चाय के फायदे और नुकसान – Tea Benefits And side effects In Hindi सुबह की चाय के बिना कुछ लोगों की नींद खुलना मुश्किल होती है, खासकर भारत जैसे देश में प्रतिदिन सुबह चाय पीना एक व्यसन का रूप धारण कर चुका है। हालांकि इसके अपने कुछ फायदे और नुकसान दोनों ही है। प्रतिदिन चाय पीना आपके स्वास्थ्य के लिए कितना सुरक्षित हो सकता है। यह आप इस लेख को पढ़कर पूरी तरह समझ पायेगे। 

चाय Antioxidants का उच्च स्रोत है और आपके शरीर में Antioxidants का स्तर उच्च होना आपके स्वास्थ्य को बेहतर बनाने का काम करता है । क्योंकि antioxidants फ्री रैडिकल को संतुलित और खत्म करते है इसलिए oxidative स्ट्रेस से बनने वाले फ्री रैडिकल से होने वाली घातक बीमारियों से चाय पीकर बचा जा सकता हैं। (चाय के फायदे और नुकसान )

चाय में phytonutrients भी प्रचुर मात्रा में होते है, इसके अतिरिक्त यह कैफीन और कैलरी में भी कम होती है जो आपको मोटापे से बचाने का काम करती है । यही नहीं चाय में पाए जाने वाले पोटेशियम और सोडियम खनिजों से आपके शरीर को फायदा होता है। 

कुछ तरह की चाय में L theanine पाया जाता है जो आपके मस्तिष्क को सतर्क करने के लिए सुरक्षित और फायदेमंद है।  (चाय के फायदे और नुकसान )

आज दुनिया भर में चाय की प्रसिद्धि को अनदेखा नहीं किया जा सकता। चाय को ऊपर किए गए कई अध्ययनों से चाय ने लोगों के बीच और भी ज्यादा लोकप्रियता हासिल की है। शोध बताते है कि आंशिक रूप से चाय हमारे शरीर की कई बीमारियों से सुरक्षित करने में मददगार होती है। आज हम आपको चाय से जुड़े कुछ फायदों और नुकसान से अवगत करायेंगे। 

Table of Contents

चाय क्या है? (What is Tea?) 

असल में चाय एक प्राकृतिक कैमेलिया साइनेंसिस नामक सदाबहार झाड़ी है, जिसकी पत्तियों का उपयोग गर्म पानी में डालकर किया जाता है जिससे वह एक सुगंधित पेय बन जाता है। पानी में चाय की पत्तियों को उबालकर बनाए जाना वाला यह पेय चीन और पूर्वी एशिया के एतिहासिक पेय है। चाय पानी के बाद, दुनिया में सबसे ज्यादा पिया जाने वाला पेय है। (चाय के फायदे और नुकसान )

चाय के रूप कैमेलिया साइनेंसिस पौधे की पत्तियां उबाल कर उनका अर्क निकल आता है जिससे उबले हुए तरल में चाय की सुगंध और एक मजबूत स्वाद जुड़ जाता है। चाय को चार प्रमुख भागों में वर्गीकृत किया जा सकता है :

  • सफेद चाय (White tea) 
  • काली चाय (Black tea) 
  • हरी चाय (Green Tea) 
  • ऊलोंग चाय 

चाय का इतिहास – History Of Tea In Hindi 

माना जाता है कि चाय के पौधे पूर्वी एशिया के मूल निवासी हैं और संभवत: दक्षिण-पश्चिमी चीन और उत्तरी बर्मा के सीमावर्ती क्षेत्रों में उत्पन्न हुए हैं।

12 साल की पीढ़ी को मानते हुए, चीनी छोटी पत्ती वाली चाय लगभग 22,000 साल पहले असम की चाय से अलग होने का अनुमान है, जबकि चीनी असम चाय और भारतीय असम चाय 2,800 साल पहले अलग हो गई थी।  चीनी छोटी पत्ती वाली चाय और असम चाय का विचलन अंतिम हिमनद अधिकतम के अनुरूप होगा।

