Ulti Rokne ke Upay |मुहँ के माध्यम से पेट का खाली होना या आपने जो खाया वह खाने बाद फिर से मुहँ के जरिए बाहर निकल जाए तो हम उसे उल्टी कहते है। उल्टी आने के ढेरों कारण हो सकते हैं। 

आम तौर पर उल्टी होना कोई बीमारी नहीं होती बल्कि यह तो हमारे शरीर की एक प्राकृतिक क्रिया है।

जिसके जरिए हमारी बॉडी अपने भीतर से हानिकारक पदार्थों को बाहर निकाल कर पेट और पाचनतंत्र को साफ कर देती है। (Ulti Rokne ke Upay) 

हालांकि उल्टी होने का हमारा अनुभव थोड़ा खराब होता है। इसमे कोई दो राय नहीं है कि उल्टी करने के बाद आपका शरीर टूट सा जाता है। इसके पीछे कारण यही है कि उल्टी करने में आपके शरीर की काफी ऊर्जा खर्च होती है। 

अत्याधिक और गंभीर उल्टी होने पर आपके शरीर को भारी नुकसान पहुंच सकता है जिसमें dehydration (निर्जलीकरण), fluids, इलेक्ट्रोलाइट्स का नुकसान स्वाभाविक है। यदि समय पर इलाज ना लिया जाए तो यह लक्षण और अधिक गंभीर होकर प्राणघातक भी सिद्ध हो सकते हैं। (Ulti Rokne ke Upay) 

हमारे भारतीय घरों की खासियत है कि यदि घर में किसी को उल्टी आती है या जी मचलना जैसी स्थिति पैदा होती है तो वह अन्य किसी दवा की जगह उल्टी रोकने के घरेलू नुस्खों पर ज्यादा जोर देते है, पर आपका हर बार ऐसा करना उतना तर्कसंगत नहीं है। 

आपको पूरी जानकारी के साथ डॉक्टरों द्वारा सुझाए गए सुझावों को ही अपनाना चाहिए। आपके निजी प्रयोग आपके किसी अपने के स्वास्थ्य को और अधिक बदतर करके उन्हें नुकसान पहुँचा सकते हैं। (Ulti Rokne ke Upay) 

उल्टी क्यों आती है? 

Ulti Rokne ke Upay

उल्टी आने और जी मचलने के पीछे आपके शरीर का कौन सा हिस्सा जिम्मेदार यह बात आपके लिए जानना जरुरी है। आमतौर पर सभी यही समझते है, कि उल्टी पेट की वजह से आती है। 

परंतु ऐसा बिल्कुल भी नहीं, उल्टी आने के पीछे आपका मस्तिष्क जिम्मेदार होता है। हर बार जरुरी नहीं की आपको उल्टी ही हो कई बार ऐसा होता है, कि आपका उल्टी करने का मन होता है लेकिन फिर भी आपको उल्टी नहीं होती। (Ulti Rokne ke Upay) 

