10 सबसे अच्छे Online Doctor Consultation Apps | TOP 10 Online Doctor 2021

क्या खोपड़ी पर फुंसी का होना सुरक्षित है? 

कई मामलों में कह सकते है कि सुरक्षित है परंतु कई स्थितियां ऐसी है जिसमें सिर की फुंसी भयानक रूप धारण करके व्यक्ति की कष्टदायक और धीमी मृत्यु भी कर सकती है। 

आम तौर पर सिर की फुंसी होने का कारण हमने आपको ऊपर बताये है किन्तु ऐसी स्थिति से बचने के लिए आपको बालों को और खोपड़ी की उपरी सतह को साफ रखना चाहिए। आपको गर्म पानी से आपके सिर को साफ करना चाहिए और जितना हो सके खोपड़ी को infection से बचाने के पूरे प्रयास करना चाहिए। (Sir Mein Funsi hone ke Karan Aur ilaj)

आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि आपकी खोपड़ी ज्यादा गर्म ना हो, उसमे dandruff, और हानिकारक बालो के उत्पादों का उपयोग करने से बचना चाहिए। 

जितना ज्यादा आप अपने सिर की त्वचा का ख्याल और साफ सुथरा रखते है उतना ही खतरा कम होता है। 

Also Read :डार्क सर्कल हटाने के 20 आयुर्वेदिक और मेडिकल उपाय | Dark Circle Hatane Ke Upay

सिर की फुंसी ठीक करने के उपाय (treatment of pimples on Scalp) 

सिर में होने वाली फुंसी को रोकने के लिए सबसे महत्पूर्ण घटक है कि आप यह सुनिश्चित करें कि आप अपनी खोपड़ी को पूरी तरह साफ सुथरा रखेगे इसके अतरिक्त यह भी ध्यान देना आवश्यक है कि आप बालों की सजावट या सुंदरता बनाने के लिए जिन उत्पादों का उपयोग कर रहे है । (Sir Mein Funsi hone ke Karan Aur ilaj)

वह आपके लिए कितने सुरक्षित है। कई बार आपका शैम्पू और कंडीशनर आपकी खोपड़ी पर हो रहीं फुंसी और मुँहासो के लिए जिम्मेदार होते हैं। 

यदि आपको लगता है कि आपके सिर के बाल वाले हिस्से में हुयी फुंसी किसी hair product के ईस्तेमाल से है तो आपको उनका इस्तेमाल करना बंद कर देना चाहिए। (Sir Mein Funsi hone ke Karan Aur ilaj)

आपकी सिर को त्वचा को पोषण देने के लिए और सिर की फुंसी को ठीक करने के लिए डॉक्टरों द्वारा कुछ उत्पाद सुझाए गए है जिनका उपयोग आप बेफिक्र होकर अपनी सिर की फुंसी को ठीक करने के लिए कर सकते हैं। 

  • सैलिसिलिक एसिड (Salicylic Acid) 

यह acid आपके सिर के ऊपर जमी dead skin सेल्स को साफ करके आपको खोपड़ी को अन्य जरूरी पोषक तत्व प्रदान करती है। यह आपके सिर में बनने वाले सेबम (sebum) के उत्पादन को नियंत्रित करने के लिए एक एक्सफोलिएटर के रूप में काम करता है।

दुनिया भर में इसका ईस्तेमाल कई लोगों द्वारा किया जाता है, यह व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाने वाला घटक कई वर्षों से त्वचाविज्ञान में है।  सैलिसिलिक एसिड आपकी सिर में हो रहीं फुंसी को ठीक करने के लिए सुरक्षित और प्रभावी है। (Sir Mein Funsi hone ke Karan Aur ilaj)

यहा से खरीदे.. 

BUY NOW 

BUY NOW 

  • ग्लाइकोलिक एसिड (Glycolic Acid) 

ग्लाइकोलिक एसिड आपकी सिर की त्वचा को एक्सफोलिएट और dead स्किन को फिर से जीवंत करने में मदद करता है।  यह एंटी-मुँहासे (फुंसी) क्रीम और शैंपू में व्यापक रूप से उपयोग किया जाने वाला घटक है।(Sir Mein Funsi hone ke Karan Aur ilaj)

यहा से खरीदे.. 