चाय की कहानी की शुरुआत चीन से होती है।  कुछ सबूतों और लोककथाओं के अनुसार, 2737 ईसा पूर्व में, चीनी सम्राट शेन नुंग एक पेड़ के नीचे बैठे थे, जबकि उनके नौकर ने पीने का पानी उबाला, जब पेड़ से कुछ पत्ते पानी में उड़ गए।  शेन नुंग, एक प्रसिद्ध औषधिविद, ने उस जलसेक को आजमाने का फैसला किया जो उसके नौकर ने गलती से बनाया था।  पेड़ एक कैमेलिया साइनेंसिस था, और परिणामी पेय वह था जिसे अब हम चाय कहते हैं। (चाय के फायदे और नुकसान )

चाय सबसे पहले जापान में जापानी बौद्ध भिक्षुओं द्वारा पेश की गई थी

इस कहानी में कोई सच्चाई है या नहीं यह जानना नामुमकिन है।  लेकिन चाय पीना निश्चित रूप से चीन में कई सदियों पहले स्थापित हो चुका था, इसके अतरिक्त चाय के बारे में पश्चिम में भी सुना गया था।  हान राजवंश (206 ईसा पूर्व – 220 ईस्वी) से संबंधित कब्रों में चाय के कंटेनर पाए गए हैं, लेकिन यह तांग राजवंश (618-906 ईस्वी) के अधीन था, कि चाय चीन के राष्ट्रीय पेय के रूप में मजबूती से स्थापित हो गई।  

चाय उस समय इतना पसंदीदा बन गयी कि आठवीं शताब्दी के अंत में लू यू नामक एक लेखक ने पूरी तरह से चाय, चा चिंग या टी क्लासिक के बारे में पहली किताब लिखी।  

इसके कुछ समय बाद ही जापान में पहली बार चाय की शुरुआत जापानी बौद्ध भिक्षुओं द्वारा की गई थी, जो अध्ययन करने के लिए चीन गए थे।  चाय पीना जापानी संस्कृति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन गया है, जैसा कि चाय समारोह के विकास में देखा गया है, जो चा चिंग में वर्णित अनुष्ठानों में निहित हो सकता है। (चाय के फायदे और नुकसान )

चाय में पाए जाने वाले पोषक तत्व – (Nutritional Value Of Tea In Hindi) 

प्रति 100 ग्राम चाय में निम्न पोषक तत्व होते है : (1) (विश्वसनीय स्त्रोत) 

कैलोरी – 1

सोडियम – 4 mg

पोटेशियम – 18 mg

कुल carbohydrates – 0.2 g

प्रोटीन – 0.1 g

विटामिंस और खनिज 

विटामिन A – 11 mg

पोषक तत्वमात्रा प्रति 100 ग्राम
Water 99.7 g
Energy 1 kcal
Carbohydrates 0.3 g
Iron 0.02 mg
Magnesium 3 mg
Jinc0.02 mg
Cooper 0.01 mg
राइबोफ्लेविन0.014 mg
फोलेट टोटल5 µg
फोलेट फूड5 µg
फोलेट डीएफई5 µg
कोलीन0.4 mg
फैटी एसिड टोटल सैचुरेटेड0.002 g
फैटी एसिड टोटल मोनोअनसैचुरेटेड0.001 g
फैटी एसिड टोटल पोलीअनसैचुरेटेड0.004 g
कैफीन20 mg
थियोब्रोमाइन2 mg

चाय के फायदे – Benefits of Tea In Hindi 

चाय का वैज्ञानिक नाम Camellia sinensis है । यह हमारे शरीर को कई तरह की बीमारियों से बचाता है जिसमें शुगर, उच्च रक्तचाप, गठिया और हृदय रोग इत्यादि शामिल है। हालांकि चाय इन बीमारियों का कोई पूर्ण उपचार नहीं है, बल्कि चाय के बारे में इस तरह की बीमारियों से पीड़ित होने के लक्षणों को आंशिक रूप से कम कर सकते हैं।  (चाय के फायदे और नुकसान )

वही अत्याधिक चाय का सेवन आपको कई तरह के नुकसान पहुंचा सकता है। लगातार बहुत ज्यादा चाय पीना आपके शरीर में कैफीन की मात्रा बड़ा देता है और शरीर के लिए ज्यादा कैफीन हानिकारक है और कई बीमारियों को उपजा सकता है। 

सबसे पहले हम चाय से होने वाले कुछ फायदों के बारे में जानते हैं :