उल्टी होने के निम्न कारण हो सकते हैं – 

  • बहुत ज्यादा नशा करने के बाद या नशे के दौरान ।
  • कभी कभी हल्के पेट में दर्द के साथ जी मचलने लगता है और उल्टी होने लगती है। इस तरह की उल्टी के प्रमुख कारणों के लिए आपको हुआ कोई संक्रमण या virus की वजह से होने लगती है। 
  • कई बार आपको उल्टी या दस्त होने का कारण Stomach Flu  या Gastroenteritis  हो सकता है। 
  • बहुत बार अत्याधिक खाना खाने से उल्टी हो सकती है। 
  • यदि आप कल का बसा युक्त या ऐसा भोजन कर लेते है जो खाने योग्य नहीं बचता ऐसे में आपको गंभीर उल्टियां हो सकती है। 
  • देर रात खाना खाने से या खाना खाने के रूटीन में अचानक बदलाव भी आपको फूड poising कर सकता है, जिसकी वजह से आपको उल्टियां हो सकती है। 
  • कभी कभी कुछ inflammatory या non steroidal दवाईयां खाने के बाद, आपके पेट के अंदर जलन महसूस होती है जिससे आपको उल्टी हो सकती है। 
  • बहुत ज्यादा गोल गोल घूमने से या ऊपर नीचे होने से उल्टी होना स्वभाविक क्रिया है। 
  • सिर दर्द और बुरे सपने के कारण भी उल्टी हो सकती है। 
  • किसी ऐसी बदबू या गंध का आना जिससे आपका मस्तिष्क उत्तेजित (Noxious stimulus) हो उस कारण से भी उल्टी होने लगती है। 
  • पेट में होने वाले छाले (अल्सर) से भी आपको उल्टी होने का खतरा होता ही है। 
  • यदि पेट में कब्ज या किसी कारण से आंतों में रुकावट है तो भी उल्टी होने की संभावना होती है। 
  • मुहँ के अंदर अचानक से कुछ चले जाने पर भी आपको उल्टी हो सकती है। 
  • बहुत ज्यादा तेज ठंडे मौसम या गर्मी वाले मौसम में भी आपको उल्टी हो सकती है। 
  • कई बार आप एक साथ कई तरह के कार्य करते है और इस कारण आपका दिमाग misguide होकर उल्टी का संकेत दे देता है। 
  • कान से संबंधित कोई बीमारी होने पर भी उल्टी होना स्वाभाविक है। 
  • शुगर से ग्रसित लोगों को कई बार उल्टी और जी मचलना जैसी समस्याएं हो सकती है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि उनके शरीर में इंसुलिन का स्तर समान्य नहीं होता और शरीर में बढ़ते हुए फैट के कारण भी कभी कभी उल्टी ho सकती है। 

ऊपर दिए गए प्रत्येक केमिकल रिएक्शन आपको होने वाली उल्टी में योगदान देते है, इस तरह की शारीरिक स्थितियां आपके मस्तिष्क को परेशान करती हैं।(Ulti Rokne ke Upay) 

दिमाग में भिन्न भिन्न प्रकार के  रिसेप्टर्स (शारीरिक बदलावों को समझने वाली तंत्रिका) होते हैं जो दिमाग के कीमोरिसेप्टर ट्रिगर ज़ोन (CTZ)  वाले हिस्से में उल्टी को करने के लिए संदेश देते हैं।

 यह CTZ  हमारे दिमाग में “उल्टी केंद्र” के रूप में भी जाना जाता है। दिमाग के इस क्षेत्र में मस्तिष्क विषाक्त (toxic material) पदार्थों का पता लगाता है और इसी के परिणामस्वरूप उल्टी का संकेत दे देता है।(Ulti Rokne ke Upay) 

प्रेग्नंट महिलाओं को उल्टी क्यों होती है? 

गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के शरीर में कई ऐसे बदलाव होते है, जो पहले कभी नहीं हुए होते और इस तरह के अचानक आए बदलावों को झेलने के लिए शरीर को थोड़ा समय लगता है। (Ulti Rokne ke Upay) 

इस कारण उन महिलाओं को उल्टी का सामना करना पढ़ सकता है। प्रेग्नेंसी के दौरान उल्टी होना एक स्वाभाविक क्रिया है। 