Buy Now 

  • सी. केटोकोनाज़ोल या सिक्लोपिरोक्स

आपको अपने सिर और बालो में बहुत अधिक रूसी का अनुभव होता है ऐसी स्थिति में आप इस उत्पाद का उपयोग करके अपनी खोपड़ी को स्वस्थ्य और फुंसी रहित बना सकते हैं।

 यदि आप बहुत अधिक रूसी का अनुभव कर रहे हैं, तो इसका सीधा अर्थ है कि आपके सिर में dead skin cells और bacteria बहुत ज्यादा बढ़ गए हैं जिसके चलते आपके सिर में फुंसी हो गयी है। इसके लिए आपको केटोकोनाज़ोल या सिक्लोपिरोक्स वाले शैम्पू का उपयोग करने की सलाह दी जाती है।(Sir Mein Funsi hone ke Karan Aur ilaj)

यहां से खरीदे… 

BUY NOW 

  • Jojoba oil

हालांकि jojoba ऑइल आपकी सिर की फुंसी को उतने प्रभावित ढंग से ठीक नहीं कर सकता परंतु आपको इस इस तेल का उपयोग आगे इस तरह की स्थिति से बचने के लिए करना चाहिए। 

Jojoba ऑइल आपके scalp को neat और clean रखता है जिससे उसपर कोई अतिरिक्त bacteria का जमा नहीं होते और आपके बाल शानदार होने लगते है। (Sir Mein Funsi hone ke Karan Aur ilaj)

यहां से खरीदे.. 

BUY NOW 

  • Tea Tree Oil 

यह तेल आपके सिर की फुंसी को ठीक करने में पूरी तरह कारगार है। डॉक्टरों के अनुसार tea tree oil के यौगिक आपकी सिर की त्वचा के छिद्रों को साफ करके उसमे से bacteria को मार देते है जिससे धीरे-धीरे dead स्किन साफ हो जाती है और आपके सिर की फुंसी ठीक हो जाती है। 

यहां से खरीदे.. 

BUY NOW 

ऊपर दिए गए उत्पादों के  साथ आपको इन्हें इस्तेमाल करते समय कुछ सावधानियां बरतने की आवश्यकता होती है। तेल आधारित प्रोडक्ट को ईस्तेमाल करते समय ध्यान दे की बहुत ज्यादा तेल का उपयोग ना करे थोड़ा थोड़ा तेल लगाकर ही आपको जल्दी आराम और सिर की फुंसी के ठीक होने के बेहतर परिणाम मिलते हैं। 

यदि आप पहले से ऐसे हेयर प्रोडक्ट का इस्तमाल कर रहे है, जिसमें sulphate है तो आपको इससे बचना चाहिए। 

क्लेरिफाइंग शैंपू आपके बालों से जमी हुई गंदगी, तेल और उत्पाद की जमी हुई पपड़ी को को हटाते हैं।  परंतु आपको ऐसे शैम्पू को बार-बार इस्तेमाल करने से बचना चाहिये , क्योंकि यह आपके बालों को रूखा बना सकता है, खासकर तब जब आपके बाल colorful होते हैं अगर इसे  या उन्हें हीट-डैमेज किया गया हो।(Sir Mein Funsi hone ke Karan Aur ilaj)

                              अभी खरीदे 

एंटी फुंसी शैम्पू का उपयोग और सावधानियां 

हालांकि इन्हें लगाना बिल्कुल आसान है, बस आपको इनके साइड इफेक्ट से बचने के लिए कुछ सावधानी रखनी होती है। 

कैसे लगाए :

  • अपनी सिर को गिला करे ताकि आपके सभी बाल पूरी तरह गिले हो सके। 
  • शैंपू का उपयोग सीधे फुंसी और सिर पर हल्के हाथो से मसाज करे। 
  • कम से कम दो मिनट के लिए शैंपू के झाग को वही रहने दे। 
  • हल्के गुन गुने पानी में ठीक से धोकर साफ करे। 
  • सप्ताह में 2 से तीन बार ही उपयोग करे अधिक जानकारी के लिए चिकित्सक से सलाह ले। 

सावधानियां :