हृदय सबंधी बीमारियों से बचने के लिए चाय के फायदे – Benefits of Tea for Heart disease In Hindi 

चाय में पाए जाने वाले कुछ तत्व हमे कई तरह के ह्रदय रोगों से ग्रस्त होने से बचा सकते हैं। यदि आप सीमित और संतुलित मात्रा में चाय का सेवन करते हैं तो यह आपको हृदय रोगों से बचने के लिए अच्छा विकल्प है। खासकर ग्रीन टी और ब्लैक टी इस तरह के फायदे का ठीक ठीक स्रोत बताया जाता है।  (चाय के फायदे और नुकसान )

चाय पीने से हमारे सीरम में लिपिड की मात्रा और ब्लड प्रेशर और शुगर की मात्रा सीमित रहती है जिससे हमारे हृदय स्वास्थ्य में सुधार होता है और काफी हद तक ह्रदय संबंधी रोगों से पीड़ित होने से बच सकते हैं। कुछ एक शोध इस बात का भी समर्थन करते है कि चाय शरीर में बढ़ते हुए खराब cholesterol की मात्रा को कम करने का काम करती है। 

हालांकि इन सभी बातों को अभी पुख्ता तौर से नहीं कहा जा सकता क्योंकि सबूतों का आभाव है और इन विषयों पर अभी और अधिक अध्ययन की आवश्यकता है । (2) (विश्वसनीय स्त्रोत) 

सूजन कम करने के लिए चाय में है Anti Inflammatory (सूजनरोधी) गुण – 

चाय में पाए जाने वाले नोथोफैगिन और ऐस्पलाथिन जैसे पॉलीफेनोलिक यौगिकों की उपस्थिति, जिसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीवायरल और एंटीमुटाजेनिक गुण होते हैं, जो चाय को एक प्राकृतिक एंटी ऑक्सीडेंट बनाते हैं।  चाय की यह प्राकृतिक बनावट हमारे लिए काफी उपयोगी सिद्ध होती है।  (चाय के फायदे और नुकसान )

यह न केवल हमारे बॉडी में oxidative तनाव से बनने वाले मुक्त कणों (free radicals) को नष्ट करने का काम करती है बल्कि उसे बेअसर करती  है। जिससे चाय हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ावा देने में समर्थ है इसलिए चाय कई तरह की बीमारियों से पीड़ित होने से बचा सकती है। 

कैंसर जैसे जानलेवा बीमारियों से बचाती है, चाय – Benefits of Tea for cancer in Hindi 

कैंसर के प्रभाव से हमारे शरीर में कैंसर से संक्रमित कोशिकाएँ ट्यूमर बनाने लगती है लेकिन चाय अपने एंटी inflammatory गुण के कारण इसे फैलने से रोकने का काम करती है। चाय का यह प्रभाव कैंसर के खतरे को कम करने में मदद कर सकता है। चाय कैंसर को रोकने में किस तरह कारागार है इस बारे में NCBI की आधिकारिक वेबसाइट पर कई लेख प्रकाशित किए गए हैं। 

प्रसारित लेखों के अनुसार चाय (ग्रीन टी) हमारे शरीर की ग्लूटाथियोन एस-ट्रांसफरेज और क्विनोन रिडक्टेस तरह की डिटॉक्सिफिकेशन एंजाइम को ऐक्टिव कर देती है जिससे कैंसर से बनने वाले ट्यूमर को विकसित होने से रोका जा सकता है।  (चाय के फायदे और नुकसान )

चाय के कैंसर रोधी गुणों को चाय के अन्य रूपों में भी देखा जा सकता है जैसे Black tea और white tea में । असल में चाय में पाए जाने वाले शक्तिशाली antioxidants और  फ्लेवनोइड्स जैसे – 

  • एपिकैटेचिन गैलेट
  • एपिकैटेचिन
  • एपिगैलोटेचिन
  • कीमोंप्रिवेंटिव

अपने कैंसर रोधी गुणों के लिए जाने जाते है ।चाय के यह गुण ग्रीन टी और Black टी में खास तरह से सक्रिय होते हैं।  (3) (विश्वसनीय स्त्रोत) 