  • गर्भावस्था के समय महिलाओं के शरीर में कई नए हार्मोन का स्राव होता है और कई बार ऐसा होता है कि इन हार्मोन का स्तर काफी कम या काफी ज्यादा हो जाता है और इसी कारण से गर्भवती महिलाओं को उल्टियां होने लगती है। 
  • गर्भवती महिलाओं का पेट का आकार जब बड़ा हो जाता है तो उन्हें अपच और कब्ज जैसे लक्षणों को झेलना पड़ता है तो इस वज़ह से भी उल्टी होना स्वाभाविक है। 
  • Motion sickness (ज्यादा हिलने, बस, झूले इत्यादि पर बैठने से उल्टी होना) से पीड़ित महिलाओं को यह समस्याएं गर्भावस्था में भी उल्टी का कारण बनती है। 
  • कई महिलाएं गर्भवती हो जाती है, पर अपने गर्भ को रोकने के लिए कुछ गर्भ निरोधक दवाइयाँ खाती है जिससे भी उल्टी हो सकती है। 
  • कुछ गर्भवती महिलाओं महिलाओं को उल्टी एच पाइलोरी bacteria के बढ़ते स्तर के कारण भी होती है। 
  • माइग्रेन या अधिक पीढ़ा से उल्टी हो सकती है। 
  • महिलाओं के गर्भ में जब एक से अधिक बच्चे होते हैं तो उन्हें भी उल्टियां होना आम ही है। 

उल्टी रोकने के उपाय (How to cure vomiting)  (Ulti Rokne ke Upay) 

उल्टी रोकने के लिए सबसे आसान और बेहतर तरीके हमने इस लेख में शामिल किए है इसके अतरिक्त हमने इस लेख में डॉक्टरों द्वारा सुझाए गए कुछ ऐसे उत्पाद और दवाई भी दी है जिनके उपयोग से आप आसानी से उल्टी पर रोक लगाने में सफल होंगे। (Ulti Rokne ke Upay) 

इन उत्पादों के उपयोग से आप उल्टी के द्वारा होने वाले नुकसान से भी बच पाएंगे। उत्पादों को ख़रीदने के लिए लेख के अंत में दी गई Amazon की लिंक्स पर क्लिक करें। (Ulti Rokne ke Upay) 

गहरी और लंबी साँसो से रोके उल्टी 

आपकी साँसे आपके शरीर के कई रोगों को ठीक करने और उनके लक्षणों को कम करने में सहायक होती है। सांसो का सही उपयोग आपको उल्टी और जी मचलना जैसी समस्याएं से निजात दिला सकता है। 

उल्टी को रोकने के लिए आपको अपनी साँसों को धीमें धीमें और गहराई से लेना है और थोड़ी देर अपनी साँसों को वही रोक कर रखे और फिर धीरे धीरे छोड़ दे। 

आप को उल्टी के दौरान यह क्रिया कई बार दोहरानी चाहिए। 

इस तरह की क्रिया करने से आपको उल्टी से काफी राहत मिलती है। शोध में पता चलता है डायाफ्राम से गहरी, नियंत्रित सांसें लेना पैरासिम्पेथेटिक तंत्रिका तंत्र को ऐक्टिव कर देता  है। और यह क्रिया आपके मोशन sickness को दूर करती है, जिसके परिणामस्वरूप आपकी उल्टियां रुक जाती है। 

सुखी और नमकीन चीजे खाए 

कई तरह के रिसर्च से यह पता चलता है, कि जब आपका जी मचलना शुरू होता है यदि आप उसी समय कुछ सूखा और नमकीन खा लेते है तो आपकी उल्टियां रुकने के काफी आसार रहते है। (Ulti Rokne ke Upay) 

Doctar कहते है कि इस तरह का खाना आपके पेट के acid को सोखने में मदद करता है जिससे आपको उल्टी से राहत मिल सकती है। 

अपने पेट के कीड़े को मारने के लिए आप सफेद चावल और सूखे टोस्ट भी खा सकते हैं। (Ulti Rokne ke Upay) 

अदरक का रस उल्टी रोकने में उपयोगी 

उल्टी रोकने के लिए अदरक को एक सस्ता और प्रभावी उपाय माना जाता है। शोधकर्ताओं द्वारा किए गए कई शोध इस बात की पुष्टि करते है कि अदरक उल्टी रोकने में सहायक होती है। (Ulti Rokne ke Upay) 