  • ध्यान रखे शैंपू या oil आँखों और मुहँ के अंदर वाले हिस्से में ना जा पाए। 
  • जो भी प्रोडक्ट आप use कर रहे है वह आपके बालों के रोम छिद्रों में ना जम जाए इसलिए उसको बहुत अच्छे से साफ़ करे। 
  • खोपड़ी को ज्यादा कसकर ना घिसे। 
  • उत्पाद का उपयोग करने से पहले उसके इस्तेमाल करने के निर्देशों को ध्यान से पढ़े यह product के पीछे या उसी के भीतर किसी कागज में लिखे होते हैं। 

Also Read :भारत में महिलाओं के स्वस्थ बालो के लिए टॉप बेस्ट 9 शैंपू (Shampoo) | TOP BEST HEALTHY HAIR SHAMPOO IN INDIA | 2021

सिर की फुंसी के लिए दवाएं (medication for pimples on Scalp) 

यदि ऊपर दिए गए उत्पादों का उपयोग के बाद भी आपकी खोपड़ी की स्थिति गंभीर होती जा रही है तो आपको अपने चिकित्सक से बात करनी चाहिए वह आपकों निम्न तरह की दवाइयाँ लिख सकता है :

  • Topical Antibiotics या स्टेरॉयड क्रीम 
  • मुँह से खाने के लिए Antifungal टेबलेट जैसे Antibiotics और Antihistamines 
  • सिर की गंभीर फुंसी के लिए वह आपको Isotretinoin भी दे सकते हैं। 
  • वह आपके सिर की Light therapy 
  • स्टेरॉयड injection भी दे सकते हैं। 
  • आपकी खोपड़ी के छिद्रों को साफ करने के लिए physical extraction भी कर सकते हैं। जिसमें वह अपने औजारों से आपकी खोपड़ी के छिद्रों को साफ करते है। 

आपको यह बात हमेशा ध्यान रखनी है कि किसी hair product के ईस्तेमाल के बाद यदि आपको कोई समस्या या allergy महसूस होती है तो उसका उपयोग तुरंत बंद कर दे। (Sir Mein Funsi hone ke Karan Aur ilaj)

यदि इतने सब उपचार के बाद भी आपके सिर की फुंसी ठीक नहीं होती है, तो यह एक गंभीर बीमारी के संकेत है जिसके लिए आपको अपने डॉक्टरों से संपर्क करना चाहिए। 

ऐसी स्थिति में आपको निम्न बीमारियों के खतरे हो सकते हैं :

  • खोपड़ी के भीतर तक एक गहरा इन्फेक्शन 
  • त्वचा संबंधी कैंसर (basal cell or squamous cell carcinoma) 
  • seborrheic dermatitis से होने वाली समान्य सूजन जो खोपड़ी पर लालिमा और dandruff छोड़ देती है। 
  • हो सकता वह cyst  हो ।

Also Read :कब्ज ठीक करने के 13 घरेलू उपचार | Natural Constipation Home Remedies

क्या सिर में होने वाली फुंसी से बाल झड़ सकते हैं? 

आपके सिर में सूजन का मुख्य कारण फोलिक्युलिटिस बैक्टीरिया या फंगल संक्रमण होता है। आपके सिर की यह स्थिति भी आपको सिर की फुंसी की तरह लग सकती है पर यह वैसी नहीं होती है। यदि आपने ठीक तरह से फॉलिकुलिटिस  का उपचार नहीं किया तो यह आपके बालो को स्थायी रूप से गायब कर सकते है हालांकि इस प्रक्रिया में जान जाने जैसा कुछ नहीं होता। (Sir Mein Funsi hone ke Karan Aur ilaj)

सिर की फुंसी ठीक होने में कितना समय लगेगा? 