अब ऐसा भी मुमकिन नहीं है, कि सिर्फ चाय पीकर कैंसर को ठीक किया जा सकता है। किसी भी रोग से छुटकारा पाने के लिए आपको अपनी पूरी चिकित्सीय सहायता लेने की आवश्यकता होती है। यहां दी गई जानकारी से आप जागरूक होकर अपने स्वास्थ का ख्याल और बेहतर ढंग से रख पाते हैं। कैंसर जैसी घातक बीमारी के लक्षणों को कम करने के लिए आप सीमित मात्रा में चाय का सेवन करना शुरू कर सकते हैं।  (चाय के फायदे और नुकसान )

मानसिक रूप से स्वस्थ्य रहने के लिए करे चाय का सेवन – Benefits of Tea for mental alertness in Hindi 

चाय में पाया जाने वाला प्रमुख तत्व L theanine आपके मस्तिष्क को सतर्क और जागरूक करने के लिए जिम्मेदार होता है। इसके अतरिक्त यह आपको सिर दर्द, तनाव, और चिड़चिड़ापन आदि विकारों से भी मुक्त रखने का काम करती है।

 चाय में पाए जाने वाला यह पद्धार्थ आपको अनिद्रा और तंत्रिका तनाव से भी बचाता है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि चाय आपकी याददाश्त को बढ़ाने के लिए भी उपयोग हो सकती है।  (चाय के फायदे और नुकसान )

बड़ती उम्र के प्रभाव को रोकने के लिए चाय है Anti Aging गुणों से भरपूर – 

चाय आपकी बड़ती उम्र के प्रभाव को कम करने में कैसे सहायक हो सकता है? आपको यह सुनकर शायद यकीन ना आए पर NCBI की आधिकारिक वेबसाइट पर इससे संबंधित प्रमाणित लेख उपलब्ध है इसके अतिरिक्त चाय पर जो शोध हुए उनसे भी इस बात की पुष्टि होती है कि सफेद और ग्रीन टी एंटी Aging गुणों से युक्त है। 

दरअसल सफेद और ग्रीन चाय में पाए जाने वाला एक पॉलीफेनोल (कैटेचिन) हमारे शरीर की क्षतिग्रस्त कोशिकाओं की क्षतिपूर्ति करने का काम करता है। यह antioxidants इतना शक्तिशाली है कि यह हमारी बड़ती उम्र के प्रभाव के को कम करने में सहायक होता है। 

यही नहीं हमारे चेहरे और बाकी त्वचा में आने वाली झुर्रियों के लिए भी चाय एक उपयोगी पेय साबित हो सकता है। काली चाय में पाए जाने वाला एक यौगिक थिएफ्लेविन हमारी त्वचा को काफी सुरक्षा प्रदान करता है। (4) (विश्वसनीय स्त्रोत)  अपनी त्वचा को स्वस्थ्य रखने के लिए भी चाय का सीमित उपयोग किया जा सकता है। 

मोटापा कम करने में सहायक चाय का सेवन – 

चाय में पॉलीफेनोलिक नामक यौगिक पाया जाता है, जो हमारे बढ़ते हुए मोटापे को कम करने के लिए प्रभावी साबित होता है। चाय में पाया जाने वाला यह यौगिक हमारे शरीर के फैट metabolism को नियंत्रित रखने में मदद करता है जिसके परिणामस्वरूप हम अपने बढ़ते वजन को रोकने के लिए चाय का उपयोग कर पाते है।

 चाय में पाए जाने वाले कुछ तत्व हमारे शरीर में कुछ ऐसी enzymes को ऐक्टिव करते है जिससे हमारे फैट cells के काम में वृद्धि देखने को मिलती है। इसके कारण भी हमारे मोटापे पर काफी प्रभाव पड़ता है।  (चाय के फायदे और नुकसान )

सिर दर्द को दूर करने में मदद कर सकती है चाय – 

कई बार आपने ऐसा देखा होगा कि चाय पीने के बाद सिर दर्द में आराम मिल जाता है। दरअसल चाय में कैफीन होता है जो हमारे सिर दर्द को कम करने के लिए सहायक होता है। किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि 237 ml काली चाय में 30-80mg कैफीन पाया जाता है जो हमारे सिर के दर्द को कम करने के लिए जिम्मेदार होता है। इसके अलावा ग्रीन चाय की इतनी ही मात्रा में 30-60 mg कैफीन होता है जो आपके सिर दर्द को कम करता है ।(5) (विश्वसनीय स्त्रोत) 