अदरक का सेवन उल्टी रोकने के लिये कैसे करे – 

  • एक चम्मच अदरक के रस के साथ बराबर मात्रा में नींबु का रस ले ।इस घोल को दिन में कई बार पीए निश्चित रूप से उल्टी में आराम मिलता है।
  • हनी और अदरक की चाय पीए। थोड़ा सा पानी ले उसमे अदरक डालकर गर्म करे अंत में एक चम्मच हनी डाले और हल्का नींबु डालकर पीए। उल्टी पेट दर्द और सूजन में काफी फायदा मिलता है। 
  • हनी के साथ में अदरक के कुछ पतले टुकड़े करके खाए ।ऐसा आप दिन में जब वही आपको उपयोगी लगे तब करे। इससे काफी हद तक बेहतर महसूस करते है और उल्टियां भी रुक जाती है। 

भारत में या किसी भी देश में अदरक सबसे आसानी से मिलने वाली औषधि है। लगभग हर घर में अदरक होती ही है इसके उपयोग से आप उल्टी, मितली, और पेट दर्द जैसे लक्षणों को काफी कम और प्रभावित कर सकते हैं। 

कलाई का एक्यूप्रेशर करता है उल्टी रोकने में मदद 

Acupressure का उपयोग प्राचीन चीनी कला से संबंधित है और कई तरह के शोधकर्ताओं ने इसपर शोध किए और Acupressure को सुरक्षित और प्रभावी पाया ।

आप कलाई के acupressure से उल्टी को रोकने का काम कर सकते है।  उल्टी के लक्षणों को दूर करने के लिए आपको अपनी कलाई के कुछ उत्तेजक पॉइंट्स को दबाना होता है जिससे आपको उल्टी को रोकने में काफी मदद मिलती है।  (Ulti Rokne ke Upay) 

आपकी कलाई के Neiguan (P-6)  वाले पॉइंट्स पर दबाव डाल कर आप अपनी उल्टी को रोक सकते है। 

कैसे करें – 

  • अपनी तीनों उँगलियों से कलाई को पकड़े 
  • अपने अंगूठे को  तर्जनी के नीचे रखें 
  • अब जो पॉइंट आपको इस छवि में दिखाया गया उस पर गोल गोल रगड़ करे और दबाए। 
  • यही तरीका दूसरे हाथ की कलाई पर भी दोहराए। 
Ulti Rokne ke Upay

IMAGE CREDIT : healthline.Com 

कुछ और तरल पेय पीए 

बार बार उल्टी करना आपकी समस्याओं को और बदतर करके आपकी स्वास्थ्य स्थित को और अधिक गंभीर बना सकती है। ऐसी स्थिति में आपको खुद को निर्जलीकरण बचाना चाहिए। बॉडी में से बहुत ज्यादा पानी और पोषक तत्व बाहर निकल जाने के कारण आपको dehydration हो सकता है। ऐसे में आपका यह सुनिश्चित करना बहुत जरूरी है कि आप पर्याप्त मात्रा में तरल पेय का सेवन करते रहे।  (Ulti Rokne ke Upay) 

लेकिन समस्या यह है कि, जब उल्टी आती है तो कुछ भी पीने से वह बाहर ही आजाता है? 

जी नहीं ऐसा हर चीज को पीने से नहीं होता, हम आपको कुछ ऐसे तरल पदार्थ बतायेंगे जिन्हें पीकर आप dehydration जैसी स्थिति में पंहुचने से भी बच सकते है और उल्टी को रोकने में भी मदद मिलती है। 

ऐसे तरल पेय जो आपको उल्टी के दौरान होने वाली पानी की कमी को रोकने में मदद करते हैं और आपको hydrated रख कर मतली (जी मचलना) को कम कर सकते हैं:

  • पुदीने की चाय 
  • अदरक युक्त नींबु पानी 
  • नींबु काला नमक का पानी जीरा पीस कर डाले 
  • पानी के साथ संतरे का juice मिला कर पीए 

उल्टी के दौरान होने वाले dehydration से बचने के लिए डॉक्टर द्वारा बताये गये पाउडर को खरीदे। 