आमतौर पर खोपड़ी पर ऊपर दिए गए उत्पादों के उपयोग के बाद सिर की फुंसी 4 से 8 सप्ताह में ठीक हो जाती है। पर ऐसा जरुरी नहीं हो सकता है इसमे और थोड़ा समय लग जाये।

 ठीक होने के तुरंत बाद आपको इन उत्पादों का प्रयोग एकदम से बंद नहीं करना है यदि आपने ऐसा किया तो मुमकिन है कि आपकी खोपड़ी में फुंसी फिर से ज्यादा भयानक रूप में हो। इसलिए आपको ठीक होने के बाद भी कुछ समय तक इनका उपयोग करना ही चाहिए। (Sir Mein Funsi hone ke Karan Aur ilaj)

यदि आप चाहते है कि आप अपने बालों को बार बार धुले तो आप अपने डॉक्टर से सलाह करके कोई उस तरह का शैंपू या उत्पाद ले सकते है। 

खोपड़ी पर फुंसी के निशान हटने में कम से कम 6 महिने का समय लग सकता है। सिर की फुंसी होने के दौरान आप यह सुनिश्चित करे कि आप उन्हें फोड़ ना दे, यदि आप ऐसा करेंगे तो bacteria आपके सिर में और ज्यादा फैल जायेगे जिससे आपको और अधिक फुंसी होने का खतरा बड़ जाता है। 

ना ही फुंसी को नाखुन से खुजाते रहे क्योंकि इसमे खतरा है कि आपको जलन और घाव खुलने का डर रहता है। (Sir Mein Funsi hone ke Karan Aur ilaj)

जैसे जैसे आप हल्की हल्की मालिश करते है और धीरे-धीरे सब ठीक होने लगता है। 

Also Read :घर के अंदर गमले में उगाने के लिए 4 स्वस्थ जड़ी बूटियां | 4 HEALTHY HERBS FOR KITCHEN GARDEN

सिर में फुंसी होने पर क्या खाना चाहिए? 

American academy of Dermatology में हुए एक शोध के बाद पता चला कि आप जो भी खाते है उसका प्रभाव आपके सिर पर हुयी फुंसी में पढ़ सकता है। आपके जो आहार खाते है उसका तेल के अनुसार आपकी खोपड़ी की सूजन, फुंसी, मुँहासे को काफी प्रभावित करता है। (Sir Mein Funsi hone ke Karan Aur ilaj)

यदि आप चाहते है कि फुंसी ना हो तो आपको carbohydrate वाले भोजन को कम करना चाहिए। 

सिर में फुंसी होने के दौरान आपको निम्न चीजों को ज्यादा खाना चाहिए – 

  • Zinc 
  • Vitamin D
  • Vitamins A
  • ओमेगा – 3 फैटी acid
  • फाइबर युक्त भोजन 
  • Antioxidants 

यदि किसी भोजन को खाने से आपको allergy होती है तो आप उसको तुरंत बंद करे। इसके लिए एक अच्छा उपाय है कि आप एक डायरी ले और उसमे अपने शरीर पर होने वाले नुकसान और फायदों को लिखे और अपने शरीर की हर छोटी बड़ी गतिविधियों को नोट करे यकीन कीजिए ऐसा करने से आप जीवन भर स्वस्थ रह सकते हैं। (Sir Mein Funsi hone ke Karan Aur ilaj)

अपनी शरीरिक स्वास्थ्य गतिविधियों को लिखने के लिए एक हेल्थ डायरी यहां से खरीदे…. 

Also Read :रात को हल्दी वाला दूध पीने के फायदे | BENEFITS OF TURMERIC MILK | 2021

By Nihal chauhan

मैं Nihal Chauhan एक ऐसी सोच का संरक्षण कर रहा हू, जिसमें मेरे देश का विकास है। में इस हिंदुस्तान की संतान हू और मेरा कर्तव्य है कि में मेरे देश में रहने वाले सभी हिंदुस्तानियों को जागरूक करू और हिंदी भाषा को मजबूत करू। आपके सहयोग की मुझे और हिंदुस्तान को जरुरत है कृपया हमसे जुड़ कर हमे शेयर करके और प्रचार करके देश का और हिंदी भाषा का सहयोग करे।

One thought on “सिर में फुंसी होने के कारण और इलाज | Sir Mein Funsi hone ke Karan Aur ilaj | Pimple on Scalp”
  1. सर मेरे लडके के सर मैं फूंसिया हो रही है दवाई से ठीक हो जाती है लेकिन कुछ दिन बाद फिर हो जाती है कृपया करके कुछ अच्छा इलाज बताए या अच्छा डॉक्टर

Leave a Reply

Your email address will not be published.