चाय पीकर सिर दर्द का इलाज करना आपके लिए घातक हो सकता है वह बात अलग है कि कभी कभार आप चाय का सेवन करते हैं। शरीर में कैफीन की ज्यादा मात्रा कई मानसिक विकार उतपन्न कर सकते है जिसमें तनाव, जी मचलना और सिर दर्द और आँखों में दर्द हो सकता है।  (चाय के फायदे और नुकसान )

सिर्फ 390mg प्रतिदिन कैफीन का सेवन करना ही सुरक्षित है और हो सके तो इससे भी कम क्योंकि कैफीन लत पैदा कर सकता है। (6) (विश्वसनीय स्त्रोत) 

आपकी त्वचा को स्वस्थ रखने के लिए चाय पीने के फायदे – 

चाय की कुछ वैरायटी खासकर कम ऑक्सीकृत चाय आपकी त्वचा को साफ और चमकदार के साथ साथ उसे पोषक देने का काम करती है। कम ऑक्सीकृत चाय त्वचा संबंधी रोगों  से ग्रस्त लोगों के लिए वरदान है। 

वज़ह है चाय में पाए जाने वाले Antioxidants जो हमारे शरीर में फ्री रैडिकल के प्रभाव को कम करते हैं। असल में हमारे शरीर में मौजूद free radicals (मुक्त कण) सभी तरह की त्वचा संबंधी बीमारियों कि जड़ होते हैं।  (चाय के फायदे और नुकसान )

चाय मुक्त कणों को कम करने और खत्म करने के लिए एक फायदेमंद और प्रभावी तरीके के रूप में काम करती है और आपकी त्वचा को स्वस्थ्य बनाने का काम करती है। 

इसके अलावा चाय एक्सफोलिएशन (त्वचा को गहराई से साफ करने) में मदद करती है और कोशिकाओं के ऑक्सीकरण को धीमा करती है, जिससे आपको अधिक स्वस्थ त्वचा मिलती है।  चाय एंटी एजिंग, झुर्रियों और डार्क स्पॉट को कम करने में भी मदद करता है। 

यह भी पढ़े :

हड्डियों को स्वस्थ्य रखने के लिए चाय के फायदे – 

सभी जानते है कि हड्डियों के विकास के लिए खनिजों की आवश्यकता प्रमुख होती है ऐसे में चाय में हड्डियों का विकास करने वाले मुख्य खनिजों की प्रचुर मात्रा है। चाय में मैंगनीज, कैल्शियम,और फ्लोराइड जैसे खनिजों की बहुत अधिक मात्रा पाई जाती है। यह खनिज हमारे शरीर की सभी हड्डियों और दांतों की मजबूती के लिए समानुपाती होते हैं।  

जैसा कि आप जानते होंगे कि कैल्शियम हड्डियों के निर्माण का मुख्य घटक है।  हमारे शरीर में organic minerals के स्तर को बढ़ाकर, रूइबोस चाय (Rooibos Tea) हमारी हड्डियों की सामान्य समस्याओं जैसे जोड़ों के दर्द, ऑस्टियोपोरोसिस और गठिया जैसे दर्द से लड़ने में मदद करती है।  (चाय के फायदे और नुकसान )

मैंगनीज हमारी हड्डियों की क्षति होने से रोकता है और क्षतिग्रस्त हड्डियों की मरम्मत और हड्डियों के द्रव्यमान के निर्माण में बहुत उपयोगी है।  दांतों की समस्याओं के इलाज के रूप में फ्लोराइड नामक खनिज का उपयोग दंत चिकित्सा में व्यापक रूप से होता आया है। 

डायबिटीज़ को नियंत्रित करने में चाय हो सकती है प्रभावी – 

इन्टरनेट पर NCBI द्वारा प्रकाशित एक लेख में इस तथ्य पर प्रकाश डाला गया कि चाय मधुमेह जैसी बीमारी के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकती है। चाय में पाए जाने वाले पॉलीफेनोल में Antioxidants की मौजूदगी हमारे शरीर में ब्लड शुगर को नियंत्रित रखने में मदद कर सकते हैं। शोध में कहा गया कि चाय में कुछ ऐसे यौगिक होते है जो इंसुलिन को सक्रिय करने मे मदद कर सकते है जिससे हमारे शरीर में शुगर को नियंत्रित करने का काम किया जा सकता है।  (7) (विश्वसनीय स्त्रोत) 