खरीदने के लिए यहां क्लिक करें… 

पानी की कमी की पूर्ति करने के लिए आप बर्फ के टुकड़ों को भी चूस सकते हैं। 

सौंफ से रोके उल्टी 

हालांकि इस बारे में बहुत सीमित वैज्ञानिक अध्यन किए गए है पर फिर भी सौंप को पाचनतंत्र के लिए उपयोगी माना गया है। अगली बार जब आपको लगे कि आपको उल्टी हो सकती है, या जी मचलना जैसे लक्षण दिखाई दे तो आप निश्चिंत होकर सौंप के बीजों का उपयोग इन्हें कम करने में लिए करे । (Ulti Rokne ke Upay) 

उल्टी रोकने के लिए सौंप का उपयोग कैसे करें – 

  • एक कप पानी, ले और उसको थोड़ी देर गर्म होने दे। 
  • एक या आधा चम्मच आपके लक्षणों के आधार पर सौंप के बीजों को उस पानी में डाल पर थोड़ी देर उबालें और अंत में यदि हनी हो तो एक चम्मच हनी डाले और धीरे धीरे सिप ले कर पीए। 
  • पानी को छान कर पीए। 

उल्टी रोकने का यह उपाय काफी कारगर और उपयोगी है। 

लौंग उल्टी और जी मचलना जैसी समस्यायों का शर्तिया इलाज करती है – 

लौंग में पाया जाने वाला एक उपयोगी घटक eugenol आपकी उल्टी और जी मचलने जैसी तकलीफों के लिए सबसे उपयोगी साबित हो सकता है। 

लौंग का पानी पेट से सबंधित सभी समस्याओं को दूर करने में मदद करता है । लौंग में पाए जाने वाले eugenol में antibacterial गुण होते है जो आपके पेट में जाते ही infection को कम करने में मदद करती है। 

लौंग का उपयोग उल्टी रोकने के लिए कैसे करें – 

  • एक कप पानी में 4 से 5 लोंग डाले 
  • पानी को करीब 10 मिनट उबालें 
  • पानी को छान पर पीए 

कुछ खुशबू आपकी उल्टी रोकने में कारगर (Aromatherapy) 

किए गए बहुत सारे अध्यन यह दर्शाते है कि Aromatherapy कई सारे इलाज करने के लिए सुरक्षित और उपयोगी है । ऐसी ही कुछ तथ्य Aromatherapy के उल्टी और मितली को लेकर भी है। शोधकर्ताओं ने पाया है कि कुछ चुनिंदा चीजों की गंध आपको उल्टी से राहत दिला सकती है। 

2014 के एक अध्ययन के अनुसार (Trusted Source

यदि आप उल्टी के दौरान नींबु के तेल में साँस लेते है तो आपको उल्टी जैसी समस्याओं से काफी आराम मिलता है। Aromatherapy के लिए आप तेल को गहरी बोतल में लंबी साँस खींचने की कोशिश करें। किसी कारण से आपके पास नींबु नहीं है तो आप ताजा नींबु के रस की गंध लेकर भी राहत प्राप्त कर सकते है।  (Ulti Rokne ke Upay) 

कुछ अन्य ऐसी चीज़ें जो उल्टी से राहत दिलाने में मदद करती है :

  • पुदीना 
  • अदरक 
  • गुलाब का फूल 
  • Lavender
  • लौंग 
  • चमेली 

उल्टी को रोकने की दवाइयाँ 

उल्टी को रोकने की दवाइयाँ विशेष कर ओवर दा काउन्टर दवाई पेप्टो-बिस्मोल और काओपेक्टेट  (एंटीमेटिक्स) दवाओं में बिस्मथ सबसालिसिलेट होता है।  यह दवाई पेट की परत की रक्षा करने और फूड poising के कारण होने वाली उल्टी को कम करने में काफी अधिक मदद कर सकती हैं। आज ही अमेज़न पर पेप्टो-बिस्मोल खरीदें।