जब यह शोध किया गया तब इसमे कई प्रकार की चाय शामिल की गयी जिसमें मुख्य चाय Black tea, green tea, और ओलोंग चाय थी। चाय हमारे शरीर में glucose के स्तर को भी कम करती है। इसका उपयोग टाइप 2 डायबिटीज़ के लिए अतिरिक्त दवा के रूप में किया जा सकता है।  (चाय के फायदे और नुकसान )

चाय के उपयोग – Uses of Tea In Hindi 

चाय का उपयोग मुख्यतः पेय के रूप में ही किया जा सकता है। हालांकि हम आपको चाय पीने के कुछ और तरीके बता सकते हैं। 

  • चाय का Green टी रूप आपके बालों और चेहरे को साफ करने के लिए किया जा सकता है जिसमें आपको चाय पीने की जगह इससे बालों को धोकर और चेहरे को धोकर करना होता है। 
  • सुबह उठ कर 2 कप दूध में 2 चुटकी चाय डाले और हल्की शक्कर या शहद के साथ अदरक मिलाकर पीए ।
  • नींबू अदरक की चाय बनाए। 
  • Green Tea का उपयोग आपके आँखों पर हो रहे काले धब्बे(dark circle) दूर करने के लिए किया जा सकता है। इसके लिए आपको tea बैग्स को जिन्हें आप इस्तेमाल कर चुके हों उन्हें अपनी आँखों पर रखकर उपयोग कर सकते हैं। (8)(विश्वसनीय स्त्रोत

उच्च गुणवत्ता वाली Green Tea यहां से खरीदे.. 

चाय पीते समय आपको यह ध्यान रखना जरुरी है कि एक दिन में 2 या 3 कप से अधिक चाय ना पीए। यह आपके लिए हानिकारक हो सकती है। (9) (विश्वसनीय स्त्रोत

चाय से जुड़े लगभग सभी फायदे आप जान चुके है लेकिन अब जरुरत है कि आप चाय से जुड़े कुछ नुकसानों को और उनसे होने वाले नुकसानदायक शारीरिक प्रभावों को भी जाने।  (चाय के फायदे और नुकसान )

चाय पीने के नुकसान – 

सीमित मात्रा में चाय के सेवन से कोई भी नुकसान नहीं है। यदि आप अत्याधिक चाय पीते है तो आपको चाय से होने वाले शारीरिक और मानसिक दुष्प्रभावों को झेलना पड़ सकता है। कोई भी चाय हो यदि सीमा से बाहर पी गयी तो उसके नुकसान होना लाजमी है लेकिन Black टी अन्य चाय की तुलना में ज्यादा दुष्प्रभावों का कारण बन सकती है क्योंकि उसने कैफीन की मात्रा अधिक होती है। 

चाय से होने वाले कुछ नुकसानदायक प्रभाव निम्न है : 

  • टेनिन चाय में पाए जाने वाले प्रमुख यौगिकों में से एक है यह आपके शरीर में iron जैसे खनिजों के अवशोषण को रोकने का काम करता है। चाय का अत्यधिक सेवन आपके लिए खतरा बन जाएगा। (10) (विश्वसनीय स्त्रोत) 
  • चाय का बहुत ज्यादा सेवन आपको हृदय रोग में वापस धकेल सकता है और इसका मुख्य कारण है कैफीन की मात्रा का बड़ जाना। (11) (विश्वसनीय स्त्रोत) 
  • कैफीन की अधिक मात्रा के कारण आपको अनिद्रा, चिंता, तनाव और जी मचलना जैसी समस्यायों का सामना करना पड़ सकता है। (12)(13) (14)(विश्वसनीय स्त्रोत) 
  • चाय का अत्याधिक सेवन आपको छाती में जलन पैदा कर सकता है। कैफीन की अधिक मात्रा हमारे शरीर में गैस्ट्रिक acid का प्रभाव को बड़ा देता है जिसके परिणामस्वरूप छाती में जलन जैसी स्थिति बनना लाजमी है। (15) (विश्वसनीय स्त्रोत) 
  • प्रेगनेंट महिलाओ को चाय के सेवन से बचना चाहिए क्योंकि चाय का अत्याधिक सेवन कई बार समय से पहले गर्भपात का कारण बन सकता है। (16) (विश्वसनीय स्त्रोत) 

अत्याधिक चाय के सेवन से होने वाले अन्य नुकसान – 

  • सिरदर्द,
  • घबराहट
  • नींद की समस्या
  • चिड़चिड़ापन
  • दस्त
  • उल्टी 
  • दिल की धड़कन मे उतार-चढ़ाव
  • नाराज़गी
  • चक्कर आना
  • कंपकंपी

हम हमारे पाठकों के मन में चाय के प्रति डर पैदा करने की कोशिश बिल्कुल नहीं कर रहे। हमारा मानना है कि आपको चाय का अत्याधिक सेवन करने से बचना चाहिए। सीमित मात्रा में चाय पीकर ही आप चाय से जुड़े लाभ उठा सकते हैं। अधिक चाय पीने के कई गंभीर खतरे है।  (चाय के फायदे और नुकसान )

चाय से जुड़े कुछ अन्य सवाल और जबाब – 

चाय और कॉफी में क्या बेहतर है? 

उत्तर – बेशक चाय कॉफी से काफी बेहतर है क्योंकि चाय में कॉफी की तुलना में काफी कम कैफीन होती है। इसके अलावा चाय में Antioxidants की मात्रा और अधिक होती है जो आपके शरीर से जहरीले पदार्थों को निकालने और नष्ट करने का काम करते हैं। 

प्रतिदिन चाय पीने के क्या नुकसान है? 

उत्तर – प्रतिदिन 2 कप चाय पीने के कोई नुकसान नहीं है। यदि आप ज्यादा चाय पीते है तो इसके कई नुकसान हो सकते हैं। 

क्या चाय किडनी फैल कर सकती है? 

उत्तर – सीमित मात्रा में चाय आपको फायदा देती है जिसमें किडनी का फायदा भी जुड़ा हुआ है। (17) बहुत अधिक चाय का सेवन kidney के लिए खतरा पैदा कर सकता है।  (चाय के फायदे और नुकसान )

अंतिम विचार – 

चाय आपको कई तरह के पोषक तत्व प्रदान करती है और दुनिया भर में चाय सबसे ज्यादा पीए जाने वाला पेय है। आपको इसको सीमित मात्रा में पीना चाहिए जिससे आप कई तरह के स्वास्थ्य लाभ उठा सकते हैं। 

अति किसी भी चीज़ की नहीं होती इसलिए कभी भी अत्यधिक चाय का सेवन ना करे।  (चाय के फायदे और नुकसान )

यह भी पढ़े :

सिर दर्द और आँखों में दर्द के कारण | Eyestrain and Headache | 2021

डार्क सर्कल हटाने के 20 आयुर्वेदिक और मेडिकल उपाय | Dark Circle Hatane Ke Upay

पुदीना के 17 स्वास्थ्य फायदे | Pudina ke Fayde | BENEFITS OF MINT

घर के अंदर गमले में उगाने के लिए 4 स्वस्थ जड़ी बूटियां | 4 HEALTHY HERBS FOR KITCHEN GARDEN

रात को हल्दी वाला दूध पीने के फायदे | BENEFITS OF TURMERIC MILK | 2021

ठंडे पानी से नहाने के फायदे | BENEFITS OF COLD WATER BATHING | 2021

बात करने में कितनी कैलोरी खर्च होती है? 2021

By Nihal chauhan

मैं Nihal Chauhan एक ऐसी सोच का संरक्षण कर रहा हू, जिसमें मेरे देश का विकास है। में इस हिंदुस्तान की संतान हू और मेरा कर्तव्य है कि में मेरे देश में रहने वाले सभी हिंदुस्तानियों को जागरूक करू और हिंदी भाषा को मजबूत करू। आपके सहयोग की मुझे और हिंदुस्तान को जरुरत है कृपया हमसे जुड़ कर हमे शेयर करके और प्रचार करके देश का और हिंदी भाषा का सहयोग करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.