खरीदने के लिए यहां क्लिक करें… 

उल्टी को रोकने के लिए खुद की देखभाल भी जरूरी 

आपकी खुद की देखभाल ही आपके लिए सबसे श्रेष्ठ है। उल्टीयों को रोकने के लिए जरूरी है कि आप अपने मन को शांत और स्थिर रखें। आपके मन के तनाव और अनिद्रा से उल्टी होने की संभावना होती है यदि आप अपने मन को अपनी भावनाओं को नियंत्रित रखते है तो यह निश्चित है कि आप अपनी उल्टी, सिरदर्द, पेट दर्द जैसी तमाम छोटे मोटे रोगों से निजात पा सकते है । (Ulti Rokne ke Upay) 

खाते समय कुछ बातों का ध्यान रखे – 

आप हो खाते है, उसी का असर आपके शरीर पर होता है इसलिए आपके लिए यह सुनिश्चित करना बहुत जरूरी है कि आप सिर्फ वही भोजन करे जो आपके लिए उपयोगी स्वस्थ और फायदेमंद होता है। 

कई बार हम ऐसे भोजन को खा लेते है, जिससे हमारा stomach upset हो जाता है ।और इसी कारण से उल्टी और जी मचलना जैसी समस्याएं होने लगती है। 

हर खाने की एक सीमा होती है, अपने खाने की सीमाओं को पहचानिए और खुद को स्वस्थ्य रखना सीखें। 

अपनी body और खान पान पर कड़ी नजर लिखे और अपनी एक अपनी स्वास्थ्य डायरी बनाएँ जिसमें अपने स्वास्थ्य में होने वाले बदलाव लिखे। जब आप अपनी शरीर पर निगरानी रखते है तो आपको इसके कई बड़े फायदे मिलते है जिनमें से एक आपके जीवन का बेहतर स्वास्थ्य भी है जो शायद दुनिया का सबसे बड़ा सुख है।  (Ulti Rokne ke Upay) 

अपनी स्वास्थ्य गतिविधियों को लिखने के लिए एक शानदार स्वास्थ्य डायरी यहां से खरीदे… 

साफ सफाई का विशेष ध्यान दे 

यदि आप जानते है, कि आप एक ऐसे मर्ज के व्यक्ति है जो बहुत ही ज्यादा उत्तेजक है और sensitive है ऐसे आपको अपनी साफ सफाई के प्रति और भी ज्यादा जिम्मेदार रहना चाहिए। 

  • खाने के पहले और बाद हाथ धोए 
  • कोशिस करे कि कोई भी अनजान चीजों को ना छुए 
  • मिट्टी धूल से बचे 
  • कुछ भी बहुत पुराना या बासा नहीं खाए 
  • खाने के बाद थोड़ी देर आराम करे 
  • यदि आप मांसाहारी है तो पूरी तरह पका मास ही खाए 
  • यात्रा के दौरान जगह जगह पानी ना पीए अपना पानी अपने साथ लेकर चले 
  • सुबह और शाम दांतों की और मुहँ को साफ़ करे 
  • ऐसे लोगों से दूर रहे जिन्हें पहले से ही इस तरह की समस्याएं है। 

यदि आप ऐसे नियमों का पालन करते रहते है, तो आप उल्टी जैसी समस्यायों से पीड़ित होने से बच सकते हैं। 

क्या मासिक धर्म के दौरान उल्टी और जी मिचलाना एक आम समस्या है?

महिलाओ को मासिक धर्म के दौरान कई बार उल्टी और जी मचलना जैसी समस्यायों का सामना करना पड़ता है। इसके पीछे का कारण संभवतः मासिक धर्म के दौरान महिलाओं के शरीर में होने वाले हार्मोनल बदलाव से होता है। 

हालांकि यह समान्य समस्या एक या दो दिन में अपने आप ठीक हो जाती है यदि आप बहुत ही ज्यादा उल्टियां कर रहे है तब आप अपने चिकित्सक के पास जा सकते हैं।  (Ulti Rokne ke Upay) 

Painkillers और heating पैड के इस्तेमाल से महिलाएं मासिकधर्म में होने वाली अन्य समस्याओं जैसे पेट दर्द, ऐंठन, जी मचलना जैसी समस्यायों से बच सकती है। मासिक धर्म के दौरान आपको बहुत ज्यादा खाना एक साथ खाने से बचना चाहिए बल्कि आपको खाने को छोटे छोटे भागों में खाना चाहिए। 

मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द और अन्य समस्याओं से बचने के लिए डॉक्टरों का सुझाया यह सिरप पीए निश्चित ही आपको इसके कई मिलेगे जिसमें उल्टी का रुकना भी शामिल है। 

खरीदने के लिए यहां क्लिक करें… 

Newmom Disposable Pad Fixator

डाक्टर को कब दिखाये – 

जब उल्टी जैसी आम समस्या यदि अपना भयानक रूप धारण करती है तो यह आपके लिए जानलेवा साबित हो सकती है। इसीलिए नीचे दिए गए लक्षणों को देखने पर तुरंत चिकित्सा सहायता ले : (Ulti Rokne ke Upay) 

  • यदि आप आप दो दिनों से ज्यादा समय तक उल्टी की समस्या से पीड़ित रहते हैं।
  • आपका बच्चा एक ही दिन में कई समय लगातार उल्टियां कर रहा है ।
  • यदि उल्टी  एक महीने से अधिक समय तक रहती  है।
  •  उल्टी के साथ आपका वजन कम हो रहा  हैं।

यदि आप के साथ कुछ अन्य तरह की समस्याओं से भी पीड़ित है जैसी नीचे दी गई है तो आपको आपातकालीन चिकित्सा सहायता प्राप्त करनी चाहिए :

  •  छाती में दर्द के साथ उल्टी 
  •  पेट में तेज दर्द के साथ उल्टी 
  •  धुंधली दृष्टि होने लगना 
  •  चक्कर आना या उल्टी the के साथ बेहोशी 
  •  उल्टी के साथ तेज़ बुखार
  • उल्टी करते समय गर्दन में अकड़न आना 
  •  ठंडी, चिपचिपी, पीली त्वचा के साथ उल्टी होना 
  •  उल्टी के साथ साथ भयानक सरदर्द
  •  यदि आप कुछ भी खा-पीकर 12 घंटे तक पेट में नहीं रख पाते। 

निष्कर्ष :. 

उल्टी होना यह दर्शाता है कि आपको आपकी प्रतिरोधक क्षमता कमजोर है। इसीलिए आपको अपने स्वस्थ्य खानपान पर ध्यान देना चाहिए। हालांकि हर व्यक्ति को उल्टी जैसी स्थिति का सामना करना पड़ सकता है। 

लेकिन यदि आप ऐसी समस्याओं से बेहतर ढंग से निबटने में सक्षम होते है तो आप स्वस्थ्य रहते है। 

यदि आपको ऐसा लगता है कि स्थिति और बदतर हो रहीं है तो आपको जल्दी ही अपने नजदीकी डॉक्टर से बात करके सही सुझाव लेने चाहिए।  (Ulti Rokne ke Upay) 

यह भी पढ़े :

By Nihal chauhan

मैं Nihal Chauhan एक ऐसी सोच का संरक्षण कर रहा हू, जिसमें मेरे देश का विकास है। में इस हिंदुस्तान की संतान हू और मेरा कर्तव्य है कि में मेरे देश में रहने वाले सभी हिंदुस्तानियों को जागरूक करू और हिंदी भाषा को मजबूत करू। आपके सहयोग की मुझे और हिंदुस्तान को जरुरत है कृपया हमसे जुड़ कर हमे शेयर करके और प्रचार करके देश का और हिंदी भाषा का सहयोग करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.